लोग गुरुदेव को क्यों मानते हैं?...


user

Pramod Kushwaha

famous Motivational Guru N Painter

2:54
Play

Likes  3  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
25 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

RIZVI AMROHVI

Psychologist

0:29
Play

Likes  5  Dislikes    views  93
WhatsApp_icon
user

Brijesh Kumar

Journalist And Spritual/Yog/Pranic Healing Practitioner.

5:22
Play

Likes  7  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
user

निर्मला विश्नोई

अध्यापिका व समाज सेवा

7:47
Play

Likes  2  Dislikes    views  78
WhatsApp_icon
user

Dr. Kusum Gaur

Doctor, Spiritual Aspirant

3:18
Play

Likes  3  Dislikes    views  123
WhatsApp_icon
user

Surendra Sharma

अध्यापन

0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोग गुरु इसलिए बनाते हैं क्योंकि गुरु हमेशा सत्य मार्ग और उचित मार्ग की ओर बढ़ने का ज्ञान देता रहता है इसलिए लोग गुरु बना

लोग गुरु इसलिए बनाते हैं क्योंकि गुरु हमेशा सत्य मार्ग और उचित मार्ग की ओर बढ़ने का ज्ञान

Likes  64  Dislikes    views  7851
WhatsApp_icon
user

महेश दुबे

कवि साहित्यकार

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुरदेव अर्थात शिक्षक वह व्यक्ति होता है जो अपने शिष्य को अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाता है अज्ञान से ज्ञान की ओर ले जाता है इसीलिए वह लोग मानते हैं और कहते हैं गुरु गोविंद दोऊ खड़े काके लागू पाय बलिहारी गुरु आपकी गोविंद दियो बताए कि भगवान भी अगर आ करके खड़े हो जाते पहले गुरु के चरण छुए क्योंकि उसी गुरु ने भगवान से मिलाया है

गुरदेव अर्थात शिक्षक वह व्यक्ति होता है जो अपने शिष्य को अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाता है

Likes  6  Dislikes    views  1370
WhatsApp_icon
user

Niraj Devani

PHILOSOPHER

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुरुदेव यानी कि आप ने चीन के पास से कुछ ना कुछ सीखा है अपने जीवन को किस तरह से आगे बढ़ाना है जीवन में जीना किस तरह से तो गुरुदेव को इसीलिए लोग मानते हैं क्योंकि उनमें आम बहुत गुण होते हैं और आप बगैर किसी को दिल से चाहे या दिल से किसी की पूजा करें तो फिर आऊंगी के जो गुण है वह आपने भी आ जाते हैं यानी कि आप उनको ग्रहण कर सकते हैं आराम से तो इसीलिए लोग गुरुदेव की पूजा करते हैं क्योंकि उनको उन्हें पूरा विश्वास है

gurudev yani ki aap ne china ke paas se kuch na kuch seekha hai apne jeevan ko kis tarah se aage badhana hai jeevan mein jeena kis tarah se toh gurudev ko isliye log maante hain kyonki unmen aam bahut gun hote hain aur aap bagair kisi ko dil se chahen ya dil se kisi ki puja karen toh phir aaungi ke jo gun hai vaah aapne bhi aa jaate hain yani ki aap unko grahan kar sakte hain aaram se toh isliye log gurudev ki puja karte hain kyonki unko unhe pura vishwas hai

गुरुदेव यानी कि आप ने चीन के पास से कुछ ना कुछ सीखा है अपने जीवन को किस तरह से आगे बढ़ाना

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  637
WhatsApp_icon
user

Amreek Singh

Counsellor

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लो गुरुदेव को क्यों मानते हैं कि गुरु सबसे ऊपर होता है गुरु के बिना ज्ञान लेना संभव नहीं हो सकता है जिससे आप सीख रहे हैं वही आपका गुरु है जिस लोगों जिन लोगों से आप सीख रहे हैं जो आप कुछ सिखा कर जा रहा है वह आपके लिए गुरु और गुरु के बिना ज्ञान अधूरा होता है गुरु ज्ञानी लोग बोलते हैं

lo gurudev ko kyon maante hain ki guru sabse upar hota hai guru ke bina gyaan lena sambhav nahi ho sakta hai jisse aap seekh rahe hain wahi aapka guru hai jis logon jin logon se aap seekh rahe hain jo aap kuch sikha kar ja raha hai vaah aapke liye guru aur guru ke bina gyaan adhura hota hai guru gyani log bolte hain

लो गुरुदेव को क्यों मानते हैं कि गुरु सबसे ऊपर होता है गुरु के बिना ज्ञान लेना संभव नहीं ह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

6:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पर्सनल लोग गुरुदेव क्यों मांगते हैं मैं इस प्रश्न का जवाब समझ रहा हूं गुरू को देव गुरु है तो देव ही है गुरु को देवताले मतलब एक विस्तृत रूप में उसका साक्षात्कार होता है और गुरु जी की महत्वता या हमारे संपूर्ण भारत चराचर मंगल में इसकी व्याख्या बड़े संतों ने करी है जो आज सिंधु सिंधु नदी है जब गुरु की महत्ता के बारे में कोई शक नहीं रह जाता इतनी प्रबल भावना क्या गोचर में है यह लेकिन गुरू को देव मानना ही पड़ता है क्योंकि जहां हम अटके रहते हैं हॉर्स उस अटकल के अवधारणाओं को जो तोड़ के आगे बजते हुए आगे निकालता है वह गुरु ही होता और हमारी सामर्थ्य क्षमता से अलग जो विशेष अनुभूति कराता है गुरु का ही कृपा है गगन जिलों का महत्व तभी होता है जब हमारी बुद्धि और सामर्थ्य का अंत हो जाता है और हम एक उदास शिवस्वरूप में रहते हैं हमारी कोई भी क्लब और चिंतनीय धारा नहीं उठती तो गुरु एक व्यक्ति कल पैसा आता है जीवन के अंदर जो उसकी गति को बढ़ा का रहता है निरंतर तो उसको जो बनाता है देव में देने वाला दाता 100 गुरुदेव है और यहां तक कि ग्रुप को जितना दर्जे पर हम शीर्ष पर बैठ आते हैं उतने हमारी गति को आगे ले जाता है शादी के अंदर गुरु में एक अपनी अनुभूति की सामर्थ होती है जो उन्होंने अपनी तपस्या से और बड़ी संघर्ष से उस प्रतिफल को प्राप्त किए हुए रहता है और हम उसके बराबर इतना नहीं कर सकते हैं इस एवज में जब वह इतनी संपूर्ण जीवन का अनुभव हमें कृपा पर प्राप्ति देता है वह सबसे बड़ा देव कौन हो सकता है और दूसरी बात यह तक गुरु का मतलब जो गुरु धारण कर लेते हैं मनोनीत कर लेते हैं गुरु को कहो अपने कार्यों का जो करता बनता है होलसेल विक्रेता उनको एक सपोर्ट और कुछ दर्जी की प्राप्त रहती है तो ग्रुप में जो लोग होते हैं वह उसने एक विशेष क्षमता और सामर्थ्य साहस देवता जलन रहती है और वह बहुत अच्छी तरह से जीवन को पार लगाते हैं और वह दूसरों को भी उस जगह से निकालते हैं और शहद बना देते हैं तो गुरु बहुत बड़ी चतुर था और कुशलता का रूप है जहां मारे मना बेस्ट सिद्धियों को फोन कर आता है ग्रुप में तो मैंने ही बता दिया कि जब हमारी सामर्थ्य से अलग कोई सामर्थ दिव्य रूप में हमारे भीतर संचित होती है और हमें आलोकित करती है वह गुरुदेव भी होता है वह ज्योतिपुंज गुरु होता है और गुरु शारीरिक रूप से नियंत्रण में वास करता है और हमारे अंदर की जुगनू चक्र शक्ति है मतलब ज्ञान बुद्धि को सही हो और प्रेरित करने वाला और चक्र जागृत हो जाता है तो हम उसको अरसै जिस प्रकार फोन में ऐप डाउनलोड कर लेता है और अपनी से कृपया बताएं रखता है इसी प्रकार जिनके अंत करण और उसमें सच्चाई रूप धारण हो गई है गुरु तत्व की तो उनके रास्ते रूट बहुत तेज से निकलते हैं क्योंकि एक अलग से कुशलता और प्रकृति की धारण के अंदर प्रभावित रहती हैं आरो एक एडवांस किशन के व्यक्ति हो जाते हैं एकदम सच चिंतन मनन ध्यान करने से अपने ही गुरु चक्की जागृति होती है अगर प्रतिवर्ष जो भी कुछ दे देता है वह बहुत ही अनंत महत्वपूर्ण होता है शीशपाल और सारे बाहर शिष्य के गुरु जी अपने सर पर धारण कर लेता है हड़ताल जिसके अंदर कौन फायरफॉक्स आप इस तरह के विचरण और मानसिक जो भी आदत दशा है उसको नष्ट कर देता है और वह आलोकित कर के सहज रूप में स्थापित करता है इतनी बड़ी कृपा होती है तो उसे गुरुदेव ही माना जाता है और अंकुर एक निश्चित नाम एक धारा और एक आकाश चिता का प्राप्त हो जाता है जिससे हम अपने घर के अंदर सी जगह बनाते थे छोटा सा कोना के बाद के लिए रखते हैं इसी प्रकार है यही संपूर्ण है क्योंकि छिपी हुई रैश आत्मक तत्व को सिर्फ गुरु ही बताता है और हमें आमंत्रित करता है धन्यवाद

पर्सनल लोग गुरुदेव क्यों मांगते हैं मैं इस प्रश्न का जवाब समझ रहा हूं गुरू को देव गुरु ह

Likes  58  Dislikes    views  1188
WhatsApp_icon
user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुरुदेव तो ऐसा भी होता है राष्ट्रपति लिया जाता है गुरुकुल माना जाता है बड़ा सहयोगी होता है उसकी पूर्ण विकास में उसका सहयोगी होता है और हर प्रकार के विकास में उसका एक महत्वपूर्ण होता है इसलिए लोग उसको प्रतिष्ठा गौरव देने के लिए कुर्ते बोर्ड का इस्तेमाल करते हैं

gurudev toh aisa bhi hota hai rashtrapati liya jata hai gurukul mana jata hai bada sahayogi hota hai uski purn vikas mein uska sahayogi hota hai aur har prakar ke vikas mein uska ek mahatvapurna hota hai isliye log usko prathishtha gaurav dene ke liye kurte board ka istemal karte hain

गुरुदेव तो ऐसा भी होता है राष्ट्रपति लिया जाता है गुरुकुल माना जाता है बड़ा सहयोगी होता है

Romanized Version
Likes  220  Dislikes    views  2492
WhatsApp_icon
user

Shashikant Mani Tripathi

Yoga Expert | Life Coach

1:44
Play

Likes  20  Dislikes    views  258
WhatsApp_icon
user

Dr Anil Shalwa

Life Coach, Past Life Regression Therapist

2:35
Play

Likes  41  Dislikes    views  463
WhatsApp_icon
user

Mehul Bhai

Social Worker.

3:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोग गुरु को क्यों मानते हैं मतलब ग्रुप क्यों बनाना पड़ता है तो जैसे हम पढ़ने जाते हैं तो हमको वहां शिक्षक मतलब ग्रुप की आवश्यकता है क्यों आवश्यकता है क्योंकि हम गुरु बिना वह लिख पढ़ नहीं सकते क्योंकि वही ज्ञान देगा तभी तो हम पढ़ना लिखना सीखेंगे और क्लब गुरु ही हमको ज्ञान की शिक्षा देगा इसलिए गुरु बहुत आवश्यक है मनुष्य जन्म के लिए क्योंकि जैसे राम जी आए उसने को हम भगवान मानते तो उन्होंने भी ग्रुप बनाया तो हमारी तो क्या औकात है आम जीव की इसलिए गुरु गोविंद दोनों खड़े किसके लागूं पाय बलिहारी गुरु आपने जिन हे गोविंद दिया बताएं मतलब भगवान ने आगे अपने देश के भगवान आशुतोष गुरु वगैरह अपने प्यारे ने खबर पढ़ते कि भगवान कौन से गेम के आंजना समय में परमात्मा विषय में जानकारी गुना लोक औसत मारो से कहा कि परमात्मा कौन से अपनी बुद्धा के लिए कि सबका मालिक एक है एक है पर कोई संख्या नहीं बता पाया कि सबका मालिक एक कौन है जब हमने तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज का सत्संग देखा तो मुझे यह पता चला कि वह सबका मालिक एक परमात्मा कबीर साहेब अगर आपको यह बात तो झूठी लगे तो आप प्रमाण देख सकते हैं पवित्र बाइबल मे बी के प्रमाण एचटीसी 526 यहूदी बाइबल ओजीबी दोष पूर्ण परमेश्वर कबीर शक्तिशाली है वह उन्हीं लोगों से घृणा नहीं करता वह परमेश्वर सामर्थ्य है और वह विवेकशील भी है उसी प्रकार गुरु वेद मंडल नंबर नाइन चैप्टर 16 मंत्र 6782 120 996 मंत्रा 16004 मंत्र 155 मंत्र 2 शिव मंत्र शिव मंत्र 3 में प्रमाण है और मंडल सूक्त 96 मंत्र में प्रमाण है कि वह परमात्मा कबीर साहेब ही है इच्छा और जानकारी चाहे तो आप ज्ञान गंगा पुस्तक जो संत रामपाल जी द्वारा रचित है वह मंगवा के पढ़ सकते हो और अनेक ऐसे प्रमाण आपको वहां मिल जाएंगे हमारे धर्म ग्रंथों में से जो आपके लिए काफी रहेंगे

log guru ko kyon maante hain matlab group kyon banana padta hai toh jaise hum padhne jaate hain toh hamko wahan shikshak matlab group ki avashyakta hai kyon avashyakta hai kyonki hum guru bina vaah likh padh nahi sakte kyonki wahi gyaan dega tabhi toh hum padhna likhna sikhenge aur club guru hi hamko gyaan ki shiksha dega isliye guru bahut aavashyak hai manushya janam ke liye kyonki jaise ram ji aaye usne ko hum bhagwan maante toh unhone bhi group banaya toh hamari toh kya aukat hai aam jeev ki isliye guru govind dono khade kiske lagun paye balihari guru aapne jin hai govind diya batayen matlab bhagwan ne aage apne desh ke bhagwan ashutosh guru vagairah apne pyare ne khabar padhte ki bhagwan kaun se game ke anjana samay mein paramatma vishay mein jaankari guna lok ausat maaro se kaha ki paramatma kaun se apni buddha ke liye ki sabka malik ek hai ek hai par koi sankhya nahi bata paya ki sabka malik ek kaun hai jab humne tatvadarshi sant rampal ji maharaj ka satsang dekha toh mujhe yah pata chala ki vaah sabka malik ek paramatma kabir saheb agar aapko yah baat toh jhuthi lage toh aap pramaan dekh sakte hain pavitra bible mein be ke pramaan HTC 526 yahudi bible OGB dosh purn parmeshwar kabir shaktishali hai vaah unhin logon se ghrina nahi karta vaah parmeshwar samarthya hai aur vaah vivekshil bhi hai usi prakar guru ved mandal number nine chapter 16 mantra 6782 120 996 Mantra 16004 mantra 155 mantra 2 shiv mantra shiv mantra 3 mein pramaan hai aur mandal sukta 96 mantra mein pramaan hai ki vaah paramatma kabir saheb hi hai iccha aur jaankari chahen toh aap gyaan ganga pustak jo sant rampal ji dwara rachit hai vaah mangwa ke padh sakte ho aur anek aise pramaan aapko wahan mil jaenge hamare dharam granthon mein se jo aapke liye kafi rahenge

लोग गुरु को क्यों मानते हैं मतलब ग्रुप क्यों बनाना पड़ता है तो जैसे हम पढ़ने जाते हैं तो ह

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
user

Brajwasi sharma

Astrologer

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाइयों गुरु के बिना तो कुछ भी नहीं होता है गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु गुरु देवो महेश्वरा गुरु साक्षात परब्रह्म तस्मै श्री गुरुवे नमः बिना गुरु से कभी ज्ञान नहीं मिलता है अगर आप किसी अखाड़े में जाते तो पहलवान को गुरु मानते जो भी अच्छे पहलवान बन सकते हैं अगर आपको हाई स्कूल का मैथ प्रोजेक्ट पढ़ना हो तो वहां स्कूल के टीचर को अच्छा बनाना पड़ेगा क्या पश्चिम एक्सप्रेस सीख पाएंगे एक आध्यात्मिक जब तक गुरु नहीं बनाओगे संभव नहीं है क्योंकि गुरु ही भगवान से मिला सकता है गुरु ही है कोई ऐसा आदमी होता है जिसमें भगवान को देखा होता है वह तुम्हें रास्ता बता देगा और जब तक पहुंच जाओगे नहीं तो संसार से भटकने के अलावा कुछ नहीं है

bhaiyo guru ke bina toh kuch bhi nahi hota hai guroor brahma guroor vishnu guru devo maheshwara guru sakshat parbrahm tasmai shri guruve namah bina guru se kabhi gyaan nahi milta hai agar aap kisi akhade me jaate toh pahalwan ko guru maante jo bhi acche pahalwan ban sakte hain agar aapko high school ka math project padhna ho toh wahan school ke teacher ko accha banana padega kya paschim express seekh payenge ek aadhyatmik jab tak guru nahi banaaoge sambhav nahi hai kyonki guru hi bhagwan se mila sakta hai guru hi hai koi aisa aadmi hota hai jisme bhagwan ko dekha hota hai vaah tumhe rasta bata dega aur jab tak pohch jaoge nahi toh sansar se bhatakne ke alava kuch nahi hai

भाइयों गुरु के बिना तो कुछ भी नहीं होता है गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु गुरु देवो महेश्वरा ग

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  75
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  7  Dislikes    views  212
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  2  Dislikes    views  58
WhatsApp_icon
user

D Jay

Journalist

1:47
Play

Likes  8  Dislikes    views  92
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  2  Dislikes    views  108
WhatsApp_icon
user
1:34
Play

Likes  39  Dislikes    views  772
WhatsApp_icon
user

rahul soni

Student

2:49
Play

Likes  4  Dislikes    views  87
WhatsApp_icon
user
0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुरु बनाने का मुख्य उद्देश्य गीता के अनुसार श्रीकृष्ण के रूप में दिया गया ज्ञान से है श्री कृष्ण कहते हैं कि तू तत्वदर्शी संत की शरण में जा जो तुम्हें मुक्ति मार्ग बताएगा इसलिए गुरु कि उन्होंने गुरु को मर दिया है इसलिए अपार लगने के लिए मुखिया ने की मुक्ति पाने के लिए पूर्व पूर्व की खोज करनी चाहिए इसलिए गुरु की शरण में लोग जाते हैं इसलिए यह अत्यधिक रक्षक है कि मोक्ष प्राप्ति के लिए गुरु का होना आवश्यक है इसलिए हमें गुरु मानते हैं और उनका अनुसरण करते हैं

guru banane ka mukhya uddeshya geeta ke anusaar shrikrishna ke roop me diya gaya gyaan se hai shri krishna kehte hain ki tu tatvadarshi sant ki sharan me ja jo tumhe mukti marg batayega isliye guru ki unhone guru ko mar diya hai isliye apaar lagne ke liye mukhiya ne ki mukti paane ke liye purv purv ki khoj karni chahiye isliye guru ki sharan me log jaate hain isliye yah atyadhik rakshak hai ki moksha prapti ke liye guru ka hona aavashyak hai isliye hamein guru maante hain aur unka anusaran karte hain

गुरु बनाने का मुख्य उद्देश्य गीता के अनुसार श्रीकृष्ण के रूप में दिया गया ज्ञान से है श्री

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  74
WhatsApp_icon
user

Mohit Patel

Engineer

2:21
Play

Likes  9  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
user

aparajita sinha

Home Maker

0:28
Play

Likes  4  Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!