हर ईशान सच्च क्सों नहीं बोलता?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:28

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बेटा याग्निक जमाना है यह जमाना प्रणव थोड़ी लोगों का है धोखे बाजो का है चलते पुर्जों का है झूठ बोलने वालों का है अन्याय अधर्म पर चलने वाले लोगों का है आध्यात्मिकता के पैसे भी लेकर तो यह कलयुग है कलयुग सबसे कयानिस कष्ट होता है इस जमाने में केवल झूठ बोलने वाले फ्लिप करने वाले साड़ी लोग चल पाते हैं सच्चे लोगों की कई वक्त नहीं होती है सच्चे लोग सच्चाई पर चल कर के सब पागल के लाते हैं मूर्ति लाते हैं उन्हें आज के यह गंदे लोग यह साड़ी लोकगीतों के बाद लोग बेवकूफ समझते हैं पागल समझते हैं वह समझते हैं तो बेटे इनकी बातों पर विश्वास मत करो ना इनकी और देखो हां तो अपनी सब करना को सच्चाई पर चलो न्याय पहुंचा लो देर है अंधेर नहीं वह तुमको हराला वाला से हरी-भरी कर्मों से बचाएगा क्योंकि हम उसके बनाए हुए रास्तों पर चलते हैं इसलिए उस पर बिलीव रखो अच्छा रास्ता कठिन अवश्य है बच्चे लेकिन जीवन को भी हमेशा सफलता देने वाला है और किए हुए कर्मों के फल तो निश्चित रूप से ही प्राप्त होते हैं आप अच्छा कर रहे हैं तो आपको अच्छे मिलेंगे और आपने पूरा किया है तो कोई आपको परी कर्मों से सजा से बचा नहीं सकता है इसलिए तुम तो जमाने को मत देखो जो जैसा कर रहा है वह वैसा तुम देख रहे हो बिल्लो वैसी सजाएं भी पा रहे हैं वैसी मौतें में पा रहे हैं वैसे तो पा रहे हैं क्योंकि तुम किसी के साथ दगा करोगे कोई धोखा दोगे चल करोगे झटपट करोगे फ्रॉड करोगे तो निश्चित रूप से मान कर चलो कि तुमको भी कहीं ना कहीं छल कपट झूठ फरेब प्राप्त होंगे इसलिए उनको सच्चाई के रास्ते पर चलना है इमानदारी से चलना है धर्म और न्याय के रास्ते पर चलना है जिससे भगवान तुम्हारी हमेशा रक्षा करता रहेगा तुम्हारा साथ देगा

beta yagnik jamana hai yeh jamana pranav thodi logo ka hai dhokhe bajo ka hai chalte purjon ka hai jhuth bolne walon ka hai anyay adharma par chalne wale logo ka hai aadhyatmikta ke paise bhi lekar toh yeh kalyug hai kalyug sabse kayanis kasht hota hai is jamane mein keval jhuth bolne wale flip karne wale saree log chal paate hain sacche logo ki kai waqt nahi hoti hai sacche log sacchai par chal kar ke sab Pagal ke late hain murti late hain unhein aaj ke yeh gande log yeh saree lokageeton ke baad log bewakoof samajhte hain Pagal samajhte hain wah samajhte hain toh bete inki baaton par vishwas mat karo na inki aur dekho haan toh apni sab karna ko sacchai par chalo nyay pohcha lo der hai andher nahi wah tumko harala vala se hari bhari karmon se bachega kyonki hum uske banaye hue raston par chalte hain isliye us par believe rakho accha rasta kathin avashya hai bacche lekin jeevan ko bhi hamesha safalta dene vala hai aur kiye hue karmon ke fal toh nishchit roop se hi prapt hote hain aap accha kar rahe hain toh aapko acche milenge aur aapne pura kiya hai toh koi aapko pari karmon se saza se bacha nahi sakta hai isliye tum toh jamane ko mat dekho jo jaisa kar raha hai wah waisa tum dekh rahe ho billon waisi sajayen bhi pa rahe hain waisi mautain mein pa rahe hain waise toh pa rahe hain kyonki tum kisi ke saath daga karoge koi dhokha doge chal karoge jhatapat karoge fraud karoge toh nishchit roop se maan kar chalo ki tumko bhi kahin na kahin chal kapat jhuth fareb prapt honge isliye unko sacchai ke raste par chalna hai imaandari se chalna hai dharm aur nyay ke raste par chalna hai jisse bhagwan tumhari hamesha raksha karta rahega tumhara saath dega

बेटा याग्निक जमाना है यह जमाना प्रणव थोड़ी लोगों का है धोखे बाजो का है चलते पुर्जों का है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  31
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड सामने क्वेश्चन किया है कि हर इंसान सच्चा क्यों नहीं होता तो मैं फ्रेंड बता देना चाहता हूं कि यह दुनिया जो है मोह माया का जाम है यहां हर प्रकार के इंसान रहते हैं अगर एक ही जैसे इंसान रहेंगे तो सब एक ही प्रकार यह दुनिया कहलाए इसलिए यहां जिस प्रकार से रंग बिरंगे फूल होते हैं उसके घर से इंसान भी हैं जो विभिन्न प्रकार के कोई सच्चा है तो कोई झूठा है तो कोई चाहे हर प्रकार के इंसान है अगर शक शक कर दी है चेंज ऐसे ही बोलेंगे तो यह सुधर जाएगी तो यहां आप का नामोनिशान नहीं होगा लेकिन ऐसा नहीं है अगर इंसान सच्चा हो जाए तो आगे चलकर के पॉलिटिक्स कैसे करेगा क्या अभी पॉलिटिक्स में नहीं जाने के लिए झूठ तो बोलना ही पड़ता है और इधर की उधर बात कराना झूठी इंसानों की फितरत होती है इधर की बात उधर करना उधर की बार हीरा करना जिससे यह पता चलता है यह इंसान झूठा है कि सच्चा है वह तो एक न एक दिन सामने आ ही जाता है

hello friend saamne question kiya hai ki har insaan saccha kyon nahi hota toh main friend bata dena chahta hoon ki yah duniya jo hai moh maya ka jam hai yahan har prakar ke insaan rehte hain agar ek hi jaise insaan rahenge toh sab ek hi prakar yah duniya kahalae isliye yahan jis prakar se rang birange fool hote hain uske ghar se insaan bhi hain jo vibhinn prakar ke koi saccha hai toh koi jhutha hai toh koi chahen har prakar ke insaan hai agar shak shak kar di hai change aise hi bolenge toh yah sudhar jayegi toh yahan aap ka namonishan nahi hoga lekin aisa nahi hai agar insaan saccha ho jaaye toh aage chalkar ke politics kaise karega kya abhi politics mein nahi jaane ke liye jhuth toh bolna hi padta hai aur idhar ki udhar baat krana jhuthi insano ki phitarat hoti hai idhar ki baat udhar karna udhar ki baar heera karna jisse yah pata chalta hai yah insaan jhutha hai ki saccha hai vaah toh ek na ek din saamne aa hi jata hai

हेलो फ्रेंड सामने क्वेश्चन किया है कि हर इंसान सच्चा क्यों नहीं होता तो मैं फ्रेंड बता देन

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  26
WhatsApp_icon
user
0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर इंसान को कहीं ना कहीं इस बात का डर होता है कि अगर वह सच बोल देगा तो शायद उसकी चीजें वह खो सकता है या फिर आपने जो उसकी पोस्ट है उसको खो देगा इस वजह से सारे इंसान जो सच इसलिए नहीं बोलते और इसमें के पीछे बहुत सारे कारण हो सकते हैं सबके अपने अपने निजी कारण होते हैं तो उनके वह सोच पर निर्भर करता है कि वह सच बोलना चाहते हैं या नहीं बोलना चाहते हैं

har insaan ko kahin na kahin is baat ka dar hota hai ki agar vaah sach bol dega toh shayad uski cheezen vaah kho sakta hai ya phir aapne jo uski post hai usko kho dega is wajah se saare insaan jo sach isliye nahi bolte aur isme ke peeche bahut saare karan ho sakte hain sabke apne apne niji karan hote hain toh unke vaah soch par nirbhar karta hai ki vaah sach bolna chahte hain ya nahi bolna chahte hain

हर इंसान को कहीं ना कहीं इस बात का डर होता है कि अगर वह सच बोल देगा तो शायद उसकी चीजें वह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  18
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!