how can you say that akbar was a tolerant ruler?...


play
user
1:26

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

1542 में भारत के उमरकोट में जन्मे अकबर महान ने मुगल साम्राज्य के शासक के रूप में पदभार संभाला था जबकि वह से 14 साल के थे हालांकि अकबर का जन्म एक सुन्नी मुस्लिम परिवार में हुआ था लेकिन उन्होंने दो फारसी विद्वानों द्वारा धार्मिक मामलों पर शिक्षा प्राप्त की जिन जिन से मोगा समाज के लिए उनकी सहेलियों दृष्टि पर प्रभाव पड़ा था कई विजय सेन विजय के बाद इन्होंने किस ने अपने साम्राज्य उत्तर आधुनिक अफगानिस्तान और बंगाल के पूर्व तक फैला दिया था अकबर ने सूफी अवधारणा के आधार पर धार्मिक किस नेता के योग्य प्रवेश करते हुए 11 मुस्लिमों के लिए एक समावेशी दृष्टिकोण लागू करना शुरू कर दिया था कि से सुलह ए कुल या फिर सभी को शांति कहा जाता था असली जीवन में ऐसा माना जाता है जो भी इतिहासकार थे कि अकबर धर्मों के बीच समानता ओं के बारे में इतना आश्वस्त था कि उसने उन्हें अपना खुद का धनबाद आने की कोशिश की जिन्हें दीन ए इलाही या फिर ईश्वर का धन के रूप में जाना जाता था और इस तरीके से भी माना जाता था कि कि वह अपने दरबार में गैर मुस्लिम यानी कि हिंदू हो या फिर अलग-अलग धर्मों के लोगों को भी अपने जो मंत्रिमंडल में रखते थे और उनके साला पर काम करते थे तो उस तरीके से उन्हें $1 एंड रोलर जाने की एक होता राजा माना जाता था

1542 mein bharat ke umrcourt mein janme akbar mahaan ne mughal samrajya ke shasak ke roop mein padabhar sambhala tha jabki wah se 14 saal ke the halanki akbar ka janam ek sunni muslim parivar mein hua tha lekin unhone do farsi vidvaano dwara dharmik mamlon par shiksha prapt ki jin jin se mogha samaaj ke liye unki saheliyon drishti par prabhav pada tha kai vijay sen vijay ke baad inhone kis ne apne samrajya uttar aadhunik afghanistan aur bengal ke purv tak faila diya tha akbar ne sufi avdharna ke aadhaar par dharmik kis neta ke yogya pravesh karte hue 11 muslimo ke liye ek samaveshi drishtikon laagu karna shuru kar diya tha ki se sulah a kul ya phir sabhi ko shanti kaha jata tha asli jeevan mein aisa mana jata hai jo bhi itihaaskar the ki akbar dharmon ke beech samanata yuvaon ke bare mein itna aashvast tha ki usne unhein apna khud ka dhanbad aane ki koshish ki jinhen din a ilahi ya phir ishwar ka dhan ke roop mein jana jata tha aur is tarike se bhi mana jata tha ki ki wah apne darbaar mein gair muslim yani ki hindu ho ya phir alag alag dharmon ke logon ko bhi apne jo mantrimandal mein rakhte the aur unke sala par kaam karte the toh us tarike se unhein $1 end roller jaane ki ek hota raja mana jata tha

1542 में भारत के उमरकोट में जन्मे अकबर महान ने मुगल साम्राज्य के शासक के रूप में पदभार संभ

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  95
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!