क्या यह सच है कि इंसान दुनिया से जितना करीब होता है दुनिया उससे इतना ही दूर होती जाती है?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तो सर्वविदित सत्य है कि आप जिस चीज को पाने की कोशिश करोगे वह लगेगा कि आप से दूर जा रहा है यही प्रगत कहानी

yah toh sarvavidit satya hai ki aap jis cheez ko paane ki koshish karoge vaah lagega ki aap se dur ja raha hai yahi pragat kahani

यह तो सर्वविदित सत्य है कि आप जिस चीज को पाने की कोशिश करोगे वह लगेगा कि आप से दूर जा रहा

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  261
WhatsApp_icon
14 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Niraj Devani

PHILOSOPHER

1:26

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां ऐसी बात नहीं है आइए तो एकदम गलत है कि जो दुनिया से जितना करीब होता है दुनिया उससे उतनी ही दूर हो जाती हो या आप किस तरह से कह रहे हैं मुझे नहीं पता क्योंकि अगर आप लोगों के पास रहेंगे तो लोग भी आपके पास रहेंगे लेकिन अगर आप इस तरह से कहना चाहते हैं कि आप किसी के लिए ज्यादातर आप सब के लिए कुछ ना कुछ कर रहे हो और वह नहीं कह फिर भी आप उनको मदद कर रहे हो तो फिर क्या होगा कि आपका जो एक महान है आपका वह बहुत कम हो जाएगा सब लोग बोलेंगे कि यार यह तो हमेशा अवेलेबल रहता है तो फिर वह को टेकन फॉर ग्रांटेड लेने लगेंगे तो हमेशा दुनिया के साथ ही रहना चाहिए और लेकिन मदद उन्हीं को करनी चाहिए जिनको जिनको आपकी मदद की पूर्णतया जरूरत हो बिना वजह किसी को सलाह देते रहने से या कुछ ना कुछ समझाने से दुनिया आपसे दूर हो जाएगी क्योंकि किसी को नहीं पसंद की कोई किसी को भी सलाह दें वह भी नहीं मां की हो तो भी तो कोई अगर आपको आपकी सलाह चाहे आपकी मदद चाहे तो आप सुख से कीजिए वह तीन-चार बार कहे तब लेकिन आप सामने से अगर आप सब जगह जाते रहेंगे और सबको कुछ न कुछ सलाह दे करेंगे तो फिर दुनिया आपसे दूर हो जाएगी

haan aisi baat nahi hai aaiye toh ekdam galat hai ki jo duniya se jitna kareeb hota hai duniya usse utani hi dur ho jaati ho ya aap kis tarah se keh rahe hain mujhe nahi pata kyonki agar aap logo ke paas rahenge toh log bhi aapke paas rahenge lekin agar aap is tarah se kehna chahte hain ki aap kisi ke liye jyadatar aap sab ke liye kuch na kuch kar rahe ho aur vaah nahi keh phir bhi aap unko madad kar rahe ho toh phir kya hoga ki aapka jo ek mahaan hai aapka vaah bahut kam ho jaega sab log bolenge ki yaar yah toh hamesha available rehta hai toh phir vaah ko taken for granted lene lagenge toh hamesha duniya ke saath hi rehna chahiye aur lekin madad unhi ko karni chahiye jinako jinako aapki madad ki purnataya zarurat ho bina wajah kisi ko salah dete rehne se ya kuch na kuch samjhane se duniya aapse dur ho jayegi kyonki kisi ko nahi pasand ki koi kisi ko bhi salah de vaah bhi nahi maa ki ho toh bhi toh koi agar aapko aapki salah chahen aapki madad chahen toh aap sukh se kijiye vaah teen char baar kahe tab lekin aap saamne se agar aap sab jagah jaate rahenge aur sabko kuch na kuch salah de karenge toh phir duniya aapse dur ho jayegi

हां ऐसी बात नहीं है आइए तो एकदम गलत है कि जो दुनिया से जितना करीब होता है दुनिया उससे उतनी

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  525
WhatsApp_icon
user

Surendra Sharma

अध्यापन

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाय बिल्कुल सच है कि आप लोग लोगों के जितना करीब जाओगे करी जाने का मतलब है कि आप निकट संबंध बनाओगे तो लोगों से ज्यादा अपेक्षाएं रखोगे और यदि ज्यादा अपेक्षाएं रखोगे तो निश्चित रूप से आपकी अपेक्षाएं पूरी नहीं होंगी पूरी नहीं होंगी तो आपको कष्ट होगा कष्ट होगा इसलिए आपको इतनी अपेक्षा रखनी चाहिए जितना जरूरी है जरा से ज्यादा अपेक्षाएं दुख का कारण होती है

hi bilkul sach hai ki aap log logo ke jitna kareeb jaoge kari jaane ka matlab hai ki aap nikat sambandh banaaoge toh logo se zyada apekshayen rakhoge aur yadi zyada apekshayen rakhoge toh nishchit roop se aapki apekshayen puri nahi hongi puri nahi hongi toh aapko kasht hoga kasht hoga isliye aapko itni apeksha rakhni chahiye jitna zaroori hai zara se zyada apekshayen dukh ka karan hoti hai

हाय बिल्कुल सच है कि आप लोग लोगों के जितना करीब जाओगे करी जाने का मतलब है कि आप निकट संबंध

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  1097
WhatsApp_icon
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

2:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रशन है क्या यह सच है कि इंसान दुनिया से इतना करीब होता है दुनिया से उतनी ही दूर हो जाती है अपनी सोच और अवधारणा की बातें हैं व्यक्तिगत जो लोग आज स्टार रूप में है वर्ल्ड के अंदर एमएस है तो उनके नजदीक दुनिया सबसे करीब है और उनकी ख्याति बनी हुई है उनका ईश्वर मोमेंट बहुत ऊंचा स्तर का है और मंकी परिपूर्ण ऐश्वर्या दशा में है उनको गिला शिकवा शिकायत नहीं रहता लाइफ की किसी भी क्षण के लिए लेकिन जो चेष्टा करता है कि मैं दुनिया के करीब हो रहा हूं तो दुनिया के करीब का मतलब यही होता है कि आप किसी से परिचित परिचित चित हो जाए आपको किस रूप से लोग जान से करें जितना लोग आप को जान रहे हो कि दुनिया हो रही है लेकिन रही बात जिस के नजदीक मजबूरियां किए सिर्फ एक में सूचित है और कुछ नहीं अब दुनिया में रहकर उससे अलग रह सकते हैं अलग रहकर इस दुनिया में भी रह सकते हैं यह विशेष क्षमता का विषय है अपनी अवधारणा है नहीं और आप अपने आप को शर्म भी विलय कर सकते हैं चाहे अपने आप में या दुनिया कोई अपनी सोच समझ इसको समझ कर के आपके मन का खिलवाड़ है जहां मर्जी रख सकते हैं क्योंकि ईश्वर ने मनुष्य को बनाकर स्वतंत्रता दी है चाहे तो मुझ को गाली दो रचाई पूजा ऐसा कोई रोक-टोक नहीं है लेकिन अपने आप से अपने कर्मों के प्रति नेता और उच्चतम अपने आप की परख में हो आ जाती है तो कुछ कर्म का रिजल्ट हमें स्वयं ही अद्भुत होता है समय से कर्म क्यों करें जिससे कि हमारी अनुभूति का स्तर निम्न और दुखदायक सोच के दायरे को एक अलग से रख कर अपने जीवन को ज्ञापन करना चाहिए और यह कुछ नहीं सिर्फ मानसिक दशा है

prashan hai kya yah sach hai ki insaan duniya se itna kareeb hota hai duniya se utani hi dur ho jaati hai apni soch aur avdharna ki batein hain vyaktigat jo log aaj star roop mein hai world ke andar ms hai toh unke nazdeek duniya sabse kareeb hai aur unki khyati bani hui hai unka ishwar moment bahut uncha sthar ka hai aur monkey paripurna aishwarya dasha mein hai unko gila shikwa shikayat nahi rehta life ki kisi bhi kshan ke liye lekin jo cheshta karta hai ki main duniya ke kareeb ho raha hoon toh duniya ke kareeb ka matlab yahi hota hai ki aap kisi se parichit parichit chit ho jaaye aapko kis roop se log jaan se kare jitna log aap ko jaan rahe ho ki duniya ho rahi hai lekin rahi baat jis ke nazdeek majabooriyan kiye sirf ek mein suchit hai aur kuch nahi ab duniya mein rahkar usse alag reh sakte hain alag rahkar is duniya mein bhi reh sakte hain yah vishesh kshamta ka vishay hai apni avdharna hai nahi aur aap apne aap ko sharm bhi vilay kar sakte hain chahen apne aap mein ya duniya koi apni soch samajh isko samajh kar ke aapke man ka khilwad hai jaha marji rakh sakte hain kyonki ishwar ne manushya ko banakar swatantrata di hai chahen toh mujhse ko gaali do rachai puja aisa koi rok tok nahi hai lekin apne aap se apne karmon ke prati neta aur ucchatam apne aap ki parakh mein ho aa jaati hai toh kuch karm ka result hamein swayam hi adbhut hota hai samay se karm kyon kare jisse ki hamari anubhuti ka sthar nimn aur dukhdayak soch ke daayre ko ek alag se rakh kar apne jeevan ko gyapan karna chahiye aur yah kuch nahi sirf mansik dasha hai

प्रशन है क्या यह सच है कि इंसान दुनिया से इतना करीब होता है दुनिया से उतनी ही दूर हो जाती

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  1056
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह प्रश्न है क्या यह सच है कि इंसान दुनिया से जितना करीब होता है दुनिया उससे उतना ही दूर होती जाती है नहीं ऐसा नहीं है इंसान अगर दुनिया के करीब आता है तो दुनिया भी उसकी करी जाती है

yah prashna hai kya yah sach hai ki insaan duniya se jitna kareeb hota hai duniya usse utana hi dur hoti jaati hai nahi aisa nahi hai insaan agar duniya ke kareeb aata hai toh duniya bhi uski kari jaati hai

यह प्रश्न है क्या यह सच है कि इंसान दुनिया से जितना करीब होता है दुनिया उससे उतना ही दूर ह

Romanized Version
Likes  404  Dislikes    views  4475
WhatsApp_icon
user

Rajendra Karole

Poet & Motivational Speaker

0:57
Play

Likes  3  Dislikes    views  98
WhatsApp_icon
user

gurdeep singh

Business Owner

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है क्या यह सच है कि इंसान दुनिया में जितना करीब होता है दुनिया से उतना ही दूर होती जाती है आगे बिलकुल सच है अगर आप किसी से ज्यादा एकदम ज्यादा क्लोज होने की सोचोगे उसके आगे पीछे घुमा दे तो उतना ही वह सोचेगा कि यह जो है मेरे बिना रह नहीं सकता यह संतों मेरे बिना कुछ नहीं है इतना घमंड में आएगा और आपसे दूर हो गया जितना आप किसी को इग्नोर करोगे इतना ही बोल आपके पास आने के लिए चुटकुले

aapka prashna hai kya yah sach hai ki insaan duniya me jitna kareeb hota hai duniya se utana hi dur hoti jaati hai aage bilkul sach hai agar aap kisi se zyada ekdam zyada close hone ki sochoge uske aage peeche ghuma de toh utana hi vaah sochega ki yah jo hai mere bina reh nahi sakta yah santo mere bina kuch nahi hai itna ghamand me aayega aur aapse dur ho gaya jitna aap kisi ko ignore karoge itna hi bol aapke paas aane ke liye chutkule

आपका प्रश्न है क्या यह सच है कि इंसान दुनिया में जितना करीब होता है दुनिया से उतना ही दूर

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  126
WhatsApp_icon
user

Pramodan swami (PK.VERMAN)

Prem Hi Dharm Hai Premi Karm Hi Prem Hi Safar

1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं अगर आप संसार अगर आप प्रकृति के बारे में कहना चाहते हैं तो प्रकृति से आप जितना लगा सकते हैं प्रकृति आपको उतना अपने करीब महसूस करती है और उसका कारण आपका प्रकृति के प्रति प्रेम और इतनी करीब ता है अगर आप सांसारिक लोगों की या व्यक्तियों की बात करते हैं तो अगर आप व्यक्तियों के प्रति बिना किसी अपेक्षा या बिना किसी लोग के करीब रहते हैं तो वह आपकी करीब भी नहीं रहते वह आपको अपने करीब रहना पसंद भी करते हैं आप देखते भी करते हैं और यही आप अगर प्रकृति या किसी भी व्यक्ति से अपने लोग या किसी अपेक्षा के संबंध में उनसे करीब रहना पसंद करते हैं तो वह आपसे दूर ही चले जाते हैं इसका कारण है कि वह आपकी अपेक्षाओं पर खरी नहीं उतर पाते और आपके बीच में दूरियां उत्पन्न हो जाती हैं

nahi agar aap sansar agar aap prakriti ke bare me kehna chahte hain toh prakriti se aap jitna laga sakte hain prakriti aapko utana apne kareeb mehsus karti hai aur uska karan aapka prakriti ke prati prem aur itni kareeb ta hai agar aap sansarik logo ki ya vyaktiyon ki baat karte hain toh agar aap vyaktiyon ke prati bina kisi apeksha ya bina kisi log ke kareeb rehte hain toh vaah aapki kareeb bhi nahi rehte vaah aapko apne kareeb rehna pasand bhi karte hain aap dekhte bhi karte hain aur yahi aap agar prakriti ya kisi bhi vyakti se apne log ya kisi apeksha ke sambandh me unse kareeb rehna pasand karte hain toh vaah aapse dur hi chale jaate hain iska karan hai ki vaah aapki apekshaon par khadi nahi utar paate aur aapke beech me duriyan utpann ho jaati hain

नहीं अगर आप संसार अगर आप प्रकृति के बारे में कहना चाहते हैं तो प्रकृति से आप जितना लगा सक

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  98
WhatsApp_icon
user

PUSHPENDRA SHARMA

Enterprenuership

1:24
Play

Likes  3  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
user

Dr. Dipak

sex specialist, Physiotherapist

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता है जिंदगी सिंपल ले ऐसा होता है कि इंसान जैसे जैसे सब तो शुरू होता रहता है ऐसे से उसकी मुश्किलें अभी धीरे-धीरे बढ़ती रहती है और इसे इंसान को अच्छा लगता है कि जैसे जैसे दुनिया के पास जा रहा है दुनिया से दूर जाती जा रही है लेकिन दुनिया उसे एक चांस देती जा रही है ट्रांसफर जान और और भी बड़ा बनने का मौका दे रही है

nahi aisa bilkul bhi nahi hota hai zindagi simple le aisa hota hai ki insaan jaise jaise sab toh shuru hota rehta hai aise se uski mushkilen abhi dhire dhire badhti rehti hai aur ise insaan ko accha lagta hai ki jaise jaise duniya ke paas ja raha hai duniya se dur jaati ja rahi hai lekin duniya use ek chance deti ja rahi hai transfer jaan aur aur bhi bada banne ka mauka de rahi hai

नहीं ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता है जिंदगी सिंपल ले ऐसा होता है कि इंसान जैसे जैसे सब तो शुरू

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  2
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल किया है कि क्या सचिन सच है कि इंसान दुनिया से जितना करीब होता है तुमने उससे उतना ही दूर होती रहती है प्यार करना प्यार करना पर्यावरण के प्रति सोचना ओवरकॉन्फिडेंट है तो वह यही कारण है कि इंसान इंसानों से दूर होता चला गया उसको अजीब भाव से देखती है अगर आप उदाहरण और अपने सोच करते हैं किसी एनिमल के दर्द को उसकी जरूरतों को समझते हैं और उसको पूरा करने के लिए रोड पर निकलते हैं यह जंगल में निकलते हैं चलो कुछ नहीं कि अरे यार यह तो कोई काम नहीं है तो लोगों से थोड़ा दूर हो जाते हैं

sawaal kiya hai ki kya sachin sach hai ki insaan duniya se jitna kareeb hota hai tumne usse utana hi dur hoti rehti hai pyar karna pyar karna paryavaran ke prati sochna ovarakanfident hai toh vaah yahi karan hai ki insaan insano se dur hota chala gaya usko ajib bhav se dekhti hai agar aap udaharan aur apne soch karte hain kisi animal ke dard ko uski jaruraton ko samajhte hain aur usko pura karne ke liye road par nikalte hain yah jungle me nikalte hain chalo kuch nahi ki are yaar yah toh koi kaam nahi hai toh logo se thoda dur ho jaate hain

सवाल किया है कि क्या सचिन सच है कि इंसान दुनिया से जितना करीब होता है तुमने उससे उतना ही द

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
user

भभया

लेखक

3:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं आंसर बताने की कला तहसील हरिया हो गया दुनिया में पूरा संसार आ जाता है इसी के साथ अपने अनुभव में आप लोगे आप उतना ही मर जाएगा अगर आप अपने करीब आना चाहोगी आप प्रेस मशीन अगर आप चाहते हो आप चाहोगे अभी किसी जिला उद्योग जाएगा सच्चे प्रेम सच्चे भाव की कीमत हमेशा सफल ब्रह्मांड में हुई है आपकी मर्जी पर सत्य सनेहू सो तेहि मिलय जानकारी आसाराम और जो है मिस्टर प्रेम से चाहे वह संसार

nahi answer batane ki kala tehsil hariya ho gaya duniya me pura sansar aa jata hai isi ke saath apne anubhav me aap loge aap utana hi mar jaega agar aap apne kareeb aana chahogi aap press machine agar aap chahte ho aap chahoge abhi kisi jila udyog jaega sacche prem sacche bhav ki kimat hamesha safal brahmaand me hui hai aapki marji par satya sanehu so tehi milay jaankari asharam aur jo hai mister prem se chahen vaah sansar

नहीं आंसर बताने की कला तहसील हरिया हो गया दुनिया में पूरा संसार आ जाता है इसी के साथ अपने

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  99
WhatsApp_icon
user

Om Prakash Sharma 'om'

Teacher & Writer

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां क्या सही है कि इंसान दुनिया से जितना करीब होता है दुनिया उससे उतना ही दूर होती जाती है क्या है कि जब हम किसी के करीब जाते हैं तो उसे हमारी खूबियों का ज्ञान होता है या उसे ज्ञात होता है कि वह हमारा इस्तेमाल कहां तक कर सकता है उसके बाद वो हमें यूज करके फेंक देता है दूसरा कि जैसे कहा गया है कि हर चीज सुहानी लगती है और पास जाने के बाद हमारी गलतफहमी दूर हो जाती है दुनिया अर्थात दुनिया वालों के चेहरे पर जो मेकअप लगा होता है उसका आभास हमको होने लगता है और असली चेहरा सामने सामने आते हैं हम उन से कटने लगते हैं इस तरह इंसान दुनिया से जितना करीब होता है दुनिया उससे उतनी ही दूर होती जाती है

haan kya sahi hai ki insaan duniya se jitna kareeb hota hai duniya usse utana hi dur hoti jaati hai kya hai ki jab hum kisi ke kareeb jaate hain toh use hamari khubiyon ka gyaan hota hai ya use gyaat hota hai ki vaah hamara istemal kaha tak kar sakta hai uske baad vo hamein use karke fenk deta hai doosra ki jaise kaha gaya hai ki har cheez suhani lagti hai aur paas jaane ke baad hamari galatfahamee dur ho jaati hai duniya arthat duniya walon ke chehre par jo makeup laga hota hai uska aabhas hamko hone lagta hai aur asli chehra saamne saamne aate hain hum un se katane lagte hain is tarah insaan duniya se jitna kareeb hota hai duniya usse utani hi dur hoti jaati hai

हां क्या सही है कि इंसान दुनिया से जितना करीब होता है दुनिया उससे उतना ही दूर होती जाती है

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  108
WhatsApp_icon
user
1:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखी कोई भी इंसान अगर कुछ भी चीज अनलिमिटेड करता है यानी कि ज्यादा ही कुछ अनलिमिटेड हो जाता है वह कुछ भी हो जाए खाना ज्यादा खा लेता है तो वह भी उसके लिए खराबी है बहुत ज्यादा खाना हमारे पेट के पेट को खराब कर देता है बहुत ज्यादा कसरत करना हमेशा का देता है बीमार कर देता है तो बहुत ज्यादा जो है दुनिया के अंदर भूल जाना भी खराब कर देता है तो इसलिए अगर आपको कुछ करना है तो मेहनत ज्यादा से ज्यादा मैं करनी चाहिए तो मेहनत ज्यादा करेंगे लाइफ के अंदर उत्तर ज्यादा बढ़िया तो सब कुछ लिमिट में होता है अपनी लिमिट को कभी क्रॉस ना करें और लिमिट क्रॉस करेंगे तो फिर बाद में जो है बहुत ज्यादा प्रॉब्लम होती है इसलिए न्यूट्रल रहे हर चीज को टाइम में इसके अंदर हर चीज को टाइम देना जरूरी है जिंदगी में मेहनत भी करें और दुनिया से भी मिलना बहुत ज्यादा जरूरी है लोगों से मिलना बहुत जरूरी है और अच्छे लोग हमारी लाइफ में होता है हमारे करीब जो होते हैं जो मरा ध्यान रखते हैं उनसे मिलना बहुत जरूरी है तो उनको भी अच्छा लगता है तो इसलिए मिलना बहुत जरूरी है ऐसे रिलेशन बनाना बहुत जरूरी है हर चीज लाइफ में बाग निभाती है तो वैसे ही में जीना चाहिए

likhi koi bhi insaan agar kuch bhi cheez unlimited karta hai yani ki zyada hi kuch unlimited ho jata hai vaah kuch bhi ho jaaye khana zyada kha leta hai toh vaah bhi uske liye kharabi hai bahut zyada khana hamare pet ke pet ko kharab kar deta hai bahut zyada kasrat karna hamesha ka deta hai bimar kar deta hai toh bahut zyada jo hai duniya ke andar bhool jana bhi kharab kar deta hai toh isliye agar aapko kuch karna hai toh mehnat zyada se zyada main karni chahiye toh mehnat zyada karenge life ke andar uttar zyada badhiya toh sab kuch limit mein hota hai apni limit ko kabhi cross na kare aur limit cross karenge toh phir baad mein jo hai bahut zyada problem hoti hai isliye neutral rahe har cheez ko time mein iske andar har cheez ko time dena zaroori hai zindagi mein mehnat bhi kare aur duniya se bhi milna bahut zyada zaroori hai logo se milna bahut zaroori hai aur acche log hamari life mein hota hai hamare kareeb jo hote hain jo mara dhyan rakhte hain unse milna bahut zaroori hai toh unko bhi accha lagta hai toh isliye milna bahut zaroori hai aise relation banana bahut zaroori hai har cheez life mein bagh nibhati hai toh waise hi mein jeena chahiye

लिखी कोई भी इंसान अगर कुछ भी चीज अनलिमिटेड करता है यानी कि ज्यादा ही कुछ अनलिमिटेड हो जाता

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  2
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!