भारत में रेप बढ़ने का कारण?...


user

DR. I.P.SINGH

Doctorate in Literature

4:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बेटा आपने पूछा है तो भारत में रेप बढ़ने का कारण मेरे ख्याल से रेत पहले भी होते थे बेटा सोशल मीडिया या न्यूज़ चैनल जो है अब इसमें थोड़ी दिलचस्पी ज्यादा लेने लगे स्त्री के प्रति पुरुष का आकर्षण या स्त्री द्वारा पुरुष को आकर्षित करने के स्वाभाविक प्रक्रिया है बचपन से युवावस्था की तरफ बढ़ने वाला बच्चा या बच्ची वह समय पर आया है सेक्स को लेकर केक अजीब सी कल्पना करता है उसके दिलचस्पी बढ़ती है उसके विशेष अंग जो होते हैं उन्हें वृद्धि होती है इसके कई कारण होते हैं यह तो लड़कों में आजकल मनोरंजन मानसिकता बढ़ गई है और मनोरंजन के किस्सा सेक्स हो गया है और यह कहने में कोई संकोच नहीं आज पारिवारिक रिश्तो में भी एक घटिया पर कुछ ज्यादा ही आ गई है लड़कियां कुछ फैशन के नाम पर लड़कों की तरफ आकर्षित हो रही है पहले बताइए प्राकृतिक मांग है और हमारा देश इस पर रोक लगा रहा पहले क्या होता है 14 15 साल की एज में ऐसे पहली शादी हो जाती थी और लड़की से ही नहीं होती तो उसे रोक लिया जाता था सारी होती उसे विदा कर दिया जाता था अब कम से कम 18 वर्ष की उम्र तो रखी गई है लेकिन पर आया है जब पढ़े-लिखे परिवार जाने वाली बात आ रही है मैं को रेप में उच्च और निम्न वर्ग शामिल है निम्न और का जाते इसलिए ओपन हो जाता है कि वह से छिपा नहीं पाते उच्च वर्ग जो पैसे से खेल खेला कालगर्ल रेड लाइट एरिया है तो मोबाइल के चोरी-चोरी बहुत से ऐसे वह चल रहे हैं जिसमें आईडी दे कर के लड़के लड़कियों की गंदी बातें कराई जा रही है और इससे मोबाइल कंपनियां करोड़ों अरबों रुपया कमा रही है सीधी बातें आकर्षण एक स्वाभाविक प्रक्रिया है अब ऐसे में होता क्या है कि अगर स्वेच्छा से हो जाए तो बातचीत ही रह जाती लेकिन होता क्या है कि आरंभिक वासनाओं की पूर्ति में पुरुष जो होता है अंधा हो जाता है ऐसे ही वह अपनी वासना को तत्काल संतुष्ट करने में कौन सी गलती कर जाता उसे मालूम नहीं जब वासना की गर्मी उतर जाती तब उसे महसूस किया इसके लिए पुरुषों को दोषी है लेकिन दूसरी तरफ बढ़ते हुए रिश्ते इसमें कहने में मुझे संकोच नहीं कि शिक्षा से चल रहा था तो ठीक ना कभी-कभी लड़की होती है नाराज होकर के गेट खोलने के लिए आरोप लगा देती है और कानून उसी का साथ देता है कुछ अच्छा जी सही इतने यह दूसरा लड़कियों की नग्नता है तीसरा जो एक खुलापन समाज में आ रहा है चला दे डाली जा रही है मोबाइलों पर या समाज जिस तरीके से कर रहा है 8 साल 10 साल का बच्चा परिपक्व हो जाता है उसे सेक्स के बारे में सब कुछ इस तरह से अगर आप ऐसे एवरी बढ़ने के कारण बॉक्स नैतिकता का शादी होना लड़के लड़कियों का आधुनिकता की तरफ बढ़ना कुछ तो सेक्स को एक सामान्य प्रक्रिया मान बैठे हैं मजा लेने का नया शिगूफा यौन शुचिता के भाव की कमी लड़कियों थोड़ा सा जो है अधिकार ज्यादा होना

beta aapne poocha hai toh bharat me rape badhne ka karan mere khayal se ret pehle bhi hote the beta social media ya news channel jo hai ab isme thodi dilchaspi zyada lene lage stree ke prati purush ka aakarshan ya stree dwara purush ko aakarshit karne ke swabhavik prakriya hai bachpan se yuvavastha ki taraf badhne vala baccha ya bachi vaah samay par aaya hai sex ko lekar cake ajib si kalpana karta hai uske dilchaspi badhti hai uske vishesh ang jo hote hain unhe vriddhi hoti hai iske kai karan hote hain yah toh ladko me aajkal manoranjan mansikta badh gayi hai aur manoranjan ke kissa sex ho gaya hai aur yah kehne me koi sankoch nahi aaj parivarik rishto me bhi ek ghatiya par kuch zyada hi aa gayi hai ladkiya kuch fashion ke naam par ladko ki taraf aakarshit ho rahi hai pehle bataiye prakirtik maang hai aur hamara desh is par rok laga raha pehle kya hota hai 14 15 saal ki age me aise pehli shaadi ho jaati thi aur ladki se hi nahi hoti toh use rok liya jata tha saari hoti use vida kar diya jata tha ab kam se kam 18 varsh ki umar toh rakhi gayi hai lekin par aaya hai jab padhe likhe parivar jaane wali baat aa rahi hai main ko rape me ucch aur nimn varg shaamil hai nimn aur ka jaate isliye open ho jata hai ki vaah se chhipa nahi paate ucch varg jo paise se khel khela kalagarl red light area hai toh mobile ke chori chori bahut se aise vaah chal rahe hain jisme id de kar ke ladke ladkiyon ki gandi batein karai ja rahi hai aur isse mobile companiya karodo araboon rupya kama rahi hai seedhi batein aakarshan ek swabhavik prakriya hai ab aise me hota kya hai ki agar swachcha se ho jaaye toh batchit hi reh jaati lekin hota kya hai ki aarambhik vasnaon ki purti me purush jo hota hai andha ho jata hai aise hi vaah apni vasana ko tatkal santusht karne me kaun si galti kar jata use maloom nahi jab vasana ki garmi utar jaati tab use mehsus kiya iske liye purushon ko doshi hai lekin dusri taraf badhte hue rishte isme kehne me mujhe sankoch nahi ki shiksha se chal raha tha toh theek na kabhi kabhi ladki hoti hai naaraj hokar ke gate kholne ke liye aarop laga deti hai aur kanoon usi ka saath deta hai kuch accha ji sahi itne yah doosra ladkiyon ki nagnata hai teesra jo ek khulapan samaj me aa raha hai chala de dali ja rahi hai mobailon par ya samaj jis tarike se kar raha hai 8 saal 10 saal ka baccha paripakva ho jata hai use sex ke bare me sab kuch is tarah se agar aap aise every badhne ke karan box naitikta ka shaadi hona ladke ladkiyon ka adhunikata ki taraf badhana kuch toh sex ko ek samanya prakriya maan baithe hain maza lene ka naya shigufa yaun shuchita ke bhav ki kami ladkiyon thoda sa jo hai adhikaar zyada hona

बेटा आपने पूछा है तो भारत में रेप बढ़ने का कारण मेरे ख्याल से रेत पहले भी होते थे बेटा सो

Romanized Version
Likes  159  Dislikes    views  1400
WhatsApp_icon
14 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Kishan Kumar

Motivational speaker

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो डियर माय फ्रेंड आपका क्वेश्चन है कि भारत मेरे बढ़ने का का दोस्तों या कहीं ना कहीं हमें ऐसा महसूस करते हैं कि या व्यक्ति के अंदर ही बहुत गलत मानसिकता होती कुरीतियां भर जाती हैं और इंसान गिर चुका होता है तब जाकर ऐसा घिनौना हरकत करता है इसलिए बढ़ता है और कहीं ना कहीं उनको बढ़ावा भी मिलता है इसलिए वह करते हैं नहीं तो करने से उनका रुक जाएगा अगर ऐसे व्यक्ति को टर्न ई अपराध दिया जाए कड़ी से कड़ी मौत दिया जाए सऊदी की तरह सबके सामने देखने वाले कभी रूठ जाए दोबारा ऐसा करने से डर जाएगा वह बस व्यक्ति थैंक यू

hello dear my friend aapka question hai ki bharat mere badhne ka ka doston ya kahin na kahin hamein aisa mehsus karte hain ki ya vyakti ke andar hi bahut galat mansikta hoti kuritiyan bhar jaati hain aur insaan gir chuka hota hai tab jaakar aisa ghinauna harkat karta hai isliye badhta hai aur kahin na kahin unko badhawa bhi milta hai isliye vaah karte hain nahi toh karne se unka ruk jaega agar aise vyakti ko turn ee apradh diya jaaye kadi se kadi maut diya jaaye saudi ki tarah sabke saamne dekhne waale kabhi rooth jaaye dobara aisa karne se dar jaega vaah bus vyakti thank you

हेलो डियर माय फ्रेंड आपका क्वेश्चन है कि भारत मेरे बढ़ने का का दोस्तों या कहीं ना कहीं हमे

Romanized Version
Likes  96  Dislikes    views  1232
WhatsApp_icon
user
1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में रेप बढ़ने का कारण भारत में रेप बढ़ने का कोई कारण नहीं है बस कुछ लोग होते हैं जो इंसान के रूप में दरिंदे होते हैं जिनकी सोच जूही तक सीमित होती है जिनकी सोच बहुत घटिया होती है कुछ ऐसे लड़के हैं जो ब्लड को जाट को बदनाम कर रखे हैं अब सारे लड़के गंदे ही नहीं होते बस कोई कोई हो जाते हैं जिसको मतलब जब अपने अपने आप की परवाह नहीं करते जो पन्नी की परवाह नहीं करते तो भारत के क्या प्रभाव करेंगे वह इंसानी दरिंदे होते हैं जिसकी वजह से रेप होता है क्योंकि कोई अच्छी इंसान तो ऐसा काम कर नहीं सकते जो भी करेगा वह गलती इंसानी करेगा और रोशन हैवान होते हैं उनको यह समझने से क्या हम व्रत करें क्या सही कर रहे हैं और उनको लगता है कि यह काम गलत है तो क्यों गलती करते ही नहीं और यही सब कारण है कि गलतियां हो जाती है इसका क्या कहा जाए अब हम सबकी सोच तो नहीं बदल सकते

bharat mein rape badhne ka karan bharat mein rape badhne ka koi karan nahi hai bus kuch log hote hain jo insaan ke roop mein darinde hote hain jinki soch juhi tak simit hoti hai jinki soch bahut ghatiya hoti hai kuch aise ladke hain jo blood ko jaat ko badnaam kar rakhe hain ab saare ladke gande hi nahi hote bus koi koi ho jaate hain jisko matlab jab apne apne aap ki parvaah nahi karte jo panni ki parvaah nahi karte toh bharat ke kya prabhav karenge vaah insani darinde hote hain jiski wajah se rape hota hai kyonki koi achi insaan toh aisa kaam kar nahi sakte jo bhi karega vaah galti insani karega aur roshan haivan hote hain unko yah samjhne se kya hum vrat kare kya sahi kar rahe hain aur unko lagta hai ki yah kaam galat hai toh kyon galti karte hi nahi aur yahi sab karan hai ki galtiya ho jaati hai iska kya kaha jaaye ab hum sabki soch toh nahi badal sakte

भारत में रेप बढ़ने का कारण भारत में रेप बढ़ने का कोई कारण नहीं है बस कुछ लोग होते हैं जो इ

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  298
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह लगता है कि भारत में देश की संख्या बलात्कार की संख्या बढ़ने का इसका अप्रत्याशित वृद्धि का प्रमुख कारण हमारे समाज की संस्कृति स्वभाव संस्कारों में कम आना है जैसे हम लोग अंधाधुन पश्चात संस्कृति है कॉपी कर रहे हैं हमारा समाज उच्च शिक्षा तो दे पाता है वह संस्कार नहीं दे पाता तमिल तो अच्छी देते हैं पर तहजीब नहीं दे पाते जिसके कारण हमारा समाज संकीर्ण विचारों का गढ़ बन चुका है एवं इस घटना में कमी लाने का एक मुख्य कारण है हमारे संस्कार को पश्चात संस्कृति से दूर फिर से पुराने संस्कृतियों का संस्कारों का समाज बनाना होगा और तमिल के साथ-साथ राजीव की भी शिक्षा देना पड़ेगा अपने बच्चों को ताकि उनके अंदर संस्कार आएं पहले की तरह एक-दूसरे का अपनापन का भाव हो हर लड़की बहन और हर औरत में अपनी मां दिखाई दे

yah lagta hai ki bharat mein desh ki sankhya balatkar ki sankhya badhne ka iska apratyashit vriddhi ka pramukh karan hamare samaj ki sanskriti swabhav sanskaron mein kam aana hai jaise hum log andhadhun pashchat sanskriti hai copy kar rahe hain hamara samaj ucch shiksha toh de pata hai vaah sanskar nahi de pata tamil toh achi dete hain par tahjib nahi de paate jiske karan hamara samaj sankirn vicharon ka garh ban chuka hai evam is ghatna mein kami lane ka ek mukhya karan hai hamare sanskar ko pashchat sanskriti se dur phir se purane sanskritiyon ka sanskaron ka samaj banana hoga aur tamil ke saath saath rajeev ki bhi shiksha dena padega apne baccho ko taki unke andar sanskar aaen pehle ki tarah ek dusre ka apnapan ka bhav ho har ladki behen aur har aurat mein apni maa dikhai de

यह लगता है कि भारत में देश की संख्या बलात्कार की संख्या बढ़ने का इसका अप्रत्याशित वृद्धि क

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  179
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी मुझे लगता है भारत में रेप की संख्या नहीं बढ़ रही है रेप की संख्या तो देखिए हम अकाउंट कर ही नहीं सकते क्योंकि हमारी नजरों में जो केस आते हैं आजकल के लोग जागरुक जरूर हो गए हैं क्योंकि वह खिलाफ रिपोर्ट कर देते हैं आज से पहले रेप की संख्या थी इतनी ही थी और सामने नहीं आती थी कभी पुलिस एंपलीफायर नहीं होती थी लोगों में शर्म आती थी लोग डरते थे कि हमारे साथ ऐसा हुआ तो हमारे हमको समझ कैसे दिखेगा मतलब खुला बनाकर लोगों को लगता है कि जो गलत हुआ के खिलाफ कम से कम उसे सजा तो मिलनी चाहिए तो मुझे लगता है कि अगर ऐसा ही है तो अच्छी बात है इसके पहले भी बहुत ज्यादा होती थी अभी बहुत ज्यादा होते हैं हमारा कानून थोड़ा सख्त हो गया है मुझे लगता है कि शायद संख्या में अगर आया होगा तो गिरावट आई होगी बस चेंज हुआ है कि लोगों में अवेयरनेस आ गई है तो हमें ज्यादा दिखने लगी है हमे रिपोर्ट ज्यादा में लगी पुलिस के पास कंप्लेंट ज्यादा जाने लग गई है कोई अच्छी बात है यह तो होना चाहिए कि कंप्लेंट ज्यादा आ रही है तो इससे पुलिस इस चीज के लिए बहुत केयरफुल होगी और हमें आने वाले समय में यह चीजें थोड़ी करती हुई प्रतीत होगी ऐसा मैं सोचता हूं धन्यवाद

dekhi mujhe lagta hai bharat mein rape ki sankhya nahi badh rahi hai rape ki sankhya toh dekhiye hum account kar hi nahi sakte kyonki hamari nazro mein jo case aate hain aajkal ke log jagruk zaroor ho gaye hain kyonki vaah khilaf report kar dete hain aaj se pehle rape ki sankhya thi itni hi thi aur saamne nahi aati thi kabhi police empalifayar nahi hoti thi logo mein sharm aati thi log darte the ki hamare saath aisa hua toh hamare hamko samajh kaise dikhega matlab khula banakar logo ko lagta hai ki jo galat hua ke khilaf kam se kam use saza toh milani chahiye toh mujhe lagta hai ki agar aisa hi hai toh achi baat hai iske pehle bhi bahut zyada hoti thi abhi bahut zyada hote hain hamara kanoon thoda sakht ho gaya hai mujhe lagta hai ki shayad sankhya mein agar aaya hoga toh giraavat I hogi bus change hua hai ki logo mein awareness aa gayi hai toh hamein zyada dikhne lagi hai hume report zyada mein lagi police ke paas complaint zyada jaane lag gayi hai koi achi baat hai yah toh hona chahiye ki complaint zyada aa rahi hai toh isse police is cheez ke liye bahut keyarful hogi aur hamein aane waale samay mein yah cheezen thodi karti hui pratit hogi aisa main sochta hoon dhanyavad

देखी मुझे लगता है भारत में रेप की संख्या नहीं बढ़ रही है रेप की संख्या तो देखिए हम अकाउंट

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  287
WhatsApp_icon
user

aasim

Social Worker

2:21
Play

Likes  14  Dislikes    views  313
WhatsApp_icon
user

Vatsal

Engineering Student

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में लगातार बढ़ते जा रहे हैं रेप की घटनाएं रोज आ रहे हैं तो हम उसका विरोध करते हैं जो कुछ दिनों तक चलता है और कुछ दिनों में भी अलग-अलग शहरों में अलग-अलग राज्यों में रेप की घटनाएं होती जाती है इसका मुख्य कारण है जो औरतों और लड़कियों नारियों के प्रति काव्य खराब व्यवहार हो रहा है इसका जो मुख्य कारण हैं लड़कों की आदमियों की और हम सभी लोगों की सोच बदलाव की जरूरत है इंसान कई बार बताया जाता है किसके प्रति जिम्मेदार संबंधों में घूम रही है कम कपड़ों में घूम रही है इसका मुख्य कारण बताया जाता है लेकिन केवल बात को डिलीट करने की कोशिश होती है आदमियों को पुरुषों को हक है रात में 12:00 बजे तक घूमने का उसी प्रकार से लड़कियों महिलाओं को भी हक है 12:00 बजे तक घूमने का हालत नहीं घूमती है वह 10:00 बजे 9:00 बजे उनको घर में कैद कर लिया जाता है क्योंकि कैसा माहौल बन गया हमारे समाज में कि रात को अकेली लड़की 10:00 बजे घूमने की तो सभी साथ में मौजूद है उसको इतना बिजी हाथी राजा बहुत ही खराब चीज है उसे भी पूरा हक होना चाहिए खराब सोच वाला इंसान है तू वैसी उसी नजर से कुछ भी कर लेती वह घर में भी कह दे तो उसके गुस्से में रहते अपने बच्चों को अपने लड़कों को

bharat mein lagatar badhte ja rahe hain rape ki ghatnaye roj aa rahe hain toh hum uska virodh karte hain jo kuch dino tak chalta hai aur kuch dino mein bhi alag alag shaharon mein alag alag rajyo mein rape ki ghatnaye hoti jaati hai iska mukhya karan hai jo auraton aur ladkiyon nariyon ke prati kavya kharab vyavhar ho raha hai iska jo mukhya karan hain ladko ki adamiyo ki aur hum sabhi logo ki soch badlav ki zarurat hai insaan kai baar bataya jata hai kiske prati zimmedar sambandhon mein ghum rahi hai kam kapdo mein ghum rahi hai iska mukhya karan bataya jata hai lekin keval baat ko delete karne ki koshish hoti hai adamiyo ko purushon ko haq hai raat mein 12 00 baje tak ghoomne ka usi prakar se ladkiyon mahilaon ko bhi haq hai 12 00 baje tak ghoomne ka halat nahi ghoomti hai vaah 10 00 baje 9 00 baje unko ghar mein kaid kar liya jata hai kyonki kaisa maahaul ban gaya hamare samaj mein ki raat ko akeli ladki 10 00 baje ghoomne ki toh sabhi saath mein maujud hai usko itna busy haathi raja bahut hi kharab cheez hai use bhi pura haq hona chahiye kharab soch vala insaan hai tu vaisi usi nazar se kuch bhi kar leti vaah ghar mein bhi keh de toh uske gusse mein rehte apne baccho ko apne ladko ko

भारत में लगातार बढ़ते जा रहे हैं रेप की घटनाएं रोज आ रहे हैं तो हम उसका विरोध करते हैं जो

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
play
user

munmun

Volunteer

1:47

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आदित्य अधिकतर रेप होने के कारण जो है बहुत से हो सकता है जैसे कि पहला कारण जो है आदमी की मानसिकता और उसकी मानसिक दुर्बलता सामाजिक दबाव में कमी है ईश्वर ने जो है आदमी और औरत है उसकी शारीरिक संरचना जो है अलग-अलग बनाई इसलिए बनाई है क्या ताकि यह संसार आगे बढ़ सके और परिवेश में घुलती अनैतिकता और बेशर्म आचरण में जो है आदमी के मानस में आने की मन में स्त्री को मात्र भाग्य ही निरूपित किया है और यह आज की बात नहीं है यह बरसों से जो है कि चली आ रही है चीज और दिन भर दिन जो है फैलती जा रही है और लड़की या औरत शरीर को लेकर जाए बने सस्ते चुटकुलों से लेकर चौराहों पर होने वाली छिछोरी कक्षा तक तथा इंटरनेट पर जो परोसे जाने वाली घटिया फोटो से लेकर हल्के कमेंट तक में अधिकतर आदमी की गिरी हुई सोच से हमारा सामना होता है और कई बार क्या होता है कि आदमी का बढ़ता तनाव भी बलात्कार का कारण होता और महिलाओं के प्रति बढ़ता अपमानजनक माहौल भी पुरुष के दुस्साहस को बढ़ाने में जो है उत्प्रेरक का काम करता है हमारी सामाजिक मानसिकता भी जो है स्वार्थी हो रही है और फल स्वरुप किसी भी मामले में हम स्वयं को शामिल नहीं करते और अपराधी में व्यापक सामाजिक स्तर पर डर नहीं बन पाता तो पहली बार दामिनी या निर्भया के मामले में जो है सामाजिक रोष प्रकट हुआ था और वरना तो ना सोच बदली है और न समाज बदली है और अभी भी के हालात 70% तक जो है शर्मनाक है

aditya adhiktar rape hone ke karan jo hai bahut se ho sakta hai jaise ki pehla karan jo hai aadmi ki mansikta aur uski mansik durbalata samajik dabaav mein kami hai ishwar ne jo hai aadmi aur aurat hai uski sharirik sanrachna jo hai alag alag banai isliye banai hai kya taki yah sansar aage badh sake aur parivesh mein ghulti anaitikta aur besharm aacharan mein jo hai aadmi ke manas mein aane ki man mein stree ko matra bhagya hi nirupit kiya hai aur yah aaj ki baat nahi hai yah barson se jo hai ki chali aa rahi hai cheez aur din bhar din jo hai failati ja rahi hai aur ladki ya aurat sharir ko lekar jaaye bane saste chutkulon se lekar chaurahon par hone wali chichori kaksha tak tatha internet par jo parose jaane wali ghatiya photo se lekar halke comment tak mein adhiktar aadmi ki giri hui soch se hamara samana hota hai aur kai baar kya hota hai ki aadmi ka badhta tanaav bhi balatkar ka karan hota aur mahilaon ke prati badhta apamanajanak maahaul bhi purush ke dussahas ko badhane mein jo hai utprerak ka kaam karta hai hamari samajik mansikta bhi jo hai swaarthi ho rahi hai aur fal swarup kisi bhi mamle mein hum swayam ko shaamil nahi karte aur apradhi mein vyapak samajik sthar par dar nahi ban pata toh pehli baar damini ya Nirbhaya ke mamle mein jo hai samajik rosh prakat hua tha aur varna toh na soch badli hai aur na samaj badli hai aur abhi bhi ke haalaat 70 tak jo hai sharmnaak hai

आदित्य अधिकतर रेप होने के कारण जो है बहुत से हो सकता है जैसे कि पहला कारण जो है आदमी की मा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाई हो आपका कान्हा भारत में रेप बढ़ने का कारण भारत में रेप बढ़ने का कारण बहुत सारे हैं जैसे हमारे देश में 16 साल तक की युवा को नाबालिग माना जाता है 18 साल से कम के युवा को नवालिक माना जाता है अगर मेरे देश में 14 साल के लोगों को युवा का युवा का दर्जा दिया जाए और लड़की को 12 साल का तो फिर हमारे देश में रेप बढ़ने का कोई कारण ही ना रहेगा 12 साल की लड़की और 14 साल का लड़का को विवाह कराया जाए रेप आरोपी घट जाएगा जय हिंद जय

bhai ho aapka kanha bharat mein rape badhne ka karan bharat mein rape badhne ka karan bahut saare hain jaise hamare desh mein 16 saal tak ki yuva ko nabalik mana jata hai 18 saal se kam ke yuva ko navalik mana jata hai agar mere desh mein 14 saal ke logo ko yuva ka yuva ka darja diya jaaye aur ladki ko 12 saal ka toh phir hamare desh mein rape badhne ka koi karan hi na rahega 12 saal ki ladki aur 14 saal ka ladka ko vivah karaya jaaye rape aaropi ghat jaega jai hind jai

भाई हो आपका कान्हा भारत में रेप बढ़ने का कारण भारत में रेप बढ़ने का कारण बहुत सारे हैं जैस

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  82
WhatsApp_icon
user

Ridhima

Mass Communications Student

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अमेरिका 36 मेन रीजन है और इससे उभरने के लिए एक तोला कब सेक्स एजुकेशन और इंडिया में लात सेक्सी किशन का वह नहीं है इतना इंपोर्टेंट नहीं दे रहा है उसके कारण क्यूरोसिटी की वजह से बहुत सारे तरीके से बढ़ते जा रहे हैं फिर एक्सेप्टेंस ऑफ डोमेस्टिक विटेलिटी इसका यह कि इंडिया में यह माना जाता है कि जो भी मदद करता है और वह सही रहता है और जो भी विभिन्न को वही सहना पड़ता है तू वही वह थॉट प्रोसेस की वजह से की Mard जो भी करता है वह सही है बोल कर भी लेडीस ओर बढ़ते जा रहे हैं फिर साइकोलॉजी तो नेशनल आजकल बहुत सारे केसों में बोले जाते कि लड़की लोग TV छोटे कपड़े पहने हुए हैं तो उसका मतलब वही इनविटेशन है तो वह राशन यह थॉट प्रोसेस गलत है पहले ताजिक को सिस्टम हमारा कोट्स तुम का प्रोसेस बहुत लौंग और बहुत ज्यादा ही टाइम लेता है और बहुत सुस्त है उसका उतना जल्दी जितना प्रोसिडिंग होना चाहिए वह नहीं है फिर हमारी रिंगर सलूशन हमारे इंडिया में यह बहुत ज्यादा कैसे सोते हैं कि अगर कुछ गलत हुआ लड़का और लड़की के बीच में तो सीधा उनकी शादी हो जाती है फिर से है लेकिन शर्म डिफेंस आजकल बहुत ज्यादा किस देश है जहां पर 90% अभिमान अपना सेल्फ डिफेंस नहीं कर पाते और उससे भी यह सारी कैसे भरते जाते हैं

america 36 main reason hai aur isse ubharane ke liye ek tola kab sex education aur india mein laat sexy kishan ka vaah nahi hai itna important nahi de raha hai uske karan kyurositi ki wajah se bahut saare tarike se badhte ja rahe hai phir acceptance of domestic viteliti iska yah ki india mein yah mana jata hai ki jo bhi madad karta hai aur vaah sahi rehta hai aur jo bhi vibhinn ko wahi sahna padta hai tu wahi vaah thought process ki wajah se ki Mard jo bhi karta hai vaah sahi hai bol kar bhi ladies aur badhte ja rahe hai phir psychology toh national aajkal bahut saare keson mein bole jaate ki ladki log TV chote kapde pehne hue hai toh uska matlab wahi invitation hai toh vaah raashan yah thought process galat hai pehle tajik ko system hamara quotes tum ka process bahut long aur bahut zyada hi time leta hai aur bahut sust hai uska utana jaldi jitna proceeding hona chahiye vaah nahi hai phir hamari ringer salution hamare india mein yah bahut zyada kaise sote hai ki agar kuch galat hua ladka aur ladki ke beech mein toh seedha unki shadi ho jaati hai phir se hai lekin sharm defence aajkal bahut zyada kis desh hai jaha par 90 abhimaan apna self defence nahi kar paate aur usse bhi yah saree kaise bharte jaate hain

अमेरिका 36 मेन रीजन है और इससे उभरने के लिए एक तोला कब सेक्स एजुकेशन और इंडिया में लात सेक

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  121
WhatsApp_icon
user

Ekta

Researcher and Writer

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी मुझे लगता है भारत में रेप करने का कारण खुद यहां के लोग हैं यहां के लोग ऐसी घटना हो जाने के बाद सड़क पर मार्च पास्ट जरूर निकालते यह घटना होती है तब अपने मुंह को बंद किए रहते हो और कुछ नहीं बोलते हैं मुझे नहीं पता कि इसमें गलती किस इंसान की है किस पार्टी कूलर इंसान की है और गलती है लोगों की तबीयत हुई हादसे होते हैं अगर गलतियां ना होती तो आज से क्यों होती है पल्लू के दोषी मानने को तैयार नहीं है इसका कारण बहुत हो सकता है कई बार यह हमारी इन सिक्योरिटी होती है और कई बार दूसरे को ओवर कॉन्फिडेंस होता है जो लेवल तक पहुंच जाता है कि इतनी गलत काम कर देता है और फिर भी उसे यह एहसास नहीं होता कि वह कितनी गलत काम किया है किसी जिसके साथ ही हुआ है ऐसा वही समझा सकता है तो इसके कारण बहुत है लेकिन सबसे उम्दा कारण यही है कि अगर पब्लिक चाहेगी अगर चल जाएगी तू इसे कम किया जा सकता है अगर वह देख कर भी कुछ नहीं करेगी तो इसका कोई सलूशन नहीं है हम ही हैं जो चीजों को बनाते हैं और हम ही हैं जो चीजों को बिगड़ते हैं अभी हमारे ऊपर निर्भर करता है कि हम चीजों को कैसे बनाते हैं कैसे उतारते हैं फिर कैसे क्या इस पर पेस्ट करते हैं तुम इसे रोका जा सकता है यह हम पर ही निर्भर करता है बाकी कांपते करेगी से बढ़ने से कैसे रोका जाए राजा दिन कि उसने से किसका बढ़ने का कारण क्या है कि कि अब इसका बढ़ने का कारण क्या है आपको बहुत बखूबी से जानते हैं

ji mujhe lagta hai bharat mein rape karne ka karan khud yahan ke log hain yahan ke log aisi ghatna ho jaane ke baad sadak par march past zaroor nikalate yah ghatna hoti hai tab apne mooh ko band kiye rehte ho aur kuch nahi bolte hain mujhe nahi pata ki isme galti kis insaan ki hai kis party cooler insaan ki hai aur galti hai logo ki tabiyat hui haadse hote hain agar galtiya na hoti toh aaj se kyon hoti hai pallu ke doshi manne ko taiyar nahi hai iska karan bahut ho sakta hai kai baar yah hamari in Security hoti hai aur kai baar dusre ko over confidence hota hai jo level tak pohch jata hai ki itni galat kaam kar deta hai aur phir bhi use yah ehsaas nahi hota ki vaah kitni galat kaam kiya hai kisi jiske saath hi hua hai aisa wahi samjha sakta hai toh iske karan bahut hai lekin sabse umda karan yahi hai ki agar public chahegi agar chal jayegi tu ise kam kiya ja sakta hai agar vaah dekh kar bhi kuch nahi karegi toh iska koi salution nahi hai hum hi hain jo chijon ko banate hain aur hum hi hain jo chijon ko bigadte hain abhi hamare upar nirbhar karta hai ki hum chijon ko kaise banate hain kaise utarate hain phir kaise kya is par paste karte hain tum ise roka ja sakta hai yah hum par hi nirbhar karta hai baki kampate karegi se badhne se kaise roka jaaye raja din ki usne se kiska badhne ka karan kya hai ki ki ab iska badhne ka karan kya hai aapko bahut bakhubi se jante hain

जी मुझे लगता है भारत में रेप करने का कारण खुद यहां के लोग हैं यहां के लोग ऐसी घटना हो जाने

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हदीस की कुछ पार्टिकुलर जगह नहीं है कि रेप भारत में कहां होते हैं भारत पूरे भारत में नोट से लेके साउथ में हर स्टेट है जहां पर और शोषण किया जा रहा है औरतों का और उनके साथ त्रिपुरा

hadis ki kuch particular jagah nahi hai ki rape bharat mein kahaan hote hain bharat poore bharat mein note se leke south mein har state hai jaha par aur shoshan kiya ja raha hai auraton ka aur unke saath tripura

हदीस की कुछ पार्टिकुलर जगह नहीं है कि रेप भारत में कहां होते हैं भारत पूरे भारत में नोट से

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  314
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदी कि अगर हम भारत में अवर अभियंता विद्युत के बाद गर्म गांव में कितने रुपए तक मैंने देखा है कि भारत में कितनी बढ़ोतरी हुई है वह भी कुछ ज्यादा ही नंबर होता तो कोई हो तो कहना कहां पर प्रश्न यह उठता है कि भारत में इतने स्वीट बढ़ने का कारण क्या है मुख्य कारण रेट कितने हैं यह इस प्रकार से पुरुष एवं महिलाओं को इतना मान सम्मान नहीं देते महिला महिलाओं की रिस्पेक्ट नहीं करते समय का फोटो महिलाओं को समझ नहीं पाता है कि लड़कियों के कपड़े पहने लड़कियों से प्यार को ठुकराया था या कह सकते हैं वह किसके साथ घूम रही थी लोगों के मोबाइल का नाका पर रेप क्यों करते रहोगे तो खुद सरकार राज्य सरकार और भारत के लोगों को इसकी बहुत सोच विचार करना होगा कि क्या हमें मानसिकता रखने क्या हमें अपनी मानसिकता नहीं काट दिए हैं आप कड़े से कड़ा कानून ला सकते हो रही थी परंतु फिर भी पूछते रहेंगे तो खाना खाकर भारत के मानचित्र में बदलेंगे तब तो करीब पड़ता है कि दूसरा काम क्या कारण है कि लड़की हो या कांग्रेस की सरकार जो है किसी से बात नहीं करते वो चीजों की बात करें या फिर अमेरिका की बातें तो आपको पढ़ाता है बच्चों स्कूल अगर कल कॉलेज जाएगा ना करे वह भी कम हो जाएगी और उसके लोगों की मानसिकता भी अच्छे गीत भारत में रेट बढ़ने के कारण गीत है

hindi ki agar hum bharat mein avar abhiyanta vidyut ke baad garam gaon mein kitne rupaye tak maine dekha hai ki bharat mein kitni badhotari hui hai vaah bhi kuch zyada hi number hota toh koi ho toh kehna kahaan par prashna yah uthata hai ki bharat mein itne sweet badhne ka karan kya hai mukhya karan rate kitne hai yah is prakar se purush evam mahilaon ko itna maan sammaan nahi dete mahila mahilaon ki respect nahi karte samay ka photo mahilaon ko samajh nahi pata hai ki ladkiyon ke kapde pehne ladkiyon se pyar ko thukaraya tha ya keh sakte hai vaah kiske saath ghum rahi thi logo ke mobile ka naka par rape kyon karte rahoge toh khud sarkar rajya sarkar aur bharat ke logo ko iski bahut soch vichar karna hoga ki kya hamein mansikta rakhne kya hamein apni mansikta nahi kaat diye hai aap kade se kada kanoon la sakte ho rahi thi parantu phir bhi poochhte rahenge toh khana khakar bharat ke manchitra mein badalenge tab toh kareeb padta hai ki doosra kaam kya karan hai ki ladki ho ya congress ki sarkar jo hai kisi se baat nahi karte vo chijon ki baat kare ya phir america ki batein toh aapko padhata hai baccho school agar kal college jaega na kare vaah bhi kam ho jayegi aur uske logo ki mansikta bhi acche geet bharat mein rate badhne ke karan geet hai

हिंदी कि अगर हम भारत में अवर अभियंता विद्युत के बाद गर्म गांव में कितने रुपए तक मैंने देखा

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  156
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मुझे ऐसा लगता है कि भारत में रेप बढ़ने का जो एक महत्वपूर्ण कारण है वह है सोच में गिरावट व्यक्ति किसी भी व्यक्ति कि मैं यहां पर किसी आदमी की बात नहीं कर रही हूं क्योंकि मर्दों के साथ भी रेप होता है बच्चों के साथ लड़कों के साथ तो आज के समय में हमारी जो सोच है हमारी जो मानसिकता है वह बहुत ही खराब हो गई है सम्मान महिलाओं का नहीं बचा है आज के समय में पहले जो जो महिलाओं को उपाधि दी गई थी देवी की ओर से सम्मान नहीं होता है देवी छोड़िए यहां तो इंसान की तरह भी ठीक नहीं किया जा रहा है महिलाओं को एक और चीज जो मैं हार एडमिनिस्ट्रेशन के लिए कहना चाहूंगी वह यह कि हमारे कंट्री में सेक्स एजुकेशन नहीं है अवेलेबल नहीं है उसकी वजह से लोग इतना ज्यादा गलत रास्ते पर चल पड़े क्योंकि ना नॉलेज नहीं है और ना रे ना होने की वजह से फिर बहुत सारे गलत काम हो जाते हैं बचपन से ले लो खा जाते हैं तुम लड़की हो तो तुम लेट मत जाओ ब जबसे स्टीफेंस की बजाय उन्हें चीज़े ना करने को कहा जाता है जिसकी वजह से इतनी स्ट्रांग नहीं बनवा दीजिए सिचुएशन फस जाए तो वह स्टडी कर सके मौसम प्वाइंट यही है कि मानसिकता में बहुत कम है जो कह देना भारत में संस्कार संस्कार ही है जो कुछ है हमारे लिए हमारी इज्जत ही सबकुछ है बस संस्कार आज के समय में खोते जा रहे हैं जिसकी वजह से 8 माह की बच्ची से लेकर 70 साल की वृद्ध महिला तक किसी को भी बक्शा नहीं जा रहा है और सब के साथ ही सारी सारी महिलाएं और सिर्फ महिलाएं नहीं सारे बच्चे महिलाएं और जो भी फिजिकली सॉन्ग रोग नहीं है सबसे ज्यादा प्रदूषण कुछ हो ही रहा है

dekhiye mujhe aisa lagta hai ki bharat mein rape badhne ka jo ek mahatvapurna karan hai vaah hai soch mein giraavat vyakti kisi bhi vyakti ki main yahan par kisi aadmi ki baat nahi kar rahi hoon kyonki mardon ke saath bhi rape hota hai baccho ke saath ladko ke saath toh aaj ke samay mein hamari jo soch hai hamari jo mansikta hai vaah bahut hi kharab ho gayi hai sammaan mahilaon ka nahi bacha hai aaj ke samay mein pehle jo jo mahilaon ko upadhi di gayi thi devi ki aur se sammaan nahi hota hai devi chodiye yahan toh insaan ki tarah bhi theek nahi kiya ja raha hai mahilaon ko ek aur cheez jo main haar administration ke liye kehna chahungi vaah yah ki hamare country mein sex education nahi hai available nahi hai uski wajah se log itna zyada galat raste par chal pade kyonki na knowledge nahi hai aur na ray na hone ki wajah se phir bahut saare galat kaam ho jaate hain bachpan se le lo kha jaate hain tum ladki ho toh tum late mat jao bsp jabse stifens ki bajay unhe cheeje na karne ko kaha jata hai jiski wajah se itni strong nahi banwa dijiye situation fas jaaye toh vaah study kar sake mausam point yahi hai ki mansikta mein bahut kam hai jo keh dena bharat mein sanskar sanskar hi hai jo kuch hai hamare liye hamari izzat hi sabkuch hai bus sanskar aaj ke samay mein khote ja rahe hain jiski wajah se 8 mah ki bachi se lekar 70 saal ki vriddh mahila tak kisi ko bhi baksha nahi ja raha hai aur sab ke saath hi saree saree mahilaye aur sirf mahilaye nahi saare bacche mahilaye aur jo bhi physically song rog nahi hai sabse zyada pradushan kuch ho hi raha hai

देखिए मुझे ऐसा लगता है कि भारत में रेप बढ़ने का जो एक महत्वपूर्ण कारण है वह है सोच में गिर

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!