अंग्रेज़ी भाषा के नुकसान क्या हैं?...


user

Yogender Dhillon

Law Educator , Advocate,RTI Activist , Motivational Coach

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो अगर मैं यह बात करूं सीखने की दृष्टि से काम की दृष्टि से तो किसी भी भाषा का कोई नुकसान नहीं है ना अंग्रेजी भाषा का न किसी और भाषा का लेकिन हां यदि हम अपने समाज की दृष्टि से देखें तो नुकसान नहीं कर सकते उसमें प्रभाव कह सकते हैं उसको कि हम इसलिए जिस अपनी भाषा में जैसे मौसम को समझ सकते हैं तो वह कनेक्टिविटी जब इंग्लिश में बात करते हैं तो नहीं बन पाती है जी पहली बार दूसरी बात तो कमली केशन इजीली हम हर किसी के साथ नहीं कर पाते हैं क्योंकि आज भी इंडिया में गांव में जो लोग रहते हैं वह सब पढ़े लिखे नहीं हैं उन्हें काउंटिंग भी नहीं आती है तो हमारे लिए इजी टू ऑपरेट नहीं होता है कि अपनी बात को हम अच्छे से कह सकें जब सारा दिन हम इंग्लिश के परिवेश में रहते हैं तो हमें पूरी बात बिना किसी इंग्लिश का शब्द लिए पूरा करना मुश्किल हो जाता है तो बस यह है कि आप अगर तू और ही इन इसमें चले जाते हो तो कम्युनिकेशन कम हो जाता है समझा नहीं पाते हो सबको बात सिर्फ आपके प्रोफेशन में आप समझा पाते हो या जो जानते इंग्लिश उनको समझा पाते हो तो इसलिए यह प्रभाव पड़ता है उसका आप इंडियन हो तो आपको हिंदी पूरी तरह पुणे के करनी आनी चाहिए और उसको समझा सके बाकी अंग्रेजी को अच्छे से सीखना है से प्रोसेशन ग्लोबलाइजेशन लेवल लैंग्वेज चलती है इसके बिना हमारा काम भी नहीं चल सकता क्योंकि प्रोफेशनल सिस्टम में हमें बोलनी लिखनी समझ नहीं पड़ती है रोज का रूटीन भी बनाना पड़ता है

dekho agar main yah baat karu sikhne ki drishti se kaam ki drishti se toh kisi bhi bhasha ka koi nuksan nahi hai na angrezi bhasha ka na kisi aur bhasha ka lekin haan yadi hum apne samaj ki drishti se dekhen toh nuksan nahi kar sakte usme prabhav keh sakte hain usko ki hum isliye jis apni bhasha me jaise mausam ko samajh sakte hain toh vaah connectivity jab english me baat karte hain toh nahi ban pati hai ji pehli baar dusri baat toh kamli kaisan ijili hum har kisi ke saath nahi kar paate hain kyonki aaj bhi india me gaon me jo log rehte hain vaah sab padhe likhe nahi hain unhe counting bhi nahi aati hai toh hamare liye easy to operate nahi hota hai ki apni baat ko hum acche se keh sake jab saara din hum english ke parivesh me rehte hain toh hamein puri baat bina kisi english ka shabd liye pura karna mushkil ho jata hai toh bus yah hai ki aap agar tu aur hi in isme chale jaate ho toh communication kam ho jata hai samjha nahi paate ho sabko baat sirf aapke profession me aap samjha paate ho ya jo jante english unko samjha paate ho toh isliye yah prabhav padta hai uska aap indian ho toh aapko hindi puri tarah pune ke karni aani chahiye aur usko samjha sake baki angrezi ko acche se sikhna hai se procession globalization level language chalti hai iske bina hamara kaam bhi nahi chal sakta kyonki professional system me hamein bolani likhani samajh nahi padti hai roj ka routine bhi banana padta hai

देखो अगर मैं यह बात करूं सीखने की दृष्टि से काम की दृष्टि से तो किसी भी भाषा का कोई नुकसान

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  109
KooApp_icon
WhatsApp_icon
24 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
nuksan in english ; nuksan ko english mein kya bolte hain ; nuksan ko english mein kya kahate hain ; इंग्लिश भाषा करो ; नुकसान को इंग्लिश में क्या कहते हैं ; नुकसान को इंग्लिश में क्या बोलते हैं ; भैंसा को इंग्लिश में क्या कहते हैं ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!