राहुल गांधी कहते हैं कि भारतीय आबादी का 1% भारत के 73% धन का मालिक है। इस विषमता का क्या कारण हैं?...


user

Vikas Singh

Political Analyst

4:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है राहुल गांधी कहते हैं कि भारतीय आबादी का 1 परसेंट भारत के 73 परसेंट ठंड का मालिक है इस विषमता का क्या कारण है देखे राहुल गांधी जी बात बहुत अच्छी करते हैं और राहुल गांधी जी ने बिल्कुल सही बोला और इस बात से राहुल गांधी जी के घर परिवार की भी पोल खुलती है राहुल गांधी जी की जो माताजी हैं श्रीमती सोनिया गांधी जी उनके पास ब्रिटेन की महारानी से भी ज्यादा प्रॉपर्टी है पैसा है सोच लीजिए कोरोनावायरस से भारत दूसरा ₹1 अभी उन्होंने नहीं निकाला है हमारे देश में कांग्रेस सपा बसपा लालू की पार्टी आम आदमी पार्टी भारतीय जनता पार्टी को छोड़कर और भारतीय जनता पार्टी के कुछ गठबंधन की पार्टी को छोड़कर सभी पॉलिटिकल पार्टियां भ्रष्टाचारी हैं और यह सभी भ्रष्टाचारी पॉलिटिकल पार्टियां एक परसेंट में आती हैं इनके पास बहुत पैसा है और इन्होंने अपना पैसा बहुत बाहर स्विस बैंक में और बाहर की कंट्री में लगाया हुआ है हमारे देश के पूंजीपति हैं तो पूंजीपति अपना ईमानदारी से बिजनेस करते हैं और ईमानदारी से पैसा कमाते हैं वह संकट की घड़ी में देश का साथ देते हैं तो वह भी एक परसेंट में आते हैं लेकिन वह गलत नहीं है वह अच्छे हैं हमारे देश के जो पॉलिटिकल पार्टियां हैं इनके पास भ्रष्टाचार का पैसा है और बाहर की कंट्री में इन्होंने इंडस्ट्रीज खोला है तो पार्टी खरीदा है स्विस बैंक में जमा किया है आप लोग जानते होंगे कि सिर्फ एक स्विजरलैंड में स्विस बैंक है उसी में जमा होता है पैसा नहीं बहुत स्वीट बैंक है स्विस बैंक टाइप का कई बैंक है और वहां पर हमारे देश का बहुत पैसा है तो उसके लिए योजना बना है काम भी हो रहा है आज नहीं तो कल वह भाई हमारे देश में और हमारे देश में कुछ ऐसे चोर थे जो 10 10 बिजनेस कंपनी चलाते थे ₹1 टैक्स नहीं देते थे तो सरकार को चूना लगाते थे लेकिन वह आधार कार्ड बन गया जीएसटी लागू हो गया तो उसके माध्यम से टैक्स के दायरे में आ गए या तो कंपनी ही बंद हो गई पहले क्या होता था आज के टाइम में क्या होता है कि विधायक सांसद के खाते में अगर पैसा आया रोड सड़क बनवाने के लिए अगर वह रोड सड़क नहीं बनाएंगे तो पैसा वापस हो जाता है लेकिन पहले ऐसा नहीं था पहले क्या था कि सांसद विधायक के खाते में अगर एक करोड़ रूपया आया रोड बनवाने के लिए रोड का काम चालू भी नहीं हुआ तब भी वह पैसा वापस नहीं होता तो पूरा रख लेते थे अब कैबिनेट मंत्री मंत्री तो नहीं पता कितना प्रॉपर्टी है कितना पैसा मतलब घोटाला करते थे और जिसके हाथ में सत्ता की चाबी थी मिस कांग्रेस पार्टी के हाथ में 70 सालों तक सत्ता की चाबी थी वह तो पूरा पैसा ही घोटाला करते थे तब तो ऐसा रहा है हमारे देश में लेकिन हमारे देश के जो पूंजीपति हैं बिजनेसमैन है बड़े-बड़े टाटा अंबानी वेदांता कंपनी के मालिक अभी पतंजलि के दौरान देवजी हैं यह सभी लोग बहुत अच्छे हैं और इन लोगों ने अभी देखे करुणा के संकट की घड़ी में बहुत साथ दिया है तो लेकिन यह जो पॉलिटिकल पार्टियां हैं यह सब अभी कोई साथ नहीं दे रहा है लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है हम लोग बीजेपी का साथ देंगे भारतीय जनता पार्टी और सबको सबका अधिकार दिलाए कि हमारे देश में गरीबों का अभी तक उनका पूरी तरह से अधिकार नहीं मिला है बीजेपी उनको धीरे-धीरे अधिकार दिला रही है बैंक के अकाउंट आज की डेट में हर गरीब के पास है हर गरीब के डेट में फोन यूज कर रहा है टीवी है घर में धीरे-धीरे उनके खाने रहने की भी व्यवस्था की जा रही है प्रधानमंत्री आवास योजना के माध्यम से आवास बन रहा है मिल रहा है उनको तो लक्ष्य मोदी जी का बहुत ही अच्छा है घर-घर पानी पहुंचाने का लक्ष्य है तो हर लक्ष्य मोदी जी पूरा करेंगे और हम लोगों को हम सभी भारतवासियों को प्रधानमंत्री जी का साथ देना है और तक का भारत विकसित बन जाएगा धन्यवाद

aapka sawaal hai rahul gandhi kehte hain ki bharatiya aabadi ka 1 percent bharat ke 73 percent thand ka malik hai is vishamata ka kya karan hai dekhe rahul gandhi ji baat bahut achi karte hain aur rahul gandhi ji ne bilkul sahi bola aur is baat se rahul gandhi ji ke ghar parivar ki bhi pole khulti hai rahul gandhi ji ki jo mataji hain shrimati sonia gandhi ji unke paas britain ki maharani se bhi zyada property hai paisa hai soch lijiye coronavirus se bharat doosra Rs abhi unhone nahi nikaala hai hamare desh me congress sapa BSP lalu ki party aam aadmi party bharatiya janta party ko chhodkar aur bharatiya janta party ke kuch gathbandhan ki party ko chhodkar sabhi political partyian bhrashtachaari hain aur yah sabhi bhrashtachaari political partyian ek percent me aati hain inke paas bahut paisa hai aur inhone apna paisa bahut bahar swiss bank me aur bahar ki country me lagaya hua hai hamare desh ke poonjipati hain toh poonjipati apna imaandaari se business karte hain aur imaandaari se paisa kamate hain vaah sankat ki ghadi me desh ka saath dete hain toh vaah bhi ek percent me aate hain lekin vaah galat nahi hai vaah acche hain hamare desh ke jo political partyian hain inke paas bhrashtachar ka paisa hai aur bahar ki country me inhone industries khola hai toh party kharida hai swiss bank me jama kiya hai aap log jante honge ki sirf ek Switzerland me swiss bank hai usi me jama hota hai paisa nahi bahut sweet bank hai swiss bank type ka kai bank hai aur wahan par hamare desh ka bahut paisa hai toh uske liye yojana bana hai kaam bhi ho raha hai aaj nahi toh kal vaah bhai hamare desh me aur hamare desh me kuch aise chor the jo 10 10 business company chalte the Rs tax nahi dete the toh sarkar ko chuna lagate the lekin vaah aadhar card ban gaya gst laagu ho gaya toh uske madhyam se tax ke daayre me aa gaye ya toh company hi band ho gayi pehle kya hota tha aaj ke time me kya hota hai ki vidhayak saansad ke khate me agar paisa aaya road sadak banwane ke liye agar vaah road sadak nahi banayenge toh paisa wapas ho jata hai lekin pehle aisa nahi tha pehle kya tha ki saansad vidhayak ke khate me agar ek crore rupya aaya road banwane ke liye road ka kaam chaalu bhi nahi hua tab bhi vaah paisa wapas nahi hota toh pura rakh lete the ab cabinet mantri mantri toh nahi pata kitna property hai kitna paisa matlab ghotala karte the aur jiske hath me satta ki chabi thi miss congress party ke hath me 70 salon tak satta ki chabi thi vaah toh pura paisa hi ghotala karte the tab toh aisa raha hai hamare desh me lekin hamare desh ke jo poonjipati hain bussinessmen hai bade bade tata ambani vedanta company ke malik abhi patanjali ke dauran devji hain yah sabhi log bahut acche hain aur in logo ne abhi dekhe corona ke sankat ki ghadi me bahut saath diya hai toh lekin yah jo political partyian hain yah sab abhi koi saath nahi de raha hai lekin ghabrane ki zarurat nahi hai hum log bjp ka saath denge bharatiya janta party aur sabko sabka adhikaar dilaye ki hamare desh me garibon ka abhi tak unka puri tarah se adhikaar nahi mila hai bjp unko dhire dhire adhikaar dila rahi hai bank ke account aaj ki date me har garib ke paas hai har garib ke date me phone use kar raha hai TV hai ghar me dhire dhire unke khane rehne ki bhi vyavastha ki ja rahi hai pradhanmantri aawas yojana ke madhyam se aawas ban raha hai mil raha hai unko toh lakshya modi ji ka bahut hi accha hai ghar ghar paani pahunchane ka lakshya hai toh har lakshya modi ji pura karenge aur hum logo ko hum sabhi bharatvasiyon ko pradhanmantri ji ka saath dena hai aur tak ka bharat viksit ban jaega dhanyavad

आपका सवाल है राहुल गांधी कहते हैं कि भारतीय आबादी का 1 परसेंट भारत के 73 परसेंट ठंड का माल

Romanized Version
Likes  360  Dislikes    views  4961
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Raj Sharma

Business Owner

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है राहुल गांधी कहते हैं भारतीय अवधि का 1 परसेंट भारत के 73 वर्ष भी धर्म का मालिक है इस विषमता का क्या कारण है मैं समझता हूं अगर यह बात सही भी है इसका एक ही कारण होगा बाकी के जो 99% लोग हैं उनके सोचने का तरीका और एक परसेंट लोगों के सोचने के तरीके में जमीन और आसमान का अंतर है अगर 99% में से 9% लोग भी उस एक परसेंट लोगों से उनकी तरह सोचेंगे और एक्ट करेंगे तो 9 परसेंट भी नहीं तो अगर मैं समझता हूं सर पर्सेंट तो फिर भी कन्वर्जन आएगा तो फिर भी काफी सारा यह जो गैप है अमीर और गरीब के बीच में काफी कम है मैं आपके सवाल का सही जवाब दे पाया अगर आप मुझे फॉलो कर सकते हैं

aapka sawaal hai rahul gandhi kehte hain bharatiya awadhi ka 1 percent bharat ke 73 varsh bhi dharm ka malik hai is vishamata ka kya karan hai main samajhata hoon agar yah baat sahi bhi hai iska ek hi karan hoga baki ke jo 99 log hain unke sochne ka tarika aur ek percent logo ke sochne ke tarike me jameen aur aasman ka antar hai agar 99 me se 9 log bhi us ek percent logo se unki tarah sochenge aur act karenge toh 9 percent bhi nahi toh agar main samajhata hoon sir percent toh phir bhi conversion aayega toh phir bhi kaafi saara yah jo gap hai amir aur garib ke beech me kaafi kam hai main aapke sawaal ka sahi jawab de paya agar aap mujhe follow kar sakte hain

आपका सवाल है राहुल गांधी कहते हैं भारतीय अवधि का 1 परसेंट भारत के 73 वर्ष भी धर्म का मालिक

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  93
WhatsApp_icon
play
user

Awdhesh Singh

Former IRS, Top Quora Writer, IAS Educator

0:56

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब हम विश्व की अर्थव्यवस्थाओं के साथ जुड़ते हैं तो जो विश्व में जो ट्रेंड्स है वही ट्रेंड्स हमारे साथ भी होने लगते हैं| अब जैसे भारत के अगर 1% लोगों के पास में 73% जो है धन है, तो यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है| क्योंकि विश्व लेवल पर जो है 1% लोग जो है उनके पास में 99% से ज्यादा धन है| तो उस हिसाब से देखा जाए तो भारत के अंदर अभी भी जो है 1% जो इंडियंस है उनके पास में बहुत ज्यादा धन नहीं है| और यह धन इसीलिए ज्यादा होता है क्योंकि जब भी आप परफॉर्मेंस को प्रमोट करते हैं तो जो आदमी रिच होता है जो आदमी सक्सेसफुल होता है वो और सक्सेसफुल होता चला जाता है और जो आदमी पीछे रहता है वो और पीछे चला जाता है और इसी वजह से जहां पर भी जो है वह फ्री मार्केट होती है या फ्रीडम होती है वहां पर हमेशा कंसंट्रेशन ऑफ वेल्थ होता है और इंडिया में चुकी अभी हम पॉलिसी फॉलो कर रहे हैं इसीलिए इंडिया के अंदर भी यही चीज हो रही है|

jab hum vishwa ki arthavyavasthaon ke saath judte hain toh jo vishwa mein jo trends hai wahi trends hamare saath bhi hone lagte hain ab jaise bharat ke agar 1 logo ke paas mein 73 jo hai dhan hai toh yah koi aashcharya ki baat nahi hai kyonki vishwa level par jo hai 1 log jo hai unke paas mein 99 se zyada dhan hai toh us hisab se dekha jaaye toh bharat ke andar abhi bhi jo hai 1 jo indians hai unke paas mein bahut zyada dhan nahi hai aur yah dhan isliye zyada hota hai kyonki jab bhi aap performance ko promote karte hain toh jo aadmi rich hota hai jo aadmi successful hota hai vo aur successful hota chala jata hai aur jo aadmi peeche rehta hai vo aur peeche chala jata hai aur isi wajah se jaha par bhi jo hai vaah free market hoti hai ya freedom hoti hai wahan par hamesha kansantreshan of wealth hota hai aur india mein chuki abhi hum policy follow kar rahe hain isliye india ke andar bhi yahi cheez ho rahi hai

जब हम विश्व की अर्थव्यवस्थाओं के साथ जुड़ते हैं तो जो विश्व में जो ट्रेंड्स है वही ट्रेंड्

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  486
WhatsApp_icon
user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंडिया यह बात एकदम सही है कि भारत में जो 1% सबसे धनी व्यक्ति हैं वह 73% वेल्थ उनके पास गई है लास्ट 1 साल में ये मौसम की रिपोर्ट में मेंशन किया गया है तो इसमें लेकिन और एक बात आगे समझने की है लेकिन अब दुनिया में ही देखें तो दुनिया के सबसे एक परसेंट सबसे रिचेस्ट लोगे सबसे धनी लोग हैं तो उनके पास इतनी 2% ऑफ द वर्ल्ड जनरेटर गई है तो उनके पास भारत से भी ज्यादा प्रमोशन में वर्ल्ड गई है तो भारत में रेस्क्यू दुनिया से खराब नहीं है लेकिन इसमें हमें एड्रेस पर होने की जरूरत नहीं है हमें जरूरत है इंक्लूसिव ग्रोथ के लिए काम करने की किस देश में जो डेवलपमेंट हो रहा है जो आर्थिक विकास हो रहा है उसका फायदा आम आदमी को भी पहुंच पाए और देश में करोड़ों लोग कृषि पर निर्भर हैं मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में दिल्ली में काम करते हैं डिलीवर जिसमें काम करते हैं रिक्शा पुलर से छोटे उद्योग में लोग लगे हुए हैं इन लोगों को भी इकनोमिक डेवलपमेंट का देश की प्रगति का फायदा हुआ उस दिशा में हमें पॉलिसी में कदम बढ़ाने होंगे यह भी रिपोर्ट सरकार से आग्रह करती है

india yeh baat ekdam sahi hai ki bharat mein jo 1% sabse dhani vyakti hain wah 73% wealth unke paas gayi hai last 1 saal mein ye mausam ki report chahiye mein Mention kiya gaya hai to isme lekin aur ek baat aage samjhne ki hai lekin ab duniya mein hi dekhen to duniya ke sabse ek percent sabse richest loge sabse dhani log hain to unke paas itni 2% of d world generator gayi hai to unke paas bharat se bhi jyada promotion mein world gayi hai to bharat mein rescue duniya se kharab nahi hai lekin isme hume address par hone ki zarurat nahi hai hume zarurat hai inklusiv growth ke liye kaam karne ki kis desh mein jo development ho raha hai jo aarthik vikash ho raha hai uska fayda aam aadmi ko bhi pohch paye aur desh mein karodo log krishi par nirbhar hain manufacturing sector mein delhi mein kaam karte hain deliver jisme kaam karte hain riksha polar se chote udyog mein log lage hue hain in logo chahiye ko bhi economic development ka desh ki pragati ka fayda hua us disha mein hume policy mein kadam badhane honge yeh bhi report chahiye sarkar se agrah karti hai

इंडिया यह बात एकदम सही है कि भारत में जो 1% सबसे धनी व्यक्ति हैं वह 73% वेल्थ उनके पास गई

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  376
WhatsApp_icon
user

Harish Menaria

Mind professor| Tourism Guide

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां राहुल गांधी ने छोड़ा मिलता-जुलता ही कहा है लेकिन सही नहीं क्योंकि भारतेंद्र 5% ऐसे लोग हैं जिनके पास भारत का 75% पैसा है और वही बात 10 पूरे वर्ल्ड के ऊपर भी लागू होती है इस दुनिया में 5% ऐसे लोग होते हैं जिनके पास पूरी दुनिया का 75% पैसा होता है और 75% लोग ऐसे होते हैं जिनके पास खाली 5% पैसा होता है वही चीज भारत में देखो या कहीं पर भी देखो सेम चीज लागू होती है इसका कारण यह होता है कि हमारे जैसे गरीब लोग ही उन लोगों के वहां पर काम करते हैं और अपना समय उनको भेज देते हैं और वह अपने समय का फायदा उठाकर वह पैसा कमा लेते तो इसमें कोई बड़ी बात नहीं है ठीक है और अंबानी है तो हम बानी को देखो आज हम बानी एक घंटा काम करता तो उसके लिए 7500000 घंटा काम हो जाता है उसके पीछे क्या कारण क्योंकि भारत की पिच लोग उसके वहां पर काम कर रहे हैं तो भाई उसके पास तो पैसा होना इसलिए आज जितने भी टाटा बिरला जितने भी बड़े-बड़े उद्योगपति है उनको देख लो क्या कर रहे उनके यहां पर नौकर काम कर रहे हैं मगर हम भी कहीं पर जॉब जगह जा रहे हैं मगर वहां पर काम करो और हमारा जो बॉस होता है वह हमारे को अगर 50000 भी दे रहा है तो हमें भी सोचना चाहिए क्यों न हम से 100000 100000 का काम ले रहा तभी मेरे को उसका पैसा बच रहा मतलब वह अपने समय को अपने समय को पैसों में कन्वर्ट कर रहे हैं बस बाकी है

ji haan rahul gandhi ne choda milta julataa hi kaha hai lekin sahi nahi kyonki bhartendra 5% aise log hain jinke paas bharat ka 75% paisa hai aur wahi baat 10 poore world ke upar bhi laagu hoti hai is duniya mein 5% aise log hote hain jinke paas puri duniya ka 75% paisa hota hai aur 75% log aise hote hain jinke paas khaali 5% paisa hota hai wahi cheez bharat mein dekho ya kahin par bhi dekho same cheez laagu hoti hai iska kaaran yeh hota hai ki hamare jaise garib log hi un logo ke wahan par kaam karte hain aur apna samay unko bhej dete hain aur wah apne samay ka fayda uthaakar wah paisa kama lete toh ismein koi badi baat nahi hai theek hai aur ambani hai toh hum bani ko dekho aaj hum bani ek ghanta kaam karta toh uske liye 7500000 ghanta kaam ho jata hai uske peeche kya kaaran kyonki bharat ki pitch log uske wahan par kaam kar rahe hain toh bhai uske paas toh paisa hona isliye aaj jitne bhi tata birala jitne bhi bade bade udyogpati hai unko dekh lo kya kar rahe unke yahan par naukar kaam kar rahe hain magar hum bhi kahin par job jagah ja rahe hain magar wahan par kaam karo aur hamara jo boss hota hai wah hamare ko agar 50000 bhi de raha hai toh humein bhi sochna chahiye kyon na hum se 100000 100000 ka kaam le raha tabhi mere ko uska paisa bach raha matlab wah apne samay ko apne samay ko paison mein convert kar rahe hain bus baki hai

जी हां राहुल गांधी ने छोड़ा मिलता-जुलता ही कहा है लेकिन सही नहीं क्योंकि भारतेंद्र 5% ऐसे

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  830
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए इसमें थोड़ा संशोधन करना चाहूंगा भारत की 1% आबादी जो है वह भारत के 7% धन का मालिक है और इस मामले में भारत दूसरे नंबर पर सबसे ऊपर रसिया है जहां पर पांच रसिया की 1% आबादी पर 65% धन है लेकिन उसके बावजूद रसिया डेवलपिंग कंट्री है तो मुझे लगता नहीं है कि पूंजीवादी अर्थव्यवस्था से कोई घाटा है क्योंकि किसी भी होता ही है कि सर्विस सेक्टर में ज्यादा पैसा हमारे पास और कृषि में कविता कृषि में ज्यादा लोग लगे हुए 60% हमारी जो पॉपुलेशन में कृषि में लगी हुई HD में केवल 13 परसेंट है सबवे सेक्टर में केवल 13 परसेंट लोग हैं वहां का समारोह जीडीपी 60% तो आप सोचिए कि किसान वैसे ही 25 गुना कम कमा रहा है किसी सर्विस सेक्टर में काम करने वाले व्यक्ति से अभी समय आ गया है कि लोगों को लिमिटेड लोगों की शादी करनी चाहिए और ज्यादातर लोगों में इंफेक्शन और सर्विस सेक्टर में जाना चाहिए ताकि जो मनी का जो डिसिशन कोई कोई लड़की कॉल तो इंपॉसिबल है लेकिन इतना हो जाए कि लोगों को परेशान ना होना पड़े कैसे के लिए यह सबसे अच्छा तरीका मुझे लगता है थैंक यू

dekhie chahiye isme thoda sanshodhan karna chahunga bharat ki 1% aabadi jo hai wah bharat ke 7% dhan ka malik hai aur is mamle mein bharat dusre chahiye number par sabse upar rasiya hai jaha par paanch rasiya ki 1% aabadi par 65% dhan hai lekin uske bawajud rasiya developing country hai to mujhe lagta nahi hai ki punjiwadi arthavyavastha se koi ghata hai kyonki kisi bhi hota hi hai ki service sector mein jyada paisa hamare paas aur krishi mein kavita krishi mein jyada log lage hue 60% hamari jo population mein krishi mein lagi hui HD mein kewal 13 percent hai subway sector mein kewal 13 percent log hain wahan ka samaroh gdp 60% to aap sochie chahiye ki kisan chahiye waise hi 25 guna kum kama raha hai kisi service sector mein kaam karne wale vyakti se abhi samay aa gaya hai ki logo chahiye ko limited chahiye logo chahiye ki shadi karni chahiye aur jyadatar logo chahiye mein infection aur service sector mein jana chahiye taki jo money ka jo decision koi koi ladki call to impossible hai lekin itna ho jaye ki logo chahiye ko pareshan na hona pade chahiye kaise ke liye yeh sabse accha tarika mujhe lagta hai thank you

देखिए इसमें थोड़ा संशोधन करना चाहूंगा भारत की 1% आबादी जो है वह भारत के 7% धन का मालिक है

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  199
WhatsApp_icon
user
0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां राहुल गांधी बिल्कुल सही कह रहे हैं यह बात काफी रात तक सोई है प्लीज और भी राजनीतिक पार्टी उसके साथ सहयोग हमारे आप जैसे लोगों का भी है जैसे कि जलेबी बड़ी-बड़ी पोस्ट पर हैं वहां से भी शुरुआत और निचले स्तर से तो होती है इसमें कोई शक नहीं है इसीलिए पहले सबसे छूट पर उस पद पर शुरुआत करनी चाहिए उसे सुधारा जाना चाहिए जिससे कि बड़ा इस तरह अपने आप सुधर जाएगा धन्यवाद

haan rahul gandhi bilkul sahi keh rahe hain yah baat kaafi raat tak soi hai please aur bhi raajnitik party uske saath sahyog hamare aap jaise logo ka bhi hai jaise ki jalebi badi badi post par hain wahan se bhi shuruat aur nichle sthar se toh hoti hai isme koi shak nahi hai isliye pehle sabse chhut par us pad par shuruat karni chahiye use sudhara jana chahiye jisse ki bada is tarah apne aap sudhar jaega dhanyavad

हां राहुल गांधी बिल्कुल सही कह रहे हैं यह बात काफी रात तक सोई है प्लीज और भी राजनीतिक पार्

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऑक्सफैम ने हाल ही में यह रिपोर्ट जारी करी थी कि भारत के टॉप 1% लोगों के पास भारत की 73% वेल्थ है यह बात सही है पर इतनी आश्चर्यजनक नहीं है क्योंकि अगर आप पिछले साल की रिपोर्ट देखें तो टॉप 1% के पास 58% बेल थी और अगर आप ऑप्शन की ग्लोबल रिपोर्ट देखें तो ग्लोबल जो टॉप 1% रितेश लोग हैं उनके पास पिछले साल में आई हुई नई इनकम में से 83982 पर सेंड आई थिंक उनके पास गया था तो इनकम इंक्वायरी क्वालिटी एक नई बात नहीं है यह बहुत टाइम से एक क्वेश्चन है जो हमारी इकनोमिक झेल रही है डेवलप भी और डेवलपिंग भी इसका मेन रीजन यह बताया गया है कि टॉप 2 रिचेस्ट लोग होते हैं उनका टैक्स क्वेश्चन इसका मेन रीजन बताया गया है ग्लोबली 200 मिलियन डॉलर टैक्स में ब्रिटिश लोगों ने बचाए हैं बिना टैक्स पर किए यह वापस इकनॉमी में पैसा ही नहीं पाता है तो गरीबो तक कैसे पहुंचेगा और भी बहुत सारे कारण है इस चीज के किले पर इंटेंसिव नहीं होती है हमारी आजकल की टेक्नोलॉजी की वजह से लेबर को ज्यादा पैसे नहीं मिल पाते हैं और बहुत सारी ऐसी चीजें की फैमिली तक को पैसे नहीं मिल पाते और गरीब यही लोग होते हैं जो प्रड्यूसर का काम करते हैं जो मेन कॉर्पोरेट में होते हैं वह अमीर होते हैं तो बहुत सारे रीजन है इसके पर मेन रिजल्ट एक्टिवेशन बताया गया है

aksafaim ne haal hi mein yah report jaari kari thi ki bharat ke top 1 logo ke paas bharat ki 73 wealth hai yah baat sahi hai par itni aashcharyajanak nahi hai kyonki agar aap pichle saal ki report dekhen toh top 1 ke paas 58 bell thi aur agar aap option ki global report dekhen toh global jo top 1 ritesh log hain unke paas pichle saal mein I hui nayi income mein se 83982 par send I think unke paas gaya tha toh income enquiry quality ek nayi baat nahi hai yah bahut time se ek question hai jo hamari economic jhel rahi hai develop bhi aur developing bhi iska main reason yah bataya gaya hai ki top 2 richest log hote hain unka tax question iska main reason bataya gaya hai globally 200 million dollar tax mein british logo ne bachaye hain bina tax par kiye yah wapas ikanami mein paisa hi nahi pata hai toh garibo tak kaise pahunchaega aur bhi bahut saare karan hai is cheez ke kile par intensiv nahi hoti hai hamari aajkal ki technology ki wajah se labour ko zyada paise nahi mil paate hain aur bahut saree aisi cheezen ki family tak ko paise nahi mil paate aur garib yahi log hote hain jo pradyusar ka kaam karte hain jo main corporate mein hote hain vaah amir hote hain toh bahut saare reason hai iske par main result activation bataya gaya hai

ऑक्सफैम ने हाल ही में यह रिपोर्ट जारी करी थी कि भारत के टॉप 1% लोगों के पास भारत की 73% वे

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  207
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!