समाज में फैली मोब लिंचिंग कितनी गलत और कितनी सही है?...


play
user

महेश सेठ

रेकी ग्रैंडमास्टर,लाइफ कोच

1:55

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह सोच गलत है कि समाज में मॉब लिंचिंग फैली हुई ऐसा कुछ नहीं क्या आप के आस पास रोज मॉब लिंचिंग हो रही है क्या यह विचार ही गलत है और रही बात मॉब लिंचिंग कि तुम आओ लिंचिंग हर जगह हो ही रही है जो भी न्यूज़ में आता है वह मॉब लिंचिंग तो एक चीज है आपको दूध खराब मिलता है यह भी मॉब लिंचिंग है आपको सब्जी महंगी और खराब वाली मिलती है वह भी मॉब लिंचिंग है अनाज में मिलावट है वह भी मॉब लिंचिंग है शुद्ध वायु नहीं मिलती वह भी मॉब लिंचिंग है शुद्ध पानी नहीं मिलता वह भी मॉर्निंग चाहिए क्योंकि इन सब चीजों में भी कुछ लोग जाने अनजाने जोड़ करके आप को बेवकूफ बनाते रहते हैं और यह तो आपके साथ हो रहा है मॉब लिंचिंग तो किसी और के साथ होती है वह भी किसी अपराधी प्रवृत्ति के लोगों के साथ कोई बच्चा उठाने वाला है कोई पुराने वाला है चोर है वह जब किसी की जिंदगी पर बन आती तब मोबलीचिंग होती है उसमें हिंदू मुस्लिम में ऐसा कुछ नहीं होता तो वह एक पेड़ का तंत्र और वीर की मानसिकता है वह वह कभी भी सही नहीं होती और यह भी सही नहीं होता कि आप मिलावटी के समान खाएं मिलावटी चीज खाएं इस पर भी समाज को ध्यान देना चाहिए और वह तो भीड़ का तंत्र है और आप भी जो यह सवाल पूछते हैं लोग अगर उनको भी भीड़ भी मौका मिले तो वह भी उसी तरह का गलत काम करते हैं शिविर का संस्कार है स्कोर आफ इंडस वैली तय नहीं कर सकते नमस्कार आपका मंगल हो आपका मंगल हो आपका मंगल हो

yah soch galat hai ki samaj mein mob lynching faili hui aisa kuch nahi kya aap ke aas paas roj mob lynching ho rahi hai kya yah vichar hi galat hai aur rahi baat mob lynching ki tum aao lynching har jagah ho hi rahi hai jo bhi news mein aata hai vaah mob lynching toh ek cheez hai aapko doodh kharab milta hai yah bhi mob lynching hai aapko sabzi mehengi aur kharab wali milti hai vaah bhi mob lynching hai anaaj mein milavat hai vaah bhi mob lynching hai shudh vayu nahi milti vaah bhi mob lynching hai shudh paani nahi milta vaah bhi morning chahiye kyonki in sab chijon mein bhi kuch log jaane anjaane jod karke aap ko bewakoof banate rehte hain aur yah toh aapke saath ho raha hai mob lynching toh kisi aur ke saath hoti hai vaah bhi kisi apradhi pravritti ke logo ke saath koi baccha uthane vala hai koi purane vala hai chor hai vaah jab kisi ki zindagi par ban aati tab mobliching hoti hai usme hindu muslim mein aisa kuch nahi hota toh vaah ek ped ka tantra aur veer ki mansikta hai vaah vaah kabhi bhi sahi nahi hoti aur yah bhi sahi nahi hota ki aap milaavati ke saman khayen milaavati cheez khayen is par bhi samaj ko dhyan dena chahiye aur vaah toh bheed ka tantra hai aur aap bhi jo yah sawaal poochhte hain log agar unko bhi bheed bhi mauka mile toh vaah bhi usi tarah ka galat kaam karte hain shivir ka sanskar hai score of indus valley tay nahi kar sakte namaskar aapka mangal ho aapka mangal ho aapka mangal ho

यह सोच गलत है कि समाज में मॉब लिंचिंग फैली हुई ऐसा कुछ नहीं क्या आप के आस पास रोज मॉब लिं

Romanized Version
Likes  63  Dislikes    views  2080
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!