पर्यावरण शिक्षा से क्या अभिप्राय है?...


play
user

N. K. SINGH 'Nitesh'

Educator, Life Coach, Writer and Expert in British English Language, Author of Book/Fiction Lucky Girl (Love vs Marriage)

2:45

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पर्यावरण शिक्षा से तात्पर्य है आपके आसपास के वातावरण किसे आपके आसपास का वातावरण सब कुछ शामिल होता है आप जिस जमीन पर रहते हैं वह जमीन शामिल है आपकी सकाश के नीचे रहते हैं वह आकाश शामिल हैं और आप जो पानी पीते हैं वाटर वह भी शामिल है अब जो सांस लेते हैं वह भी शामिल है पर्यावरण शिक्षा के अंतर्गत इस सब का अध्ययन करते हैं आप जो ध्वनि सुनने हैं कानों से वह भी शामिल है और आप इसकी जो क्वालिटी है उस क्वालिटी के बिगड़ने में तत्वों की भूमिका होती है उसके बारे में पढ़ना होता है और क्वालिटी को सुधारा कैसे जाए इसके बारे में भी पढ़ना होता है जब आप इसका व्यापक अध्ययन करेंगे तो आप कारणों प्रभाव निष्कर्ष और इसके सुधार के लिए क्या किया जा सकता है इस सब का अध्ययन करेंगे एक नया वर्ड भी साथी साथ आजकल आ रहा है इसमें मानसिक प्रदूषण मेंटल पोलूशन क्योंकि जब तक आप को मानसिक प्रदूषण से मुक्ति नहीं मिलेगी तब तक आप सुधार के लिए कोई रास्ता अपनाएंगे आप सुधार के स्टेप्स किताबों में तो पड़ेंगे पर आप अपने जीवन में उसे नहीं डालेंगे इसलिए मानसिक प्रदूषण से निजात होना पर्यावरण शिक्षा का ही एक पाठ होगा इस तरह से पर्यावरण शिक्षा बहुत व्यापक है और इसमें कुछ भी शामिल किया जा सकता है क्योंकि जब किसी भी गहनता से अध्ययन करेंगे तो पर्यावरण पर उसके प्रभाव की समीक्षा भी साथ ही साथ रहेंगे और पर्यावरण शिक्षा में शामिल हो जाएगा बहरहाल सामान्य पर्यावरण शिक्षण में हम एयर पोलूशन वाटर पोलूशन नॉइस पोलूशन साउंड पोलूशन यही बात करते हैं

paryaavaran shiksha se tatparya hai aapke aaspass ke vatavaran kise aapke aaspass ka vatavaran sab kuch shaamil hota hai aap jis jameen par rehte hain vaah jameen shaamil hai aapki sakash ke niche rehte hain vaah akash shaamil hain aur aap jo paani peete hain water vaah bhi shaamil hai ab jo saans lete hain vaah bhi shaamil hai paryavaran shiksha ke antargat is sab ka adhyayan karte hain aap jo dhwani sunne hain kanon se vaah bhi shaamil hai aur aap iski jo quality hai us quality ke bigadne mein tatvon ki bhumika hoti hai uske bare mein padhna hota hai aur quality ko sudhara kaise jaaye iske bare mein bhi padhna hota hai jab aap iska vyapak adhyayan karenge toh aap karanon prabhav nishkarsh aur iske sudhaar ke liye kya kiya ja sakta hai is sab ka adhyayan karenge ek naya word bhi sathi saath aajkal aa raha hai isme mansik pradushan mental pollution kyonki jab tak aap ko mansik pradushan se mukti nahi milegi tab tak aap sudhaar ke liye koi rasta apanaenge aap sudhaar ke steps kitabon mein toh padenge par aap apne jeevan mein use nahi daalenge isliye mansik pradushan se nijat hona paryavaran shiksha ka hi ek path hoga is tarah se paryavaran shiksha bahut vyapak hai aur isme kuch bhi shaamil kiya ja sakta hai kyonki jab kisi bhi gahanata se adhyayan karenge toh paryavaran par uske prabhav ki samiksha bhi saath hi saath rahenge aur paryavaran shiksha mein shaamil ho jaega baharahal samanya paryavaran shikshan mein hum air pollution water pollution noise pollution sound pollution yahi baat karte hain

पर्यावरण शिक्षा से तात्पर्य है आपके आसपास के वातावरण किसे आपके आसपास का वातावरण सब कुछ शाम

Romanized Version
Likes  74  Dislikes    views  1445
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!