क्या कम महिला अधिकारी होना एक कारण है कि भारतीय महिलाएँ पुलिस स्टेशन जाने में असहज महसूस करती हैं?...


play
user

Awdhesh Singh

Former IRS, Top Quora Writer, IAS Educator

1:20

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मैं इस बात से पूरी तरीके से सहमत नहीं हूं कि महिला अधिकारी जो है वह कम होने की वजह से पुलिस जो भारतीय महिलाएं हैं वह पुलिस स्टेशन जाने में असहज महसूस करती हैं मैं समझता हूं कि कोई भी व्यक्ति जो एक ही चाहे वह इंसान नामर्द हो औरत हो या कोई भी हो वह बहुत ही ज्यादा वह पुलिस स्टेशन जाने में असहज महसूस करता क्योंकि पुलिस ने जो 25 वर्ष होते उनका रवैया और उनका व्यवहार बहुत ही खराब रहता है आम जनता के लिए वह स्वयं इस तरीके के बीच में काम करते हैं और उनका खुद इतना ज्यादा हिम्मत ईशान होता है कि कोई भी जनता आती उसके साथ अच्छा व्यवहार नहीं करते हैं तो कोई भी व्यक्ति जो है वह पुलिस स्टेशन जाना नहीं चाहता और अवार्ड करना चाहता पुलिस स्टेशन क्योंकि उसको दिखाइए सीमेंट लगता है और इसलिए यह बात से भक्ति महिलाओं पर ही लागू नहीं होती है मुख्य तौर पर मैं समझता हूं कि पुलिस वालों को एक ट्रेनिंग देने की जरूरत है और वह ट्रेनिंग से उनको एक जो भी वियर है कि पब्लिक के साथ कैसे पटाया जाए उसमें उनको ट्रेनिंग दी जानी चाहिए ताकि मर्द या औरत हर एक आदमी वहां पर

dekhie chahiye main is baat se puri tarike se sahmat nahi hoon ki mahila adhikari jo hai wah kum hone ki wajah se police jo bhartiya mahilaye hain wah police station jaane mein asahaj mehsus karti hain main samajhata hoon ki koi bhi vyakti jo ek hi chahe wah insaan namard ho aurat ho ya koi bhi ho wah bahut hi jyada wah police station jaane mein asahaj mehsus karta kyonki police ne jo 25 varsh hote unka ravaiya aur unka vyavhar bahut hi kharab rehta hai aam janta ke liye wah swayam is tarike ke beech mein kaam karte hain aur unka khud itna jyada himmat ishan hota hai ki koi bhi janta aati uske saath accha vyavhar nahi karte hain to koi bhi vyakti jo hai wah police station jana nahi chahta aur award karna chahta police station kyonki usko dikhaaiye cement lagta hai aur isliye yeh baat se bhakti mahilaon par hi laagu nahi hoti hai mukhya taur par main samajhata hoon ki police walon ko ek training dene ki zarurat hai aur wah training se unko ek jo bhi wear hai ki public ke saath kaise pataya jaye usamen chahiye unko training di jani chahiye taki mard ya aurat har ek aadmi wahan par

देखिए मैं इस बात से पूरी तरीके से सहमत नहीं हूं कि महिला अधिकारी जो है वह कम होने की वजह स

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  379
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
krimalrt ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!