प्रगतिवादी युग के किन्ही दो कवियों के नाम और उनकी एक एक रचना का नाम बताइए?...


user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रगतिवादी युग के लेखक कौन-कौन से हैं कभी कौन-कौन से तो बहुत सारे कभी हुए इसमें जैसे कि नागार्जुन एज बहुत ही प्रसिद्ध कवि रहे युगधर्म की प्रसिद्ध रचना थी सतरंगी पंखे वाली इसके अलावा और भी कवि केदारनाथ अग्रवाल हैं काफी मशहूर कभी रहे इसी काल के किस की नींद के बादल नया युग की गंगा की रचनाएं रही है टोटल रामविलास शर्मा

pragativadi yug ke lekhak kaun kaunsi hai kabhi kaun kaunsi toh BA hut saare kabhi hue isme jaise ki nagarjuna age BA hut hi prasiddh kabhi rahe yugdharm ki prasiddh rachna thi satrangi pankhe wali iske alava aur bhi kabhi kedarnath agrawal hai kaafi mashoor kabhi rahe isi kaal ke kis ki neend ke BA dal naya yug ki ganga ki rachnaye rahi hai total ramvilash sharma

प्रगतिवादी युग के लेखक कौन-कौन से हैं कभी कौन-कौन से तो बहुत सारे कभी हुए इसमें जैसे कि ना

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  74
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Riya

Volunteer

0:37

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बात करेंगे प्रगतिवादी युग के दो कवियों के नाम तो इनमें जो है वो 30 में क्यों रखा जाता है एक व्यक्ति जो कि पूर्ण रूप से पूर्ववर्ती काव्यधारा छायावाद से संबंध रखते थे दूसरे देशों के मूल रूप से प्रगतिवादी कवि थे और तीसरे दिन होने की प्रगतिवादी कविता से अपने काव्य यात्रा को शुरू की थी सारा कवियों के नाम देकर समस्या नंदन पंत की रचनाएं युगांश युगवाणी और ग्रामीण है सूर्यकांत त्रिपाठी निराला जो कि कुकुरमुत्ता पानी मानने पत्र बेला अर्चना जी दिन की कविताएं हैं

baat karenge pragativadi yug ke do kaviyon ke naam toh inme jo hai vo 30 mein kyon rakha jata hai ek vyakti jo ki purn roop se poorvavartee kavyadhara chaayavaad se sambandh rakhte the dusre deshon ke mul roop se pragativadi kabhi the aur teesre din hone ki pragativadi kavita se apne kavya yatra ko shuru ki thi saara kaviyon ke naam dekar samasya nandan pant ki rachnaye yugansh yugvani aur gramin hai suryakant tripathi niraala jo ki kukurmutta paani manne patra bela archna ji din ki kavitayen hain

बात करेंगे प्रगतिवादी युग के दो कवियों के नाम तो इनमें जो है वो 30 में क्यों रखा जाता है ए

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  32
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
pragativadi ; the pragativadi ; pragatibadi ; kaviyon ke naam ; bhartendu yug ke kavi ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!