वल्लभ भाई पटेल को सरदार की उपाधि किस किसान आंदोलन के द्वारा दी गई?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:41

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरदार वल्लभभाई पटेल भारत के बीच मार्ग इसलिए कह जाते हैं क्योंकि इस बार ने जिस चढ़ता और जिस नीति ममता के साथ जर्मनी का एकीकरण किया उसी पड़ता उसी नीति जनता के साथ सरदार वल्लभभाई पटेल ने भारत का एकीकरण किया था यह कटु सत्य है यदि सरदार वल्लभभाई पटेल ना होते तो यह भारत आज तुम को एकीकृत रूप में नजर आ रहा है कि कुछ भाग कुछ राज्य गद्दारी करते हुए पाकिस्तान में मिलना चाहते थे किंतु सरदार वल्लभभाई पटेल ने जनता के साथ सब राजाओं को गद्दार राजाओं को भारत में मिलने के लिए विवश किया इसलिए प्रत्येक भारतवासी जो बात से प्रेम रखता है जो अपने देश को चाहता है वह आज भी सरदार वल्लभ भाई पटेल को नमन कर है उन्हें सच बोलता इस मन करता है क्योंकि सरदार वल्लभभाई पटेल अपने आप में बेमिसाल पानी थे यही कारण है कि समस्त भारतवासी उन्हें लौह पुरुष के रूप में याद करते हैं और मैं एक बात और कहना चाहूंगा कि काश सरदार बल्लभ भाई पटेल उस समय में प्रधानमंत्री बन जाते हो ना दिए गए होते भारत की जनता नहीं तो आगे पाकिस्तान ना होता ना कश्मीर की समस्या उत्पन्न होती ह मुस्कान सम भारतीय भारतवासी सरदार वल्लभ भाई पटेल को नमन करते हैं बनाम करते हैं

sardar vallabhbhai patel bharat ke beech marg isliye keh jaate hai kyonki is BA ar ne jis chadhta aur jis niti mamata ke saath germany ka ekikaran kiya usi padta usi niti janta ke saath sardar vallabhbhai patel ne bharat ka ekikaran kiya tha yah katu satya hai yadi sardar vallabhbhai patel na hote toh yah bharat aaj tum ko ekikrit roop mein nazar aa raha hai ki kuch bhag kuch rajya gaddari karte hue pakistan mein milna chahte the kintu sardar vallabhbhai patel ne janta ke saath sab rajaon ko gaddar rajaon ko bharat mein milne ke liye vivash kiya isliye pratyek bharatvasi jo BA at se prem rakhta hai jo apne desh ko chahta hai vaah aaj bhi sardar vallabh bhai patel ko naman kar hai unhe sach bolta is man karta hai kyonki sardar vallabhbhai patel apne aap mein BEMISAL paani the yahi karan hai ki samast bharatvasi unhe loha purush ke roop mein yaad karte hai aur main ek BA at aur kehna chahunga ki kash sardar BA llabh bhai patel us samay mein pradhanmantri BA n jaate ho na diye gaye hote bharat ki janta nahi toh aage pakistan na hota na kashmir ki samasya utpann hoti h muskaan some bharatiya bharatvasi sardar vallabh bhai patel ko naman karte hai BA nam karte hain

सरदार वल्लभभाई पटेल भारत के बीच मार्ग इसलिए कह जाते हैं क्योंकि इस बार ने जिस चढ़ता और जिस

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  19
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है सर वल्लभ भाई पटेल को सरदार की उपाधि किस किसान आंदोलन के द्वारा दिए गए तक बता दे कि चंपारण सत्याग्रह आंदोलन है तो उसकी सफलता के बाद सरदार वल्लभभाई पटेल ने उसमें अच्छा कार्य किया था उसकी सफलता के बाद वहां के लोगों के द्वारा जो है उन्हें सरदार की उपाधि से नवाजा गया अब से उनके नाम के साथ सरदार वल्लभभाई पटेल

aapka prashna hai sir vallabh bhai patel ko sardar ki upadhi kis kisan andolan ke dwara diye gaye tak bata de ki champaran satyagrah andolan hai toh uski safalta ke baad sardar vallabhbhai patel ne usme accha karya kiya tha uski safalta ke baad wahan ke logo ke dwara jo hai unhe sardar ki upadhi se navaja gaya ab se unke naam ke saath sardar vallabhbhai patel

आपका प्रश्न है सर वल्लभ भाई पटेल को सरदार की उपाधि किस किसान आंदोलन के द्वारा दिए गए तक बत

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  484
WhatsApp_icon
user
0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स बिस्मार्क बिस्मार्क जो था जर्मनी के एकीकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी उसी प्रकार भारत में सरदार वल्लभभाई पटेल 29 रियासतों को एक-एक करके एकीकरण के उसका जिसमें महत्वपूर्ण भूमिका व उन्होंने हैदराबाद जूनागढ़ में विशेष करके योगिता करके स्वर योगदान करके मैंने भारत में उसे शामिल के इसलिए उन्हें भारत का विश्व सुषमा कहा जाता है

hello friends bismarck bismarck jo tha germany ke ekikaran mein mahatvapurna bhumika nibhaai thi usi prakar bharat mein sardar vallabhbhai patel 29 riyasato ko ek ek karke ekikaran ke uska jisme mahatvapurna bhumika va unhone hyderabad junagadh mein vishesh karke yogita karke swar yogdan karke maine bharat mein use shaamil ke isliye unhe bharat ka vishwa sushma kaha jata hai

हेलो फ्रेंड्स बिस्मार्क बिस्मार्क जो था जर्मनी के एकीकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी उस

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  28
WhatsApp_icon
user

Gulnaz

लेवल 1 (बिगिनर)

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरदार वल्लभभाई पटेल गुजराती के हैं जो 30 अक्टूबर 1975 से लेकर 15 दिसंबर 1950 तक भारत की स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे जो फ्रीडम फाइटर्स थे भारत के आजादी के बाद में प्रथम गृह मंत्री और उपप्रधान मंत्री बने उसके बाद जो है लेकर डोली सत्याग्रह का नेटवर्क कर रहे पटेल को सत्याग्रह की सफलता पर वहां की महिलाओं ने सरदार की उपाधि प्रदान की आजादी के बाद विभिन्न रियासतों में विक्रय भारत की भू राजनीतिक एकीकरण के केंद्रीय निभाने के लिए पटेल को भारत का आयन मैन ऑफ़ इंडिया का पूर्व भी कहा जाता था

sardar vallabhbhai patel gujarati ke hai jo 30 october 1975 se lekar 15 december 1950 tak bharat ki swatantrata sangram senani the jo freedom fighters the bharat ke azadi ke BA ad mein pratham grah mantri aur upapradhan mantri BA ne uske BA ad jo hai lekar doli satyagrah ka network kar rahe patel ko satyagrah ki safalta par wahan ki mahilaon ne sardar ki upadhi pradan ki azadi ke BA ad vibhinn riyasato mein vikray bharat ki bhu raajnitik ekikaran ke kendriya nibhane ke liye patel ko bharat ka ion man of india ka purv bhi kaha jata tha

सरदार वल्लभभाई पटेल गुजराती के हैं जो 30 अक्टूबर 1975 से लेकर 15 दिसंबर 1950 तक भारत की स्

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  139
WhatsApp_icon
user

munmun

Volunteer

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आंधी के जहां एक और जर्मनी के राज्य में कि कर्म के अभाव में व्यक्ति हो वहीं दूसरी ओर भारत के कुछ अलग देश बनाना चाहता था हैदराबाद उन्हीं राज्य में से एक था और वहीं कुछ जरा दे पाकिस्तान में जाना चाहते थे जबकि जनता भारत में शामिल होना चाहते थे जूनागढ़ इसी का उदाहरण तो सरदार वल्लभभाई पटेल ने जो भारत का एकीकरण के लिए रक्त और लौह की नीति अपनाई और हैदराबाद से सेना भेजकर जो है उसका बिल है हिंदुस्तान में करवाना एक बहुत बड़ा कामयाबी थी इसलिए जो है सदा वल्लभभाई पटेल को भारत का बिस्मार्क कहा जाता है

andhi ke jaha ek aur germany ke rajya mein ki karm ke abhaav mein vyakti ho wahi dusri aur bharat ke kuch alag desh BA nana chahta tha hyderabad unhi rajya mein se ek tha aur wahi kuch zara de pakistan mein jana chahte the jabki janta bharat mein shaamil hona chahte the junagadh isi ka udaharan toh sardar vallabhbhai patel ne jo bharat ka ekikaran ke liye rakt aur loha ki niti apnai aur hyderabad se sena bhejkar jo hai uska bill hai Hindustan mein karwana ek BA hut BA da kamyabi thi isliye jo hai sada vallabhbhai patel ko bharat ka bismarck kaha jata hai

आंधी के जहां एक और जर्मनी के राज्य में कि कर्म के अभाव में व्यक्ति हो वहीं दूसरी ओर भारत क

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  11
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
vallabhbhai patel ko sardar ki upadhi kis kisan andolan ke dauran de gayi ; vallabhbhai patel ko sardar ki upadhi kisne di ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!