मानव की उत्पत्ति सर्वप्रथम कहाँ से हुई थी?...


play
user

munmun

Volunteer

1:28

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनुष्य की उत्पत्ति का सिद्धांत है हर धर्म में अलग अलग है और मनुष्य की उत्पत्ति कब हुई और कैसे हुई क्या मनुष्य बंदरों का विकसित रूप है और ऐसे सवाल जो है मन में उठते रहते हैं ऐसे कि आपका सवाल है कि मनुष्य का उत्पत्ति जो है वह सर्वप्रथम कहां से हुआ तो हिंदू धर्म अनुसार जो है मानव किसी भी प्रकार के बंदर का विकसित रूप नहीं है और पुराने ग्रंथों के अनुसार जो है वानर और बंदरों को मनुष्य से अलग माना गया है और मानव की पहले लंबाई जो है लंबाई आयु और उनका रुझान भी न था लेकिन फिर भी मानव जैसा प्राचीन काल में दिखता था वैसा ही आज भी है बस उसके शरीर पर से जो है बालों की मात्रा कम हो गई है और जिस तरह वानरों यह बंदरों की कई प्रजातियां होती है और उसी तरह मानव की भी यह कई प्रजातियां थी और आज भी उनमें से कुछ विद्यमान है तो संसार के इतिहास और जो है समझ लो की गणना पर दृष्टि डालें तो साईं संवत सबसे छोटा था 2018 वर्ष और सभी संतो की गणना करें तो इससे अधिक दिन मूसा द्वारा प्रसारित मूसा ही संवत 3558 वर्ष का है और इससे भी प्राचीन समृद्ध विश्व के प्रथम राज्य रोहन के से प्रारंभ हुआ था और उसे 4172 वर्ष हो गए हैं और इससे पहले कलयुग संबंध शुरू जो है 5117 वर्ष पहले हुआ था

manushya ki utpatti ka siddhant hai har dharm mein alag alag hai aur manushya ki utpatti kab hui aur kaise hui kya manushya bandaron ka viksit roop hai aur aise sawaal jo hai man mein uthte rehte hain aise ki aapka sawaal hai ki manushya ka utpatti jo hai vaah sarvapratham kahaan se hua toh hindu dharm anusaar jo hai manav kisi bhi prakar ke bandar ka viksit roop nahi hai aur purane granthon ke anusaar jo hai vanar aur bandaron ko manushya se alag mana gaya hai aur manav ki pehle lambai jo hai lambai aayu aur unka rujhan bhi na tha lekin phir bhi manav jaisa prachin kaal mein dikhta tha waisa hi aaj bhi hai bus uske sharir par se jo hai balon ki matra kam ho gayi hai aur jis tarah vanaron yah bandaron ki kai prajatiya hoti hai aur usi tarah manav ki bhi yah kai prajatiya thi aur aaj bhi unmen se kuch vidyaman hai toh sansar ke itihas aur jo hai samajh lo ki ganana par drishti Daalein toh sai sanvat sabse chota tha 2018 varsh aur sabhi santo ki ganana kare toh isse adhik din musa dwara prasarit musa hi sanvat 3558 varsh ka hai aur isse bhi prachin samriddh vishwa ke pratham rajya rohan ke se prarambh hua tha aur use 4172 varsh ho gaye hain aur isse pehle kalyug sambandh shuru jo hai 5117 varsh pehle hua tha

मनुष्य की उत्पत्ति का सिद्धांत है हर धर्म में अलग अलग है और मनुष्य की उत्पत्ति कब हुई और क

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  28
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
manav ki utpatti kaise hui ; manav ki utpatti ; manushya ki utpatti kaise hui ; मनुष्य की उत्पत्ति कैसे हुई ; मानव की उत्पत्ति कब और कैसे हुई ; मानव की उत्पत्ति किस युग में हुई ; manav ki utpatti kahan se hui ; manav ki utpatti kaise hui in hindi ; manushya ki utpati kahan se hui ; मानव की उत्पत्ति ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!