राहुल गांधी को लोग पप्पू क्यों कहते हैं?...


user
3:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा मानना यह है कि आप किसी की इज्जत नहीं कर सकते तो किसी को बुरा भी नहीं बोलना चाहिए चाहे वह फिर हम से छोटा हो चाहे बड़ा हो और फिर वह तो 1 नेशनल पार्टी के लीडर है और ऐसा नहीं होता है कि कोई भी लीडर इतना बेवकूफ होता है वह लोगों की और दिमाग की प्रॉब्लम है क्योंकि अभी हमने देखा इस टाइम बहुत सारे लोग हैं अभी भी उनको मतलब इज्जत नहीं दे रहे गलत तरीके से बोले नेता चाहे कोई भी हो किसी भी पार्टी का हो चाहे व्यक्ति कोई भी हो आम नागरिक हूं किसी को हम गलत नहीं बोल सकते क्योंकि हमारे संस्कार हैं हमारे घर से ही मिलते हैं और हमारे घर के संस्कार कभी नहीं कहते कि हम किसी को अपने से बड़ा है उसको गलत बोलो या किसी हमसे छोटा है तो उसको गलत बोलो यह संस्कार का फर्क है यह घर से संस्कार मिलते हैं और संस्कार का ही फर्क है फिर कोई किसी व्यक्ति को गलत तरीके से बोलता है और गलत बोलता है तो मेरे हिसाब से उसके घर परिवार का जो है व्यक्तित्व और जो है उसकी भाषा मर्यादा और जो है उसके घर का माहौल है सारा होगा जो ऐसी चीजें जो है यह लोग ही ऐसे वर्ड जो है लोग यूज़ करते हैं किसी के भी बारे में बस भाई कोई भी हो हमें कह सकते किसी पार्टी को सपोर्ट करते हैं किसी को नहीं करते वह हमारी पर्सनल मैटर है लेकिन वह किसी को हम गलत नहीं कह सकते अपना अधिकार है वह अपने यूज करते हैं चाहे वह किसी चीज को इतना बड़ा एक आदमी है एक लीडर है नेशनल पार्टी का तो उसको हम ऐसे नामों से कैसे बोल सकते हैं तो मेरा मानना है कि किसी भी पार्टी का कोई भी अगर कोई भी हो हम लोग नहीं होते किसी को कुछ गलत बोलने वाले जब हम किसी को इज्जत नहीं दे सकते तो किसी को बेइज्जत करने का भी हमारे कोई अधिकार नहीं है जब हम किसी की मदद नहीं कर सकते हैं तो किसी को प्रताड़ित करना है या उनके दिल को ठेस पहुंचाना यह हमारा व्यक्तित्व नहीं हो सकता है और यह सारी चीजें जो है घर से होती हैं घर के संस्कार लोगों के बताते हैं कि वह दूसरे लोगों के बारे में कैसा सोचते हैं अगर आपके घर परिवार के संस्कार ठीक हैं आप अपने माता पिता की भाई बहन की इज्जत करना जानते तो शिवली कि आप दूसरों को भी उसी नजर से देखते हैं उससे वैसे ही बर्ताव करते हैं वैसे ही भाषा बोलते हैं उनके साथ आपके घर परिवार का माहौल ठीक नहीं है तो आप किसी को इज्जत दे नहीं सकते और जबकि यह तो गुलशन ग्रोवर जी ने वह सॉरी गुलशन कुमार जी ने जो है एक गाना भी इसके ऊपर बनाया था कि कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा किसी की हम मदद नहीं कर सकते हैं तो किसी को पड़ता प्रताड़ित भी नहीं कर सकते हैं यह मेरा मानना है और यह जो भाषा है बोलने वाली यह गलत है एक तरीके से किसी के बारे में ऐसे नहीं बोल सकते और वह एक पार्टी के लीडर हैं तो किसी भी लीडर के साथ ऐसा नहीं बोल सकते हैं और ऐसा नहीं है कि उन्होंने ऐसे बोला है से विलग कभी-कभी क्या होता है कि जवाबों को जैसे कोई बयान देता है भाषण का किस-किस को सेट कर देते

mera manana yah hai ki aap kisi ki izzat nahi kar sakte toh kisi ko bura bhi nahi bolna chahiye chahen vaah phir hum se chota ho chahen bada ho aur phir vaah toh 1 national party ke leader hai aur aisa nahi hota hai ki koi bhi leader itna bewakoof hota hai vaah logo ki aur dimag ki problem hai kyonki abhi humne dekha is time bahut saare log hain abhi bhi unko matlab izzat nahi de rahe galat tarike se bole neta chahen koi bhi ho kisi bhi party ka ho chahen vyakti koi bhi ho aam nagarik hoon kisi ko hum galat nahi bol sakte kyonki hamare sanskar hain hamare ghar se hi milte hain aur hamare ghar ke sanskar kabhi nahi kehte ki hum kisi ko apne se bada hai usko galat bolo ya kisi humse chota hai toh usko galat bolo yah sanskar ka fark hai yah ghar se sanskar milte hain aur sanskar ka hi fark hai phir koi kisi vyakti ko galat tarike se bolta hai aur galat bolta hai toh mere hisab se uske ghar parivar ka jo hai vyaktitva aur jo hai uski bhasha maryada aur jo hai uske ghar ka maahaul hai saara hoga jo aisi cheezen jo hai yah log hi aise word jo hai log use karte hain kisi ke bhi bare mein bus bhai koi bhi ho hamein keh sakte kisi party ko support karte hain kisi ko nahi karte vaah hamari personal matter hai lekin vaah kisi ko hum galat nahi keh sakte apna adhikaar hai vaah apne use karte hain chahen vaah kisi cheez ko itna bada ek aadmi hai ek leader hai national party ka toh usko hum aise namon se kaise bol sakte hain toh mera manana hai ki kisi bhi party ka koi bhi agar koi bhi ho hum log nahi hote kisi ko kuch galat bolne waale jab hum kisi ko izzat nahi de sakte toh kisi ko beijjat karne ka bhi hamare koi adhikaar nahi hai jab hum kisi ki madad nahi kar sakte hain toh kisi ko pratarit karna hai ya unke dil ko thes pahunchana yah hamara vyaktitva nahi ho sakta hai aur yah saari cheezen jo hai ghar se hoti hain ghar ke sanskar logo ke batatey hain ki vaah dusre logo ke bare mein kaisa sochte hain agar aapke ghar parivar ke sanskar theek hain aap apne mata pita ki bhai behen ki izzat karna jante toh shivli ki aap dusro ko bhi usi nazar se dekhte hain usse waise hi bartaav karte hain waise hi bhasha bolte hain unke saath aapke ghar parivar ka maahaul theek nahi hai toh aap kisi ko izzat de nahi sakte aur jabki yah toh gulshan grover ji ne vaah sorry gulshan kumar ji ne jo hai ek gaana bhi iske upar banaya tha ki kabhi pyaase ko paani pilaaya nahi baad amrit pilane se kya fayda kisi ki hum madad nahi kar sakte hain toh kisi ko padta pratarit bhi nahi kar sakte hain yah mera manana hai aur yah jo bhasha hai bolne wali yah galat hai ek tarike se kisi ke bare mein aise nahi bol sakte aur vaah ek party ke leader hain toh kisi bhi leader ke saath aisa nahi bol sakte hain aur aisa nahi hai ki unhone aise bola hai se vilag kabhi kabhi kya hota hai ki jawabon ko jaise koi bayan deta hai bhashan ka kis kis ko set kar dete

मेरा मानना यह है कि आप किसी की इज्जत नहीं कर सकते तो किसी को बुरा भी नहीं बोलना चाहिए चाहे

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  98
KooApp_icon
WhatsApp_icon
18 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
upprpb login ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!