भारत में धर्म के नाम पर चल रही गंदी राजनीति कब खत्म होगी?...


play
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:42

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धर्म के नाम पर चली जा रही राजनीति तब तक खत्म नहीं होगी जब तक कि भारत में समान नागरिक संहिता ना लग जाए अब कुछ लोग कहेंगे के समान नागरिक संहिता जो है वह आरक्षण खत्म कर देगी तो ऐसा नहीं होता समान नागरिक संहिता की पहल भी पता है आपको किसने की थी यह पहल की थी सबसे पहले हमारे देश के संविधान के ड्राफ्ट कमेटी के जो प्रसिडेंट से मिस्टर बी आर अंबेडकर जिनके नाम पर आज हम हमेशा दलितों की बात करते हैं हम आरक्षित वर्ग की बात करते हैं आप सोचिए अगर वह व्यक्ति खुद कहता है कि समान नागरिक संहिता लगानी चाहिए इसमें क्या गलत है समान नागरिक संहिता से आप ने हिंदू रह जाएंगे ना मुसलमान न सिख बौद्ध जैन ऑपरेशन केवल हिंदुस्तानी और मुझे लगता है कि हिंदुस्तानी ही रह जाने से अच्छा है हां पिछड़ा वर्ग जो है उस पिछड़े वर्ग को उनकी क्रेडिबिलिटी के आधार पर उन्हें आगे लाया जाएगा उनको जो सप्रेस हो चुके हैं उन को आगे बढ़ाया जाएगा जब तक हमारे बीच में से विविध खत्म नहीं होता तब तक धर्म की राजनीति खत्म हो ही नहीं सकती जब आप और हम एक साथ बैठकर खाना नहीं खा ले तब तक राजनीति तो उसको बढ़ाने काम कर ही रही हो तो चाहते हैं कि हम ना खाएं ताकि मैं किसी और को वोट दूंगा किसी और को वोट दें आप और हमारे बीच अकरम एजुकेटेड है तो आपके किसी से दोस्ती करने से पहले उसका नाम पूछते हैं क्या क्या अगर आप आरिफ है तो मैं आप से मित्रता नहीं करूंगा आपका नाम जो सपनों से मित्रता नहीं करूंगा ऐसा नहीं होता ना आपको व करें तो आप मुझे चाय पीते जाकर फिर तो अच्छी बात है केवल राजनीति में ही है साथ ही मुझे लगता नहीं ऐसा नहीं हो रहा है राजनीति में सब बहुत उच्च स्तर तक है बहुत ऊपर तक है और किसी भी विभाग में मुझे लगता नहीं ऐसा है और हमें कोशिश करनी चाहिए इस चीज को कम करने की योग्यता के आधार पर हमें यकीन करना चाहिए किसी व्यक्ति का नाश कि उसकी धर्म लिंग जाति के आधार पर धन्यवाद

dharam ke naam par chali ja rahi raajneeti tab tak khatam nahi hogi jab tak ki bharat mein saman nagarik sanhita na lag jaaye ab kuch log kahenge ke saman nagarik sanhita jo hai vaah aarakshan khatam kar degi toh aisa nahi hota saman nagarik sanhita ki pahal bhi pata hai aapko kisne ki thi yah pahal ki thi sabse pehle hamare desh ke samvidhan ke draft committee ke jo prasident se mister be R ambedkar jinke naam par aaj hum hamesha dalito ki baat karte hain hum arakshit varg ki baat karte hain aap sochiye agar vaah vyakti khud kahata hai ki saman nagarik sanhita lagani chahiye isme kya galat hai saman nagarik sanhita se aap ne hindu reh jaenge na muslim na sikh Baudh jain operation keval hindustani aur mujhe lagta hai ki hindustani hi reh jaane se accha hai haan pichda varg jo hai us pichde varg ko unki credibility ke aadhaar par unhe aage laya jaega unko jo suppress ho chuke hain un ko aage badhaya jaega jab tak hamare beech mein se vividh khatam nahi hota tab tak dharm ki raajneeti khatam ho hi nahi sakti jab aap aur hum ek saath baithkar khana nahi kha le tab tak raajneeti toh usko badhane kaam kar hi rahi ho toh chahte hain ki hum na khayen taki main kisi aur ko vote dunga kisi aur ko vote de aap aur hamare beech akram educated hai toh aapke kisi se dosti karne se pehle uska naam poochhte kya kya agar aap arif hai toh main aap se mitrata nahi karunga aapka naam jo sapno se mitrata nahi karunga aisa nahi hota na aapko va kare toh aap mujhe chai peete jaakar phir toh achi baat hai keval raajneeti mein hi hai saath hi mujhe lagta nahi aisa nahi ho raha hai raajneeti mein sab bahut ucch sthar tak hai bahut upar tak hai aur kisi bhi vibhag mein mujhe lagta nahi aisa hai aur hamein koshish karni chahiye is cheez ko kam karne ki yogyata ke aadhaar par hamein yakin karna chahiye kisi vyakti ka naash ki uski dharm ling jati ke aadhaar par dhanyavad

धर्म के नाम पर चली जा रही राजनीति तब तक खत्म नहीं होगी जब तक कि भारत में समान नागरिक संहित

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  186
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
गन्दी वाली फिल्म ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!