क्या हम PM की आलोचना नहीं कर सकते? अगर करते हैं तो हम देशद्रोही घोषित हो जाते हैं।?...


user

Jagdish Panwar Bishnoi

राजनीति व जीवन की हर समस्या का हल

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रिया अपने घर के हम पीएम किलोज नागिन दे सकते हो जाते हैं बिल्कुल आपकी बात बहुत आपकी बात में दम है पिंकी रोशना बिल्कुल नहीं करनी चाहिए दूसरे देशों के नजदीकी जाचीन देखिए जी अमेरिका देख लीजिए चाहे आप कोरिया दक्षिण कोरिया देख लीजिए जो जो उन देशों में अगर सरकार के खिलाफ कोई बोलता है और प्रधानमंत्री के खिलाफ बोलता है तो उनको एक मृत्युदंड किया जाता है लेकिन यहां एक हमारे भारत में एक सिस्टम चला हुआ है पीएम नरेंद्र मोदी जी जब से प्रधानमंत्री बने जब से लोगों ने क्या करना बोला हो जो चोर उचक्का जिसके पास कुछ भी नहीं है समान गूगल प्रधानमंत्री को अपने मुख से ऐसे शब्द बोला है कि उसके बाद भी कुछ नहीं और कोई कुछ बोल रहा है कोई कुछ बोल रहा है यह लोकतंत्र का पिक बहुत ज्यादा फायदा उठाते हैं लेकिन देश को नुकसान इस बात का और ऐसा नहीं करना चाहिए और जो ऐसे लोग कर रहे हैं तो इनके खिलाफ सरकार को बिल्कुल सत्य सख्त कानून बनाना चाहिए और इस कानून में बिल्कुल देरी भी नहीं करते जी की और उनको तुरंत सजा देकर इस देश के मिटा देना चाहिए मेरा तो यह भेद

priya apne ghar ke hum pm kilos nagin de sakte ho jaate hain bilkul aapki baat bahut aapki baat me dum hai pinki roshna bilkul nahi karni chahiye dusre deshon ke najdiki jachin dekhiye ji america dekh lijiye chahen aap korea dakshin korea dekh lijiye jo jo un deshon me agar sarkar ke khilaf koi bolta hai aur pradhanmantri ke khilaf bolta hai toh unko ek mrityudand kiya jata hai lekin yahan ek hamare bharat me ek system chala hua hai pm narendra modi ji jab se pradhanmantri bane jab se logo ne kya karna bola ho jo chor uchakka jiske paas kuch bhi nahi hai saman google pradhanmantri ko apne mukh se aise shabd bola hai ki uske baad bhi kuch nahi aur koi kuch bol raha hai koi kuch bol raha hai yah loktantra ka pic bahut zyada fayda uthate hain lekin desh ko nuksan is baat ka aur aisa nahi karna chahiye aur jo aise log kar rahe hain toh inke khilaf sarkar ko bilkul satya sakht kanoon banana chahiye aur is kanoon me bilkul deri bhi nahi karte ji ki aur unko turant saza dekar is desh ke mita dena chahiye mera toh yah bhed

प्रिया अपने घर के हम पीएम किलोज नागिन दे सकते हो जाते हैं बिल्कुल आपकी बात बहुत आपकी बात म

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  186
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Sandeep Sharma

Independent Social Worker, Politician

1:32

Likes  10  Dislikes    views  166
WhatsApp_icon
user

Rajesh Kumar

Worker at Bahujan Mukti Party

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोका कोला टूर

coca cola tour

कोका कोला टूर

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  182
WhatsApp_icon
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन मुझे लगता है कि अगर आप किसी भी व्यक्ति की आलोचना करते हैं चाहे वह प्रधानमंत्री हो चाहे वह प्रेसिडेंट हो चाहे कोई अगर व्यक्ति हो आपको पूरा अधिकार है आपके देश में आपके संविधान ने आपको इतना अधिकार दिया हुआ फंडामेंटल राइट्स हर व्यक्ति को मिले हैं जो भारत व्यक्ति इस देश का निवासी है अपने अधिकारों का यूज़ कर सकते हैं आप अपने अधिकारों का प्रयोग कर सकते हैं आप आप हो सकता है किसी सरकार की पॉलिसी आपको पसंद है प्रधानमंत्री की पॉलिसी आपको नहीं पसंद है आप बिल्कुल आलोचना कर सकते हैं और इस आलोचना का मतलब यह नहीं कि आप देशद्रोही हो जाते हैं मुझे नहीं लगता कि इस तरह किसी प्रकार की आलोचना करने वाला व्यक्ति देशद्रोही हो सकता है अगर अगर कोई व्यक्ति कहता है वह देश द्रोही है तो मुझे लगता है कि कहीं नहीं कि उसने संविधान को ठीक से नहीं पढ़ा है

lekin mujhe lagta hai ki agar aap kisi bhi vyakti ki aalochana karte hain chahen vaah pradhanmantri ho chahen vaah president ho chahen koi agar vyakti ho aapko pura adhikaar hai aapke desh mein aapke samvidhan ne aapko itna adhikaar diya hua fundamental rights har vyakti ko mile hain jo bharat vyakti is desh ka niwasi hai apne adhikaaro ka use kar sakte hain aap apne adhikaaro ka prayog kar sakte hain aap aap ho sakta hai kisi sarkar ki policy aapko pasand hai pradhanmantri ki policy aapko nahi pasand hai aap bilkul aalochana kar sakte hain aur is aalochana ka matlab yah nahi ki aap deshdrohi ho jaate hain mujhe nahi lagta ki is tarah kisi prakar ki aalochana karne vala vyakti deshdrohi ho sakta hai agar agar koi vyakti kahata hai vaah desh drohi hai toh mujhe lagta hai ki kahin nahi ki usne samvidhan ko theek se nahi padha hai

लेकिन मुझे लगता है कि अगर आप किसी भी व्यक्ति की आलोचना करते हैं चाहे वह प्रधानमंत्री हो चा

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  175
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम स्वतंत्र भारत के नागरिक हैं हमारे देश के संविधान ने हमें यह स्वतंत्रता दी है कि हम अपनी बात को रख सके अपने विचारों को आजादी से प्रकट कर सके हमारी अभिव्यक्ति को हम बता सकते कि हम क्या चाहते हैं हम क्या सोचते हैं और हम क्या कहना चाहते हैं तो आप स्वतंत्र हैं अपनी अभिव्यक्ति की आजादी है आपको आप कह सकते हैं आप प्रधानमंत्री जी की भी आलोचना कर सकते हैं क्योंकि उन्हें इस पद तक की आप ही ने पहुंचाया है भारत की जनता ने उस सर्वोच्च पद पर प्रधानमंत्री को बहुमत देकर पहुंचाया है तो जनता का हक बनता है कि वह उनसे जवाब मांगे या उनसे कहे यह जो कार्य उनके उन्हें पसंद नहीं आ रहे हैं उनके बारे में उनकी आलोचना करें प्रधानमंत्री जी के कार्यों की आलोचना कर सकते हैं बेझिझक बेरोकटोक आपको जो कार्य नहीं पसंद आ रहे हैं आपको जो योजनाएं नहीं पसंद आ रही जहां आपको लग पता है कि वह कुछ गलत कर रहे हैं कहीं कुछ कमी है तो आप उनकी आलोचना कर सकते हैं उनके कार्यों के बारे में उन्हें बता सकते हैं और मुझे लगता है कि आपकी आलोचना उन्हें एक सही दिशा देगी उन्हें काम करने के लिए प्रेरित करें कि उन्हें जनता की भलाई के लिए सोचने के लिए मजबूर करेंगी कि अगर जनता इतनी मेरी आलोचना कर रही है तो मुझे करना चाहिए इसलिए आप जरूर करिए लेकिन मैं बस सिर्फ इतना कहना चाहती हूं कि वह भारत के प्रधानमंत्री हैं हमारे देश के सर्वोच्च पद पर वह बैठे हुए हैं और उम्र में भी शायद हमसे बड़े ही होंगे तो हमारी सभ्यता हमारी संस्कृति हमें यह इजाजत नहीं देती कि हम उनके उनकी आलोचना करें उनके कार्यों की आलोचना कीजिए लेकिन व्यक्तिगत रूप से उनकी आलोचना और अभद्रता वह नहीं होनी चाहिए बाकी आप कार्यों की आलोचना करने के लिए स्वतंत्र हैं आजाद है जरूर कीजिए

hum swatantra bharat ke nagarik hain hamare desh ke samvidhan ne hamein yah swatantrata di hai ki hum apni baat ko rakh sake apne vicharon ko azadi se prakat kar sake hamari abhivyakti ko hum bata sakte ki hum kya chahte hain hum kya sochte hain aur hum kya kehna chahte hain toh aap swatantra hain apni abhivyakti ki azadi hai aapko aap keh sakte hain aap pradhanmantri ji ki bhi aalochana kar sakte hain kyonki unhe is pad tak ki aap hi ne pahunchaya hai bharat ki janta ne us sarvoch pad par pradhanmantri ko bahumat dekar pahunchaya hai toh janta ka haq baata hai ki vaah unse jawab mange ya unse kahe yah jo karya unke unhe pasand nahi aa rahe hain unke bare mein unki aalochana kare pradhanmantri ji ke karyo ki aalochana kar sakte hain bejhijhak beroktok aapko jo karya nahi pasand aa rahe hain aapko jo yojanaye nahi pasand aa rahi jaha aapko lag pata hai ki vaah kuch galat kar rahe hain kahin kuch kami hai toh aap unki aalochana kar sakte hain unke karyo ke bare mein unhe bata sakte hain aur mujhe lagta hai ki aapki aalochana unhe ek sahi disha degi unhe kaam karne ke liye prerit kare ki unhe janta ki bhalai ke liye sochne ke liye majboor karengi ki agar janta itni meri aalochana kar rahi hai toh mujhe karna chahiye isliye aap zaroor kariye lekin main bus sirf itna kehna chahti hoon ki vaah bharat ke pradhanmantri hain hamare desh ke sarvoch pad par vaah baithe hue hain aur umr mein bhi shayad humse bade hi honge toh hamari sabhyata hamari sanskriti hamein yah ijajat nahi deti ki hum unke unki aalochana kare unke karyo ki aalochana kijiye lekin vyaktigat roop se unki aalochana aur abhadtrata vaah nahi honi chahiye baki aap karyo ki aalochana karne ke liye swatantra hain azad hai zaroor kijiye

हम स्वतंत्र भारत के नागरिक हैं हमारे देश के संविधान ने हमें यह स्वतंत्रता दी है कि हम अपनी

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि अगर आप अपने प्राइम मिनिस्टर की आलोचना करते हैं तो वह हमारे आपको देशद्रोही ही दुख घोषित कर दिया जाएगा बल्कि हमारे देश है क्यों लोकतंत्र राज्य और देश है जहां पर हर इंसान को पूरा हक है कि वह अपनी बात सामने रख सके और उसे जो भी फील कर रहे हैं आज उनका ओपिनियन है वह सब को वह बता सके और ईवन कॉन्स्टिट्यूशन में भी यह बात लिखी हुई है कि हर इंसान को फ्रीडम ऑफ स्पीच इन एक्सप्रेशन दिया गया है जिसके तहत हर इंसान अगर कुछ कहना चाहता है कुछ आलोचना करना चाहता या कुछ शिकायत करना चाहता है तो वह सामने रख सकता है चाहे वह पीएम के खिलाफ क्यों ना हो लेकिन अगर इंसान को किसी बात से या के PM के किसी भी कार्य से खुशी बात तरह की हानि हो रही है या उसे इसकी आलोचना करना चाहता है इंसान तो भी वह सामने रख सकता है और उसको पूरा पूरा हक दिया गया और उसको कोई भी दूसरा व्यक्ति इस कार्य से रोक नहीं सकता लेकिन हर इंसान को बात रखते वह कहते वक्त इस बात का जरूर ध्यान रखना अपनी मर्यादित रेखा से पार ना जाए क्योंकि अगर आप कुछ ऐसा कह रहे हैं जिससे दूसरे इंसान यानी कि हमारे PM या फिर किसी और की भी मानहानि हो जाती है तो आपको जरूर है उसकी सजा मिल सकती है और इसका प्रधान प्रधान भी है कि मानहानि के खिलाफ लोगों को सजा मिली है बीते वर्षों में लेकिन अगर वह कोई आलोचना है जो कि बिल्कुल आसान शब्दों में और बहुत सही से कही गई है उसमें किसी भी तरह के ऐसे शब्द का प्रयोग नहीं हुआ है क्योंकि गलत हो तो आप उस बात को पूरी तरह रख सकते हैं और अब तो सोशल मीडिया भी आ चुका है जहां पर आप प्राइम मिनिस्टर या फिर किसी और के खिलाफ जो भी आपको बात करनी है आप उनको टाइप करके वह बात क्या है उनके पास भेज सकते हैं और जरूर आपके प्राइम मिनिस्टर आपकी बात सुनेंगे

kya aisa bilkul bhi nahi hai ki agar aap apne prime minister ki aalochana karte hain toh vaah hamare aapko deshdrohi hi dukh ghoshit kar diya jaega balki hamare desh hai kyon loktantra rajya aur desh hai jaha par har insaan ko pura haq hai ki vaah apni baat saamne rakh sake aur use jo bhi feel kar rahe hain aaj unka opinion hai vaah sab ko vaah bata sake aur ivan Constitution mein bhi yah baat likhi hui hai ki har insaan ko freedom of speech in expression diya gaya hai jiske tahat har insaan agar kuch kehna chahta hai kuch aalochana karna chahta ya kuch shikayat karna chahta hai toh vaah saamne rakh sakta hai chahen vaah pm ke khilaf kyon na ho lekin agar insaan ko kisi baat se ya ke PM ke kisi bhi karya se khushi baat tarah ki hani ho rahi hai ya use iski aalochana karna chahta hai insaan toh bhi vaah saamne rakh sakta hai aur usko pura pura haq diya gaya aur usko koi bhi doosra vyakti is karya se rok nahi sakta lekin har insaan ko baat rakhte vaah kehte waqt is baat ka zaroor dhyan rakhna apni maryadit rekha se par na jaaye kyonki agar aap kuch aisa keh rahe hain jisse dusre insaan yani ki hamare PM ya phir kisi aur ki bhi manhani ho jaati hai toh aapko zaroor hai uski saza mil sakti hai aur iska pradhan pradhan bhi hai ki manhani ke khilaf logo ko saza mili hai bite varshon mein lekin agar vaah koi aalochana hai jo ki bilkul aasaan shabdon mein aur bahut sahi se kahi gayi hai usme kisi bhi tarah ke aise shabd ka prayog nahi hua hai kyonki galat ho toh aap us baat ko puri tarah rakh sakte hain aur ab toh social media bhi aa chuka hai jaha par aap prime minister ya phir kisi aur ke khilaf jo bhi aapko baat karni hai aap unko type karke vaah baat kya hai unke paas bhej sakte hain aur zaroor aapke prime minister aapki baat sunenge

क्या ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि अगर आप अपने प्राइम मिनिस्टर की आलोचना करते हैं तो वह हमारे

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  195
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!