क्या पत्नी पति को राखी बाँध सकती है?...


play
user

Aditya Kumar Tiwari

Director, Eduvento Classes

0:23

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जहां तक रक्षाबंधन की गरिमा का प्रश्न है तो बिल्कुल नहीं माननी चाहिए बाकी सब अगर एक पत्नी पति को राखी बांध सकती फिर तो किसी को भी बन सकता है कोई भी इंसान तो रक्षाबंधन के आधार पर तो बिल्कुल नहीं पानी चाहिए बाकी इन जनरल आप अपनी मर्जी है कोई रोक नहीं सकता आपको

jahan tak rakshabandhan ki garima ka prashna hai toh bilkul nahi maanani chahiye baki sab agar ek patni pati ko rakhi bandh sakti phir toh kisi ko bhi ban sakta hai koi bhi insaan toh rakshabandhan ke aadhaar par toh bilkul nahi paani chahiye baki in general aap apni marji hai koi rok nahi sakta aapko

जहां तक रक्षाबंधन की गरिमा का प्रश्न है तो बिल्कुल नहीं माननी चाहिए बाकी सब अगर एक पत्नी प

Romanized Version
Likes  148  Dislikes    views  4268
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

MRI

Retired Executive (PSU), Electrical Engineer, AUTHOR, हिंदी भषा में चार पुस्तकें प्रकाशित. जल्द ही तीन और प्रकाशित होने वाली हैं ।

2:09
Play

Likes  68  Dislikes    views  687
WhatsApp_icon
user
0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं संडे पत्नी अपने पति को राखी बांध सकती इसमें कोई दिक्कत नहीं है वह असली नहीं क्योंकि राखी एक रक्षा सूत्र होता है जोया वचन देता है कि आपका जीवन की रक्षा करेंगे यदि पत्नी अपने पति को राखी बनती है तो उसमें कोई समस्या नहीं है बिल्कुल बांग्ला भी चाहिए

main sunday patni apne pati ko rakhi bandh sakti isme koi dikkat nahi hai vaah asli nahi kyonki rakhi ek raksha sutra hota hai joya vachan deta hai ki aapka jeevan ki raksha karenge yadi patni apne pati ko rakhi banti hai toh usme koi samasya nahi hai bilkul bangla bhi chahiye

मैं संडे पत्नी अपने पति को राखी बांध सकती इसमें कोई दिक्कत नहीं है वह असली नहीं क्योंकि रा

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां क्यों नहीं बन सकती राखी का जो यह रिश्ता है केवल भाई बहन का ही नहीं होता राखी का रिश्ता होता है सच्ची दो सच्चे प्यार का अपने हाथ में विश्वास का जो भाई भाई को बन सकता है पुत्र पुत्र को बन सकता है बाप बेटे को बन सकता है किसी को भी कोई बन सकता है पति-पत्नी को बन सकता है मां बेटे को बन सकता है किसी को भी मान सकता है क्योंकि एक पत्नी और पति दोनों में जो रिश्ता होता है एक दोस्त का होता है अर्धांगिनी का होता है सारे रिश्ते होते हैं तो एक पत्नी पति को राखी बांध सकती है क्योंकि उसका जो पति है वह भी अपनी पत्नी की रक्षा करता है तो रक्षा का कवच शिवपुत्र बांधना कोई गलत नहीं है

ji haan kyon nahi ban sakti rakhi ka jo yah rishta hai keval bhai behen ka hi nahi hota rakhi ka rishta hota hai sachi do sacche pyar ka apne hath mein vishwas ka jo bhai bhai ko ban sakta hai putra putra ko ban sakta hai baap bete ko ban sakta hai kisi ko bhi koi ban sakta hai pati patni ko ban sakta hai maa bete ko ban sakta hai kisi ko bhi maan sakta hai kyonki ek patni aur pati dono mein jo rishta hota hai ek dost ka hota hai ardhangini ka hota hai saare rishte hote hain toh ek patni pati ko rakhi bandh sakti hai kyonki uska jo pati hai vaah bhi apni patni ki raksha karta hai toh raksha ka kavach shivaputra bandhana koi galat nahi hai

जी हां क्यों नहीं बन सकती राखी का जो यह रिश्ता है केवल भाई बहन का ही नहीं होता राखी का रिश

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
user
0:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां पत्नी पति को राखी बांधती है क्योंकि पति भी उसका रखवाला होता है

haan patni pati ko rakhi bandhti hai kyonki pati bhi uska rakhwala hota hai

हां पत्नी पति को राखी बांधती है क्योंकि पति भी उसका रखवाला होता है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
user
0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीके हिंदू सिख और ईसाई धर्म को छोड़कर कि ऐसा सिर्फ मुस्लिम या फिर इस्लाम धर्म में माना जाता है वह कि कि उसमें इस्लाम धर्म में जो शादियां होती है वह अपने भाई बहन या रिश्तेदारों में होती है तो उसमें उसमें यह सारी चीजें मान्यता मानी जाती लेकिन हिंदू धर्म में ऐसा नहीं होता

BK hindu sikh aur isai dharm ko chhodkar ki aisa sirf muslim ya phir islam dharm mein mana jata hai vaah ki ki usme islam dharm mein jo shadiyan hoti hai vaah apne bhai behen ya rishtedaron mein hoti hai toh usme usmein yah saree cheezen manyata maani jaati lekin hindu dharm mein aisa nahi hota

बीके हिंदू सिख और ईसाई धर्म को छोड़कर कि ऐसा सिर्फ मुस्लिम या फिर इस्लाम धर्म में माना जात

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  4
WhatsApp_icon
user

Aachary Vijay Verma

Astrologer,family Counsellor,relationship Mentor

0:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाई की हैसियत से तो नहीं बन सकती मित्र की हंसी से राखी बांध सकते हैं पिता की अच्छे से बांध सकते हैं

bhai ki haisiyat se toh nahi ban sakti mitra ki hansi se rakhi bandh sakte hain pita ki acche se bandh sakte hain

भाई की हैसियत से तो नहीं बन सकती मित्र की हंसी से राखी बांध सकते हैं पिता की अच्छे से बांध

Romanized Version
Likes  191  Dislikes    views  2185
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
rakshabandhan ya suhagrat ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!