भ्रष्टाचार कोई गरीब की अंगूठी का दुआ नहीं है जो नीचे से ऊपर को जाएगा भ्रष्टाचार तो एक झरना है जो ऊपर से नीचे की तरफ को आता है, इसपर आपकी क्या राय है?...


user
1:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भ्रष्टाचार हमेशा नीचे से शुरु होता है और ऊपर की तरफ चलता है ऊपर से नीचे कभी नहीं आता कभी नहीं आता और जो आदमी अपनी काबिलियत के बल पर लगता है जो नहीं लगा है और काबिलियत के बल पर लगा है वह भ्रष्टाचार को समाप्त करने का काम करता है वह इमानदारी से नौकरी करता है नोट कर लो अपनी डायरी में जिन्होंने भी क्वेश्चन फोटो किया है उनके लिए मैं बता दूं कि जो योग्यता के बल पर लगा है वह भ्रष्टाचार को समाप्त करने की कोशिश करेगा उसको बड़ा करने इसलिए मैं एक बात आप लोगों से कहूंगा कि अपने भाइयों से अपने बच्चों से अपनी बेटियों से एक ही आकर करो कि टेस्ट में टॉपर जो भी आप एग्जाम देने जा रहे हैं इमानदारी से दें और समझदारी से दें तो भ्रष्टाचार टिक समाप्ति हो जाएगा और ऊपर से नीचे की तरफ नहीं आएगा बाबूजी के नीचे से ऊपर की तरफ अंगूठे के धुएं की तरह चलता है इसको हम कंट्रोल कर सकते हैं समाप्त कर सकते हैं बाकी तो इससे हम कितना ही बोलने वह भी कमी है समझदार को इशारा काफी है जय हिंद

bhrashtachar hamesha niche se shuru hota hai aur upar ki taraf chalta hai upar se niche kabhi nahi aata kabhi nahi aata aur jo aadmi apni kabiliyat ke bal par lagta hai jo nahi laga hai aur kabiliyat ke bal par laga hai vaah bhrashtachar ko samapt karne ka kaam karta hai vaah imaandari se naukri karta hai note kar lo apni diary mein jinhone bhi question photo kiya hai unke liye main bata doon ki jo yogyata ke bal par laga hai vaah bhrashtachar ko samapt karne ki koshish karega usko bada karne isliye main ek baat aap logo se kahunga ki apne bhaiyo se apne baccho se apni betiyon se ek hi aakar karo ki test mein topper jo bhi aap exam dene ja rahe hain imaandari se de aur samajhdari se de toh bhrashtachar tick samapti ho jaega aur upar se niche ki taraf nahi aayega babu ji ke niche se upar ki taraf anguthe ke dhuen ki tarah chalta hai isko hum control kar sakte hain samapt kar sakte hain baki toh isse hum kitna hi bolne vaah bhi kami hai samajhdar ko ishara kaafi hai jai hind

भ्रष्टाचार हमेशा नीचे से शुरु होता है और ऊपर की तरफ चलता है ऊपर से नीचे कभी नहीं आता कभी न

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  140
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!