क्या जापान की शिक्षा व्यवस्था को भारत में लागू किया जाना चाहिए?...


play
user

Preetisingh

Junior Volunteer

2:12

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जापान की शिक्षा व्यवस्था को भारत में देखिए यह लागू किया जाना चाहिए कि जो भारत जो जापान की शिक्षा व्यवस्था है उसी की वजह से जो है वह इतनी आगे अपने और सफलता की राह पर जा रहे हैं जैसे कि हमारे उसने कहा था कि जोक्स सिर्फ बच्चों को उनकी किताब होती है सिर्फ आजतक ही उनको रखा जाता है जबकि जापान में जो इसको छोटे बच्चे तक इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम और मुंह बना सकते हैं उनको पता है कि किस तरह से इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स को बनाना है और वहां पर सिर्फ पढ़ाई नहीं वहां पर बच्चों को अलग एक्टिविटी करने के लिए दी जाती है पहली बार जापान की साक्षरता है वह हंड्रेड परसेंट इसका मतलब आप सब पढ़ाई करता हूं और सब ही साक्षर है 6 साल की प्राथमिक शिक्षा 3 साल की जूनियर हाई स्कूल शिक्षा 3 साल की सीरियल हाई स्कूल कक्षा 4 साल की निवासी थी कि शिक्षा क्षेत्र के प्राथमिक शिक्षा एवं 30 साल की जूनियर हाई स्कूल शिक्षा यह वहां पर अनिवार्य है उसके अलावा छोटे बच्चों को घर पर काम करने के लिए होमवर्क नहीं मिलता लेकिन हाई स्कूल में आने के तूने घर पर काम करने के लिए बहुत काम मिलता है उसके अलावा जूनियर हाई स्कूल स्टूडेंट को स्कूल यूनिफार्म पहन नहीं होते जिससे जापानी भाषा में सुजुकी बोलते हैं और जूनियर हाईस्कूल तक प्लेसमेंट कोलन सपने कक्षा में बैठकर खाना होता है उनकी शिक्षक भी साथ में बैठकर खाना खाना खाते हैं जापान में शिक्षा नहीं छोड़ते ना ही वे कक्षा के लिए देर से पहुंचते हैं आज अपने जूनियर हाईस्कूल तक बच्चों को फेल नहीं किया जाता और उन्हें आगे की कक्षा में भेजा जाता है फिर चाहे उनके नंबर कितने भी कम हो और आगे की कक्षा में ऐसे बच्चों पर विशेष ध्यान दिया जाता है ताकि वह आगे फिर से मिलना हो जवानी शिक्षक बनने के लिए एक परीक्षा पास करनी होती है जिससे उन्हें शिक्षक बनने का लाइसेंस मिलता है नवनिर्वाचित शिक्षक का मासिक वेतन 2.5 मिलियन हेतु पंजाबी मीडियम लैंड से शुरू होता है ज्ञान और अनुभव के साथ साथिया वेतन बढ़ जाता है उसे 1.8 महीने से लेकर 1 पॉइंट सकता है वहां पर बच्ची जो है अपनी बरेली स्कूल के बाद विषय चुनने का दबाव नहीं होता है अगर बच्चे कौन सा विषय लेना है यह निर्णय नहीं ले पाते हैं तो शिक्षक उनकी सहायता करते हैं

japan ki shiksha vyavastha ko bharat mein dekhiye yah laagu kiya jana chahiye ki jo bharat jo japan ki shiksha vyavastha hai usi ki wajah se jo hai vaah itni aage apne aur safalta ki raah par ja rahe hain jaise ki hamare usne kaha tha ki jokes sirf baccho ko unki kitab hoti hai sirf aajtak hi unko rakha jata hai jabki japan mein jo isko chote bacche tak electronics item aur mooh bana sakte hain unko pata hai ki kis tarah se electronic iteams ko banana hai aur wahan par sirf padhai nahi wahan par baccho ko alag activity karne ke liye di jaati hai pehli baar japan ki saksharta hai vaah hundred percent iska matlab aap sab padhai karta hoon aur sab hi sakshar hai 6 saal ki prathmik shiksha 3 saal ki junior high school shiksha 3 saal ki serial high school kaksha 4 saal ki niwasi thi ki shiksha kshetra ke prathmik shiksha evam 30 saal ki junior high school shiksha yah wahan par anivarya hai uske alava chote baccho ko ghar par kaam karne ke liye homework nahi milta lekin high school mein aane ke tune ghar par kaam karne ke liye bahut kaam milta hai uske alava junior high school student ko school uniform pahan nahi hote jisse japani bhasha mein suzuki bolte hain aur junior highschool tak placement kolan sapne kaksha mein baithkar khana hota hai unki shikshak bhi saath mein baithkar khana khana khate hain japan mein shiksha nahi chodte na hi ve kaksha ke liye der se pahunchate hain aaj apne junior highschool tak baccho ko fail nahi kiya jata aur unhe aage ki kaksha mein bheja jata hai phir chahen unke number kitne bhi kam ho aur aage ki kaksha mein aise baccho par vishesh dhyan diya jata hai taki vaah aage phir se milna ho jawaani shikshak banne ke liye ek pariksha paas karni hoti hai jisse unhe shikshak banne ka license milta hai navnirvaachit shikshak ka maasik vetan 2 5 million hetu punjabi medium land se shuru hota hai gyaan aur anubhav ke saath sathiya vetan badh jata hai use 1 8 mahine se lekar 1 point sakta hai wahan par bachi jo hai apni bareilly school ke baad vishay chunane ka dabaav nahi hota hai agar bacche kaun sa vishay lena hai yah nirnay nahi le paate hain toh shikshak unki sahayta karte hain

जापान की शिक्षा व्यवस्था को भारत में देखिए यह लागू किया जाना चाहिए कि जो भारत जो जापान की

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  6
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!