आतंकी और नक्सलाइट में क्या अंतर है?...


play
user

Vikas Singh Rajput

Political Analyst

4:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आतंकी और नक्सलवाद में क्या अंतर है आतंकवादी नक्सलवाद अल्फा सल्फाई जितने भी हैं गुंडा माफिया इनके में कोई अंतर नहीं है आतंकवादी क्या करते हैं एक देश से दूसरे देश में अटैक करते हैं नक्सलवाद क्या होते हैं वह क्षेत्र में अपना गुंडागर्दी करते हैं तो कोई अंतर नहीं है इन सब को फांसी पर लटकाना चाहिए इन सब को जिंदा जला देना चाहिए नक्सलवाद आतंकवाद असम में अल्फा वाले होते हैं यह सब लोग एक विचार के हैं और इन को इन को गोली मार देना चाहिए बम से उड़ा देना चाहिए तभी पूरे विश्व को तरक्की मिलेगी विश्व आगे बढ़ेगा विश्व शांति से रहेगा वरना जिंदगी का क्या ठीक है आतंकवादी आकर कहां बम फेंक दें वह तो इतना खुफिया एजेंसी वाले जो लोग होते हैं इतना करते हैं इतना संघर्ष करते हैं कि देश सुरक्षित रहता है हमारे देश की आर्मी फौज खुफिया एजेंसी सिर्फ हमारे देश की नहीं सभी देश की तो जीरो टॉलरेंस होना चाहिए आतंकवाद नक्सलवाद अल्फा सल्फा जो भी है गुंडा माफिया इन के लिए सिर्फ एक ही प्रावधान होना चाहिए इनको मृत्युदंड दीजिए कहीं भी आतंकवादी संगठन का पता चले नक्सलवाद संगठन का पता चले ट्रेनिंग हो रही है या कुछ और है ऊपर से हेलीकॉप्टर से बम गिरा दीजिए काम खत्म समाप्त हो जाएंगे सब जैसे हमारे देश ने पाकिस्तान में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक की वजह से ही आतंकवादियों के ऊपर सर्जिकल स्ट्राइक होनी चाहिए उनके घर से उनकी माताएं बहने हैं उनको निकाल कर उनको घर में बैठा कर ऊपर से बम फेंक दीजिए खत्म हो जाएंगे काम खत्म हो जाएगा नहीं पता लोग आतंकवादी क्यों मिलते हैं नक्सलवाद क्यों बनते हैं उनको समझ में नहीं आता है तो युवाओं को भ्रमित कर दिया जाता है हम सभी लोगों को इसके ऊपर काम करना होगा कि हमारे अपने हमारे आसपास के हमारे घर के कभी भी लोग गलत विचारधारा में ना जाएं क्योंकि आतंकवादी संगठन वाले बहुत जोरों से काम कर रहे हैं वह क्या करते हैं युवाओं को भ्रमित करके अपने संगठन में ले लेते हैं और उनको आतंकवादी बना देते हैं हमारे देश के मुसलमानों के लिए बहुत खतरे का विषय है मुसलमान हमारे देश के भी बहुत आईएसआईएस में भर्ती हो जाते हैं भैया आप हिंदुस्तान के मुसलमान हो तो आप आतंकवादी क्यों बन रहे हो आप इंजीनियर डॉक्टर बनो कुछ सांसद विधायक बनो कुछ देश को समाज को आगे बढ़ाने के लिए काम करो समाज सेवक बनो अपने मुस्लिम समाज को तरक्की दिलाने के लिए काम करो शिक्षित करने के लिए का आप आतंकवादी क्यों बन रहे हो आप आतंकवादी भरोगे तो और घोड़ा की नजर से देखे जाओगे आप लोग तो सुधारने की जरूरत है सारे आतंकवाद में अब देखेंगे हंड्रेड परसेंट आतंकवादी मुस्लिम लोग बनते हैं तो कहीं न कहीं गड़बड़ी है कुरान में हम यह नहीं कहते हैं कि कुरान में बहुत कुछ गलत लिखा गया है लेकिन कुरान के अर्थ को गलत तरीके से लिया जाता है तो इसलिए कुरान को भी बंद कर देना चाहिए लेकिन मुसलमान का होता है जो मुसल्लम ईमान जिसके पास होता है वही मुसलमान होता है अगर एक मुस्लिम व्यक्ति के घर में खाना बना है उसके बगल पड़ोसी जो है वह बिना खाए सो गया उसके घर खाना नहीं है अगर मुसलमान व्यक्ति ने खाना खा लिया तो समझ लीजिए उसने हर आम खा लिया मुसलमान का डेफिनिशन यह होता है लेकिन मुसलमान इसे फॉलो नहीं कर रहे हैं तो फॉलो नहीं कर पा रहे हैं तो इनके कुरान को सबसे पहले बंद करना होगा पूरे विश्व में तभी यह लोग सुधरेंगे और मुसलमानों से मेरा निवेदन है कृपया करके आप अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दीजिए मदरसों में मत भेजिए उस मदरसों में भेजिए जहां पर से बीएससी की पढ़ाई करवाई जा रही है वरना मदरसों में तो आतंकवादी बनने की शिक्षा दी जाती है तो बच्चों को जब गलत शिक्षा मिलेगी तो गलत ही बनेंगे तो आप अपने बच्चों को एजुकेटेड बनाइए अपने देश के प्रति प्रेम की भावना उनके अंदर डाली है जब ऐसा काम करेंगे तो धीरे-धीरे मुस्लिम समुदाय ऊपर उठेगा और आगे बढ़े तरक्की करेगा और पूरा विश्व तरक्की कर जाएगा तो यह होना चाहिए नक्सलवाद आतंकवाद में कोई अंतर नहीं है इन सब की सजा एक है वह है इनकी मौत जो भी आतंकवादी है नक्सलवादी है उसको इस धरती पर जीने का अधिकार नहीं है धन्यवाद

aatanki aur naksalvad mein kya antar hai aatankwadi naksalvad alpha salfai jitne bhi hai gunda mafia inke mein koi antar nahi hai aatankwadi kya karte hai ek desh se dusre desh mein attack karte hai naksalvad kya hote hai vaah kshetra mein apna gundagardi karte hai toh koi antar nahi hai in sab ko fansi par latkana chahiye in sab ko zinda jala dena chahiye naksalvad aatankwad assam mein alpha waale hote hai yah sab log ek vichar ke hai aur in ko in ko goli maar dena chahiye bomb se uda dena chahiye tabhi poore vishwa ko tarakki milegi vishwa aage badhega vishwa shanti se rahega varna zindagi ka kya theek hai aatankwadi aakar kahaan bomb fenk de vaah toh itna khufiya agency waale jo log hote hai itna karte hai itna sangharsh karte hai ki desh surakshit rehta hai hamare desh ki army fauj khufiya agency sirf hamare desh ki nahi sabhi desh ki toh zero tolerance hona chahiye aatankwad naksalvad alpha salfa jo bhi hai gunda mafia in ke liye sirf ek hi pravadhan hona chahiye inko mrityudand dijiye kahin bhi aatankwadi sangathan ka pata chale naksalvad sangathan ka pata chale training ho rahi hai ya kuch aur hai upar se helicopter se bomb gira dijiye kaam khatam samapt ho jaenge sab jaise hamare desh ne pakistan mein ghuskar surgical strike ki wajah se hi aatankwadion ke upar surgical strike honi chahiye unke ghar se unki matayein behne hai unko nikaal kar unko ghar mein baitha kar upar se bomb fenk dijiye khatam ho jaenge kaam khatam ho jaega nahi pata log aatankwadi kyon milte hai naksalvad kyon bante hai unko samajh mein nahi aata hai toh yuvaon ko bharmit kar diya jata hai hum sabhi logo ko iske upar kaam karna hoga ki hamare apne hamare aaspass ke hamare ghar ke kabhi bhi log galat vichardhara mein na jayen kyonki aatankwadi sangathan waale bahut joron se kaam kar rahe hai vaah kya karte hai yuvaon ko bharmit karke apne sangathan mein le lete hai aur unko aatankwadi bana dete hai hamare desh ke musalmanon ke liye bahut khatre ka vishay hai muslim hamare desh ke bhi bahut ISIS mein bharti ho jaate hai bhaiya aap Hindustan ke muslim ho toh aap aatankwadi kyon ban rahe ho aap engineer doctor bano kuch saansad vidhayak bano kuch desh ko samaj ko aage badhane ke liye kaam karo samaj sevak bano apne muslim samaj ko tarakki dilaane ke liye kaam karo shikshit karne ke liye ka aap aatankwadi kyon ban rahe ho aap aatankwadi bharoge toh aur ghoda ki nazar se dekhe jaoge aap log toh sudhaarne ki zarurat hai saare aatankwad mein ab dekhenge hundred percent aatankwadi muslim log bante hai toh kahin na kahin gadbadi hai quraan mein hum yah nahi kehte hai ki quraan mein bahut kuch galat likha gaya hai lekin quraan ke arth ko galat tarike se liya jata hai toh isliye quraan ko bhi band kar dena chahiye lekin muslim ka hota hai jo musallam iman jiske paas hota hai wahi muslim hota hai agar ek muslim vyakti ke ghar mein khana bana hai uske bagal padosi jo hai vaah bina khaye so gaya uske ghar khana nahi hai agar muslim vyakti ne khana kha liya toh samajh lijiye usne har aam kha liya muslim ka definition yah hota hai lekin muslim ise follow nahi kar rahe hai toh follow nahi kar paa rahe hai toh inke quraan ko sabse pehle band karna hoga poore vishwa mein tabhi yah log sudhrenge aur musalmanon se mera nivedan hai kripya karke aap apne baccho ko achi shiksha dijiye madarson mein mat bhejiye us madarson mein bhejiye jaha par se bsc ki padhai karwai ja rahi hai varna madarson mein toh aatankwadi banne ki shiksha di jaati hai toh baccho ko jab galat shiksha milegi toh galat hi banenge toh aap apne baccho ko educated banaiye apne desh ke prati prem ki bhavna unke andar dali hai jab aisa kaam karenge toh dhire dhire muslim samuday upar uthega aur aage badhe tarakki karega aur pura vishwa tarakki kar jaega toh yah hona chahiye naksalvad aatankwad mein koi antar nahi hai in sab ki saza ek hai vaah hai inki maut jo bhi aatankwadi hai naksalwadi hai usko is dharti par jeene ka adhikaar nahi hai dhanyavad

आतंकी और नक्सलवाद में क्या अंतर है आतंकवादी नक्सलवाद अल्फा सल्फाई जितने भी हैं गुंडा माफिय

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  4
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!