कौन सा बेहतर है IAS या भारतीय वन सेवा?...


play
user

Meera Iyer

Conservator of forests

4:26

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह विद्यार्थी के पर्सनल इंटरेस्ट के ऊपर भी बहुत कुछ निर्भर करता है जो इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस है वह भी एक बहुत ही मल्टीडाइमेंशनल चैलेंजिंग सर्विस है और उसमें बहुत ज्यादा है जब आप की बात करेंगे तो बहुत आसानी से आपको कमिश्नर कलेक्टर सीहोर जिला परिषद के सीईओ उस उस समय के लोगों की विधि बिलिटी मीडिया में और पब्लिक भी बहुत ज्यादा है तो लोगों को सबको पता रहता है कि कलेक्टर एक इंपॉर्टेंट ऑफिसर होता है करके डीएफओ के बारे में कम लोग जानते हैं क्योंकि वह जंगल से जुड़े हुए लोग जरूर जाने के जंगल से आसपास के जो गांव है उनके उसने बहुत बिजी होती है लेकिन जैसे आप शहर में आ गए अर्बन एरियाज में आ गए तो वहां पर फॉरेस्ट ऑफिसर्स की बिजली नहीं होती है फिर भी अर्बन फॉरेस्ट्री से समझ में जो काम है जैसे कि पूरे के सारे के सारे झूठी खाई प्रोफाइल बहुत ज्यादा पब्लिक इंटरफ़ेस वाला जगह है उड़ीसा में भुवनेश्वर में नंदनकानन जू है आपका दार्जिलिंग कर दो बहुत फेमस है दिल्ली का जो है वह सब मैसेज करते हैं आप अगर पॉलिटिकल पॉलिटिकल पॉलिटिकल पेंसिल सीनरी ओ है और पब्लिक के लाइमलाइट में रहना पसंद करते हैं तो एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस ज्यादा आपके लिए मीटर होगा क्योंकि बहुत उसमें आपको अटेंशन मिलेगा और बहुत बिजी बिजी बहुत लेकिन अगर आपको प्रकृति से प्रेम है अगर आपको लोंग टाइम में अपने पृथ्वी के लिए कुछ करना है पानी के कंजर्वेशन के लिए कुछ करना है और आपको जानवरों से कुछ लोगों को बहुत टेंशन होता है जानवरों से बटरफ्लाई सेंसेक्स रिपोर्ट से तो आपका इस तरह से टीचर के साथ में बहुत ज्यादा जुड़ा है तुम्हें तो उसके लिए आए फिर ज्यादा बैटर होगा क्योंकि यहां तो उनको बहुत अपॉर्चुनिटी मिलेगी जंगल के अंदर जाने के जाने के लिए अच्छी-अच्छी बहुत अच्छी नेचुरल ब्यूटी वाले जगह जो है वह सारे उसके अंदर ही आते हैं तो उससे आपको वेट करना पड़ेगा कि आप रुचि किस तरफ है अगर आपको अर्बन एरियाज में और आपको बहुत ज्यादा लोगों के सामने राशन करना और उस तरह का वातावरण पसंद है तो आपको ज्यादा सूट करेगा एडमिनिस्ट्रेशन है वह का वर्क प्रोफाइल होता है वह कहीं पर भी किसी भी डिपार्टमेंट में अपने सकते हो गया और जा सकते हैं दूसरे डिपार्टेड हैं लेकिन उनकी परसेंटेज कम होती है क्योंकि यह अपने आप में ही बहुत ज्यादा अपॉर्चुनिटी सिगरेट करता है तो लोग का आई एफ एस में भी आप आपको एडमिनिस्ट्रेशन किस चीज की जरूरत पड़ती है मैंने किस चीज की जरूरत पड़ती है पब्लिक रिलेशंस बहुत कुत्ता है वीडियोस इन ट्रेक्शन बहुत होता है और प्रकृति से तो दोनों की ही अपने ज्यादा चैलेंजिंग भी है और उसके लिए बहुत कंप्यूटर पर कैपेसिटी चाहिए तो आपको अपना कोई वैल्युएट करके यह निर्णय लेना होगा

yah vidyarthi ke personal interest ke upar bhi bahut kuch nirbhar karta hai jo indian administrative service hai vaah bhi ek bahut hi multidimensional chailenjing service hai aur usme bahut zyada hai jab aap ki baat karenge toh bahut aasani se aapko commissioner collector sihor jila parishad ke ceo us us samay ke logo ki vidhi biliti media mein aur public bhi bahut zyada hai toh logo ko sabko pata rehta hai ki collector ek important officer hota hai karke DFO ke bare mein kam log jante hain kyonki vaah jungle se jude hue log zaroor jaane ke jungle se aaspass ke jo gaon hai unke usne bahut busy hoti hai lekin jaise aap shehar mein aa gaye urban areas mein aa gaye toh wahan par forest officers ki bijli nahi hoti hai phir bhi urban forestry se samajh mein jo kaam hai jaise ki poore ke saare ke saare jhuthi khai profile bahut zyada public intarafes vala jagah hai odisha mein bhubaneswar mein nandankanan zoo hai aapka darjeeling kar do bahut famous hai delhi ka jo hai vaah sab massage karte hain aap agar political political political pencil scenery o hai aur public ke limelight mein rehna pasand karte hain toh administrative service zyada aapke liye meter hoga kyonki bahut usme aapko attention milega aur bahut busy busy bahut lekin agar aapko prakriti se prem hai agar aapko long time mein apne prithvi ke liye kuch karna hai paani ke conservation ke liye kuch karna hai aur aapko jaanvaro se kuch logo ko bahut tension hota hai jaanvaro se butterfly sensex report se toh aapka is tarah se teacher ke saath mein bahut zyada jinko hai tumhe toh uske liye aaye phir zyada better hoga kyonki yahan toh unko bahut opportunity milegi jungle ke andar jaane ke jaane ke liye achi achi bahut achi natural beauty waale jagah jo hai vaah saare uske andar hi aate hain toh usse aapko wait karna padega ki aap ruchi kis taraf hai agar aapko urban areas mein aur aapko bahut zyada logo ke saamne raashan karna aur us tarah ka vatavaran pasand hai toh aapko zyada suit karega administration hai vaah ka work profile hota hai vaah kahin par bhi kisi bhi department mein apne sakte ho gaya aur ja sakte hain dusre departed hain lekin unki percentage kam hoti hai kyonki yah apne aap mein hi bahut zyada opportunity cigarette karta hai toh log ka I f s mein bhi aap aapko administration kis cheez ki zarurat padti hai maine kis cheez ki zarurat padti hai public rileshans bahut kutta hai videos in attraction bahut hota hai aur prakriti se toh dono ki hi apne zyada chailenjing bhi hai aur uske liye bahut computer par capacity chahiye toh aapko apna koi vailyuet karke yah nirnay lena hoga

यह विद्यार्थी के पर्सनल इंटरेस्ट के ऊपर भी बहुत कुछ निर्भर करता है जो इंडियन एडमिनिस्ट्रेट

Romanized Version
Likes  83  Dislikes    views  1011
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!