भारत में नये पर्यटन स्थलों के विकास की गति इतनी धीमी क्यों है?...


play
user
1:52

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा है ना हमारे यहां अगर हम बात करें मैं पर्यटन स्थलों की तो बहुत सारे पर्यटन स्थल हमारी राजनीति में पढ़ते हुए हैं और हमारी इच्छाशक्ति की कमी है हमारी सरकारें जो है वह कोई भी डेस्टिनेशन को जागृत नहीं करती सबसे पहले राजीव गांधी ने एक बात स्वीकार की थी मैं उनका कोई बहुत बड़ा प्रशंसक नहीं हूं लेकिन उनकी एक बात का मैं प्रशंसक हूं कि उन्होंने इमानदारी से कहा था कि ₹1 अगर सरकारी खजाने से डेवलपमेंट के लिए या किसी योजना के लिए आता है तो उसका 15 पैसे खर्च होता है बाकी सब बीच में आ चला जाता है तो हमारे यहां तो प्लीज जो बजट है और करप्शन से उसकी भी जाते हैं तो एक तो यह कि बात करने के लिए हमेशा पैसे का रोना रोया जाता है दूसरी बात की है कि हमारे जो रूलर पार्टी रहती है वह किसी भी पार्टी का आजादी के बाद से अब उन्होंने पर्यटन स्थलों को ठीक से मेंटेन करने का अधिकार नहीं किया नए डिवेलप करने की बात तो बहुत दूर की बात है मुझे यह कहने में कोई संकोच नहीं है आप बहुत सारी हमारी जो ऐतिहासिक महत्व की इमारतें हैं वह आज उनकी बहुत दुर्दशा है और उन पर कोई रखरखाव पर विशेष ध्यान नहीं दिया जाता आगरा में ताजमहल कितना इंपॉर्टेंट है कितना महत्त्व रखता है उसके अलावा भी वहां पर बहुत सारे ऐसे मॉन्यूमेंट है से स्मारक है जो उससे कहीं मतलब कम नहीं है उसे कम महत्वपूर्ण नहीं है

aisa hai na hamare yahan agar hum baat kare main paryatan sthalon ki toh bahut saare paryatan sthal hamari raajneeti mein padhte hue hain aur hamari ichchhaashakti ki kami hai hamari sarkaren jo hai vaah koi bhi destination ko jagrit nahi karti sabse pehle rajeev gandhi ne ek baat sweekar ki thi main unka koi bahut bada prasanshak nahi hoon lekin unki ek baat ka main prasanshak hoon ki unhone imaandari se kaha tha ki Rs agar sarkari khajaane se development ke liye ya kisi yojana ke liye aata hai toh uska 15 paise kharch hota hai baki sab beech mein aa chala jata hai toh hamare yahan toh please jo budget hai aur corruption se uski bhi jaate hain toh ek toh yah ki baat karne ke liye hamesha paise ka rona roya jata hai dusri baat ki hai ki hamare jo ruler party rehti hai vaah kisi bhi party ka azadi ke baad se ab unhone paryatan sthalon ko theek se maintain karne ka adhikaar nahi kiya naye develop karne ki baat toh bahut dur ki baat hai mujhe yah kehne mein koi sankoch nahi hai aap bahut saree hamari jo etihasik mahatva ki imaraten hain vaah aaj unki bahut durdasha hai aur un par koi rakharakhav par vishesh dhyan nahi diya jata agra mein tajmahal kitna important hai kitna mahatva rakhta hai uske alava bhi wahan par bahut saare aise monument hai se smarak hai jo usse kahin matlab kam nahi hai use kam mahatvapurna nahi hai

ऐसा है ना हमारे यहां अगर हम बात करें मैं पर्यटन स्थलों की तो बहुत सारे पर्यटन स्थल हमारी र

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  385
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!