अगर कोई व्यक्ति बहुत दुखी हो तो उसे कैसे ठीक किया जा सकता है?...


user

Dr Arti Gupta

My Youtube Account - Yoga By Arti Gupta

3:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दुख और सुख दोनों हमारे भाव है हमारे इमोशंस है जब हमारे अनुसार कोई कार होता है तो हम उसे अच्छा को सुखी किधर है अनुभव करते हैं जो हमारे विरुद्ध कार होता है तो उसमें हम दुखी महसूस करते हैं सुख और दुख का भाव हमारे ऊपर निर्भर करता है टैक्सी दुख का कारण केवल हमारी अनुसार ना होना ही है तो कोई भी चीज के अनुसार नहीं हो सकती जो भी चीज होना है उसकी प्रकृति ने जैसा उसके साथ करना है चाहे वह आपके रिश्तेदारों से प्रगति हो जाए आपका फाइनेंसर प्रॉब्लम हो सारी की सारी परेशानियां स्थिति के अनुसार चलती हैं हम दुखी कब होते हैं धर्मात्मा से दूर होते हैं स्वयं पर विश्वास कम रखते हैं जैसे-जैसे स्वयं को अपनी को मालिकाना मानने लगते हैं सम्राट मानने लगते हैं उसकी कुछ विधियां होती हैं उन विधियों को अगर आप करेंगे तो महसूस करेंगे कि आपका जोखनपुर जो दूसरे लोग कर रहे हो हम स्वयं कर सकते हैं हम खुद को बदल सकते हैं जब हमें इस बात का एहसास होता है तो हमारे अंदर का भाव आता है क्योंकि जब भी हम सॉल्यूशन करना हमारे कंट्रोल में होता है हमें सुख प्राप्त होता ही है स्वयं को चाहिए आपको करोड़ों अरबों से अनगिनत चीजों से नवाजा गया कितने भी अपना जितना ज्यादा से ज्यादा विस्तार कर सकता था वह आपको दिया है आपने उनको नहीं देखा आप से देखा जो आपके विपरीत है शायद जो आपके विपरीत हैं आप के बनाए हुए इच्छा इच्छा हो और स्वभाव तो अलग चीजें होती है तो भाव भी होता है स्वभाव स्वयं में रहना होता है सुख दुख दूसरों के द्वारा दी गई प्रतिक्रिया होती है अपनी पर ध्यान दीजिए अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए आप अपने कार्यों पर ध्यान दीजिए कहां हम अपने को ठीक कर सकते हैं अनुशासित कर सकते हैं जैसे कि हमारा सुहाग ठीक हो ना सुख का कारण होता है परमसुख स्वास्थ्य के लिए आप अपना कार्य कीजिए जो हमारे अंदर सामर्थ होता है उसको पहचाने कि मैं कैसे खुश रह सकता हूं मैं पेंटिंग में खुश रह सकता हूं मैं डांस में खुश रह सकता हूं मैं प्रकृति के साथ खुश रहो किसी के साथ जजमेंट मत कीजिए ऐसे ही स्वीकार कीजिए आपके दुखों का कारण है स्वीकार करना हो ना तो प्लीज आप अपनी शिखा भाव को बढ़ाइए इच्छा है उनको सिर्फ अपने तक सीमित रखें जो मैं कर सकता हूं वही मैं अच्छा रखूंगा दूसरों पर निर्भर है वह उसका कार्य उस समय सकता हूं स्वीकार कर सकता हूं तो आपकी तो बहुत कम हो जाएंगे जिस बात मानी बहुत ही कम हो जाएंगे थैंक यू सो मच

dukh aur sukh dono hamare bhav hai hamare emotional hai jab hamare anusaar koi car hota hai toh hum use accha ko sukhi kidhar hai anubhav karte hain jo hamare viruddh car hota hai toh usme hum dukhi mehsus karte hain sukh aur dukh ka bhav hamare upar nirbhar karta hai taxi dukh ka karan keval hamari anusaar na hona hi hai toh koi bhi cheez ke anusaar nahi ho sakti jo bhi cheez hona hai uski prakriti ne jaisa uske saath karna hai chahen vaah aapke rishtedaron se pragati ho jaaye aapka financer problem ho saari ki saari pareshaniya sthiti ke anusaar chalti hain hum dukhi kab hote hain dharmatma se dur hote hain swayam par vishwas kam rakhte hain jaise jaise swayam ko apni ko malikana manne lagte hain samrat manne lagte hain uski kuch vidhiyan hoti hain un vidhiyon ko agar aap karenge toh mehsus karenge ki aapka jokhanapur jo dusre log kar rahe ho hum swayam kar sakte hain hum khud ko badal sakte hain jab hamein is baat ka ehsaas hota hai toh hamare andar ka bhav aata hai kyonki jab bhi hum solution karna hamare control me hota hai hamein sukh prapt hota hi hai swayam ko chahiye aapko karodo araboon se anaginat chijon se navaja gaya kitne bhi apna jitna zyada se zyada vistaar kar sakta tha vaah aapko diya hai aapne unko nahi dekha aap se dekha jo aapke viprit hai shayad jo aapke viprit hain aap ke banaye hue iccha iccha ho aur swabhav toh alag cheezen hoti hai toh bhav bhi hota hai swabhav swayam me rehna hota hai sukh dukh dusro ke dwara di gayi pratikriya hoti hai apni par dhyan dijiye apne swasthya par dhyan dijiye aap apne karyo par dhyan dijiye kaha hum apne ko theek kar sakte hain anushasit kar sakte hain jaise ki hamara suhaag theek ho na sukh ka karan hota hai paramsukh swasthya ke liye aap apna karya kijiye jo hamare andar samarth hota hai usko pehchane ki main kaise khush reh sakta hoon main painting me khush reh sakta hoon main dance me khush reh sakta hoon main prakriti ke saath khush raho kisi ke saath judgement mat kijiye aise hi sweekar kijiye aapke dukhon ka karan hai sweekar karna ho na toh please aap apni shikha bhav ko badhaiye iccha hai unko sirf apne tak simit rakhen jo main kar sakta hoon wahi main accha rakhunga dusro par nirbhar hai vaah uska karya us samay sakta hoon sweekar kar sakta hoon toh aapki toh bahut kam ho jaenge jis baat maani bahut hi kam ho jaenge thank you so match

दुख और सुख दोनों हमारे भाव है हमारे इमोशंस है जब हमारे अनुसार कोई कार होता है तो हम उसे अच

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  137
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!