आप ने जेल रेफ़ॉर्म्ज़ पर बहुत काम किया है। आप तिहार जेल में एक सरकारी अफ़सर के रूप में भी लगे थे। एक सिवल अफ़सर के रूप में यह अनुभव आपके लिए कैसा था?...


play
user

Dr Jayadev Sarangi

Worked at Indian Administrative Service (AGMUT), Formerly SECRETARY,GOVERNMENT OF NCT OF DELHI/Goa Government .Formerly Expert UNODC

4:06

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी झील एक अलग दुनिया है क्योंकि जेल के अंदर जैसे कोई आदमी होता है तो बाहर की दुनिया के बारे में उसको बहुत कम समझ में आता है जैसे पेट्रोल में अगर कोई आदमी नहीं किया अब इसको सोच सकते हैं कि जैसे 3 साल 5 साल अगर जेल के अंदर कोई रह गया तो आपको यह सोचना पड़ेगा कि बाहर का फैशन क्या हो गया बाहर की कौन सी कौन सी गाड़ी की मर्जी चलने लगी है रास्ता कितने रास्ते में ट्रैफिक इतना ज्यादा है उसकी समझ में आएगा वह केवल टेलीविजन के माध्यम से या दूसरे के माध्यम से यह बात सोचने वाली बात है आपकी दोस्तों हैप्पी जो रिलेशन से वह सारे लोग भी थोड़े दिन तक तो आपके साथ संपर्क में रहते हैं लेकिन एक दिन काट रहे दूर होते जाते हैं उसमें जो जेल प्रशासन होता है वही उनके लिए गाड़ी एंड भी होता है उसकी परिवार होता है सब कुछ होता है आप जैसे देखेंगे आपके साथ जो भी भेजना आता है बाहर से एक बार जेल के अंदर जाने के बाद एक गांव के अलग गांव में जो से भर जाता है और वह गांव के मुखिया जैसे जेल का एसपी है वह गया तो उसी के पास ही समाधान के लिए आएगा उसकी पढ़ाई की समस्या है उसकी दवाई की समस्या है इसकी और भी कोई समस्या परेशानी है तो अंदर अंदर जब ड्यूटी आप करते हो तो आपको नहीं लगता है कि आप कोई एक परेशान लोगों के बीच में काम कर रहे हो बस एक जरूरत जिन लोगों की है उनकी से बात कर रहे हो और एक जो गांधीजी का फिलॉसफी हमेशा हमारे दिमाग में आया कि क्राइम लव यू गलती किया उसके लिए कोर्ट उसको सजा दिया है समाज की तरह समाज से उसको अलग करके आपने एक जगह डाल दिया एक बार जेल के अंदर है तो उसको इंसान की तरह रखना पड़ेगा और इंसान के लिए जो कुछ भी जरूरत है ह्यूमन राइट्स को मिलना चाहिए उसमें कोई कमी नहीं आनी चाहिए ऊंची जवाब करने लगते हो श्री होता है जब हम लोग कम ही उम्र में थे और जेल में घुस जाएंगे और वहां 4000 5000 कैदी होंगे और आप बाहर की विदेशी लोग डिजिटल आते थे अब जो लोग जेल कभी नहीं देखे वह पहली बार आते थे कोई सवाल कर रहे हैं और उसमें आप ने कैदियों को बोल बोल दिया कि आप 5000 लोगों को एक साथ बैठ जाइए तो 1 सेकेंड के अंदर पाकीजा कर दी बैठ जाते हैं आप कहते हैं कि ताली बजाएंगे आप कहते एक हाथ खड़े कर यह तो खड़े होते हैं तो लोगों को चालू होता है यह तो फिर से एक आदमी जब समाज में चला जाता है तो गलियों में डाला जाता है कि मैं छूट गया जेल से तू 5000 लोग एक साथ क्यों मानते हैं क्यों सुनते हैं कष्ट बिल्डिंग है एक बार उनके दिमाग में आ गया हमारे दुश्मन नहीं है यह तो हमारी अगर कोई हमारे लिए कोई अच्छा करेगा तू यही लोग कर सकते हैं वह हमारे दुश्मन नहीं है तब वह यूनिफॉर्म में होने वाले लोगों को भी सिस्को सूचना देने लगते हैं कि वह आपके लिए सेठ बन जाते हैं शाम इतना अच्छा करते हैं कि जो अंदर की जो प्रेग्नेंट होते हैं और आप तो देखेंगे कि जब से हम लोगों की कौन सी मोटर स्टार्ट हुआ और उसने स्पिरिचुअली जिए मोर गेम स्पोर्ट्स कल्चरल एक्टिविटीज पढ़ाई का ध्यान किया कि आई डी से लोगों की जिंदगी में काफी बदलाव आया और लोग तू जेल से जाते समय कहते हैं कि हमें पहले जी अलार्म क्यों नहीं आए हम शायद फिर नहीं आते हम सेवक बन के आती क्योंकि उनको समाज में जो सुविधा नहीं मिला था शेड्यूल पर जाने के बाद पूरा से गिर गया जिससे कोई भी फसना कर लिया किसी ने कोई और रिचुअल प्रोग्राम किया कोई इग्नू से पढ़ाई कर लिया किसी ने मैनेजमेंट के लिए कोई लोग सिविल सर्विसेज की तैयारी कर ले तू यह सब चीजें जो है आपको लगेगा कि बाहर से देखो तो फिल्म देख कर हम लोगों के दिमाग में नेता के खेल का मतलब तू पत्थर तोड़ने वाली सीन है ऐसा कुछ नहीं है जेल के अंदर एक अलग दुनिया है और एक self-contained विलेज जैसे चलता है यह

vicky jheel ek alag duniya hai kyonki jail ke andar jaise koi aadmi hota hai toh bahar ki duniya ke bare mein usko bahut kam samajh mein aata hai jaise petrol mein agar koi aadmi nahi kiya ab isko soch sakte hain ki jaise 3 saal 5 saal agar jail ke andar koi reh gaya toh aapko yah sochna padega ki bahar ka fashion kya ho gaya bahar ki kaun si kaun si gaadi ki marji chalne lagi hai rasta kitne raste mein traffic itna zyada hai uski samajh mein aayega vaah keval television ke madhyam se ya dusre ke madhyam se yah baat sochne waali baat hai aapki doston happy jo relation se vaah saare log bhi thode din tak toh aapke saath sampark mein rehte hain lekin ek din kaat rahe dur hote jaate hain usmein jo jail prashasan hota hai wahi unke liye gaadi and bhi hota hai uski parivar hota hai sab kuch hota hai aap jaise dekhenge aapke saath jo bhi bhejna aata hai bahar se ek baar jail ke andar jaane ke baad ek gaon ke alag gaon mein jo se bhar jata hai aur vaah gaon ke mukhiya jaise jail ka SP hai vaah gaya toh usi ke paas hi samadhan ke liye aayega uski padhai ki samasya hai uski dawai ki samasya hai iski aur bhi koi samasya pareshani hai toh andar andar jab duty aap karte ho toh aapko nahi lagta hai ki aap koi ek pareshan logon ke beech mein kaam kar rahe ho bus ek zaroorat jin logon ki hai unki se baat kar rahe ho aur ek jo gandhiji ka philosophy hamesha hamare dimag mein aaya ki crime love you galti kiya uske liye court usko saza diya hai samaaj ki tarah samaaj se usko alag karke aapne ek jagah daal diya ek baar jail ke andar hai toh usko insaan ki tarah rakhna padega aur insaan ke liye jo kuch bhi zaroorat hai human rights ko milna chahiye usmein koi kami nahi aani chahiye unchi jawab karne lagte ho shri hota hai jab hum log kam hi umr mein the aur jail mein ghus jaenge aur wahan 4000 5000 kaidi honge aur aap bahar ki videshi log digital aate the ab jo log jail kabhi nahi dekhe vaah pehli baar aate the koi sawaal kar rahe hain aur usmein aap ne kaidiyo ko bol bol diya ki aap 5000 logon ko ek saath baith jaiye toh 1 second ke andar pakija kar di baith jaate hain aap kehte hain ki tali bajaenge aap kehte ek hath khade kar yah toh khade hote hain toh logon ko chaalu hota hai yah toh phir se ek aadmi jab samaaj mein chala jata hai toh galiyon mein dala jata hai ki main chhut gaya jail se tu 5000 log ek saath kyon maante hain kyon sunte hain kasht building hai ek baar unke dimag mein aa gaya hamare dushman nahi hai yah toh hamari agar koi hamare liye koi accha karega tu yahi log kar sakte hain vaah hamare dushman nahi hai tab vaah uniform mein hone waale logon ko bhi Cisco soochna dene lagte hain ki vaah aapke liye seth ban jaate hain shaam itna accha karte hain ki jo andar ki jo pregnant hote hain aur aap toh dekhenge ki jab se hum logon ki kaun si motor start hua aur usne spiritually jiye mor game sports cultural activities padhai ka dhyan kiya ki I d se logon ki zindagi mein kafi badlav aaya aur log tu jail se jaate samay kehte hain ki hamein pehle ji alarm kyon nahi aaye hum shayad phir nahi aate hum sevak ban ke aati kyonki unko samaaj mein jo suvidha nahi mila tha schedule par jaane ke baad pura se gir gaya jisse koi bhi fasana kar liya kisi ne koi aur ritual program kiya koi IGNOU se padhai kar liya kisi ne management ke liye koi log civil services ki taiyari kar le tu yah sab cheezen jo hai aapko lagega ki bahar se dekho toh film dekh kar hum logon ke dimag mein neta ke khel ka matlab tu patthar todne waali seen hai aisa kuch nahi hai jail ke andar ek alag duniya hai aur ek self contained village jaise chalta hai yah

विकी झील एक अलग दुनिया है क्योंकि जेल के अंदर जैसे कोई आदमी होता है तो बाहर की दुनिया के ब

Romanized Version
Likes  137  Dislikes    views  2807
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!