श्री नरेंद्र मोदी ने विकलांग व्यक्ति के बारे में क्या कहा है?...


play
user

रजनीश तिवारी

सामाजिक स्वास्थ्य एवं निःशक्तजन कार्यकर्ता

3:35

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों श्री नरेंद्र मोदी जी ने विकलांग बारे में क्या कहा आज तक कितनी पार्टियां सरकारों में किसी ने भी दिव्यांगों के बारे में नहीं सोचा जरूर है कागजों पर बहुत कुछ हुआ है पर रियल में कुछ नहीं हुआ है जो भी पार्टी आते हैं बोलते हैं कि हम ऐसा करेंगे हमेशा करेंगे मोदी जी भी आए हो दिव्यांग निशक्तजन था उसको नाम बदलकर के दिव्यांग कर दिए पर क्या हुआ रियल में क्या लाभ मिला आखिर किसी भी बैंक से मैंने तुमसे पूछेगा तो बताएं क्या लाभ अभी भारत देश है या किसी देश की बात कह तुम के पास दिव्यांगों में डाटा नहीं दिव्यांगों क्या सुविधा मिल रही है कोई के बायोडाटा नहीं है निश्चय ही सरकारें चाहें तो बहुत कुछ परिवर्तन हो सकता है पहले एक मुकर टाटा बना ले जिनको जरूरत है उनको रोजगार दिव्यांग कैसे रोजगार छूटते कि जो वह कर सकते हैं उनको टेंशन ही टेंशन दो सो ₹300 पेंशन किसी का 300 किसी को ₹500 पेंशन दी जाती है टेंशन से क्या होता है केवल एक उनको आशा दी गई है लेकिन को रोजगार दे दिया है कि आपको एक काम दिया जा रहा है आप इसको सीखे उसे आप हजारों रुपए कमा सकते हो अपने व्यवसाय चला सकते हैं घर चला सकते हैं ऐसा सरकारें क्यों नहीं करते हैं जो दिव्य आज अपने पैर पर खड़े हैं उनको देखिए और जो भी फैसला दिव्यांग जनों के बीच में आए हैं वह उनको लाभ तभी मिला है जब सुप्रीम कोर्ट या हाई कोर्ट का फैसला आया है किसी दिव्यांग को यदि लाभ सरकारों द्वारा मिला है तुम बहुत मुश्किल है हमको नहीं लगता कि 12 प्रश्न लोगों को प्लान मिलाओ जो भी मिला है वह हाई कोर्ट सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मिला है इतनी लड़ाई लड़ना पड़ता दिव्यांगों को तब जाकर सफलता मिलती है भाई सरकारें हमारे जो मांगे हमारे डिमांड है हमारे जो बातें हैं सरकार तक नहीं पहुंची सरकार इस पहुंचती है तो हम सुनवाई नहीं होती यदि रियल में सरकार कुछ चाहती है दिव्यांग जनों के बारे में तब वह सा रोजगार समानता रोजगार टेंशन नहीं जय हिंद जय भारत

doston shri narendra modi ji ne viklaang bare mein kya kaha aaj tak kitni partyian sarkaro mein kisi ne bhi divyango ke bare mein nahi socha zaroor hai kagazo par bahut kuch hua hai par real mein kuch nahi hua hai jo bhi party aate hai bolte hai ki hum aisa karenge hamesha karenge modi ji bhi aaye ho divyang nishaktajan tha usko naam badalkar ke divyang kar diye par kya hua real mein kya labh mila aakhir kisi bhi bank se maine tumse puchhega toh bataye kya labh abhi bharat desh hai ya kisi desh ki baat keh tum ke paas divyango mein data nahi divyango kya suvidha mil rahi hai koi ke biodata nahi hai nishchay hi sarkaren chahain toh bahut kuch parivartan ho sakta hai pehle ek mukar tata bana le jinako zarurat hai unko rojgar divyang kaise rojgar chhutate ki jo wah kar sakte hai unko tension hi tension do so Rs pension kisi ka 300 kisi ko Rs pension di jati hai tension se kya hota hai keval ek unko asha di gayi hai lekin ko rojgar de diya hai ki aapko ek kaam diya ja raha hai aap isko sikhe use aap hazaro rupaye kama sakte ho apne vyavasaya chala sakte hai ghar chala sakte hai aisa sarkaren kyon nahi karte hai jo divya aaj apne pair par khade hai unko dekhie aur jo bhi faisla divyang jano ke beech mein aaye hai wah unko labh tabhi mila hai jab supreme court ya high court ka faisla aaya hai kisi divyang ko yadi labh sarkaro dwara mila hai tum bahut mushkil hai hamko nahi lagta ki 12 prashna logo ko plan milao jo bhi mila hai wah high court supreme court ke faisle ke baad mila hai itni ladai ladna padta divyango ko tab jaakar safalta milti hai bhai sarkaren hamare jo mange hamare demand hai hamare jo batein hai sarkar tak nahi pahuchi sarkar is pohchti hai toh hum sunvai nahi hoti yadi real mein sarkar kuch chahti hai divyang jano ke bare mein tab wah sa rojgar samanata rojgar tension nahi jai hind jai bharat

दोस्तों श्री नरेंद्र मोदी जी ने विकलांग बारे में क्या कहा आज तक कितनी पार्टियां सरकारों मे

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  18
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!