भाषा, भाषा विज्ञान और समाज में क्या संबंध है?...


play
user

shekhar11

Volunteer

1:15

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाषा भाषा विज्ञान और समाज में क्या संबंध है बहुत सारे हमारे भारत की बात की जाए दिया दुनिया में किसी भी देश की बात किया तो वहां पर एक समाज है वहां पर जो कम्युनिटी रहते हैं वह एक सामाजिक प्रथा का पालन करते हैं उनकी एक अपनी भाषा होती है और भाषा विज्ञान की बात की जाए तो कौन सी भाषा को कैसे यूज़ करना है कैसे भाषा एक दूसरे से आपस में जुड़े हुए हैं तो किसी भी व्यक्ति को से कम्युनिकेट करने के लिए भाषा की जरूरत होती है मगर भाषा नहीं होगी तो हम किसी के पास अपनी बात नहीं रख सकते अपनी बात नहीं पहुंचा सकते तो भाषा की जरूरत पड़ती है भाषा विज्ञान की बात किया तो भाषा की जो यूज़ है वह हम किस प्रकार करते हैं कैसी अपनी बातों को भाषा के द्वारा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक हम ट्रांसफर करते हैं अपनी बातें उनको बताते हैं यह भाषा विज्ञान का अदा की और समाज की बात की जाए तो समाज में दिखा जा तो हर समाज में अपनी एक प्रथा व्यवस्था है और वहां के एक भाषा है तो हर समाज में या फिर हर समुदाय में एक भाषा होती है और और भाषा का यूज करके ही वह लोग आपस में एक दूसरे से बातचीत करते हैं तो यह तीनों आपस में एक दूसरे से मिले हुए हैं आपस में इंटरकनेक्टेड

bhasha bhasha vigyan aur samaj mein kya sambandh hai bahut saare hamare bharat ki baat ki jaye diya duniya mein kisi bhi desh ki baat kiya toh wahan par ek samaj hai wahan par jo community rehte hain wah ek samajik pratha ka palan karte hain unki ek apni bhasha hoti hai aur bhasha vigyan ki baat ki jaye toh kaun si bhasha ko kaise use karna hai kaise bhasha ek dusre se aapas mein jude hue hain toh kisi bhi vyakti ko se communicate karne ke liye bhasha ki zarurat hoti hai magar bhasha nahi hogi toh hum kisi ke paas apni baat nahi rakh sakte apni baat nahi pohcha sakte toh bhasha ki zarurat padti hai bhasha vigyan ki baat kiya toh bhasha ki jo use hai wah hum kis prakar karte hain kaisi apni baaton ko bhasha ke dwara ek vyakti se dusre vyakti tak hum transfer karte hain apni batein unko batatey hain yeh bhasha vigyan ka ada ki aur samaj ki baat ki jaye toh samaj mein dikha ja toh har samaj mein apni ek pratha vyavastha hai aur wahan ke ek bhasha hai toh har samaj mein ya phir har samuday mein ek bhasha hoti hai aur aur bhasha ka use karke hi wah log aapas mein ek dusre se batchit karte hain toh yeh tatvo aapas mein ek dusre se mile hue hain aapas mein interconnected

भाषा भाषा विज्ञान और समाज में क्या संबंध है बहुत सारे हमारे भारत की बात की जाए दिया दुनिया

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  22
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!