मेरा पढ़ने में मन नहीं लगता है, क्या करूँ?...


play
user

Nikhil Ranjan

Programme Coordinator - National Institute of Electronics and Information Technology (NIELIT)

1:02

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी रे सातों प्रेस ने मेरा पढ़ने में मन नहीं लगता है तो क्या करूं यहां बताना चाहेंगे कि ऐसी समस्या तब आती है जब आपका जो रूटीन है तो पढ़ाई का शेडूल है वह प्रॉपर ना हो तो यहां पर एक सही आपको स्कर्ट बनाने की जरूरत है उसे एक सही समय सारणी का टाइम टेबल आने की जरूरत है उसको फॉलो करने की आवश्यकता है आपसे यह देखिए कि आपकी पढ़ाई सबसे अच्छी किस समय हो पाती है और उस समय आप अपना के सबसे टॉप सब्जेक्ट है उनको रखिए बीच-बीच में कुछ ऐसे स्वर सखी है जहां पर आप खाली समय हो जैसे कि आप दोस्तों से मिलना हो हम अपना मोबाइल चेक करना हो या और किसी काम के लिए बीच-बीच में कुछ स्लॉट्स खाली जरूरत है उससे क्या होता है कि आपकी यह मॉनिटर नहीं है वह ब्रेक होती रहती है और आपका पढ़ाई में मन लगा रहता है अगर कॉन्टिनेंट्स ऑफ़ चाचा मिश्रा घंटे का फ्रॉड बनाएंगे तो कहीं से फिजिकल नहीं देखा एक या दो दिन पहले ही चले लेकिन टेलीविजन पर वह चीज नहीं चल पाएगी तो इस तरह से जब आपने पढ़ाई का रूटीन बनाकर उसको पढ़ाई करेंगे सबका मन भी लगेगा और आपकी मोटर ने भी ब्रेक होती रहेगी मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद

dekhi ray saton press ne mera padhne mein man nahi lagta hai toh kya karu yahan batana chahenge ki aisi samasya tab aati hai jab aapka jo routine hai toh padhai ka shedul hai wah proper na ho toh yahan par ek sahi aapko skirt banane ki zarurat hai use ek sahi samay sarni ka time table aane ki zarurat hai usko follow karne ki avashyakta hai aapse yeh dekhie ki aapki padhai sabse acchi kis samay ho pati hai aur us samay aap apna ke sabse top subject hai unko rakhiye beech beech mein kuch aise swar sakhi hai jaha par aap khaali samay ho jaise ki aap doston se milna ho hum apna mobile check karna ho ya aur kisi kaam ke liye beech beech mein kuch slots khaali zarurat hai usse kya hota hai ki aapki yeh monitor nahi hai wah break hoti rehti hai aur aapka padhai mein man laga rehta hai agar continents of chacha mishra ghante ka fraud banayenge toh kahin se physical nahi dekha ek ya do din pehle hi chale lekin television par wah cheez nahi chal payegi toh is tarah se jab aapne padhai ka routine banakar usko padhai karenge sabka man bhi lagega aur aapki motor ne bhi break hoti rahegi meri subhkamnaayain aapke saath hain dhanyavad

देखी रे सातों प्रेस ने मेरा पढ़ने में मन नहीं लगता है तो क्या करूं यहां बताना चाहेंगे कि ऐ

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  6037
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!