इंडियन संविधान का एक हिस्सा जिसे आप बदलना चाहते हैं?...


play
user

Ekta

Researcher and Writer

1:13

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां की संविधान का एक हिस्सा जामुन जिसे मैं बिल्कुल बदलना चाहूंगी जो है की क्वालिटी का आठवीं की भारत के लोगों को भारत की सरकार तो ऐसी बातें करते हैं यहां पर क्वालिटी बहुत है लोगों को समान अधिकार दिए जाते हैं और हर चीज में लेकिन ऐसा सच नहीं है आप ही खुद देख सकते हैं इस पर बहुत एकदम BP बैठे क्योंकि यह अपने नॉर्मल लाइफ में देखा जा सकता है कि हम अब अपने अलग-अलग जेंडर को कैसे डिलीट करते हैं तुझे कब अलग अलग तरीके से कैसे जिंदा को ट्रीट करेंगे तो उसमें एक क्वालिटी आई कहां से भी प्यार से लेकर एजुकेशन इवेंट कपड़े किचन में भी दोनों की बहुत अलग है ऐसा कमेंट और यहां के लोग मानते तो मैं जरूर जाऊंगी किंकरी झूठ का कहना है एक क्वालिटी की बातों का यह नहीं होना चाहिए वहीं आहट देना चाहिए क्योंकि वह बातें करते हैं क्वालिटी की बस्ती कुछ भारत में है नहीं तो भारत के संविधान से एक क्वालिटी की जो भारतीयों से लोग इतना बढ़ावा देते हैं वह खत्म हो जाए तो ही अच्छा है

haan ki samvidhan ka ek hissa jamun jise main bilkul badalna chahungi jo hai ki quality ka aatthvi ki bharat ke logo ko bharat ki sarkar toh aisi batein karte hai yahan par quality bahut hai logo ko saman adhikaar diye jaate hai aur har cheez mein lekin aisa sach nahi hai aap hi khud dekh sakte hai is par bahut ekdam BP baithe kyonki yah apne normal life mein dekha ja sakta hai ki hum ab apne alag alag gender ko kaise delete karte hai tujhe kab alag alag tarike se kaise zinda ko treat karenge toh usme ek quality I kahaan se bhi pyar se lekar education event kapde kitchen mein bhi dono ki bahut alag hai aisa comment aur yahan ke log maante toh main zaroor jaungi kinkari jhuth ka kehna hai ek quality ki baaton ka yah nahi hona chahiye wahi aahat dena chahiye kyonki vaah batein karte hai quality ki basti kuch bharat mein hai nahi toh bharat ke samvidhan se ek quality ki jo bharatiyon se log itna badhawa dete hai vaah khatam ho jaaye toh hi accha hai

हां की संविधान का एक हिस्सा जामुन जिसे मैं बिल्कुल बदलना चाहूंगी जो है की क्वालिटी का आठवी

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  183
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anukrati

Journalism Graduate

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर भारत के संविधान में मैं किसी एक हिस्से को बदलना चाहती हूं तो वह है सेक्शन 377 जिसमें अननेचुरल सेक्स को इल्लीगल बताया गया है और इस ा नेचुरल सेक्स सीन का मतलब है किसी मेल और फीमेल के संबंध के अलावा से संबंध होते हैं या सेक्सुअल रिलेशन होते हैं उन्हें अननेचुरल बताया गया है कितनी अजीब बात है कि मैरिटल रेप लीगल है भारत में और यह जो कि काफी नेचुरल है वो इल्लीगल है इतनी भी सच हो चुकी है इतनी स्टडीज निकल चुकी है इतनी कंट्रीज यह बात समझ चुकी है लेकिन भारत अभी तक यह नहीं समझ पाई है कि इसमें अन्ना चल कुछ भी नहीं है इंसान जानवरों तक में यूनिफार्म आपको होमोसेक्सुअल जानवरों की स्पीशीज मिलेगी स्वांस होते हैं उसमें गैस कौन होते हैं और फिर भी हमारी सोच अभी तक देश कितनी छोटी है कि हम यह बात समझ नहीं पा रहे हैं तो यह मुझे लगता है कि चेंज होना चाहिए

agar bharat ke samvidhan mein main kisi ek hisse ko badalna chahti hoon toh vaah hai section 377 jisme unnatural sex ko illegal bataya gaya hai aur is a natural sex seen ka matlab hai kisi male aur female ke sambandh ke alava se sambandh hote hain ya sexual relation hote hain unhe unnatural bataya gaya hai kitni ajib baat hai ki marital rape legal hai bharat mein aur yah jo ki kaafi natural hai vo illegal hai itni bhi sach ho chuki hai itni studies nikal chuki hai itni countries yah baat samajh chuki hai lekin bharat abhi tak yah nahi samajh payi hai ki isme anna chal kuch bhi nahi hai insaan jaanvaro tak mein uniform aapko homosexual jaanvaro ki species milegi svaans hote hain usme gas kaun hote hain aur phir bhi hamari soch abhi tak desh kitni choti hai ki hum yah baat samajh nahi paa rahe hain toh yah mujhe lagta hai ki change hona chahiye

अगर भारत के संविधान में मैं किसी एक हिस्से को बदलना चाहती हूं तो वह है सेक्शन 377 जिसमें अ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  147
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!