समाजशास्त्र का व्यावहारिक महत्व क्या है?...


user
4:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

समाजशास्त्र का व्यावहारिक महत्व जहां तक है तो मैंने पहले भी कई प्रश्नों के उत्तर दिया है कि मनुष्य का बच्चा जब पैदा होता है वह एक झांकी पानी होता किस जानवर के बच्चे होता है बालाजी कल भी होता है उसको सर्दी गर्मी भूख प्यास दो मूल प्रवृत्तियां इस पर पदस्थ है वह बोलते हैं और हम पेरेंट्स टीचर यू स्पेशली नर्सरी और फैमिली के पीछे साथ हमारे पड़ोसी हमारे माता-पिता यह सब जो होते हैं वही हमारे व्यक्तित्व को बनाते हैं तो समाजशास्त्र में एक सामाजिकरण का सिद्धांत है उसे प्रसिद्ध समाजशास्त्री चार्ल्स कूले नहीं यह बताया है कि किसी बच्चे का समाजीकरण कैसे होना चाहिए जब तक कोई व्यक्ति वह अच्छा माता-पिता नहीं हो सकता और अच्छा टीचर नहीं हो सकता क्योंकि उसमें उसने यह बताया है कि बच्चे को अपने बारे में पता कैसे चलता है तो चांस को लेकर एक सिद्धांत है कि हम लोग स्वयं के आईने का सिद्धांत बोलते हैं लुकिंग सेल्फ बिलासपुरी इसमें उसने कहा है कि बच्चा दूसरों की नजरों से अपने बारे में एक राय बनाता है जैसे कोई बच्चा सुंदर है या नहीं है वह कैसे जानता है दो बच्चे समान उम्र के एक साथ खेल रहे काला काला काला है दुबला पतला है एक गोरा चिट्टा है हम किसी जब जाते हैं तो दोनों बच्चों में से बुरे बच्चों को उठा लेते हैं और यह बोलते हैं कितना प्यारा बच्चा है उसको प्यार करते हैं चुनते हैं जो दूसरा बच्चा बैठा है जो काला है दुबला पतला है वाली जान जाता है वह सुंदर बच्चा नहीं है इसी प्रकार से जीवन में अगर बच्चे को चाहे वह कितना भी होशियार बच्चा हूं लेकिन बार-बार को इसको यह बोलता है तुम तो बिल्कुल गधे हो तुम से कोई काम हो ही नहीं सकता तो वह बच्चा वास्तव में एक हीन भावना से ग्रसित हो जाता है और उसका सर्वांगीण विकास रुक जाता है तो समाजशास्त्र या व्यवहारिक महत्व है और जब कपिल सिब्बल मानव संसाधन मंत्री थे तो उन्होंने आईआईटी में इसको अनिवार्य कर दिया था कि समाजशास्त्र की पढ़ाई होनी चाहिए मैं तो यह चाहता हूं कि कोई डॉक्टरों इंजीनियरों कोई भी पद में हूं जब तक वह समाजशास्त्र को ठीक से नहीं पड़ेगा ना वह अच्छा डॉक्टर हो सकता नवाज चाहिए नियर हो सकता और ना ही अच्छा सिटीजन हो सकता अच्छा माता-पिता नहीं हो सकता अच्छा टीचर नहीं हो सकता तो समाजशास्त्र का हमारे जीवन में सबसे ज्यादा व्यावहारिक महत्व है कि 1 दिन मैं तो आपको कहूंगा कि साइंस के फिजिक्स केमिस्ट्री मैथ से भी ज्यादा इंपॉर्टेंट समाज शास्त्र व्यावहारिक महत्व

samajshastra ka vyavaharik mahatva jaha tak hai toh maine pehle bhi kai prashnon ke uttar diya hai ki manushya ka baccha jab paida hota hai vaah ek jhanki paani hota kis janwar ke bacche hota hai balaji kal bhi hota hai usko sardi garmi bhukh pyaas do mul pravrittiyan is par padasth hai vaah bolte hain aur hum parents teacher you speshli nursery aur family ke peeche saath hamare padosi hamare mata pita yah sab jo hote hain wahi hamare vyaktitva ko banate hain toh samajshastra me ek samajikaran ka siddhant hai use prasiddh samajshastri charles kule nahi yah bataya hai ki kisi bacche ka samajikaran kaise hona chahiye jab tak koi vyakti vaah accha mata pita nahi ho sakta aur accha teacher nahi ho sakta kyonki usme usne yah bataya hai ki bacche ko apne bare me pata kaise chalta hai toh chance ko lekar ek siddhant hai ki hum log swayam ke aaine ka siddhant bolte hain looking self bilaspuri isme usne kaha hai ki baccha dusro ki nazro se apne bare me ek rai banata hai jaise koi baccha sundar hai ya nahi hai vaah kaise jaanta hai do bacche saman umar ke ek saath khel rahe kaala kaala kaala hai dubla patla hai ek gora chitta hai hum kisi jab jaate hain toh dono baccho me se bure baccho ko utha lete hain aur yah bolte hain kitna pyara baccha hai usko pyar karte hain chunte hain jo doosra baccha baitha hai jo kaala hai dubla patla hai wali jaan jata hai vaah sundar baccha nahi hai isi prakar se jeevan me agar bacche ko chahen vaah kitna bhi hoshiyar baccha hoon lekin baar baar ko isko yah bolta hai tum toh bilkul gadhe ho tum se koi kaam ho hi nahi sakta toh vaah baccha vaastav me ek heen bhavna se grasit ho jata hai aur uska Sarvangiṇa vikas ruk jata hai toh samajshastra ya vyavaharik mahatva hai aur jab kapil sibbal manav sansadhan mantri the toh unhone IIT me isko anivarya kar diya tha ki samajshastra ki padhai honi chahiye main toh yah chahta hoon ki koi doctoron engineero koi bhi pad me hoon jab tak vaah samajshastra ko theek se nahi padega na vaah accha doctor ho sakta nawaj chahiye near ho sakta aur na hi accha citizen ho sakta accha mata pita nahi ho sakta accha teacher nahi ho sakta toh samajshastra ka hamare jeevan me sabse zyada vyavaharik mahatva hai ki 1 din main toh aapko kahunga ki science ke physics chemistry math se bhi zyada important samaj shastra vyavaharik mahatva

समाजशास्त्र का व्यावहारिक महत्व जहां तक है तो मैंने पहले भी कई प्रश्नों के उत्तर दिया है

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1242
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Suresh Singh

Teacher and Engineer

0:39

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

समाजशास्त्र का व्यवहारिक महत्व है इस प्रकार है कि समाज में समानता लाना शिक्षा ला सबको समान अधिकार दिलाना और सबको खाने पीने की व्यवस्था होना शिक्षा का होना जागरूक होना और समाज को एक सिद्धांत पर चलने का का साधन बताना यह समझता एक व्यापारिक महत्व

samajshastra ka vyavaharik mahatva hai is prakar hai ki samaj me samanata lana shiksha la sabko saman adhikaar dilana aur sabko khane peene ki vyavastha hona shiksha ka hona jagruk hona aur samaj ko ek siddhant par chalne ka ka sadhan batana yah samajhata ek vyaparik mahatva

समाजशास्त्र का व्यवहारिक महत्व है इस प्रकार है कि समाज में समानता लाना शिक्षा ला सबको समान

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  1021
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!