यदि हमारे पास वैज्ञानिक आविष्कार नहीं है तो एक दिन कैसे रहेंगे हम?...


play
user

धनंजय नौटियाल

Statistician (Monitoring & Evaluation)

1:38

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न यह है कि यदि हमारे पास वैज्ञानिक आविष्कार नहीं होंगे तो हम विश्व में कैसे रहेंगे या भविष्य नाम कैसे जी रहे हो शाम को इस तरह से भी देखने की क्या कभी कोई ऐसा समय भी रहा है कि हमने बिना किसी उपकरण किए बिना किसी सहायक सामग्री के कोई दिन बिताया हो आग जलाने का चुला हो या रोटी बनाने के लिए प्रयोग होने वाला चिमटा हो स्वयं जिस तरह से हम भोजन प्राप्त करते हैं जो हमारी बिल्कुल मूलभूत आवश्यकता है जिसमें आग जिसको कि हमने उपयोग करना सीखा और भी तो तरह से अविष्कार ही है जिसके लिए हम इतना कुछ जीवन में रहते हैं भोजन भोजन हमारे बिल्कुल मूल मूल आवश्यकता है और भोजन को सही से पका कर खाने के लिए हमने आज को आरंभ में कैसे उपयोग करना सीखा यह अपने आप में एक अविष्कार है और ऐसे अनेक अविष्कारों के बीच में हमने रहना जीना सीख लिया है तो ऐसा संभव ही नहीं है कि हम बिना विस्तार के आने वाले भविष्य में भी रह रहे होंगे

aapka prashna yah hai ki yadi hamare paas vaigyanik avishkar nahi honge toh hum vishwa me kaise rahenge ya bhavishya naam kaise ji rahe ho shaam ko is tarah se bhi dekhne ki kya kabhi koi aisa samay bhi raha hai ki humne bina kisi upkaran kiye bina kisi sahayak samagri ke koi din bitaya ho aag jalane ka chula ho ya roti banane ke liye prayog hone vala chimta ho swayam jis tarah se hum bhojan prapt karte hain jo hamari bilkul mulbhut avashyakta hai jisme aag jisko ki humne upyog karna seekha aur bhi toh tarah se avishkar hi hai jiske liye hum itna kuch jeevan me rehte hain bhojan bhojan hamare bilkul mul mul avashyakta hai aur bhojan ko sahi se paka kar khane ke liye humne aaj ko aarambh me kaise upyog karna seekha yah apne aap me ek avishkar hai aur aise anek avishkaro ke beech me humne rehna jeena seekh liya hai toh aisa sambhav hi nahi hai ki hum bina vistaar ke aane waale bhavishya me bhi reh rahe honge

आपका प्रश्न यह है कि यदि हमारे पास वैज्ञानिक आविष्कार नहीं होंगे तो हम विश्व में कैसे रहें

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  164
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!