व्यक्ति के यहां खाना क्यों नहीं खाते हैं?...


play
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

8:01

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इलेक्ट्रिक गया खाना क्यों नहीं खाते हैं क्वेश्चन मार्क है इस पर चलता है मेरे अंदर एक अवधारणा रहा है नामी मरे नाम बिना नामर्द मरे रोटी बिना कटुआ क्या है लेकिन बहुत सार्थक है व्यक्ति क्यों रोटी खाने का मतलब बहुत बड़ा होता है सबसे पहले ही होता है कि प्रेम बस श्रद्धा बस भक्ति पूर्ण आग्रह हो रहा है तो वहां संकोच नहीं होता भोजन का लेकिन कुछ लोग राशि पर भर्ती में और दूसरी बात उनके संस्कार इक महलों में प्रदूषित होता है बात उसकी नहीं होती है भोजन के स्वाद की बात होती है संस्कार की जैसा खाए अन्न वैसा होगा मन तोजो सही मायने में लोग होते हैं वह भोजन के लिए तलाश नहीं करते हमारे व्यक्तित्व व्यक्तिगत भावनाएं होती आप अपने दर्शन के लिए और भाव में इन केंद्रों तृप्ति आती है हो जो ललित रहते हैं कि हमें भोजन के प्रति जो शादी विवाह बहुत से ऐसे भंडारे गतिविधियां में गिराते हैं तो लोग अध्याय पार्टी में होता है तो उसमें लगा खाने को दी जबकि हमें वहां एक दूसरे को बधाई हो सर पर बधाई के लिए प्रयुक्त होते हैं एके शुभ आशीर्वाद देते हैं अभिनंदन करते हैं भावनाओं से दिल से मेल मिला होता है लेकिन उसने अगर भोजन का अर्थ रखते हैं हर्ष विवेचना के अंदर हम किसी को आदर का अनादर का सम्मान रखते हैं या संबंध रखते हैं तो यह गलत हो जाता है और पहली बात तो अपने युक्त इसका और अपने सच्ची आराधना का भोजन करना चाहिए भजन के बाद ही भोजन सुपर 14 और मंगल दायक होता है हर एक के हाथ का खाना हर एक के न जा के खाना और बिना सामान के भोजन यह सब अपनी अपनी सोच समझ होती है कई लोग पैसे भी दे देते कि भाई हमने इतना बढ़िया खिला दिया इन लोगों को तो आप हमारा प्रभाव बन गया हमसे ऐसे लोग भी होते हैं कि स्वात के व्यंजन के अंदर वह उन चीजों को देश को नहीं समझ पाते कि खिलाया जा रहा है तो उसमें क्या ऑपरेशन द्वारा जाना है कान सिंह का बहुत ही विवेचना रही है लोग भूखे रहे लेकिन जल्दी तक भोजन ग्रहण नहीं करते हैं व्यक्ति यहां से क्रिश्चियन गर्ल अंता पीएसी में भजन का अपमान नहीं होना चाहिए ना करा जाता है विशेष आग्रह पर भोजन दिया जाता है भावनाओं पर पूजन लिया जाता है और वो भोजन कारण बनता प्रेम को बढ़ाने का आपस में अच्छे सावधान सद्भावना के ताजमहल के लिए भोजन आदान-प्रदान होता है उत्तम उत्तम रहता श्रेष्ठ होता है आशा अक्षिता और सबसे बड़ी बात कोई मटेरियल जब बनाया जाता है ए टू जेड भोजन ही नहीं लकड़ी की वस्तुओं कोई भी वश में कैसे भी उपहार हैं अगर उस चीज में उसके अनुकूल विद्या लगी हुई है और उसके अंदर शुभ भावनाएं हैं तो वह ग्रहण करने लायक हो जाता है तो इसलिए भोजन चलिए कभी ललित नहीं होते जो सही मामले में अपने सिद्धांत पर जीते हैं सिस्टम में रहते हैं मैक्सी है के आदर के साथ सम्मान के साथ अगर उस आदान-प्रदान हो रहा है वह ग्रहण योग्य होता है तो हम खुद ही समझ जाते हैं कि यह आयोजन हो रहा है तो इसमें हमारी दोनों की क्या स्वार्थ भूमिका है से महसूस होता प्रतीत होता है रुक जा मारी जीव की आशंका होती है उसके अनुसार जो भी होता है लेकिन इसमें इस मामले में संयम बरतना अति उत्तम होता है और दूसरी बात पर आया न खाने के लिए सब क्षमता होनी चाहिए जो लोग सातवीं की चिंतन में आगमन में रहते हैं अगर वह लोग ऐसा चीज भक्षण भी करते हैं तो उनको एक अलग से संस्कार होता है विश्व में हुसैन का दोष नहीं लगता है एक बहुत बड़ी विधि है हर्ष को महत्वपूर्ण था के साथ समझो और जैसे असम अपने विचार से समझ सकते हैं वैसा अपना सकते हो लेकिन आप ही है के बिना दर का कोई भी चीज ग्रहण तो ले नहीं है ऐशा कितने व्यवस्था हो जाए

electric gaya khana kyon nahi khate hain question mark hai is par chalta hai mere andar ek avdharna raha hai nami mare naam bina namard mare roti bina ketua kya hai lekin bahut sarthak hai vyakti kyon roti khane ka matlab bahut bada hota hai sabse pehle hi hota hai ki prem bus shraddha bus bhakti poorn agrah ho raha hai toh wahan sankoch nahi hota bhojan ka lekin kuch log rashi par bharti mein aur dusri baat unke sanskar ek mahalon mein pradushit hota hai baat uski nahi hoti hai bhojan ke swaad ki baat hoti hai sanskar ki jaisa khaye ann waisa hoga man tojo sahi maayne mein log hote hain wah bhojan ke liye talash nahi karte hamare vyaktitva vyaktigat bhavanae hoti aap apne darshan ke liye aur bhav mein in kendron tripti aati hai ho jo lalit rehte hain ki humein bhojan ke prati jo shadi vivah bahut se aise bhandare gatividhiyan mein giraate hain toh log adhyay party mein hota hai toh usme laga khane ko di jabki humein wahan ek dusre ko badhai ho sar par badhai ke liye prayukt hote hain ek shubha ashirvaad dete hain abhinandan karte hain bhavnao se dil se male mila hota hai lekin usne agar bhojan ka arth rakhte hain harsh vivechna ke andar hum kisi ko aadar ka anadar ka sammaan rakhte hain ya sambandh rakhte hain toh yeh galat ho jata hai aur pehli baat toh apne yukt iska aur apne sachi aradhana ka bhojan karna chahiye bhajan ke baad hi bhojan super 14 aur mangal dayak hota hai har ek ke hath ka khana har ek ke na ja ke khana aur bina saamaan ke bhojan yeh sab apni apni soch samajh hoti hai kai log paise bhi de dete ki bhai humne itna badhiya kila diya in logo ko toh aap hamara prabhav ban gaya humse aise log bhi hote hain ki swat ke vyanjan ke andar wah un chijon ko desh ko nahi samajh paate ki khilaya ja raha hai toh usme kya operation dwara jana hai kaan Singh ka bahut hi vivechna rahi hai log bhukhe rahe lekin jaldi tak bhojan grahan nahi karte hain vyakti yahan se Christian girl anta PAC mein bhajan ka apman nahi hona chahiye na kara jata hai vishesh agrah par bhojan diya jata hai bhavnao par pujan liya jata hai aur vo bhojan kaaran banta prem ko badhane ka aapas mein acche savdhaan sadbhaavana ke tajmahal ke liye bhojan aadan pradan hota hai uttam uttam rehta shreshtha hota hai asha akshita aur sabse badi baat koi material jab banaya jata hai a to z bhojan hi nahi lakdi ki vastuon koi bhi vash mein kaise bhi upahar hain agar us cheez mein uske anukul vidya lagi hui hai aur uske andar shubha bhavanae hain toh wah grahan karne layak ho jata hai toh isliye bhojan chaliye kabhi lalit nahi hote jo sahi mamle mein apne siddhant par jeete hain system mein rehte hain maxi hai ke aadar ke saath sammaan ke saath agar us aadan pradan ho raha hai wah grahan yogya hota hai toh hum khud hi samajh jaate hain ki yeh aayojan ho raha hai toh ismein hamari dono ki kya swarth bhumika hai se mehsus hota pratit hota hai ruk ja mari jeev ki ashanka hoti hai uske anusaar jo bhi hota hai lekin ismein is mamle mein sanyam baratana ati uttam hota hai aur dusri baat par aaya na khane ke liye sab kshamta honi chahiye jo log satvi ki chintan mein aagaman mein rehte hain agar wah log aisa cheez bhakshan bhi karte hain toh unko ek alag se sanskar hota hai vishwa mein hussain ka dosh nahi lagta hai ek bahut badi vidhi hai harsh ko mahatvapurna tha ke saath samjho aur jaise assam apne vichar se samajh sakte hain waisa apna sakte ho lekin aap hi hai ke bina dar ka koi bhi cheez grahan toh le nahi hai aisha kitne vyavastha ho jaye

इलेक्ट्रिक गया खाना क्यों नहीं खाते हैं क्वेश्चन मार्क है इस पर चलता है मेरे अंदर एक अव

Romanized Version
Likes  48  Dislikes    views  963
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!