क्या भारत को अभी भी आरक्षण की आवश्यकता है?...


user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदी कि मेरे हिसाब से भारत को अभी भी आरक्षण की आवश्यकता है अगर हम जिस प्रकार से अधिक आरक्षण की बात करें कि किस प्रकार से आरक्षण जो है आप 45% हो चुका है तो मुझे आप से 45% नहीं होना अच्छी है वह कम से कम 20 से 30% तक होना चाहिए क्योंकि अगर 45.2 लगाम आरक्षण रख रहे तू जो लोग जो भी टाइपिंग नहीं है उन लोगों को भी एडमिशन मिल रहा है चाहे वह कॉलेज में सोया सरकारी नौकरी हो और जो कि जनरल कैटेगरी के हमें नौकरी नहीं मिल पाए होने बेरोजगारी का सामना करना पड़ रहा है शिव ही नहीं आज भी आरक्षण का जो भी रिजर्वेशन पॉलिसी उसे भी उस में कुछ बदलाव लाने चाहिए क्योंकि अगर हम देखें सबसे अजीब गरीब है और जो कि पिछले और स्तर से आते हैं पिछली कम्युनिटी से आते हैं उंहीं आरक्षण मिलना चाहिए कि अभी कि हम बात करें तो अच्छा लिखा नहीं गया की छोकरी भेजो कि बहुत ही गरीब है जबकि दो टाइम का खाना भी आप फोन नहीं कर सकते हैं उन्हें रिजर्वेशन नहीं मिल रहा है और इसके दिल्ली में जो कि अमीर लोग हैं और सिर्फ उनकी इच्छा से जो है वह थोड़ी नीची है इसके लिए उन्होंने सबसे अच्छा नहीं होना चाहिए आरक्षण भारत में आवश्यकता है क्योंकि जिस प्रकार से भारत की आबादी है तो हर कोई अमीर नहीं होता है और जो लोग भी करीब है या फिर जो लोग भी बहुत ही गरीब दर्शाते बहुत गरीब परिवार से आते उनके लिए ही आरक्षण होना चाहिए और आरक्षण के जो पॉलिसी जो भी भारत में फिलहाल चल रही है उसमें कई सारे अमेंडमेंट से फिर हम कह सकते हैं और चेंजेस बदलाव लाने पड़ेंगे अच्छे बदलाव लाने पड़ेंगे

hindi ki mere hisab se bharat ko abhi bhi aarakshan ki avashyakta hai agar hum jis prakar se adhik aarakshan ki baat kare ki kis prakar se aarakshan jo hai aap 45 ho chuka hai toh mujhe aap se 45 nahi hona achi hai vaah kam se kam 20 se 30 tak hona chahiye kyonki agar 45 2 lagaam aarakshan rakh rahe tu jo log jo bhi typing nahi hai un logo ko bhi admission mil raha hai chahen vaah college mein soya sarkari naukri ho aur jo ki general category ke hamein naukri nahi mil paye hone berojgari ka samana karna pad raha hai shiv hi nahi aaj bhi aarakshan ka jo bhi reservation policy use bhi us mein kuch badlav lane chahiye kyonki agar hum dekhen sabse ajib garib hai aur jo ki pichle aur sthar se aate hain pichali community se aate hain unhi aarakshan milna chahiye ki abhi ki hum baat kare toh accha likha nahi gaya ki chhokri bhejo ki bahut hi garib hai jabki do time ka khana bhi aap phone nahi kar sakte hain unhe reservation nahi mil raha hai aur iske delhi mein jo ki amir log hain aur sirf unki iccha se jo hai vaah thodi nichi hai iske liye unhone sabse accha nahi hona chahiye aarakshan bharat mein avashyakta hai kyonki jis prakar se bharat ki aabadi hai toh har koi amir nahi hota hai aur jo log bhi kareeb hai ya phir jo log bhi bahut hi garib darshate bahut garib parivar se aate unke liye hi aarakshan hona chahiye aur aarakshan ke jo policy jo bhi bharat mein filhal chal rahi hai usme kai saare Amendment se phir hum keh sakte hain aur changes badlav lane padenge acche badlav lane padenge

हिंदी कि मेरे हिसाब से भारत को अभी भी आरक्षण की आवश्यकता है अगर हम जिस प्रकार से अधिक आरक्

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  138
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
आरक्षण की आवश्यकता ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!