जीना किसके लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए?...


user

Sarvesh Tiwari

Astrologer-Asst Prof-Social Worker- Writer-Psychologist-Counsellor-Journalist

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ही अच्छा प्रश्न है कि जीना किस के लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए देखिए जीना दोनों के लिए ही सही है उसके लिए भी और दूसरों के लिए भी यहां पर मुख्य बात यह है कि हम जीते कैसे हैं यदि हम खुश हैं स्वस्थ हैं तो हमारी प्रसन्नता हमारी खुशी हमारी स्वस्थ था एक सकारात्मक ऊर्जा का संचार करती है और कहा जाता है ना खुद चाहिए दूसरों को जीना सिखाए अपनी खुशियां चलो बात आए तो हम स्वयं के साथ-साथ थोड़ा समय निकाल ले अपनी खुशियों अपनी सशक्त था अपनी असमर्थता से अपने से जुड़े हुए दूसरे व्यक्ति चाहे वह परिवारजनों समाज के दूसरे व्यक्ति हो हमारे जिले राज्य या राष्ट्र के कोई भी व्यक्ति हो हम उन्हें अपनी सकारात्मकता से अपनी खुशियों से जुड़े और एक अच्छा वातावरण बनाए निश्चित रूप से एचडी ना सुखारी और आनंददायक होगा इसके लिए खुद के लिए भी और दूसरों के लिए धन्यवाद

bahut hi accha prashna hai ki jeena kis ke liye sahi hai khud ke liye ya dusro ke liye dekhiye jeena dono ke liye hi sahi hai uske liye bhi aur dusro ke liye bhi yahan par mukhya baat yah hai ki hum jeete kaise hain yadi hum khush hain swasth hain toh hamari prasannata hamari khushi hamari swasth tha ek sakaratmak urja ka sanchar karti hai aur kaha jata hai na khud chahiye dusro ko jeena sikhaye apni khushiya chalo baat aaye toh hum swayam ke saath saath thoda samay nikaal le apni khushiyon apni sashakt tha apni asamarthata se apne se jude hue dusre vyakti chahen vaah parivarajanon samaj ke dusre vyakti ho hamare jile rajya ya rashtra ke koi bhi vyakti ho hum unhe apni sakaraatmakata se apni khushiyon se jude aur ek accha vatavaran banaye nishchit roop se hd na sukhari aur anand dayak hoga iske liye khud ke liye bhi aur dusro ke liye dhanyavad

बहुत ही अच्छा प्रश्न है कि जीना किस के लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए देखिए जीना द

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
25 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Lifecoach Harsh

wellness Coach

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिअर मेरा यह मानना है कि जीना खुद के लिए चाहिए बिकॉज आप अगर हम ही होंगे तो हमारे परिवार या हम हमारे बच्चों का कैसे पालन का सकेंगे खुद की हेल्प चाहिए कि हम अगर अच्छी इनकम करवाएंगे मारा फाइनेंसियल कंडीशन अगर अच्छा होगा कुत्ता मेहनत करेंगे तो हमारे खुद के लिए जियो अगर आप खुद ही सही नहीं होंगे तो आप दूसरों को सही नहीं कर पाओगे अगर आप खुद ही सक्सेज नहीं होंगे आप खुद ही अगर हेल्थ में से ही नहीं रहेंगे तो आप अपने उपर परिवार के लिए अपने दोस्तों के लिए अपने रिश्तेदारों के लिए भी कुछ नहीं कर पाऊंगी

dear mera yah manana hai ki jeena khud ke liye chahiye because aap agar hum hi honge toh hamare parivar ya hum hamare baccho ka kaise palan ka sakenge khud ki help chahiye ki hum agar achi income karavaenge mara financial condition agar accha hoga kutta mehnat karenge toh hamare khud ke liye jio agar aap khud hi sahi nahi honge toh aap dusro ko sahi nahi kar paoge agar aap khud hi succsej nahi honge aap khud hi agar health me se hi nahi rahenge toh aap apne upar parivar ke liye apne doston ke liye apne rishtedaron ke liye bhi kuch nahi kar paungi

डिअर मेरा यह मानना है कि जीना खुद के लिए चाहिए बिकॉज आप अगर हम ही होंगे तो हमारे परिवार या

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  58
WhatsApp_icon
user

Ajay kumar

Motivational Speaker , Life Coach

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स मैं अजय कुमार मोटिवेशनल स्पीकर लाइफ कोच बीमा किसके लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए मेरे दोस्त अपने लिए तो सभी जीते हैं जो दूसरों के लिए जिए सही मायने में जीना तो वही होता है और इसका एग्जांपल हमारे देश में बहुत सारी महान हस्तियां हैं जो कि खुद के लिए जीता है उसकी ना तो कोई पहचान होती है उसके जाने के बाद उसे कोई याद भी नहीं करता परंतु जो लोग दूसरों के लिए जिए वह मर जाने के बाद भी जीवित हैं लोगों के दिलों में तो यदि आप अनंत काल तक जीना चाहते हैं इस शरीर के रूप में नहीं बल्कि अपने अच्छे कर्मों से लोगों के दिलों में तो दूसरों के लिए जीना सीख लो थैंक यू

hello friends main ajay kumar Motivational speaker life coach bima kiske liye sahi hai khud ke liye ya dusro ke liye mere dost apne liye toh sabhi jeete hain jo dusro ke liye jiye sahi maayne me jeena toh wahi hota hai aur iska example hamare desh me bahut saari mahaan hastiyan hain jo ki khud ke liye jita hai uski na toh koi pehchaan hoti hai uske jaane ke baad use koi yaad bhi nahi karta parantu jo log dusro ke liye jiye vaah mar jaane ke baad bhi jeevit hain logo ke dilon me toh yadi aap anant kaal tak jeena chahte hain is sharir ke roop me nahi balki apne acche karmon se logo ke dilon me toh dusro ke liye jeena seekh lo thank you

हेलो फ्रेंड्स मैं अजय कुमार मोटिवेशनल स्पीकर लाइफ कोच बीमा किसके लिए सही है खुद के लिए या

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रशन है जीना किस के लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए देखिए जीवन बहुत ही विराट है हम दूसरों के लिए तभी जी सकते हैं जब हम स्वयं के लिए जी सकें हम दूसरों को खुशी तभी दे सकते हैं जब हम स्वयं खुश हो हम दूसरों की सेवा तभी कर सकते हैं जब हम स्वयं की सेवा कर सके इसलिए अगर किसी के मन में दुविधा है कि वह दूसरों के लिए जी सकता है या खुद ना जी कर दूसरों को खूब खूब खुश कर सकता है तो वह उसकी गलतफहमी है स्वयं के लिए जिए और दूसरों को जीने दे दूसरों को उनके लक्ष्य तक पहुंचने में उनकी सहायता करें सच में आपका जीवन सफल हो जाएगा धन्यवाद

namaskar aapka prashn hai jeena kis ke liye sahi hai khud ke liye ya dusro ke liye dekhiye jeevan bahut hi virat hai hum dusro ke liye tabhi ji sakte hain jab hum swayam ke liye ji sake hum dusro ko khushi tabhi de sakte hain jab hum swayam khush ho hum dusro ki seva tabhi kar sakte hain jab hum swayam ki seva kar sake isliye agar kisi ke man me duvidha hai ki vaah dusro ke liye ji sakta hai ya khud na ji kar dusro ko khoob khoob khush kar sakta hai toh vaah uski galatfahamee hai swayam ke liye jiye aur dusro ko jeene de dusro ko unke lakshya tak pahuchne me unki sahayta kare sach me aapka jeevan safal ho jaega dhanyavad

नमस्कार आपका प्रशन है जीना किस के लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए देखिए जीवन बहुत ह

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  80
WhatsApp_icon
user
0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने लिए जिए तो क्या जिए हमेशा अपना ही नहीं सोचना चाहिए दूसरों के लिए भी चीज जीना चाहिए हमेशा मदद करनी चाहिए लोगों के दुख को समझना चाहिए एवं लोगों को परेशान नहीं करना चाहिए

apne liye jiye toh kya jiye hamesha apna hi nahi sochna chahiye dusro ke liye bhi cheez jeena chahiye hamesha madad karni chahiye logo ke dukh ko samajhna chahiye evam logo ko pareshan nahi karna chahiye

अपने लिए जिए तो क्या जिए हमेशा अपना ही नहीं सोचना चाहिए दूसरों के लिए भी चीज जीना चाहिए हम

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  120
WhatsApp_icon
user

Varun Tiwari 9794390724

Astrologer, Life Coach

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोनों के लिए ही जीना सही अगर आप अपने लिए नहीं जाएंगे तो आप भला कैसे दूसरों के लिए जी पाएंगे अगर आप स्वयं सफल नहीं हैं तो आप कैसे दोस्तों को सफल करें एक मजबूत व्यक्ति दूसरों को सहारा दे सकता है इसलिए पहले स्वयं को मजबूत करें और परोपकार की दृष्टि से अपने जीवन को आगे बढ़ाएं दूसरों की मदद करने से सामाजिक प्रतिष्ठा भी बढ़ती हैं और आपको सामाजिक बल भी मिलता है अगर आप दूसरों की सहायता नहीं करेंगे और अकेले जिएंगे तो एक समय में जब आपको लोगों की जरूरत होगी तब कोई आपकी सहायता करने के लिए आगे नहीं आएगा तो इसलिए दोनों के लिए ही जी पहले सफल बने और फिर दूसरों को सफल बनाएं धन्यवाद

dono ke liye hi jeena sahi agar aap apne liye nahi jaenge toh aap bhala kaise dusro ke liye ji payenge agar aap swayam safal nahi hain toh aap kaise doston ko safal kare ek majboot vyakti dusro ko sahara de sakta hai isliye pehle swayam ko majboot kare aur paropkaar ki drishti se apne jeevan ko aage badhaye dusro ki madad karne se samajik prathishtha bhi badhti hain aur aapko samajik bal bhi milta hai agar aap dusro ki sahayta nahi karenge aur akele jeeenge toh ek samay me jab aapko logo ki zarurat hogi tab koi aapki sahayta karne ke liye aage nahi aayega toh isliye dono ke liye hi ji pehle safal bane aur phir dusro ko safal banaye dhanyavad

दोनों के लिए ही जीना सही अगर आप अपने लिए नहीं जाएंगे तो आप भला कैसे दूसरों के लिए जी पाएंग

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  97
WhatsApp_icon
user

B R Parashar

Retired Person

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें मनुष्य शरीर मिला है दूसरे की सेवा करने के लिए और हम दूसरे की सेवा ही कर रहे हैं जाने अनजाने में हम अपनी सेवा नहीं कर सकते हमारी कोई सेवा है हम किसी के लिए सेवा करते हैं जैसे उदाहरण के लिए मैं आपको समझाऊं जैसे कोई सड़क बनी है तो सड़क बनने में कितने आदमियों का योगदान रहा है और उसके ऊपर हम जब चलते हैं तो कितने आदमियों को योगदान से जो है और सड़क बनी है वह सेवा की है उन्होंने वह चाहे उनकी नौकरी थी पैसे देकर किया है ठेकेदार ने किया है बट यह बात पक्की है किसी न किसी रूप में आदमी की सेवा की है मनुष्य की सेवा की है इसी तरह हम भी किसी ने किसी कार्य में व्यस्त जाने अनजाने में हम एक दूसरे की सेवा ही करते रहते हैं मनुष्य सिर्फ दूसरे की सेवा के लिए ही मिला है धन्यवाद

hamein manushya sharir mila hai dusre ki seva karne ke liye aur hum dusre ki seva hi kar rahe hain jaane anjaane me hum apni seva nahi kar sakte hamari koi seva hai hum kisi ke liye seva karte hain jaise udaharan ke liye main aapko samjhau jaise koi sadak bani hai toh sadak banne me kitne adamiyo ka yogdan raha hai aur uske upar hum jab chalte hain toh kitne adamiyo ko yogdan se jo hai aur sadak bani hai vaah seva ki hai unhone vaah chahen unki naukri thi paise dekar kiya hai thekedaar ne kiya hai but yah baat pakki hai kisi na kisi roop me aadmi ki seva ki hai manushya ki seva ki hai isi tarah hum bhi kisi ne kisi karya me vyast jaane anjaane me hum ek dusre ki seva hi karte rehte hain manushya sirf dusre ki seva ke liye hi mila hai dhanyavad

हमें मनुष्य शरीर मिला है दूसरे की सेवा करने के लिए और हम दूसरे की सेवा ही कर रहे हैं जाने

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
user

Dollie Kashwani

Relationship counselor | Wellness Designer |Energy alchemist |

1:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो मैं हूं लाइफ घोस्ट वाली आपका क्वेश्चन है जीवन किसके लिए जीना है खुद के लिए दूसरों के लिए सही है सबसे इंपॉर्टेंट के साथ जीवन दूसरों के लिए भी जिओ के कैसी होगी जब आप खुद के लिए कुछ नहीं करोगे तो दूसरों के लिए कैसे कुछ कर पाओगे इंर्पोटिंग यह है दूसरी चीज की बहुत से लोग ऐसे भी होते हैं जिनसे मैंने यह सुना है कि वह दूसरों के कुछ लोग जीते हैं लेकिन वह दूसरों के लिए जीते जीते जीते लोग फिर भी खुश नहीं होते हैं तो जीवन में पहले खुद को खुश रखना सीखें और कमाए पहले-पहले रनिंग बहुत जरूरी है खुद का कैरियर बनाना बहुत जरूरी है उसको सरवाइव करना जरूरी है ताकि आप दूसरों के लिए भी कुछ कर पाए तो यह जीवन सिर्फ हम अकेले खुद के लिए जीने के लिए नहीं आए यहां पर हम एक दूसरे की हेल्प करने के लिए आए हम दूसरे को किस तरह से किस तरह से हम सोसाइटी को कंट्रीब्यूटर करें हम खुद के लिए तो जीना ही है नो डाउट अगर आप खुद के लिए नहीं जाओगे तो फिर कोई मतलब नहीं है जीवन का ऑफिस जीने के लिए आयु फौजियों और दूसरों को भी हेल्प करो मेरा इतना ही मानना है और बड़ी-बड़ी बातें कहना या बड़े बड़े जो भी ज्ञान मेरा बहुत इजी है लेकिन जब तक आप खुद का खुद नहीं हट सकते तो अब दूसरों को भी हंसी नहीं दे सकते दूसरी चीज उनकी परवाह करना छोड़ दो कि जो जॉब की परवाह नहीं करते हैं आप बहुत लोगों के लिए बहुत कुछ करते हो लेकिन आप वह लोग आपको नहीं समझते हैं ऐसे लोगों को खुश करना छोड़ दो दूसरों को खुश करने के लिए जीवन मत जियो बस आपको अंदर से जिस चीज से सेटिस्फेक्शन मिलती है वह करो और फाइनली कैपेबल हो जाओ फाइनेंशली के प्रबल होना बहुत जरूरी है आई होप मेरा आंसर आपको पसंद आया होगा प्लीज लाइक जरूर करें

hello main hoon life ghost wali aapka question hai jeevan kiske liye jeena hai khud ke liye dusro ke liye sahi hai sabse important ke saath jeevan dusro ke liye bhi jio ke kaisi hogi jab aap khud ke liye kuch nahi karoge toh dusro ke liye kaise kuch kar paoge inrpoting yah hai dusri cheez ki bahut se log aise bhi hote hain jinse maine yah suna hai ki vaah dusro ke kuch log jeete hain lekin vaah dusro ke liye jeete jeete jeete log phir bhi khush nahi hote hain toh jeevan mein pehle khud ko khush rakhna sikhe aur kamaye pehle pehle running bahut zaroori hai khud ka carrier banana bahut zaroori hai usko survive karna zaroori hai taki aap dusro ke liye bhi kuch kar paye toh yah jeevan sirf hum akele khud ke liye jeene ke liye nahi aaye yahan par hum ek dusre ki help karne ke liye aaye hum dusre ko kis tarah se kis tarah se hum society ko kantribyutar kare hum khud ke liye toh jeena hi hai no doubt agar aap khud ke liye nahi jaoge toh phir koi matlab nahi hai jeevan ka office jeene ke liye aayu faujiyon aur dusro ko bhi help karo mera itna hi manana hai aur badi badi batein kehna ya bade bade jo bhi gyaan mera bahut easy hai lekin jab tak aap khud ka khud nahi hut sakte toh ab dusro ko bhi hansi nahi de sakte dusri cheez unki parvaah karna chod do ki jo job ki parvaah nahi karte hain aap bahut logo ke liye bahut kuch karte ho lekin aap vaah log aapko nahi samajhte hain aise logo ko khush karna chod do dusro ko khush karne ke liye jeevan mat jio bus aapko andar se jis cheez se setisfekshan milti hai vaah karo aur finally capable ho jao financially ke prabal hona bahut zaroori hai I hope mera answer aapko pasand aaya hoga please like zaroor karen

हेलो मैं हूं लाइफ घोस्ट वाली आपका क्वेश्चन है जीवन किसके लिए जीना है खुद के लिए दूसरों के

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
play
user

Surendra Sharma

अध्यापन

0:09

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने लिए तो सभी जीते हैं और जो दूसरों के लिए जीते हैं वही महान व्यक्तित्व की पहचान बनाते हैं

apne liye toh sabhi jeete hain aur jo dusro ke liye jeete hain wahi mahaan vyaktitva ki pehchaan banate hain

अपने लिए तो सभी जीते हैं और जो दूसरों के लिए जीते हैं वही महान व्यक्तित्व की पहचान बनाते ह

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  1416
WhatsApp_icon
user

महेश सेठ

रेकी ग्रैंडमास्टर,लाइफ कोच

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीना किसके लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए खुद के लिए होगी खुद में ही तो सब चीज आ जाती है दूसरा कोई है ही नहीं जब आपको तभी दूसरा है जब आप ही नहीं रहोगे तो दूसरा भी नहीं रहा है इसलिए खुद के लिए जियो दूसरे के लिए अपने आप काम हो जाएगा धन्यवाद नमस्कार

jeena kiske liye sahi hai khud ke liye ya dusro ke liye khud ke liye hogi khud mein hi toh sab cheez aa jaati hai doosra koi hai hi nahi jab aapko tabhi doosra hai jab aap hi nahi rahoge toh doosra bhi nahi raha hai isliye khud ke liye jio dusre ke liye apne aap kaam ho jaega dhanyavad namaskar

जीना किसके लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए खुद के लिए होगी खुद में ही तो सब चीज आ ज

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  2347
WhatsApp_icon
user

Niraj Devani

PHILOSOPHER

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए दूसरों के लिए जीते जीते खुद के लिए जीना यही एक उसका सलूशन है जितना हो सके उतना दूसरों के लिए कुछ ना कुछ करते रहना चाहिए लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप अपनी जिंदगी को ना जिए और सिर्फ दूसरों के लिए ही वक्त निकाल में अपना जीवन बिता दे अभी आज का जो वक्त है उसमें दूसरे लोग कई ज्यादातर लोग हैं वह आप उनके लिए कितना भी करेंगे लेकिन वह भूल जाएंगे तो जो एकदम जरूरतमंद हो उन्ही के लिए वक्त निकालें सब को मदद करने यह सब के लिए जीने की जरूरत नहीं है खुद के लिए अच्छी एक जिंदगी बिन बनाए और अच्छी सीन कि खुद के साथ दिखाएं

dekhiye dusro ke liye jeete jeete khud ke liye jeena yahi ek uska salution hai jitna ho sake utana dusro ke liye kuch na kuch karte rehna chahiye lekin iska matlab yah nahi hai ki aap apni zindagi ko na jiye aur sirf dusro ke liye hi waqt nikaal mein apna jeevan bita de abhi aaj ka jo waqt hai usme dusre log kai jyadatar log hain vaah aap unke liye kitna bhi karenge lekin vaah bhool jaenge toh jo ekdam jaruratmand ho unhi ke liye waqt nikale sab ko madad karne yah sab ke liye jeene ki zarurat nahi hai khud ke liye achi ek zindagi bin banaye aur achi seen ki khud ke saath dikhaen

देखिए दूसरों के लिए जीते जीते खुद के लिए जीना यही एक उसका सलूशन है जितना हो सके उतना दूसरो

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  579
WhatsApp_icon
user

Karishma

Psychologist

3:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीना किसके लिए सही और किसके लिए गलत यह ऐसे नहीं होता है जी जी ना आप कैसे जिंदगी जीते हो और आप किस वजह से जीते हो और किस तरीके से जीते हो उस पर डिपेंड करता है अगर आप अपने आप में व्यस्त हो तो फिर सबके साथ आपका रिलेशन कैसा है उस पर डिपेंड करता है कि आप से जुड़े हुए लोग आपसे कितना खुश है और आप उसके साथ कितनी अच्छी तरीके से रह सकते हो हमेशा लाइफ एक इंडिविजुअल कि नहीं होती है उसमें कई सारे रोल 751 अली में रह रहे हो तो आपके पास इतने सारे रोल से एक भाई एक बहन एक मां बाप दादा दादी और जो भी आपकी फैमिली में होते हैं उन सारे रोल को भी कहीं ना कहीं प्ले करने होते कहीं आप क्या बनकर जाते हो किसी के पास ऑफिस में कुछ और जॉब पर कुछ और अपने घर पर कुछ और अपने फ्रेंड के साथ कुछ और होते हो आप अपने आस-पड़ोस में कुछ और होते सोसाइटी में कुछ और होते हो तो कहीं पर भी फिक्स नहीं रहता है कि कौन सी जगह पर आप कौन सा रोलप्ले करते हो अभी लाइफ एक ही है वह रोल कई सारे है तो अगर आपका रोल एप्रोप्रियेट आपकी लाइफ और थिंकिंग नहीं होगी तो आप दूसरों से अलग हो जाओगे और या तो आपकी पॉजिटिव इमेज लोगों में बनी रहेगी या की नेगेटिव अपने अपने आप को लेकर बनी रहेगी आप को डिसाइड करना है कि आपको कौन सी इमेज ज्यादा शुरू सूटेबल है और दूसरों के साथ ऊंची से कितनी ज्यादा कंफर्टेबल है क्योंकि अगर सामने से रिस्पांस एस आएगा कि आप अनकंफरटेबल हो जाते हो तो कहीं ना कहीं उसके लिए आप ही खुद जिम्मेदार होंगे और आप जो जी रहे हो आपको पर्सनली पसंद नहीं आएगा और लोगों में भी वह करते हुए देखे तो वह सही नहीं होगा तो जिंदगी हमेशा ऐसी होती है कि जो अगर हमें खुश रहना है हमें किसी और को दुखी नहीं करना है तो सामने से जिसके साथ आप रह रहे हो रिवर्स में वही रिकॉर्ड करने वाले हैं जैसे आप रिएक्ट करते हो अभी यह 2 गए हो जाता है नहीं हम अपने आप के लिए जी सकते नहीं दूसरों के लिए सभी चीज अच्छी लगती है ज्यादा हो जाए तो भी प्रॉब्लम होता है कम हो जाए फिर भी प्रॉब्लम होता है लाइफ जीने के लिए हर एक टाइम पर प्रीटी टाइमिंग सिचुएशन आफ थिंकिंग अंडरस्टैंडिंग यह सारी चीजों पर डिपेंड करती है कि कब कैसे क्या जीना होगा कैसे जीना पड़ेगा आप अपने सरकम्फ्रेंसेस को कैसे हैंडल करते हो उस पर डिपेंड करता है अपनी मैच्योरिटी पर डिपेंड करता है आप अपनी पर्सनल पर्सनैलिटी पर डिपेंड करता है आपकी सोच पर डिपेंड करता है आसपास के लोगों पर डिपेंड करता है तो लाइफ एक कंबाइंड फीचर है जिसको जीने के लिए हर एक मोड़ को ऑन कर के उसको जीना पड़ेगा शायद आपको पसंद हो या आपको पसंद ना हो और इंपॉर्टेंट यह है कि हर एक चीज में आप अपने आप को किस तरीके से टेबल रख पाते हो किस तरीके से करनी जीएनसी ढूंढ लेते हो उसी पर डिपेंड करता है क्या जीना कैसा और किसके लिए सही है खुद के लिए यादव

jeena kiske liye sahi aur kiske liye galat yah aise nahi hota hai ji ji na aap kaise zindagi jeete ho aur aap kis wajah se jeete ho aur kis tarike se jeete ho us par depend karta hai agar aap apne aap mein vyast ho toh phir sabke saath aapka relation kaisa hai us par depend karta hai ki aap se jude hue log aapse kitna khush hai aur aap uske saath kitni achi tarike se reh sakte ho hamesha life ek individual ki nahi hoti hai usme kai saare roll 751 ali mein reh rahe ho toh aapke paas itne saare roll se ek bhai ek behen ek maa baap dada dadi aur jo bhi aapki family mein hote hain un saare roll ko bhi kahin na kahin play karne hote kahin aap kya bankar jaate ho kisi ke paas office mein kuch aur job par kuch aur apne ghar par kuch aur apne friend ke saath kuch aur hote ho aap apne aas pados mein kuch aur hote society mein kuch aur hote ho toh kahin par bhi fix nahi rehta hai ki kaun si jagah par aap kaun sa roleplay karte ho abhi life ek hi hai vaah roll kai saare hai toh agar aapka roll epropriyet aapki life aur thinking nahi hogi toh aap dusro se alag ho jaoge aur ya toh aapki positive image logo mein bani rahegi ya ki Negative apne apne aap ko lekar bani rahegi aap ko decide karna hai ki aapko kaun si image zyada shuru suitable hai aur dusro ke saath uchi se kitni zyada Comfortable hai kyonki agar saamne se response s aayega ki aap anakamfaratebal ho jaate ho toh kahin na kahin uske liye aap hi khud zimmedar honge aur aap jo ji rahe ho aapko personally pasand nahi aayega aur logo mein bhi vaah karte hue dekhe toh vaah sahi nahi hoga toh zindagi hamesha aisi hoti hai ki jo agar hamein khush rehna hai hamein kisi aur ko dukhi nahi karna hai toh saamne se jiske saath aap reh rahe ho reverse mein wahi record karne waale hain jaise aap react karte ho abhi yah 2 gaye ho jata hai nahi hum apne aap ke liye ji sakte nahi dusro ke liye sabhi cheez achi lagti hai zyada ho jaaye toh bhi problem hota hai kam ho jaaye phir bhi problem hota hai life jeene ke liye har ek time par pretty timing situation of thinking understanding yah saree chijon par depend karti hai ki kab kaise kya jeena hoga kaise jeena padega aap apne sarakamfrenses ko kaise handle karte ho us par depend karta hai apni maturity par depend karta hai aap apni personal personality par depend karta hai aapki soch par depend karta hai aaspass ke logo par depend karta hai toh life ek Combined feature hai jisko jeene ke liye har ek mod ko on kar ke usko jeena padega shayad aapko pasand ho ya aapko pasand na ho aur important yah hai ki har ek cheez mein aap apne aap ko kis tarike se table rakh paate ho kis tarike se karni GNC dhundh lete ho usi par depend karta hai kya jeena kaisa aur kiske liye sahi hai khud ke liye yadav

जीना किसके लिए सही और किसके लिए गलत यह ऐसे नहीं होता है जी जी ना आप कैसे जिंदगी जीते हो और

Romanized Version
Likes  158  Dislikes    views  2262
WhatsApp_icon
user

Siyaram Dubey

YouTuber/Spiritual Person/Thinker/Social-media Activist

1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय श्रीमन्नारायण अपने प्रश्न किया है कि जीना किस के लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए देखिए यह दोनों बातें जरूरी है जब तक आप खुद के लिए नहीं जिएंगे तब तक आप दूसरों के लिए नहीं जी सकते हैं क्योंकि अगर आप खुद ही किसी चीज के लिए लालायित है तो आप दूसरों को उसका स्वाद कैसे चखा सकते हैं इसलिए जरूरी है कि सबसे पहले आप अपने को एस्टेब्लिश करें उसके बाद दूसरे के बारे में आप सोचें लेकिन जो महत्वपूर्ण बातें हैं जिसको सबसे ज्यादा महत्व दिया जाता है वह दूसरों के लिए ही दिया जाता है क्योंकि अपने लिए किसी न किसी प्रकार से हर व्यक्ति रास्ता बना लेता है वजी लेता है लेकिन जो दूसरों के लिए जीता है वह वास्तव में अपने जिंदगी का अपने समाज का असली हीरो होता है तो अगर आप सक्षम हैं तो दूसरों के लिए जिए दूसरों के लिए ऐसा कुछ करें जिससे आपकी कीर्ति आप के ना रहने पर भी लोग याद करें

jai shrimannarayan apne prashna kiya hai ki jeena kis ke liye sahi hai khud ke liye ya dusro ke liye dekhiye yah dono batein zaroori hai jab tak aap khud ke liye nahi jeeenge tab tak aap dusro ke liye nahi ji sakte hain kyonki agar aap khud hi kisi cheez ke liye lalayit hai toh aap dusro ko uska swaad kaise chakha sakte hain isliye zaroori hai ki sabse pehle aap apne ko esteblish kare uske baad dusre ke bare mein aap sochen lekin jo mahatvapurna batein hain jisko sabse zyada mahatva diya jata hai vaah dusro ke liye hi diya jata hai kyonki apne liye kisi na kisi prakar se har vyakti rasta bana leta hai vaji leta hai lekin jo dusro ke liye jita hai vaah vaastav mein apne zindagi ka apne samaj ka asli hero hota hai toh agar aap saksham hain toh dusro ke liye jiye dusro ke liye aisa kuch kare jisse aapki kirti aap ke na rehne par bhi log yaad kare

जय श्रीमन्नारायण अपने प्रश्न किया है कि जीना किस के लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए

Romanized Version
Likes  153  Dislikes    views  1587
WhatsApp_icon
user

Dinesh Yadav

Agriculturist

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है जीना किस के लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए उसके लिए मैं आपको बताना चाहूंगा कि पहले तो आप अपने लिए जीना सीखें क्योंकि आप अपने लिए जब जीना सीख लेंगे तो तभी आप दूसरों के लिए जी सकते हैं क्योंकि जब आप होंगे तो सारा संसार होगा आप नहीं होंगे तो यह संसार ही नहीं होगा इसलिए पहले आप अपने आप के लिए जीना सीखें उसके बाद दूसरों के लिए जिए दूसरों को मार्ग द शंकर दोस्तों को बता भी मुझसे कोई मदद करें सहायता करें धन्यवाद

aapka prashna hai jeena kis ke liye sahi hai khud ke liye ya dusro ke liye uske liye main aapko batana chahunga ki pehle toh aap apne liye jeena sikhe kyonki aap apne liye jab jeena seekh lenge toh tabhi aap dusro ke liye ji sakte hain kyonki jab aap honge toh saara sansar hoga aap nahi honge toh yah sansar hi nahi hoga isliye pehle aap apne aap ke liye jeena sikhe uske baad dusro ke liye jiye dusro ko marg the shankar doston ko bata bhi mujhse koi madad kare sahayta kare dhanyavad

आपका प्रश्न है जीना किस के लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए उसके लिए मैं आपको बताना

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  224
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको क्वेश्चन है कि जीना किस के लिए सही खुद के लिए दूसरों के लिए तो आप इसको इस तरह से मुझे आप जब तक आपसे प्यार नहीं करेंगे जब तक आप खुद की देखभाल नहीं करेंगे तो दूसरों की क्या करेंगे तो सबसे पहले खुद के लिए सब कुछ करें उसके बाद दूसरों के लिए करिए जब आप खुद को मेंटेन रखेंगे ना तो आप सोचेंगे कि हमारे सामने वाला भी मेंटेन नहीं जब आपके अंदर याद आ जाएगी खुद को संवारने के लिए तब दूसरों की भी मदद करेंगे और सबसे बड़ी बात यह है ना जो आपने क्वेश्चन के जीना किसके लिए सही है जीना किसके लिए सही है तो क्या है यह अरे तू क्या अभी मैं बोल दूं कि दूसरों के लिए जिए जीना है आपको तो आपको या दूसरे के लिए जीना जीना शुरु कर दी थी इसका मतलब मैं बोल मंद चलो ठीक है आपके पास ₹10000 है आपको कितनी भी जरूरत है कितनी भी किसी भी चीज की जरूरत है लेकिन मैं बोल दूं कि अगले कुछ को उठा कर दे दो दे पाएंगे कभी नहीं दे पाएंगे सोचेंगे सबसे पहले मैं अपनी जरूरत थी को पूरी करूं यही तो मन में ख्याल आएगा तो किसके लिए सबसे पहले जी रहे हैं आप अपने लिए जो अपना नहीं होता वह किसी का नहीं होगा हां दूसरे को एक दूसरे की आपको जो है मदद करनी चाहिए आपकी जो फैमिली मित्र वगैरह है सब इनके आप इतना अच्छा कार्य के लिए कि वह आपसे संतुष्ट रहें और इतना भी अच्छा नकार करें कि आप अपने आप को बर्बाद करके दूसरों के लिए हमेशा सेवा में लगे रहे क्योंकि जब आप सक्षम रहेंगे ना तो दूसरे भी आपसे मदद मांगी नहीं दूसरे तो बहुत जल्दी भाग जाते हैं सब छोड़कर इसलिए अपने लिए जीना शुरु करने से पहले तब दूसरे के लिए देखना जब आप सक्षम रहेंगे तभी तो दूसरे कार्य दूसरे की तभी तो हेल्प कर पाएंगे तो आशा करते हैं आपके समझ में आ गया होगा धन्यवाद दोस्त

aapko question hai ki jeena kis ke liye sahi khud ke liye dusro ke liye toh aap isko is tarah se mujhe aap jab tak aapse pyar nahi karenge jab tak aap khud ki dekhbhal nahi karenge toh dusro ki kya karenge toh sabse pehle khud ke liye sab kuch kare uske baad dusro ke liye kariye jab aap khud ko maintain rakhenge na toh aap sochenge ki hamare saamne vala bhi maintain nahi jab aapke andar yaad aa jayegi khud ko sanvarane ke liye tab dusro ki bhi madad karenge aur sabse badi baat yah hai na jo aapne question ke jeena kiske liye sahi hai jeena kiske liye sahi hai toh kya hai yah are tu kya abhi main bol doon ki dusro ke liye jiye jeena hai aapko toh aapko ya dusre ke liye jeena jeena shuru kar di thi iska matlab main bol mand chalo theek hai aapke paas Rs hai aapko kitni bhi zarurat hai kitni bhi kisi bhi cheez ki zarurat hai lekin main bol doon ki agle kuch ko utha kar de do de payenge kabhi nahi de payenge sochenge sabse pehle main apni zarurat thi ko puri karu yahi toh man me khayal aayega toh kiske liye sabse pehle ji rahe hain aap apne liye jo apna nahi hota vaah kisi ka nahi hoga haan dusre ko ek dusre ki aapko jo hai madad karni chahiye aapki jo family mitra vagera hai sab inke aap itna accha karya ke liye ki vaah aapse santusht rahein aur itna bhi accha nakar kare ki aap apne aap ko barbad karke dusro ke liye hamesha seva me lage rahe kyonki jab aap saksham rahenge na toh dusre bhi aapse madad maangi nahi dusre toh bahut jaldi bhag jaate hain sab chhodkar isliye apne liye jeena shuru karne se pehle tab dusre ke liye dekhna jab aap saksham rahenge tabhi toh dusre karya dusre ki tabhi toh help kar payenge toh asha karte hain aapke samajh me aa gaya hoga dhanyavad dost

आपको क्वेश्चन है कि जीना किस के लिए सही खुद के लिए दूसरों के लिए तो आप इसको इस तरह से मुझे

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  339
WhatsApp_icon
user

Bk Ashok Pandit

आध्यात्मिक गुरु

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीना किसके लिए सही है खुद के लिए यात्रियों के लिए यह प्रश्न है आपका जहां खुद के आत्मबोध हो अर्थात स्वयं का कल्याण हो तो उसमें खुद को जीना है साथ ही साथ खुद के द्वारा दूसरों का भला होता है दूसरों को मदद मिलता है सहयोग मिलता है तो दूसरों के लिए जीना है जीवन तो वही माना जाता है जो दूसरे के लिए जीता है खुद के लिए तो हर एक जीता है तो वह साथ में गिना जाता है इसलिए दूसरों के लिए जीते हैं तो उसमें खुद का जीना भी सीखना पता है या कहे तो सीखना आ जाता है

jeena kiske liye sahi hai khud ke liye yatriyon ke liye yah prashna hai aapka jaha khud ke atmabodh ho arthat swayam ka kalyan ho toh usme khud ko jeena hai saath hi saath khud ke dwara dusro ka bhala hota hai dusro ko madad milta hai sahyog milta hai toh dusro ke liye jeena hai jeevan toh wahi mana jata hai jo dusre ke liye jita hai khud ke liye toh har ek jita hai toh vaah saath mein gina jata hai isliye dusro ke liye jeete hain toh usme khud ka jeena bhi sikhna pata hai ya kahe toh sikhna aa jata hai

जीना किसके लिए सही है खुद के लिए यात्रियों के लिए यह प्रश्न है आपका जहां खुद के आत्मबोध हो

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
user

Narendra Bhardwaj

Spirituality Reformer

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा जीना किस के लिए सही है खुद के लिए दूसरों के लिए भौतिक जीवन खुद के लिए होता है आध्यात्मिक जीवन दूसरों के लिए हमारे धर्म शास्त्र कहते हैं कि दूसरों के लिए ही जीना चाहिए परहित सरिस धर्म नहीं भाई इसलिए दूसरों के लिए जीने का मतलब है आपके अंदर प्रकृति से प्रेम है आप आस्थावान हैं आप ईश्वर में विश्वास करते हैं आप दूसरों की केयर ही तब कर सकते जब आपके अंदर मानवीय पक्ष बहुत सुंदर हो मजबूत इसलिए दूसरों के लिए जीना ज्यादा अच्छा है खुद के लिए तो सभी जीते हैं इंसान होकर दूसरों के लिए जीना एक अलग ही सुख है अलग ही अनुभव है अलग ही आनंद है उसको व्यक्त नहीं किया जा सकता है कोशिश करिएगा दूसरों के लिए जीने की आपको बहुत सुख मिलेगा

aapne poocha jeena kis ke liye sahi hai khud ke liye dusro ke liye bhautik jeevan khud ke liye hota hai aadhyatmik jeevan dusro ke liye hamare dharm shastra kehte hain ki dusro ke liye hi jeena chahiye parhit saris dharm nahi bhai isliye dusro ke liye jeene ka matlab hai aapke andar prakriti se prem hai aap asthawan hain aap ishwar me vishwas karte hain aap dusro ki care hi tab kar sakte jab aapke andar manviya paksh bahut sundar ho majboot isliye dusro ke liye jeena zyada accha hai khud ke liye toh sabhi jeete hain insaan hokar dusro ke liye jeena ek alag hi sukh hai alag hi anubhav hai alag hi anand hai usko vyakt nahi kiya ja sakta hai koshish kariega dusro ke liye jeene ki aapko bahut sukh milega

आपने पूछा जीना किस के लिए सही है खुद के लिए दूसरों के लिए भौतिक जीवन खुद के लिए होता है आध

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  79
WhatsApp_icon
user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आप खुद के लिए नहीं जिएंगे तो जिएंगे कैसे यानी के मलासन हो जाएंगे और दूसरे के लिए नहीं देंगे तो आपके मन को शांति कैसे मिलेगी समाज में आपकी प्रतिष्ठा कैसे बढ़ेगी इसलिए खुद के लिए दीजिए और दूसरों के लिए दीजिए अपने आप को भी सुरक्षित रखें और दूसरे की मदद करें

dekhiye aap khud ke liye nahi jeeenge toh jeeenge kaise yani ke malasan ho jaenge aur dusre ke liye nahi denge toh aapke man ko shanti kaise milegi samaj mein aapki prathishtha kaise badhegi isliye khud ke liye dijiye aur dusro ke liye dijiye apne aap ko bhi surakshit rakhen aur dusre ki madad karen

देखिए आप खुद के लिए नहीं जिएंगे तो जिएंगे कैसे यानी के मलासन हो जाएंगे और दूसरे के लिए नही

Romanized Version
Likes  49  Dislikes    views  1228
WhatsApp_icon
user

Harish Menaria

Mind professor| Tourism Guide

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जीना बहुत तरह के पहलू के लिए होता है जब आप के ऊपर कोई जिम्मेदारी नहीं होती है तब इंसान अपने आप के लिए जीता है क्योंकि उसके घर से उसको पैसे मिलते हैं हर तरह की मदद मिल जाती है लेकिन जब इंसान की शादी हो जाती है वह खुद किसी किसी जिम्मेदारी को जब कर लेता है तब वह इंसान खुद के लिए नहीं जीता है वह दूसरों के लिए ही जीता रहता है और आपका सवाल है किसके लिए जीना चाहिए करता है क्योंकि इंसान की ताकत के लिए कभी नहीं पीता अगर आप कुछ भी काम कर रहे हो तो वह अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए पैसा बचा रहे हो और आप के जो माता-पिता हैं अगर वह भी काम कर ले तो आपके लिए करें ना कि किसी दूसरे के लिए मतलब इंसान अपने परिवार और अपने रिश्तेदारों के लिए जीता है ना कि अपने आप के लिए

dekhiye jeena bahut tarah ke pahaloo ke liye hota hai jab aap ke upar koi jimmedari nahi hoti hai tab insaan apne aap ke liye jita hai kyonki uske ghar se usko paise milte hain har tarah ki madad mil jaati hai lekin jab insaan ki shadi ho jaati hai vaah khud kisi kisi jimmedari ko jab kar leta hai tab vaah insaan khud ke liye nahi jita hai vaah dusro ke liye hi jita rehta hai aur aapka sawaal hai kiske liye jeena chahiye karta hai kyonki insaan ki takat ke liye kabhi nahi pita agar aap kuch bhi kaam kar rahe ho toh vaah apni aane wali peedhi ke liye paisa bacha rahe ho aur aap ke jo mata pita hain agar vaah bhi kaam kar le toh aapke liye kare na ki kisi dusre ke liye matlab insaan apne parivar aur apne rishtedaron ke liye jita hai na ki apne aap ke liye

देखिए जीना बहुत तरह के पहलू के लिए होता है जब आप के ऊपर कोई जिम्मेदारी नहीं होती है तब इंस

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user

nirurajput

Life Coach

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका किसने की जीना किस के लिए सही खुद के लिए दूसरों के लिए तो मेरे अनुसार खुद के लिए जीना अच्छा खुद के लिए जो दूसरों के लिए अच्छा करोगे उसके लिए क्या खुद को बेस्ट बनाना पड़ेगा खुद अच्छा बोलना है वह यार अच्छा करना है सभी से अच्छा प्यार करना है सबकी मदद करोगे तो अपने आप दूसरी आपकी तरह बन जाएंगे फोटोकॉपी अपने आप आपकी जैसी बन जाएंगे वह भी लोग तो आप पहले खुद के लिए जीना सीखो फिर अपने आप दूसरे आपके निर्भर हो जाएंगे

aapka kisne ki jeena kis ke liye sahi khud ke liye dusro ke liye toh mere anusaar khud ke liye jeena accha khud ke liye jo dusro ke liye accha karoge uske liye kya khud ko best banana padega khud accha bolna hai vaah yaar accha karna hai sabhi se accha pyar karna hai sabki madad karoge toh apne aap dusri aapki tarah ban jaenge photocopy apne aap aapki jaisi ban jaenge vaah bhi log toh aap pehle khud ke liye jeena sikho phir apne aap dusre aapke nirbhar ho jaenge

आपका किसने की जीना किस के लिए सही खुद के लिए दूसरों के लिए तो मेरे अनुसार खुद के लिए जीना

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
user

yoGeShWar gULEriA

Social Worker

2:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्वेश्चन अगर हम किसी के लिए जीना स्टार्ट करेंगे तो शायद हम अपने आपको कहीं ना कहीं भूल जाएंगे अभी कोई इंसान अगर वह एक अच्छे लेवल पर है चाहे वह कुछ भी है एक इंसान ज्यादा कि मैं उसके लिए हेल्प करूं तो इसमें भी वह क्वेश्चन रख आपने इसकी खुद की या किसी के लिए हम अपने लिए जिए आज नाश्ता करेंगे तभी किसी के लिए जी सकेंगे उसको अपना पाठ बना सकेंगे ठीक है हर एक इंसान चाहता है कि मुझे कुछ अलग करना है मैं कुछ अलग करना मैं उस बंदे की जैसे बोलता है मैं उस एक्ट हीरो के जैसे मानना है मैं विराट कोहली जैसा बनना चाहता हूं उसके जैसा बनना क्योंकि फास्ट ऑफ ऑल उस पर्सन एक टाइम पर अपनी लिए जीना स्टार्ट करो चाहे वो अक्षय कुमार जाए सलमान खान है चाहे वह विराट कोहली अरे मोदी जी एक टाइम पर उस पर अपने खुद के लिए कि नाश्ता करा राज भूतनी के लिए जीता है एक टाइम पर उसने अपने आपको देखा आज वह हर एक इंसान की हालत कर रहा है क्यों कर रहे हो कि वह एक अच्छे लेवल पर पहुंच गया इंसान का मोटी भी हो अगर वह पहले ही किसी किसी के लिए जीना स्टार्ट करता तो शायद वह आज वहां कब आएंगे इमतरत अपने लिए नहीं चल मैं उसको मैं मैं उसकी टाइम लगा तो मैं अपने आप को बाद में खड़ा करता हूं मैं ऐसा करता हूं वैसा करता हूं अगर हम हमेशा अपने पीछे रखे तो शायद आज मोदी भी शायद इस प्रश्न पर था जब वह सलमान खान अक्षय कुमार हाउस की पोजीशन में खड़े होते कहीं ना कहने का मतलब सबसे पहले अपने आप को रखना जरूरी है किसी का तब जाकर हम किसी की हेल्प कर सकते हैं तब दूसरों के लिए जीना स्टार कर सकते हैं धन्यवाद

question agar hum kisi ke liye jeena start karenge toh shayad hum apne aapko kahin na kahin bhool jaenge abhi koi insaan agar vaah ek acche level par hai chahen vaah kuch bhi hai ek insaan zyada ki main uske liye help karu toh isme bhi vaah question rakh aapne iski khud ki ya kisi ke liye hum apne liye jiye aaj nashta karenge tabhi kisi ke liye ji sakenge usko apna path bana sakenge theek hai har ek insaan chahta hai ki mujhe kuch alag karna hai main kuch alag karna main us bande ki jaise bolta hai main us act hero ke jaise manana hai main virat kohli jaisa banna chahta hoon uske jaisa banna kyonki fast of all us person ek time par apni liye jeena start karo chahen vo akshay kumar jaaye salman khan hai chahen vaah virat kohli are modi ji ek time par us par apne khud ke liye ki nashta kara raj bhootni ke liye jita hai ek time par usne apne aapko dekha aaj vaah har ek insaan ki halat kar raha hai kyon kar rahe ho ki vaah ek acche level par pohch gaya insaan ka moti bhi ho agar vaah pehle hi kisi kisi ke liye jeena start karta toh shayad vaah aaj wahan kab aayenge imatarat apne liye nahi chal main usko main main uski time laga toh main apne aap ko baad me khada karta hoon main aisa karta hoon waisa karta hoon agar hum hamesha apne peeche rakhe toh shayad aaj modi bhi shayad is prashna par tha jab vaah salman khan akshay kumar house ki position me khade hote kahin na kehne ka matlab sabse pehle apne aap ko rakhna zaroori hai kisi ka tab jaakar hum kisi ki help kar sakte hain tab dusro ke liye jeena star kar sakte hain dhanyavad

क्वेश्चन अगर हम किसी के लिए जीना स्टार्ट करेंगे तो शायद हम अपने आपको कहीं ना कहीं भूल जाएं

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  78
WhatsApp_icon
user

Abdullah Qureshi

Assistant Professor

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार जी सवाल बहुत प्यारा है जीना इसके लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए दोनों के लिए जीना बहुत जरूरी है सबसे पहले खुद के लिए चाहिए जो कहता है कि दूसरों के लिए जियो और खुद के लिए नहीं है यह कैसी मूर्खता है भाई अगर खुद के लिए नहीं जियोगे जाहिर सी बात है आप खुद हो तभी तो पहले जिओगे तो दूसरों का भला करोगे ना तो पहली बात तो यह है इस सवाल का कोई एक जवाब नहीं है कि दूसरों के लिए जी ने खुद के लीजिए यकीनन खुद के लिए पहले जियो अब कैसे जियो तो इसका मतलब यह है कि अपना भरण-पोषण अपना संस्कार अपनी शिक्षाएं अपनी टीचिंग इन सब के लिए चाहिए अपने आप को इस काबिल इंसान बनाएं एक अच्छी पर्सनालिटी धारण करें और समाज में आप प्रेरणादाई बने पहले तो खुद के स्तर पर रही बात दूसरों के लिए बहुत ही खूबसूरत विचार है यह दूसरों के लिए भी जीना चाहते हैं या जीते हैं तो आप प्रत्यक्ष रूप से डायरेक्ट ली किसी की हेल्प कर के किसी की जिंदगी में खुशियां भर सकते हो या कई बार अपनी जिंदगी को अच्छा करके यानी कि अपना अपने व्यवहार को अच्छा करके दूसरों को उसे प्रेरित कर सकते हो तो दोनों ही तरीके अच्छे हैं आप डायरेक्ट ओर इनडायरेक्ट किसी भी तरीके से दूसरों के लिए जीना चाहते हैं वे दूसरों के लिए कुछ करना चाहते हैं तो बहुत बहुत अच्छा विचार है लेकिन पहले खुद की खुद की आत्म सम्मान आत्मविश्वास और अपनी आत्म पूर्ति के लिए लालच के लिए वह तो बात ही दूर की है वह तो करना ही नहीं है पहले दिन ओके जी यही है मेरे हिसाब से तो जवाब बाकी विद्वान जन ज्यादा जानते हैं धन्यवाद

namaskar ji sawaal bahut pyara hai jeena iske liye sahi hai khud ke liye ya dusro ke liye dono ke liye jeena bahut zaroori hai sabse pehle khud ke liye chahiye jo kahata hai ki dusro ke liye jio aur khud ke liye nahi hai yah kaisi murkhta hai bhai agar khud ke liye nahi jiyoge jaahir si baat hai aap khud ho tabhi toh pehle jioge toh dusro ka bhala karoge na toh pehli baat toh yah hai is sawaal ka koi ek jawab nahi hai ki dusro ke liye ji ne khud ke lijiye yakinan khud ke liye pehle jio ab kaise jio toh iska matlab yah hai ki apna bharan poshan apna sanskar apni sikshayen apni teaching in sab ke liye chahiye apne aap ko is kaabil insaan banaye ek achi personality dharan kare aur samaj me aap preranadai bane pehle toh khud ke sthar par rahi baat dusro ke liye bahut hi khoobsurat vichar hai yah dusro ke liye bhi jeena chahte hain ya jeete hain toh aap pratyaksh roop se direct li kisi ki help kar ke kisi ki zindagi me khushiya bhar sakte ho ya kai baar apni zindagi ko accha karke yani ki apna apne vyavhar ko accha karke dusro ko use prerit kar sakte ho toh dono hi tarike acche hain aap direct aur indirect kisi bhi tarike se dusro ke liye jeena chahte hain ve dusro ke liye kuch karna chahte hain toh bahut bahut accha vichar hai lekin pehle khud ki khud ki aatm sammaan aatmvishvaas aur apni aatm purti ke liye lalach ke liye vaah toh baat hi dur ki hai vaah toh karna hi nahi hai pehle din ok ji yahi hai mere hisab se toh jawab baki vidhwaan jan zyada jante hain dhanyavad

नमस्कार जी सवाल बहुत प्यारा है जीना इसके लिए सही है खुद के लिए या दूसरों के लिए दोनों के ल

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  100
WhatsApp_icon
user

Rajendra Kumar Jain

Retared servant

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रीना उस एक रचना जो दूसरों के लिए जिए अपने लिए तो सभी जीते हैं गाना ही ऐसा है कि उसी का जीना जीना कहलाता है जो दूसरों के लिए

rina us ek rachna jo dusro ke liye jiye apne liye toh sabhi jeete hain gaana hi aisa hai ki usi ka jeena jeena kehlata hai jo dusro ke liye

रीना उस एक रचना जो दूसरों के लिए जिए अपने लिए तो सभी जीते हैं गाना ही ऐसा है कि उसी का जीन

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  397
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीना तू अपने लिए अपने लिए नहीं पढ़ाई के लिए भी जीना जीना होता परंतु यह सत्य है आजकल अपने खुद के लिए जीते हैं परंतु जो अपनी समाज अपने देश अपने परिवार के लिए जीता है उसे हर पीढ़ी दर पीढ़ी उसे याद रखा जाता है जो सकते हैं जीना सभी के लिए सत्य है यह तो एमबी जीते हैं दूसरों को भी जीने दो और दूसरे को जीने के लिए उसको एक महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त करो इसी वजह से आपकी वजह से कोई दूसरा जिए तो बहुत बड़ा एक अच्छा महत्व होता है जिसके द्वारा आप अपने हर पल को याद रख सकते हैं इसलिए जीना जियो और जीने दो सकते हैं जय हिंद जय भारत

jeena tu apne liye apne liye nahi padhai ke liye bhi jeena jeena hota parantu yah satya hai aajkal apne khud ke liye jeete hain parantu jo apni samaj apne desh apne parivar ke liye jita hai use har peedhi dar peedhi use yaad rakha jata hai jo sakte hain jeena sabhi ke liye satya hai yah toh MB jeete hain dusro ko bhi jeene do aur dusre ko jeene ke liye usko ek mahatvapurna sthan prapt karo isi wajah se aapki wajah se koi doosra jiye toh bahut bada ek accha mahatva hota hai jiske dwara aap apne har pal ko yaad rakh sakte hain isliye jeena jio aur jeene do sakte hain jai hind jai bharat

जीना तू अपने लिए अपने लिए नहीं पढ़ाई के लिए भी जीना जीना होता परंतु यह सत्य है आजकल अपने ख

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  109
WhatsApp_icon
user

Nighat Bi

Founder Of Kamred Montessori School Samiti

2:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देख लिखिए या कहीं क्वेश्चन बहुत अच्छा है कि जीना खुद के लिए सही है या दूसरों के लिए परमात्मा ने जो हमें जीवन दिया है उसमें एक ओके अनुभूति को अनुभूति को अनुभव कराया है जीवन एक एहसास है और वह ऐसा है कि जब हम किसी को काया खुशी का अनुभव करते हैं तो हमें यह बात सुनेगा तुम वाकई में हम जो है इस धरती पर सबसे सुखी इंसान हैं तो जो चीजें हमें सुख का अनुभव कराती हैं तो हमेशा होता है कि वास्तव में यह जीवन मेरे लिए सबसे ज्यादा सुखमय और रही बात सुख की इस सुख को प्राप्त करने की या किसी भी तरह के कि जिसको हम पाकर अपने आप को बहुत ही गौरवशाली महसूस करते हैं मुझसे वह सूख गए हैं हमें सिर्फ दूसरों के लिए कल्याणकारी काम करके ही प्राप्त होता है अपने सुख की बात करता है या अपनी खुशी की बात करता है तो उसको इतनी खुशी नहीं होती यह अपने स्वार्थ के लिए कोई काम करता है या अपनी कोई आवश्यकता के लिए काम करता है तो उसको इतनी खुशी नहीं होती जितनी खुशी जो है उसको दूसरों के काम करके या दूसरों को किसी तरह के खुश देखे दूसरे की भलाई करके जो खुशी को प्राप्त होती है वही उसकी आत्मा को अंदर तक संतुष्ट कर देती है और यह जो आत्मा के अंदर तक की जो संतुष्टि होती है उसका जो अभ्यास मनुष्य को होता है तो उससे ज्यादा जो है सो मनुष्य में कभी महसूस नहीं किया होगा वही जो सच्चा सुख जो हमें प्राप्त करते हैं किसी की भलाई करके किसी का कर ना कर कि तू वास्तव में यही जीवन का सच्चा सुख होता है इसी को शायद जो है सच्चा जीवन ही कहते हैं

dekh likhiye ya kahin question bahut accha hai ki jeena khud ke liye sahi hai ya dusro ke liye paramatma ne jo hamein jeevan diya hai usme ek ok anubhuti ko anubhuti ko anubhav karaya hai jeevan ek ehsaas hai aur vaah aisa hai ki jab hum kisi ko kaaya khushi ka anubhav karte hain toh hamein yah baat sunegaa tum vaakai me hum jo hai is dharti par sabse sukhi insaan hain toh jo cheezen hamein sukh ka anubhav karati hain toh hamesha hota hai ki vaastav me yah jeevan mere liye sabse zyada sukhmay aur rahi baat sukh ki is sukh ko prapt karne ki ya kisi bhi tarah ke ki jisko hum pakar apne aap ko bahut hi gauravshali mehsus karte hain mujhse vaah sukh gaye hain hamein sirf dusro ke liye kalyaankari kaam karke hi prapt hota hai apne sukh ki baat karta hai ya apni khushi ki baat karta hai toh usko itni khushi nahi hoti yah apne swarth ke liye koi kaam karta hai ya apni koi avashyakta ke liye kaam karta hai toh usko itni khushi nahi hoti jitni khushi jo hai usko dusro ke kaam karke ya dusro ko kisi tarah ke khush dekhe dusre ki bhalai karke jo khushi ko prapt hoti hai wahi uski aatma ko andar tak santusht kar deti hai aur yah jo aatma ke andar tak ki jo santushti hoti hai uska jo abhyas manushya ko hota hai toh usse zyada jo hai so manushya me kabhi mehsus nahi kiya hoga wahi jo saccha sukh jo hamein prapt karte hain kisi ki bhalai karke kisi ka kar na kar ki tu vaastav me yahi jeevan ka saccha sukh hota hai isi ko shayad jo hai saccha jeevan hi kehte hain

देख लिखिए या कहीं क्वेश्चन बहुत अच्छा है कि जीना खुद के लिए सही है या दूसरों के लिए परमात्

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  123
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!