एक IAS अफ़सर के रूप में आपका दिन कैसा होता है इसके बारे में कुछ बताएँ?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक आईएएस अफसर ग्रुप में दिन कैसा होता है यह काफी इंटरेस्टिंग क्वेश्चन है दिन सामान्य होता है डिपेंड करता है कि मैं किस असाइनमेंट को देख रहा हूं मैं पहले एक नागालैंड में कुछ साल था तो वहां पर एक अलग रूटीन होता था फिर दिल्ली में था अब एक अलग रोटी होता था नाम नहीं चाहता है कि जब आप सुबह की है तो हमें जल्दी उठते हैं क्योंकि यह फैमिली के साथ टाइम बिताने को कम मिलता है तो सुबह-सुबह अपने बच्चे के साथ थोड़ा बहुत देर में थोड़ा देर रहता हूं उसके साथ उसके साथ में थोड़ा खेल तो अपने बच्चे के साथ तो बनर्जी मिलती है फिर 8:00 बजे में काम अपना शुरू कर देता हूं अपनी फाइलों को पहले पुलिस करता हूं आज से नवसारी ना हो उसके बाद पब्लिक से मिलता हूं उनके समस्याएं कोई रहता है तो कॉल करता हूं ऑफिशियल वर्क करते हैं फिर बहुत हर तरह की प्रॉब्लम साथी कैसा डिपार्टमेंट को आप को डिलीट करते हैं सी चीजों का सामान रहता है असाइनमेंट पर डिपेंड करता है जब मैं डिस्टलरी में कलेक्टर था तब उस टाइम सुबह 7:00 बजे का दिन शुरू हो जाता था लिखवा पहले अपनी सारी फाइलों को देखे ना आशीर्वाद पब्लिक जो मिलने आती है उनको उनसे मिल लेना फिर उनके समस्याओं की सूची बनाने लाकर उनको क्या टाइप करना फिर आप जाते हैं तो डिजास्टर मैनेजमेंट के काम देखना डेवलपमेंट के काम रिसीव लिखना कोई भी दिन सुबह से शाम रात को ऐसा नहीं रहता कि कब क्या हो जाए अपनी पार्टी बनानी पड़ती है दिन के लिए हुए काम कभी खत्म न पाएंगे तो आप पर टाइप करते कि पहले सारे काम कौन-कौन से जिनको आप को तुरंत न्यूज़ करना है कौन-कौन से अर्जुन समझते हैं पब्लिक से जो आ रही है तू मैनेजमेंट हम लोग करना सीखते हैं कि सिलेबस इंपॉसिबल संयुक्त और होलसेल हाउ टू मैनेज आज के बाद कभी टाइम मिल गया तो फैमिली के साथ भी टाइम बताना जो कि मुश्किल से ही मिलता है तो

ek IAS officer group mein din kaisa hota hai yah kaafi interesting question hai din samanya hota hai depend karta hai ki main kis assignment ko dekh raha hoon main pehle ek nagaland mein kuch saal tha toh wahan par ek alag routine hota tha phir delhi mein tha ab ek alag roti hota tha naam nahi chahta hai ki jab aap subah ki hai toh hamein jaldi uthte hain kyonki yah family ke saath time bitane ko kam milta hai toh subah subah apne bacche ke saath thoda bahut der mein thoda der rehta hoon uske saath uske saath mein thoda khel toh apne bacche ke saath toh banerjee milti hai phir 8 00 baje mein kaam apna shuru kar deta hoon apni filon ko pehle police karta hoon aaj se navsari na ho uske baad public se milta hoon unke samasyaen koi rehta hai toh call karta hoon official work karte hain phir bahut har tarah ki problem sathi kaisa department ko aap ko delete karte hain si chijon ka saamaan rehta hai assignment par depend karta hai jab main distalari mein collector tha tab us time subah 7 00 baje ka din shuru ho jata tha likhva pehle apni saree filon ko dekhe na ashirvaad public jo milne aati hai unko unse mil lena phir unke samasyaon ki suchi banane lakar unko kya type karna phir aap jaate hain toh disaster management ke kaam dekhna development ke kaam receive likhna koi bhi din subah se shaam raat ko aisa nahi rehta ki kab kya ho jaaye apni party banani padti hai din ke liye hue kaam kabhi khatam na payenge toh aap par type karte ki pehle saare kaam kaun kaunsi jinako aap ko turant news karna hai kaun kaunsi arjun samajhte hain public se jo aa rahi hai tu management hum log karna sikhate hain ki syllabus Impossible sanyukt aur wholesale how to manage aaj ke baad kabhi time mil gaya toh family ke saath bhi time bataana jo ki mushkil se hi milta hai toh

एक आईएएस अफसर ग्रुप में दिन कैसा होता है यह काफी इंटरेस्टिंग क्वेश्चन है दिन सामान्य होता

Romanized Version
Likes  259  Dislikes    views  3798
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

Likes  255  Dislikes    views  2607
WhatsApp_icon
user

Pamela Satpathy

IAS Officer, Telangana

2:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फिलहाल तो सिर्फ 4 साल बीते हैं सब इसमें तो इसी 4 सालों में अपना थोड़ा थोड़ा बहुत एक्सपीरियंस शेयर कर सकते हो आज संडे को एसडीएम के रूप में काम किया और पियो आईटीडीआई का आदिवासी अंचल में दो अंडे को जैसे हम भी बन सकते हैं इसको जनरल jansunwai.up प्रजावानी कहते हैं तो काफी तादात में गांव गांव से उठकर लोग आते हैं और अपनी प्रॉब्लम शेयर करते हैं उसको हम रिकॉर्ड करते हैं उनको तो कर लेते हैं अपने उन का वक्त हो गया क्या और सैटरडे को जैसे कोर्ट रहता है इसलिए मैं आईडिया में कुछ लेते हैं तो वकील वगैरह आते हैं और श्रीलंका किसे कहते हैं उसके अलावा बाकी का दिन थोड़ा बहुत फील्ड पर और ऑफिस वर्क जिसने कि अपनी तरफ से कुछ नया आया इनोवेटिक करने की इच्छा करते हैं उसको आप ट्राई कर सकते हैं करने का आदी सा होता है मीटिंग मीटिंग है स्टाफ के साथ हो या फिर जनरल पब्लिक के साथ हूं आप आती रहती है तो उसी बीच में उनको ज्यादा वेट कढ़ाई बिना उनको टाइम दे देते हैं आज दिन में ऐसे शेडूल तो हम बना ही लेते हफ्ते भर का लेकिन उसे फॉलो नहीं कर पाते हैं मैं मोस्टली कोशिश करती हूं कि आप बहुत सारा टाइम सील तो दिखा सकी लोगों की प्रॉब्लम्स को क्लोज लिसाड़ी करके उसे कुछ अगर अच्छा सलूशन आता है तो अपनी तरफ से उसे इंप्लीमेंट करने की कोशिश करें फ्री होता है दर्द में अमीन आप अभी भी क्या सकते हैं और बिजी नहीं दिखा सकते हैं बट प्रोडक्ट बहुत द क्वालिटी टाइम दिखता है आईएस ऑफिसर का और उसके अलावा कुछ ऐसे होते हैं जो जहां पर आप अपनी पूरे दिन का शेड्यूल हटाकर आप बताना होता है जैसे कि आपका डिजास्टर मैनेजमेंट हो गया कहीं बाढ़ या फिर कहीं अंदर होता है पूरा का पूरा मत पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन मशीनरी उसी में लग जाता है कोई दूसरी इमरजेंसी या कोई कस्टमर इन सब चीजों को अरेंज करने में काफी टाइम लगता है और इन सब चीजों को प्लान करके इंप्लीमेंट करने भी काफी टाइम लगता है तो पूरी उस टाइम पूरा ध्यान इन सब चीजों में लग जाता है बाकी इनके अलावा जो रेगुलर दिन होते हैं तो जनरल के फील्ड वर्कर ऑफिस वर्क दोनों के बीच में बैठकर

filhal toh sirf 4 saal bite hai sab isme toh isi 4 salon mein apna thoda thoda bahut experience share kar sakte ho aaj sunday ko sdm ke roop mein kaam kiya aur piyo ITDI ka adiwasi anchal mein do ande ko jaise hum bhi ban sakte hai isko general jansunwai up prajavani kehte hai toh kaafi tadat mein gaon gaon se uthakar log aate hai aur apni problem share karte hai usko hum record karte hai unko toh kar lete hai apne un ka waqt ho gaya kya aur saturday ko jaise court rehta hai isliye main idea mein kuch lete hai toh vakil vagera aate hai aur sri lanka kise kehte hai uske alava baki ka din thoda bahut field par aur office work jisne ki apni taraf se kuch naya aaya inovetik karne ki iccha karte hai usko aap try kar sakte hai karne ka adi sa hota hai meeting meeting hai staff ke saath ho ya phir general public ke saath hoon aap aati rehti hai toh usi beech mein unko zyada wait kadhai bina unko time de dete hai aaj din mein aise shedul toh hum bana hi lete hafte bhar ka lekin use follow nahi kar paate hai Mostly koshish karti hoon ki aap bahut saara time seal toh dikha saki logo ki problems ko close lisadi karke use kuch agar accha salution aata hai toh apni taraf se use implement karne ki koshish kare free hota hai dard mein ameen aap abhi bhi kya sakte hai aur busy nahi dikha sakte hai but product bahut the quality time dikhta hai ias officer ka aur uske alava kuch aise hote hai jo jaha par aap apni poore din ka schedule hatakar aap bataana hota hai jaise ki aapka disaster management ho gaya kahin baadh ya phir kahin andar hota hai pura ka pura mat public administration machinery usi mein lag jata hai koi dusri emergency ya koi customer in sab chijon ko arrange karne mein kaafi time lagta hai aur in sab chijon ko plan karke implement karne bhi kaafi time lagta hai toh puri us time pura dhyan in sab chijon mein lag jata hai baki inke alava jo regular din hote hai toh general ke field worker office work dono ke beech mein baithkar

फिलहाल तो सिर्फ 4 साल बीते हैं सब इसमें तो इसी 4 सालों में अपना थोड़ा थोड़ा बहुत एक्सपीरिय

Romanized Version
Likes  178  Dislikes    views  1817
WhatsApp_icon
user

Nikhil Dhanraj Nippanikar

IAS 2018 Batch, BIHAR Cadre

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिलीवरी सुबह उठके हम स्पोर्ट्स बैडमिंटन खेलते हैं विदेश न्यूज़ डीडी न्यूज़ सभी को याद दिला जाती है क्या कुछ तो करना था तब बात करते हैं उनको जानते हैं वैसे एक बैलेंस लाइफ पर चले रहता है

delivery subah uthake hum sports Badminton khelte hain videsh news DD news sabhi ko yaad dila jaati hai kya kuch toh karna tha tab baat karte hain unko jante hain waise ek balance life par chale rehta hai

डिलीवरी सुबह उठके हम स्पोर्ट्स बैडमिंटन खेलते हैं विदेश न्यूज़ डीडी न्यूज़ सभी को याद दिला

Romanized Version
Likes  102  Dislikes    views  1037
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!