राजनीतिक पार्टीज भ्रष्टाचार को ख़त्म करने के लिए कोई व्यवस्था शुरू क्यों नहीं कर रही है?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:58

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय राजनीतिक पार्टी भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए इसलिए नहीं करती हैं इसलिए कोई व्यवस्था नहीं करती है क्योंकि हमाम में सभी नंगे हैं कि समस्त राजनीति की गंदगी से भरे हुए हैं कई में भ्रष्टाचार और लिखते हैं क्योंकि कभी आपने इससे संबंधित कोई प्रश्न कभी किसी लोकसभा राज्यसभा में कभी उठते हुए नहीं देखा हुआ आप इसके व्रत इससे बड़ा क्या देख सकते हैं कि कर्मचारियों को दो पर्सेंट बनाने के लिए 4647 दिन की हड़ताल करनी पड़ती है उनका पेमेंट काट लिया जाता है उन पर इनकम टैक्स है उन पर 100 प्रकार की वह हैं लेकिन इनका जब पेमेंट पड़ता है तो समस्त पक्ष और विपक्ष सिर्फ 5 मिनट के अंतर्गत अपना पेमेंट बढ़ा लेते हैं वह इनका कोई पक्ष में नहीं होता कोई आपस में लड़ाई नहीं होती वहां कोई बुरी बात होता है देश के भ्रष्टाचार मिटाना है रिश्वतखोरी समाप्त करनी है बढ़ती हुई जनसंख्या के मुद्दे हैं देश में बढ़ता हुआ जो करेक्शन है उसको रोकने के लिए संबंध में इनमें आपस में डिस्कस होती हैं और वर्क आउट कर जाते हैं विपक्ष बिल्कुल ही सहयोग नहीं करता है ना विपक्ष में बुक करता है तो इस प्रकार से मैं कह सकता हूं कि राजनीतिक पार्टियां भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए यह कभी प्रयास नहीं करती हो ना करेंगे क्योंकि हमाम में सभी नंगे हैं एक दूसरे की कमजोरियों को बहुत अच्छी तरह जानते आपने देखा है कि यह अक्सर चाय पार्टी वियर पार्टी भी आए ऐसी आए कोई भी आए लेकिन एक दूसरे की बातों को उजागर नहीं करते क्योंकि जानते आज हमें कल को आएगा परसों तीसरा आएगा तो सब यह केवल हमारे तुम्हारे दिखावे के लिए हैं भाई भतीजा राजनीति चलती है जातिवाद धर्म बाद जैसे गंदी राजनीति के जो है उनको सहारा लेकर के राजनीतिक पार्टियां चुनाव लड़ रही हैं सभी संतो से भरे हुए स्वार्थों से लिप्त देश के विचार या जैसे कि आप देख रहे हैं कि डॉ कलाम में थे अब्दुल कलाम साहब में भी राजनीतिज्ञ नहीं तेजल की किंतु कलाम जैसे राजनीतिज्ञ या नरेंद्र भाई मोदी जैसे राजनीतिक या अटल बिहारी जैसी राजनीतिक आज आपको बहुत कम मिलेंगे बहुत बड़े थे वे राष्ट्र को समर्पित थे रात को समर्पित हैं और उनके नाम आप देख रहे हो कि आज भी स्टार की तरह से हम सदा स्टार की तरह रहेंगे ऐसे राजनीतिज्ञों के आदेश में बहुत बढ़िया सकता है लेकिन ऐसे हैं नहीं

bharatiya raajnitik party bhrashtachar ko samapt karne ke liye isliye nahi karti hain isliye koi vyavastha nahi karti hai kyonki hamam mein sabhi nange hain ki samast raajneeti ki gandagi se bhare hue hain kai mein bhrashtachar aur likhte hain kyonki kabhi aapne isse sambandhit koi prashna kabhi kisi lok sabha rajya sabha mein kabhi uthte hue nahi dekha hua aap iske vrat isse bada kya dekh sakte hain ki karmachariyon ko do percent banane ke liye 4647 din ki hartal karni padti hai unka payment kaat liya jata hai un par income tax hai un par 100 prakar ki vaah hain lekin inka jab payment padta hai toh samast paksh aur vipaksh sirf 5 minute ke antargat apna payment badha lete hain vaah inka koi paksh mein nahi hota koi aapas mein ladai nahi hoti wahan koi buri baat hota hai desh ke bhrashtachar mitana hai rishwat khori samapt karni hai badhti hui jansankhya ke mudde hain desh mein badhta hua jo correction hai usko rokne ke liye sambandh mein inmein aapas mein discs hoti hain aur work out kar jaate hain vipaksh bilkul hi sahyog nahi karta hai na vipaksh mein book karta hai toh is prakar se main keh sakta hoon ki raajnitik partyian bhrashtachar ko samapt karne ke liye yah kabhi prayas nahi karti ho na karenge kyonki hamam mein sabhi nange hain ek dusre ki kamzoriyo ko bahut achi tarah jante aapne dekha hai ki yah aksar chai party wear party bhi aaye aisi aaye koi bhi aaye lekin ek dusre ki baaton ko ujagar nahi karte kyonki jante aaj hamein kal ko aayega parso teesra aayega toh sab yah keval hamare tumhare dikhaave ke liye hain bhai bhatija raajneeti chalti hai jaatiwad dharm baad jaise gandi raajneeti ke jo hai unko sahara lekar ke raajnitik partyian chunav lad rahi hain sabhi santo se bhare hue swarthon se lipt desh ke vichar ya jaise ki aap dekh rahe hain ki Dr. kalam mein the abdul kalam saheb mein bhi rajanitigya nahi tejal ki kintu kalam jaise rajanitigya ya narendra bhai modi jaise raajnitik ya atal bihari jaisi raajnitik aaj aapko bahut kam milenge bahut bade the ve rashtra ko samarpit the raat ko samarpit hain aur unke naam aap dekh rahe ho ki aaj bhi star ki tarah se hum sada star ki tarah rahenge aise rajaneetigyon ke aadesh mein bahut badhiya sakta hai lekin aise hain nahi

भारतीय राजनीतिक पार्टी भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए इसलिए नहीं करती हैं इसलिए कोई व्यव

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!