प्राचीन काल में जाति प्रथा का आधार क्या था?...


play
user

Kriti

Volunteer

0:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्राचीन काल में जाति प्रथा का आधार जो था वह ब्रह्मांड के निर्माता ब्रह्मा जो कि जिन्होंने की जाति व्यवस्था बनाई थी उनके आधार पर होता था और जैसे कि ब्रह्मा जी ने अलग-अलग जातियों को काजल को जन्म दिया था जैसे कि उनके मुंह से ब्राह्मणों ने जन्म दिया वही सत्रीय जो उनके हाथ से जन्म जन्म लिया था और उनके पेट से बेस्ट ने जन्म लिया था इस तरह की जाती है उस टाइम पर हुआ करती थी

prachin kaal mein jati pratha ka aadhaar jo tha vaah brahmaand ke nirmaata brahma jo ki jinhone ki jati vyavastha banai thi unke aadhaar par hota tha aur jaise ki brahma ji ne alag alag jaatiyo ko kajal ko janam diya tha jaise ki unke mooh se brahmanon ne janam diya wahi satriya jo unke hath se janam janam liya tha aur unke pet se best ne janam liya tha is tarah ki jaati hai us time par hua karti thi

प्राचीन काल में जाति प्रथा का आधार जो था वह ब्रह्मांड के निर्माता ब्रह्मा जो कि जिन्होंने

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  25
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!