मोदी चाहतें हैं कि भारत विज्ञान में प्रगति करे।हम किन वैज्ञानि कौन से प्रेरणा ले सकते हैं?...


play
user

Jigyasu

Jack of all trades

0:40

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में विज्ञान की परंपरा बहुत पुरानी है हमारी जो सभ्यता है यह हमने ही सबसे पहले जो है गणित को एक आधार दिया था हमारे यहां मतलब ब्रह्मगुप्त ऐसे लोग हैं जिन्होंने जीरो के हीरो और नंबर सिस्टम दोनों को मतलब आधार दिया और एक पूरा हमारे यहां गणित और विज्ञान दोनों का ही एक लंबी ट्रेडिशन रही है इसके अलावा हमारे यहां सी वी रमन जैसे लोग हुए हैं जगदीश चंद्र बसु जैसे लोग हुए हैं तो हम इन सब से प्रेरणा ले सकते हैं कि मतलब विज्ञान में और ज्यादा ऊंचाइयों को छुएं

bharat mein vigyan ki parampara bahut purani hai hamari jo sabhyata hai yah humne hi sabse pehle jo hai ganit ko ek aadhaar diya tha hamare yahan matlab brahmagupt aise log hain jinhone zero ke hero aur number system dono ko matlab aadhaar diya aur ek pura hamare yahan ganit aur vigyan dono ka hi ek lambi tradition rahi hai iske alava hamare yahan si v raman jaise log hue hain jagdish chandra basu jaise log hue hain toh hum in sab se prerna le sakte hain ki matlab vigyan mein aur zyada unchaiyon ko chuen

भारत में विज्ञान की परंपरा बहुत पुरानी है हमारी जो सभ्यता है यह हमने ही सबसे पहले जो है गण

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  24
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय विज्ञान की परंपरा दुनिया की प्राचीनतम परंपराओं में से एक है भारत में विज्ञान का उद्भव ईसा से 3000 वर्ष पूर्व ही हो गया था हड़प्पा और मोहनजोदड़ो की खुदाई से प्राप्त सिंधु घाटी के अवशेषों से वहां के लोगों की वैज्ञानिक दृष्टि और वैज्ञानिक उपकरणों के प्रयोगों का पता चलता है प्राचीन समय के आर्यभट्ट ब्रह्मगुप्त का नागार्जुन की अलग-अलग क्षेत्रों में खोजों का महत्वपूर्ण योगदान है वर्तमान समय में विज्ञान का स्वरूप बहुत ही विकसित और विस्तृत हो गया है आधुनिक वैज्ञानिकों में हमारे देश के कई ऐसे महान वैज्ञानिक हुए हैं महान वैज्ञानिक हुए हैं जिन्होंने अपने अपने क्षेत्रों में नए-नए आविष्कार करके भारत का नाम रोशन किया है जिनमें से जगदीश चंद्र बसु प्रफुल्ल चंद्र राय सी वी रमन मेघनाद साहा प्रशांत चंद्र महालनोबिस श्रीनिवास रामानुजम सत्येंद्र नाथ बोस

bharatiya vigyan ki parampara duniya ki prachintam paramparaon mein se ek hai bharat mein vigyan ka udbhav isa se 3000 varsh purv hi ho gaya tha hadappa aur mohenjodaro ki khudai se prapt sindhu ghati ke avshesho se wahan ke logo ki vaigyanik drishti aur vaigyanik upkarnon ke prayogon ka pata chalta hai prachin samay ke aryabhatta brahmagupt ka nagarjuna ki alag alag kshetro mein khojon ka mahatvapurna yogdan hai vartaman samay mein vigyan ka swaroop bahut hi viksit aur vistrit ho gaya hai aadhunik vaigyaniko mein hamare desh ke kai aise mahaan vaigyanik hue hai mahaan vaigyanik hue hai jinhone apne apne kshetro mein naye naye avishkar karke bharat ka naam roshan kiya hai jinmein se jagdish chandra basu prafull chandra rai si va raman meghnad saha prashant chandra mahalanobis srinivas ramanujam satyendra nath bose

भारतीय विज्ञान की परंपरा दुनिया की प्राचीनतम परंपराओं में से एक है भारत में विज्ञान का उद्

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  9
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!