हमें मरने के बाद कुछ लेकर तो जाना नहीं हैं, तो फिर हम इतना पैसा जमा क्यों करते हैं?...


user

Rubal Sharma

Politician

2:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो भी व्यक्ति इस दुनिया में जन्म लेकर आता है उसके साथ बहुत से जिम्मेदारियां भी आती है और क्यों की लहरों के साथ तू हर कोई करता है लेकिन जीवन वही है जो लहरों के विपरीत आ रहे एक व्यक्ति ने जन्म लिया जिस दिन उसका जन्म हुआ उस दिन यह बात तय हो या ना हो कि वह व्यक्ति जीवन में कितनी सफलता प्राप्त करेगा वह व्यक्ति अपने जीवन में क्या कम आएगा यह बैलेंस सुनिश्चित हो या ना हो लेकिन जन्म के साथ एक चीज जो है एक बात जो है वह निश्चित हो जाती है कि इस व्यक्ति को मरना भी है उसकी मृत्यु जो है उसके जन्म के साथ ही निश्चित हो जाती हैं अब आगे की बात जब इस जीवन में आया है कि वह अपने कर्तव्य का वर्णन करते हुए उसको पैसा कमाना है पैसा इसलिए कमाना है कि जब वह जीवन में अपने गलत जीवन में आता है अपने परिवार में आता है बचपन में पढ़ाई लिखाई करते हैं उसके बाद अपने बूढ़े मां-बाप का सहारा बनता है अपनी बहनों का सहारा बनता है और इस जीवन में पैसा जो है एक बहुत महत्वपूर्ण चीज है पैसे से आप खाना भी पैसे से मिलता है कपड़े भी पैसे से मिलता है घर भी पैसे से मिलता है और शिक्षा भी पैसे से मिलती है आदमी पर जितना पैसा होता है उसी हिसाब से उसका जो है जीवन का तर्क होता है तो इसलिए बाद में अपनी जिम्मेदारी निभाता है उस आदमी को भी पता है कि मरना है तो साथ में कुछ नहीं जाता यह तो यह बात है सर इसीलिए वह अपने जीवन में सफलता के शिखर पर पहुंचना चाहता है अपना एक मुकाम हासिल करना चाहता है इसलिए पैसा कमाता है ताकि खुशहाल जिंदगी उसका परिवार जी सकें

jo bhi vyakti is duniya me janam lekar aata hai uske saath bahut se zimmedariyan bhi aati hai aur kyon ki laharon ke saath tu har koi karta hai lekin jeevan wahi hai jo laharon ke viprit aa rahe ek vyakti ne janam liya jis din uska janam hua us din yah baat tay ho ya na ho ki vaah vyakti jeevan me kitni safalta prapt karega vaah vyakti apne jeevan me kya kam aayega yah balance sunishchit ho ya na ho lekin janam ke saath ek cheez jo hai ek baat jo hai vaah nishchit ho jaati hai ki is vyakti ko marna bhi hai uski mrityu jo hai uske janam ke saath hi nishchit ho jaati hain ab aage ki baat jab is jeevan me aaya hai ki vaah apne kartavya ka varnan karte hue usko paisa kamana hai paisa isliye kamana hai ki jab vaah jeevan me apne galat jeevan me aata hai apne parivar me aata hai bachpan me padhai likhai karte hain uske baad apne budhe maa baap ka sahara banta hai apni bahnon ka sahara banta hai aur is jeevan me paisa jo hai ek bahut mahatvapurna cheez hai paise se aap khana bhi paise se milta hai kapde bhi paise se milta hai ghar bhi paise se milta hai aur shiksha bhi paise se milti hai aadmi par jitna paisa hota hai usi hisab se uska jo hai jeevan ka tark hota hai toh isliye baad me apni jimmedari nibhata hai us aadmi ko bhi pata hai ki marna hai toh saath me kuch nahi jata yah toh yah baat hai sir isliye vaah apne jeevan me safalta ke shikhar par pahunchana chahta hai apna ek mukam hasil karna chahta hai isliye paisa kamata hai taki khushahal zindagi uska parivar ji sake

जो भी व्यक्ति इस दुनिया में जन्म लेकर आता है उसके साथ बहुत से जिम्मेदारियां भी आती है और क

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  220
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!