IAS, IPS, IFS और IRS - हमारे देश में इन सभी पदों को लेकर एक बायस क्यों हैं?...


user

Dr Devansh Yadav

Additional Deputy Commissioner at ADC Bordumsa, Government of Arunachal Pradesh

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिनमें समाज यही कहूंगा कि बैलेंस तो नहीं है लोग अभी भी ऑफिसर की तरफ से एक बातचीत इसको बोलते हैं सकारात्मक सोच के साथ देखते हैं और शायद उसका कारण यह है कि आपको एक कॉन्पिटिटिव एग्जाम के थ्रू लिया जाता है आप समाज से ही आए हुए छात्र होते हैं जो कि एक प्रकार से नौकरी के अलग-अलग ऑप्शन देख रहे होते हैं और आपको लगता है कि इस ऑप्शन कि मैं देश सेवा कर सकता हूं लोगों को लगता है कि हमारे परिवार के साथ भी बहुत ही कम से कम सब सुविधाओं के साथ रहते हैं चीजों के साथ रहते हैं तो उनको एक थोड़ा विश्वास रहता है कि अगर कोई गरीब आएगा या फिर लिया कि भी ऐसा लगता है कि समाज में जो सर्विस है उनको लेकर काफी सकारात्मक विचार है हो सकता है कि सोशल मीडिया के दौर में जो नेगेटिव बातें हैं जो न कर अस्मत बातें हैं वह सादा आती हूं इसका मतलब यह नहीं है कि सकारात्मक बातों से लोगों का ध्यान नहीं है आज की जो हमारे विभाग हमारे ऑफिसों में लोग आते हैं इसीलिए आते हैं क्योंकि उनको पता है कि आने से उनको कुछ ना कुछ फायदा मिलेगा जो भी ऑफिसर है वह उनकी बात तो सुनेंगे मेरा यही मानना है कि अभी भी समाज में ताकि इंटरेस्ट है और आप देखेंगे जिस प्रकार के लोग नौकरी के लिए या के यूपीएससी के एग्जाम के लिए एप्लीकेशन देते हैं 5 अगस्त के लिए एग्जाम देते हैं दुनिया का सबसे गरीब आदमी की ज्यादा से ज्यादा तरीके से मदद कर सकते हो

jinmein samaj yahi kahunga ki balance toh nahi hai log abhi bhi officer ki taraf se ek batchit isko bolte hain sakaratmak soch ke saath dekhte hain aur shayad uska karan yah hai ki aapko ek competetive exam ke through liya jata hai aap samaj se hi aaye hue chatra hote hain jo ki ek prakar se naukri ke alag alag option dekh rahe hote hain aur aapko lagta hai ki is option ki main desh seva kar sakta hoon logo ko lagta hai ki hamare parivar ke saath bhi bahut hi kam se kam sab suvidhaon ke saath rehte hain chijon ke saath rehte hain toh unko ek thoda vishwas rehta hai ki agar koi garib aayega ya phir liya ki bhi aisa lagta hai ki samaj mein jo service hai unko lekar kaafi sakaratmak vichar hai ho sakta hai ki social media ke daur mein jo Negative batein hain jo na kar asmat batein hain vaah saada aati hoon iska matlab yah nahi hai ki sakaratmak baaton se logo ka dhyan nahi hai aaj ki jo hamare vibhag hamare afison mein log aate hain isliye aate hain kyonki unko pata hai ki aane se unko kuch na kuch fayda milega jo bhi officer hai vaah unki baat toh sunenge mera yahi manana hai ki abhi bhi samaj mein taki interest hai aur aap dekhenge jis prakar ke log naukri ke liye ya ke upsc ke exam ke liye application dete hain 5 august ke liye exam dete hain duniya ka sabse garib aadmi ki zyada se zyada tarike se madad kar sakte ho

जिनमें समाज यही कहूंगा कि बैलेंस तो नहीं है लोग अभी भी ऑफिसर की तरफ से एक बातचीत इसको बोलत

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  1430
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!