जब आप दिल्ली में DIP निर्देशक के रूप में काम कर रहे थे तब दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आपको हटाने के लिए कहा था। यह उस समय की बहुत बड़ी ख़बर भी बनी थी। आपने उस समय इसका सामना कैसे किया था?...


play
user

Dr Jayadev Sarangi

Worked at Indian Administrative Service (AGMUT), Formerly SECRETARY,GOVERNMENT OF NCT OF DELHI/Goa Government .Formerly Expert UNODC

3:12

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बड़ा आसान होता है मैं सेक्रेटरी इंफॉर्मेशन पब्लिसिटी के खेत से जो निकली परमीसिबल है मैं उसको एलाऊ करता था उसमें कभी हमने रुकावट पैदा नहीं की लेकिन लोग तो कहते हैं कि 300 400 करोड़ की शायद आप ने मना किया होगा मैंने तो किसी भी किए लेकिन काफी सारे एडवर्टाइजमेंट शायद हमने 2 डेज मंजू रुकती थी वह कानून संगत नहीं होने से रोक लेते थे अब इसके बाद अगर कोई हमको समझा दिया कि वे कानून के खिलाफ कुछ नहीं है किसी को डिसीजन के खिलाफ नहीं है अब आप फाउंडेशन ठीक है या नहीं है क्योंकि हमने एक भी बार कभी कोई बिना वजह कोई चीज को रोकने के लिए कोशिश नहीं की है लेकिन जो हमने रोका वह कभी पास भी नहीं पूरी हमारी कैरियर के अंदर किसी फाइल में अगर हमने कोई स्टैंड लिया है तो उस टाइम हमेशा प्लास्टर की उसको मना किया है तो उसमें क्या होता है कि कुछ लोगों को जैसे सूट नहीं करता है माली जी लगता है कि नहीं भाई इनको दबाव डालकर हम इसको निकाल सकते हैं शामिल नहीं हुए तो नहीं होने से परेशानी शुरू शुरू में पता नहीं तो फिर हमारे लिए तो कोई समस्या थी नहीं कि जो लाइन में हमने ड्रॉ किए थे वह लक्ष्मणरेखा लगना नहीं है बाकी उसे नीचे कोई नेगेटिविटी नहीं आना चाहिए भैया हमारे किसी के साथ कोई दुश्मनी नहीं है या नहीं होता हम कानून के रक्षक हैं और सभी से ऑल इंडिया सर्विस सेंटर ईस्टवॉच करते हुए प्रोस्टिट्यूशन को पालन की एक करने के लिए मदद करें लोगों को पालन करने के लिए मदद करें और काफी सारे तो फिर भी आपको कष्ट कर दिया गया है आप उस माध्यम से अगर गलत चीज को रोकने में सक्षम नहीं हो पा रहे हैं तो इसका मतलब आप क्लियर में दो हम खुशनसीब हैं कि हमारी पूरी क्लियर में हमने जो सेंड लिया कुछ लोगों ने जिसे बाकी बाकी पूरी जिंदगी हमारी जान जा अभी काम किए हैं वहां पर हाउ आर यू शुक्रिया जो लीडर्स दिया जो लोग थे एक बार हमने कहा कि नहीं यह नहीं हो सकता क्योंकि कानून में यह चीज के खिलाफ है तू कभी हम को जबरन करने के लिए ही नहीं और जहां-जहां पर भी हमारे कैरियर के अंदर एक ही नहीं है और कई बार भी ऐसे ही हुए होंगे लेकिन वह जब भी हुए हैं बाद में लोगों को समझ में आ जाता है कि नहीं यह ऐसी करेंगे तो उसमें आसान हो जाता है आपके लिए और हमारे लिए तो हम तो रिटायरमेंट उसी पोस्ट पर ही बने रहे

bada aasaan hota hai secretary information publicity ke khet se jo nikli paramisibal hai usko elaoo karta tha usme kabhi humne rukavat paida nahi ki lekin log toh kehte hain ki 300 400 crore ki shayad aap ne mana kiya hoga maine toh kisi bhi kiye lekin kaafi saare advertisement shayad humne 2 days manju rukti thi vaah kanoon sangat nahi hone se rok lete the ab iske baad agar koi hamko samjha diya ki ve kanoon ke khilaf kuch nahi hai kisi ko decision ke khilaf nahi hai ab aap foundation theek hai ya nahi hai kyonki humne ek bhi baar kabhi koi bina wajah koi cheez ko rokne ke liye koshish nahi ki hai lekin jo humne roka vaah kabhi paas bhi nahi puri hamari carrier ke andar kisi file mein agar humne koi stand liya hai toh us time hamesha plaster ki usko mana kiya hai toh usme kya hota hai ki kuch logo ko jaise suit nahi karta hai maali ji lagta hai ki nahi bhai inko dabaav dalkar hum isko nikaal sakte hain shaamil nahi hue toh nahi hone se pareshani shuru shuru mein pata nahi toh phir hamare liye toh koi samasya thi nahi ki jo line mein humne draw kiye the vaah lakshmanrekha lagna nahi hai baki use niche koi negativity nahi aana chahiye bhaiya hamare kisi ke saath koi dushmani nahi hai ya nahi hota hum kanoon ke rakshak hain aur sabhi se all india service center istavach karte hue prostityushan ko palan ki ek karne ke liye madad kare logo ko palan karne ke liye madad kare aur kaafi saare toh phir bhi aapko kasht kar diya gaya hai aap us madhyam se agar galat cheez ko rokne mein saksham nahi ho paa rahe hain toh iska matlab aap clear mein do hum khushnaseeb hain ki hamari puri clear mein humne jo send liya kuch logo ne jise baki baki puri zindagi hamari jaan ja abhi kaam kiye hain wahan par how R you shukriya jo leaders diya jo log the ek baar humne kaha ki nahi yah nahi ho sakta kyonki kanoon mein yah cheez ke khilaf hai tu kabhi hum ko jabran karne ke liye hi nahi aur jaha jahan par bhi hamare carrier ke andar ek hi nahi hai aur kai baar bhi aise hi hue honge lekin vaah jab bhi hue hain baad mein logo ko samajh mein aa jata hai ki nahi yah aisi karenge toh usme aasaan ho jata hai aapke liye aur hamare liye toh hum toh retirement usi post par hi bane rahe

बड़ा आसान होता है मैं सेक्रेटरी इंफॉर्मेशन पब्लिसिटी के खेत से जो निकली परमीसिबल है मैं उस

Romanized Version
Likes  143  Dislikes    views  2881
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!