कबीर सिंह फिल्म के बारे में आपकी क्या राय है?...


play
user

Abhishek Shekher Gaur

Civil Engineer

1:38

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कबीर सिंह फिल्म के बारे में मेरे क्या राय कबीर सिंह फिल्म मुझे तो अच्छी लगी थी मुझे उसमें शाहिद की एक्टिंग बहुत अच्छी लगी मूवी से हम बहुत कुछ सीख सकते हैं जैसे मूवी में दिखाया गया है कि वह बहुत गुस्सा है और उस गुस्सैल बनने की वजह से बहुत कुछ खो देता है उसके वह उतना भोपाल ट्रेन टाइम गया जिसमें वह पागलों की तरह रहा और अपनी दादी को वह नहीं देख पाया जब खत्म हो गई तब मिल गया देखने और जो उसका गुस्सा था वह कहां तक उसको बर्बाद कर सकता था उसने सेल फोन किया था और दूसरी चीजें भी दिखाई जाती है कि जवाब प्यार में होते हैं और जब ब्रेकअप होता है शुभ होता है तो आदमी सेल फार्म करता है वह रियालिटी है कई लोग खाना नहीं खाते हैं कई लोग दारु पीने लगते कई लोग सिगरेट पीने लगते हैं कोई कुछ करता है कोई कुछ करता कोई खाना नहीं खाता कोई कम खाने लगता है ना और स्पेस लेते रहते हैं तो वह सब इसमें दिखाया गया जो कि सच होता है आदमी करता है जब ऐसा होता है तो तो लेकिन सीखने वाली बात यही है कि हमको आगे बढ़ना चाहिए अभी पड़ता ही है लास्ट में वह बात अलग है लाश में उसको फिर मिल जाती है लेकिन एटलस आगे बढ़ता है और फिर उसको लगता है कि उसने जितने टाइम तक किया है कि उसकी वजह से बहुत नुकसान कर दिया उसने तो मूवी बहुत अच्छी है अच्छे से बनाई गई है शायद ने बहुत अच्छी एक्टिंग करी है और मुझे बहुत अच्छी लगी पिक्चर थैंक यू

kabir Singh film ke bare mein mere kya rai kabir Singh film mujhe toh achi lagi thi mujhe usme shahid ki acting bahut achi lagi movie se hum bahut kuch seekh sakte hain jaise movie mein dikhaya gaya hai ki vaah bahut gussa hai aur us gussail banne ki wajah se bahut kuch kho deta hai uske vaah utana bhopal train time gaya jisme vaah paagalon ki tarah raha aur apni dadi ko vaah nahi dekh paya jab khatam ho gayi tab mil gaya dekhne aur jo uska gussa tha vaah kahaan tak usko barbad kar sakta tha usne cell phone kiya tha aur dusri cheezen bhi dikhai jaati hai ki jawab pyar mein hote hain aur jab breakup hota hai shubha hota hai toh aadmi cell form karta hai vaah reality hai kai log khana nahi khate hain kai log daaru peene lagte kai log cigarette peene lagte hain koi kuch karta hai koi kuch karta koi khana nahi khaata koi kam khane lagta hai na aur space lete rehte hain toh vaah sab isme dikhaya gaya jo ki sach hota hai aadmi karta hai jab aisa hota hai toh toh lekin sikhne wali baat yahi hai ki hamko aage badhana chahiye abhi padta hi hai last mein vaah baat alag hai laash mein usko phir mil jaati hai lekin atlas aage badhta hai aur phir usko lagta hai ki usne jitne time tak kiya hai ki uski wajah se bahut nuksan kar diya usne toh movie bahut achi hai acche se banai gayi hai shayad ne bahut achi acting kari hai aur mujhe bahut achi lagi picture thank you

कबीर सिंह फिल्म के बारे में मेरे क्या राय कबीर सिंह फिल्म मुझे तो अच्छी लगी थी मुझे उसमें

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  2097
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!