क्या भारतीय वन सेवा परीक्षा कठिन है?...


play
user
2:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यूपीएससी एग्जामिनेशन नहीं कहा जा सकता है एक अलग तरह का एग्जाम है बहुत ज्यादा लोग उसमें अप्लाई कर रख 77 78 लाख लोग अप्लाई करेंगे तो कंपटीशन लेवल बढ़ जाता है लेकिन ऐसा वह है नहीं यह एक अलग तरह का एग्जाम है जिसको हमें समझना पड़ेगा कि इसमें क्या है एक्चुअली यूपी को क्या चाहिए वह जो कि परीक्षा है वह किस लिए हो परीक्षा ले रही है और उनसे क्या करते हैं अगर समझ पाए एग्जाम हो जाता है और इसके लिए ऐसा नहीं क्या बहुत ज्यादा दिक्कत है यहां बहुत कठिन प्रश्न पूछे जाते हैं ऐसा नहीं है अगर 1 साल आप मन लगाकर अच्छे से पढ़ाई करोगे तो पूरी तैयारी हो जाते ही पैसे के लिए और बाकी जो यह है कि आपका दिल लिखने का स्टाइल है जो आप जो और एक्सप्रेस करते हो आपने आपको तो वह जो पेपर में जो पड़ता है अगर मुझसे ही पड़ेगा ना तो सिलेक्शन मिलेंगे जो भी बहुत से लोगों का क्या होता है कि बहुत ज्यादा पढ़ाई करते हैं आप बहुत ही पढ़ाई करते हैं जैसे कि नोटिफिकेशन नहीं रहता है अगर यूपी का जिस सर्विस का प्रोफाइल देखा जाएगा अगर आज सीनियर लेवल पर अगर हम काम कर रहे हैं तो हम हमेशा एक बात पूछ सकते वीडियो होना जरूरी होता है कि है कुछ चीज है पूरा जानकारी आपको मेरी नहीं होगा ऑल गई थी कल रिपोर्ट के आधार पर संस्था है तो इसलिए एग्जाम काजल नेचर है अगर वह समझ में आए तो मुझे एग्जाम है ऐसा हम्मा कहना और थोड़ा गलत होगा ऐसा मुझे लगता है

upsc examination nahi kaha ja sakta hai ek alag tarah ka exam hai bahut zyada log usme apply kar rakh 77 78 lakh log apply karenge toh competition level badh jata hai lekin aisa vaah hai nahi yah ek alag tarah ka exam hai jisko hamein samajhna padega ki isme kya hai actually up ko kya chahiye vaah jo ki pariksha hai vaah kis liye ho pariksha le rahi hai aur unse kya karte hain agar samajh paye exam ho jata hai aur iske liye aisa nahi kya bahut zyada dikkat hai yahan bahut kathin prashna pooche jaate hain aisa nahi hai agar 1 saal aap man lagakar acche se padhai karoge toh puri taiyari ho jaate hi paise ke liye aur baki jo yah hai ki aapka dil likhne ka style hai jo aap jo aur express karte ho aapne aapko toh vaah jo paper mein jo padta hai agar mujhse hi padega na toh selection milenge jo bhi bahut se logo ka kya hota hai ki bahut zyada padhai karte hain aap bahut hi padhai karte hain jaise ki notification nahi rehta hai agar up ka jis service ka profile dekha jaega agar aaj senior level par agar hum kaam kar rahe hain toh hum hamesha ek baat puch sakte video hona zaroori hota hai ki hai kuch cheez hai pura jaankari aapko meri nahi hoga all gayi thi kal report ke aadhaar par sanstha hai toh isliye exam kajal nature hai agar vaah samajh mein aaye toh mujhe exam hai aisa hamma kehna aur thoda galat hoga aisa mujhe lagta hai

यूपीएससी एग्जामिनेशन नहीं कहा जा सकता है एक अलग तरह का एग्जाम है बहुत ज्यादा लोग उसमें अप्

Romanized Version
Likes  121  Dislikes    views  1870
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!