प्रशासनिक व्यवस्था में सुधार कैसे सही हो?...


user

Brijesh Singh

Faculty at Supreme IAS Allahabad

0:07
Play

Likes  116  Dislikes    views  1561
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

5:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरी राय में जोप अधिकारी अनुपयुक्त हैं और ऐसे पीठासीन पर रोड हो गए हैं जिसका उस कार्य से उस समय 9:00 से कोई उनका संस्कार काल में लिखा था और वो सीधे उस पर बैठ गए और अपने दायित्व और कर्म कर्तव्य का उनको कोई और जिम्मेवार के साथ विश्वास नहीं है अरुण को एक गिफ्ट में मिल गया है ऐसी नौकरी तो ऐसे मामले में सेंड हो को साफ करा जाए नंबर 1 जिस पद की गरिमा और उसके लायक जो उपयुक्त लोग हैं उसको सर्च किया जाए और बिना भेदभाव की उनकी नियुक्ति हो इस पद पर प्रतिष्ठा से चरित्र प्रमाण हो के उस कार्य को ईमानदारी से निर्वाह कर सकें करा सकें और सैद्धांतिक पल पर मजबूत होने वाले लोग हैं इसमें नियुक्ति का दायरा सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है क्योंकि आप अभी देख सकते हैं के साफ जाहिर होता है कि इस बदला एक यह लोग हैं ही नहीं और इन भ्रष्टाचार की इन्हीं के जड़ों में ही बीज होता है पूजा गई है कतार बस एनी का अनुकरण करते हैं पूरा भ्रष्टाचार हो जाता है तो सबसे बड़ी बात ऐसी प्रणाली होनी चाहिए कि जो योग्य व्यक्तियों को ढूंढने लायक व्यवस्था हो और इसकी मीटिंग इसकी कमेटी के अंदर जो प्रमुख लोग हैं वह ऐसे सधे हुए लोग होने चाहिए जो देश की भलाई के लिए जनता के विकास के लिए अंकित सुविधाएं के लिए उनके अंदर संतोष के लिए उनके जीवन शांति के लिए और वो अपने जीवन के जीवन को कर्तव्य दायित्व और समर्पण के लिए उनका रुझान हो और वह पूर्ण समर्पित रूप से सीखे नियुक्त हो और अपने आत्म जिम्मेवारी के साथ निर्वाह करने में सक्षम हो वैसे महान पदों पर ऐसे लोगों की नियुक्ति होनी चाहिए दूसरी बात उनकी प्रतिष्ठा और सुष्मिता इतनी नीची कृष्ण को सतत सही रिपोर्ट मिलती रहे चमचों के दायरे में उनकी आंखें बंद रहती है कस्टम अपना निवेशन होना चाहिए और बिना दबाव के सही निष्ठा पूर्वक अपने टीटी का निर्माण करना चाहिए अमूल उसे सिर्फ मेरा यही था जो निकली प्रणाली में जो यथा योग्य व्यक्ति हो वह पद आसीन हो उनकी सेवा कारी लिया जाए अन्यथा तो यह सदियां बीत जाएगी लेकिन इसका कोई डर रहा होगा नहीं केंद्र कितनी योग्यता होनी चाहिए कि एक आम जन जिसका कोई संरक्षण नहीं है उसकी वेदना है उसकी प्रेरणा है उसकी तो करता है और उसके सीधा-सीधा अतिसंवेदनशील इस स्तर पर उसके सहायक और सहयोगी बने ऐसे लोगों की ही शिवांशी जगत सुधर सकता है कि सुधर सकता है अट्रैक्शन का जय होना चाहिए कि ना हो कच्चे आम उत्पीड़न जनता को रिलीव देता हो ऐसा द्वार खुला हो वही सबसे कुशल छिन्नमस्ता होगी और उनकी जीवन प्रक्रिया पर उनके कार्य प्रक्रिया पर हमेशा एक नजर होना चाहिए गतिविधियों पर पूरी तरह जान होना चाहिए इस तरह का सिस्टम जब होगा स्वार्थ के बली खुद भी ना चाहते हुए भी वह अच्छे काम के लिए प्रेरित रहेंगे तो एक पैटर्न के माध्यम से नहीं निकलना ही पड़ेगा उसके साथ ऐसी व्यवस्था प्राण ही होगी उत्साहित सुधार हो

meri rai mein jop adhikari anupayukt hai aur aise pithasin par road ho gaye hai jiska us karya se us samay 9 00 se koi unka sanskar kaal mein likha tha aur vo sidhe us par baith gaye aur apne dayitva aur karm kartavya ka unko koi aur jimmewar ke saath vishwas nahi hai arun ko ek gift mein mil gaya hai aisi naukri toh aise mamle mein send ho ko saaf kara jaaye number 1 jis pad ki garima aur uske layak jo upyukt log hai usko search kiya jaaye aur bina bhedbhav ki unki niyukti ho is pad par prathishtha se charitra pramaan ho ke us karya ko imaandaari se nirvah kar sake kara sake aur saiddhaantik pal par majboot hone waale log hai isme niyukti ka dayara sabse zyada mahatvapurna hai kyonki aap abhi dekh sakte hai ke saaf jaahir hota hai ki is badla ek yah log hai hi nahi aur in bhrashtachar ki inhin ke jadon mein hi beej hota hai puja gayi hai katar bus any ka anukaran karte hai pura bhrashtachar ho jata hai toh sabse baadi baat aisi pranali honi chahiye ki jo yogya vyaktiyon ko dhundhne layak vyavastha ho aur iski meeting iski committee ke andar jo pramukh log hai vaah aise sadhe hue log hone chahiye jo desh ki bhalai ke liye janta ke vikas ke liye ankit suvidhaen ke liye unke andar santosh ke liye unke jeevan shanti ke liye aur vo apne jeevan ke jeevan ko kartavya dayitva aur samarpan ke liye unka rujhan ho aur vaah purn samarpit roop se sikhe niyukt ho aur apne aatm jimmewari ke saath nirvah karne mein saksham ho waise mahaan padon par aise logo ki niyukti honi chahiye dusri baat unki prathishtha aur sushmita itni nichi krishna ko satat sahi report milti rahe chamchon ke daayre mein unki aankhen band rehti hai custom apna niveshan hona chahiye aur bina dabaav ke sahi nishtha purvak apne tt ka nirmaan karna chahiye amul use sirf mera yahi tha jo nikli pranali mein jo yatha yogya vyakti ho vaah pad aaseen ho unki seva kaari liya jaaye anyatha toh yah sadiyan beet jayegi lekin iska koi dar raha hoga nahi kendra kitni yogyata honi chahiye ki ek aam jan jiska koi sanrakshan nahi hai uski vedana hai uski prerna hai uski toh karta hai aur uske seedha seedha atisanvedanashil is sthar par uske sahayak aur sahyogi bane aise logo ki hi shivanshi jagat sudhar sakta hai ki sudhar sakta hai attraction ka jai hona chahiye ki na ho kacche aam utpidan janta ko relieve deta ho aisa dwar khula ho wahi sabse kushal chinnamasta hogi aur unki jeevan prakriya par unke karya prakriya par hamesha ek nazar hona chahiye gatividhiyon par puri tarah jaan hona chahiye is tarah ka system jab hoga swarth ke bali khud bhi na chahte hue bhi vaah acche kaam ke liye prerit rahenge toh ek pattern ke madhyam se nahi nikalna hi padega uske saath aisi vyavastha praan hi hogi utsaahit sudhaar ho

मेरी राय में जोप अधिकारी अनुपयुक्त हैं और ऐसे पीठासीन पर रोड हो गए हैं जिसका उस कार्य

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  991
WhatsApp_icon
play
user

Niraj Devani

PHILOSOPHER

1:08

Likes  3  Dislikes    views  515
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारी प्रशासनिक व्यवस्था कुछ गलत हो चुकी है भ्रष्टाचार का बोलबाला है न्याय व्यवस्था बिक चुकी कानून की धज्जियां उड़ाई जा रही प्रशासन कहीं नजर नहीं आता जब शासन नजर नहीं आता तो प्रशासन नजर कहां से किसी को जेल में छोड़ देना या किसी के ऊपर एलिवेशन लगाकर उसे अपमानित कर देना ना तो शासन है ना ही प्रशासन ने जितनी शक्तियों जितना धन हम एक न्याय को जवानी के लिए अपने विरोधियों को खत्म करने के लिए खर्च करते हैं अगर वही धर्म लोगों की उन्नति के लिए खर्च करें तो विरोधी अपने आप खत्म हो जाएंगे लेकिन हम जानते हैं कि हम कमजोर है अंदर से नहीं दबाया तो हमारी असलियत सामने आ जाएगी यह प्रशासनिक व्यवस्था है और जिस देश की प्रशासनिक व्यवस्था कमजोर होगी या पथभ्रष्ट हो आप कैसे उम्मीद कर सकते हैं जो जैसे अच्छे लोग उन्हें उस देश का विकास होगा विकास हो रहा है लेकिन विकास क्यों रफ्तार नहीं होनी चाहिए इसको ऐसे लोग हमारे समाज से चुनकर लाए हैं जो ईमानदार हूं मंत्रियों पर स्विमिंग कर्तव्य के प्रति गंभीर हों और निश्चित रूप से वह शिष्टाचार और कर्म चीनो जब ऐसे लोग हमारी प्रशासनिक व्यवस्था से जुड़ेंगे भ्रष्टाचारियों को बाहर का रास्ता दिखाएंगे तो देखिए कैसे प्रशासनिक व्यवस्था में सुधार होता है चौकी तारीफ का विलय होगा और बिना हमारी इस चर्च अंकल के मैं नहीं समझता हूं कि सुधार संभव होगा

bhari prashaasnik vyavastha kuch galat ho chuki hai bhrashtachar ka bolbala hai nyay vyavastha bik chuki kanoon ki dhajjiya udai ja rahi prashasan kahin nazar nahi aata jab shasan nazar nahi aata toh prashasan nazar kahaan se kisi ko jail mein chod dena ya kisi ke upar elevation lagakar use apmanit kar dena na toh shasan hai na hi prashasan ne jitni shaktiyon jitna dhan hum ek nyay ko jawaani ke liye apne virodhiyon ko khatam karne ke liye kharch karte hain agar wahi dharm logo ki unnati ke liye kharch kare toh virodhi apne aap khatam ho jaenge lekin hum jante hain ki hum kamjor hai andar se nahi dabaya toh hamari asliyat saamne aa jayegi yah prashaasnik vyavastha hai aur jis desh ki prashaasnik vyavastha kamjor hogi ya path bhrasht ho aap kaise ummid kar sakte hain jo jaise acche log unhe us desh ka vikas hoga vikas ho raha hai lekin vikas kyon raftaar nahi honi chahiye isko aise log hamare samaj se chunkar laye hain jo imaandaar hoon mantriyo par Swimming kartavya ke prati gambhir ho aur nishchit roop se vaah shishtachar aur karm chino jab aise log hamari prashaasnik vyavastha se judenge bharashtachariyo ko bahar ka rasta dikhayenge toh dekhiye kaise prashaasnik vyavastha mein sudhaar hota hai chowki tareef ka vilay hoga aur bina hamari is church uncle ke main nahi samajhata hoon ki sudhaar sambhav hoga

भारी प्रशासनिक व्यवस्था कुछ गलत हो चुकी है भ्रष्टाचार का बोलबाला है न्याय व्यवस्था बिक चुक

Romanized Version
Likes  56  Dislikes    views  1090
WhatsApp_icon
user

Rihan Shah

I want to become An IAS Officer (Love Realationship Full Experience)

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो प्रशासनिक व्यवस्था में सुधार कैसे सही हो अगर आप कोई एंप्लॉय हो तो आप जरूर कर सकते मगर आप अगर एक आम आदमी तो आपको बहुत लोगों की हेल्प लेनी पड़ेगी गली मोहल्ला कि आपने मेंबर्स किए चेयरमैन से जो भी आप के मेंबर से उनके अभी नहीं पड़ेगी तभी जाकर आप प्रशासनिक व्यवस्था में सुधार ला सकते हो हां अगर आप एक कर्मचारियों किसी भी पद के ऊपर तो जरूर कर सकते हो

dekho prashaasnik vyavastha mein sudhaar kaise sahi ho agar aap koi employee ho toh aap zaroor kar sakte magar aap agar ek aam aadmi toh aapko bahut logo ki help leni padegi gali mohalla ki aapne members kiye chairman se jo bhi aap ke member se unke abhi nahi padegi tabhi jaakar aap prashaasnik vyavastha mein sudhaar la sakte ho haan agar aap ek karmachariyon kisi bhi pad ke upar toh zaroor kar sakte ho

देखो प्रशासनिक व्यवस्था में सुधार कैसे सही हो अगर आप कोई एंप्लॉय हो तो आप जरूर कर सकते मगर

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  10
WhatsApp_icon
user

Kriti

Volunteer

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रशासनिक व्यवस्था में सुधार करने के लिए संगठन के महत्व और प्रक्रियाओं के मानकीकरण के बारे में अपने कर्मचारियों को समझने और समझाने की जरूरत होगी प्रोजेक्ट स्कोप को परिभाषित अच्छे से करना होगा अपनी कंपनी के वर्तमान स्थिति को ब्लॉक करें अपने संभावित सुधारों की योजना बनाएं वहीं प्रमुख श्रेष्ठ जनों की पहचाना में करनी होगी एक सैद्धांतिक और स्पष्ट आधार के साथ भविष्य को डिजाइन करना होगा एक कार्य में कार्यान्वयन योजना विकसित करनी होगी

prashaasnik vyavastha mein sudhaar karne ke liye sangathan ke mahatva aur prakriyaon ke mankikaran ke bare mein apne karmachariyon ko samjhne aur samjhane ki zarurat hogi project scope ko paribhashit acche se karna hoga apni company ke vartaman sthiti ko block kare apne sambhavit sudharo ki yojana banaye wahi pramukh shreshtha jano ki pehchana mein karni hogi ek saiddhaantik aur spasht aadhaar ke saath bhavishya ko design karna hoga ek karya mein karyanvayan yojana viksit karni hogi

प्रशासनिक व्यवस्था में सुधार करने के लिए संगठन के महत्व और प्रक्रियाओं के मानकीकरण के बारे

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!