आजकल के लोग क्यों ज़िन्दगी में सच्चाई को छुपाकर दिखावा में अपनी ज़िन्दगी जी र है हैं?...


play
user

S. K. Bhardwaj

Mental Health Professional (Psychologist & Psychotherapist)

3:05

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्त तुम्हारा क्वेश्चन है कि आजकल के लोग क्यों जिंदगी में सच्चाई को छुपाकर दिखावा में अपनी जिंदगी जी रहे हैं सच्चाई छुपा रहे हैं और दिखावा कर रहे हैं ज्यादातर अरे घर ढूंढने पर आया जाए कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है आखिर ऐसा लोग यह सब क्यों कर रहे हैं तो इसको समझने के लिए ना हमें बहुत ही समझ नहीं पड़ेगी दोस्त कि जब हम इस दुनिया में आते हैं तो हम कुछ भी सीख कर नहीं आता सब कुछ यहीं से सीखते हमने खाना सीखा है जिन्होंने भी हमें सिखाया उन्होंने अपने हिसाब से सिखाया और हमने उन्हें के हिसाब से सीखा हमने बोलना सीखा है हमने चलना सीखा है हमने उठना बैठना सीखा है हमने अधिक सीखे हैं हमने आदर करने के तरीके सीखे दिखे ना हमारे भारत में नमस्कार होता है वेस्टर्न कंट्रीज में हेलो होता है हाथ मिलाते हैं बड़े प्यार से गले लगाते हैं बड़े प्यार से हमारे इंडिया में लाओ नहीं है तो हमें जो भी सीखा है हम वही कर रहे होते हैं इसे हमारी लैंग्वेज में प्रोग्रामिंग कहते हैं हारने की भी प्रोग्रामिंग की जा सकती है एक व्यक्ति जिंदगी भर हारता ही रहेगा प्रोग्रामिंग कर दी उसकी एक व्यक्ति हमेशा जीतता ही रहेगा प्रोग्रामिंग कर दी उसकी प्रोग्रामिंग प्रोग्रामिंग दर्शन से आपको क्या पता है आपने क्या सीखा है शिवाजी का नाम अगर आप ने तो आपको पता लगेगा कि उनकी माता जीजाबाई ने उनको शतक प्रोग्राम कर दिया था जीत के लिए प्रोत्साहित कर दिया था उनके अंदर जब भी वह कहते होंगे तो उनके दिमाग में सर एक भाव आता था कोई बात नहीं दोबारा कोशिश करूंगा क्योंकि वह उस तरह से प्रोग्राम कर दिए गए थे उन्हें सुना सुना के कहानियां वीरता की बातें बता बता कर वीर बना दिया गया था तो अगर शिवाजी महाराज भगत सिंह सुभाष चंद्र बोस हम इन सब के नाम लेते हैं उनके कामों के भी आप पर क्योंकि उस तरह से प्रोग्राम थे उनके लिए यह चीजें बहुत छोटी थी देश हित में समर्पण कर देना सब कुछ अर्पित कर देना सखी कुछ प्रोग्राम थे वह लोग उस तरह से जो चोरी कर रहा है उसके अंदर एक ग्रिड 111 लालच नाम की चीज अंदर बैठ जाती वह स्तर से प्रोग्राम हुआ पड़ा है अब उसी तरह से रंग करेगा चोरी चोरी चोरी प्रोग्राम है हम हार भी प्रोग्राम है जिद्दी प्रोग्राम है क्या सीखा है तो अगर किसी ने यह सीखा है कि सच्चाई को छुपाओ और दिखावा करो इसमें खुशी मिलती है तो उसको किसी ने भी लग जाएगी उस तरह से प्रोग्राम हो चुका है कोई नॉनवेज नॉनवेज खाता है तो कोई बचत खाता है कोई 2:00 बजे देखा था आपने क्या सीखा है आपने क्या प्रोग्राम कि आपने अपना को किस तरह से डाल लिया है सारी चीजें इस पर निर्भर है इसमें परिवर्तन किया जा सकता है उम्मीद करता हूं आपको आपके सवाल का जवाब जरूर मिल गया होगा सेटिस्फाई हो गए हो तो मुझे जरुर बताइएगा एक बार

dost tumhara question hai ki aajkal ke log kyon zindagi mein sacchai ko cchupakar dikhawa mein apni zindagi ji rahe hai sacchai chupa rahe hai aur dikhawa kar rahe hai jyadatar are ghar dhundhane par aaya jaye ki aakhir aisa kyon ho raha hai aakhir aisa log yeh sab kyon kar rahe hai toh isko samjhne ke liye na humein bahut hi samajh nahi padegi dost ki jab hum is duniya mein aate hai toh hum kuch bhi seekh kar nahi aata sab kuch yahin se sikhate humne khana seekha hai jinhone bhi humein sikhaya unhone apne hisab se sikhaya aur humne unhein ke hisab se seekha humne bolna seekha hai humne chalna seekha hai humne uthna baithana seekha hai humne adhik sikhe hai humne aadar karne ke tarike sikhe dikhe na hamare bharat mein namaskar hota hai western countries mein hello hota hai hath milaate hai bade pyar se gale lagate hai bade pyar se hamare india mein laao nahi hai toh humein jo bhi seekha hai hum wahi kar rahe hote hai ise hamari language mein programming kehte hai haarne ki bhi programming ki ja sakti hai ek vyakti zindagi bhar harta hi rahega programming kar di uski ek vyakti hamesha jitata hi rahega programming kar di uski programming programming darshan se aapko kya pata hai aapne kya seekha hai shivaji ka naam agar aap ne toh aapko pata lagega ki unki mata jijabai ne unko shatak program kar diya tha jeet ke liye protsahit kar diya tha unke andar jab bhi wah kehte honge toh unke dimag mein sar ek bhav aata tha koi baat nahi dobara koshish karunga kyonki wah us tarah se program kar diye gaye the unhein suna suna ke kahaniya veerta ki batein bata bata kar veer bana diya gaya tha toh agar shivaji maharaj bhagat Singh subhash chandra bose hum in sab ke naam lete hai unke kaamo ke bhi aap par kyonki us tarah se program the unke liye yeh cheezen bahut choti thi desh hit mein samarpan kar dena sab kuch arpit kar dena sakhi kuch program the wah log us tarah se jo chori kar raha hai uske andar ek grid 111 lalach naam ki cheez andar baith jati wah sthar se program hua pada hai ab usi tarah se rang karega chori chori chori program hai hum haar bhi program hai jiddi program hai kya seekha hai toh agar kisi ne yeh seekha hai ki sacchai ko chupao aur dikhawa karo ismein khushi milti hai toh usko kisi ne bhi lag jayegi us tarah se program ho chuka hai koi nonveg nonveg khaata hai toh koi bachat khaata hai koi 2:00 baje dekha tha aapne kya seekha hai aapne kya program ki aapne apna ko kis tarah se daal liya hai saree cheezen is par nirbhar hai ismein parivartan kiya ja sakta hai ummid karta hoon aapko aapke sawal ka jawab zaroor mil gaya hoga satisfy ho gaye ho toh mujhe zaroor bataiega ek baar

दोस्त तुम्हारा क्वेश्चन है कि आजकल के लोग क्यों जिंदगी में सच्चाई को छुपाकर दिखावा में अपन

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  74
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!