उत्तर प्रदेश और बिहार के पिछड़ेपन का कारण क्या है और क्यों?...


user

Vikas Singh

Political Analyst

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उत्तर प्रदेश और बिहार के पिछड़ेपन होने का मुख्य कारण वहां की सरकार है कांग्रेस पार्टी है सपा है बसपा है और माननीय लालू की लालू जी की पार्टी है यह सब पार्टियां उत्तर प्रदेश और बिहार को इतना खोखला कर दी हैं कि जिस को फिर से मजबूत बनाने में थोड़ा टाइम लगेगा देखिए योगी जी के आने के बाद उत्तर प्रदेश में जितने भी बदमाश हुआ करते थे सारे बदमाशों का एनकाउंटर जारी है अब लोग गलत काम नहीं कर रहे हैं भ्रष्टाचार को कम किया गया है वहां पर हमारे कानून की व्यवस्था अच्छी हुई है शिक्षा व्यवस्था को अच्छा किया गया है सपा की सरकार ने शिक्षा व्यवस्था को ही एकदम ध्वस्त कर दिया सपा की सरकार आती है तो पुलिस में भर्ती खुलेआम होता है 5 लाख 8:00 लाख 8:00 लाख 10:00 लाख में भर्ती होती है और सिर्फ यादों की भर्ती होती है और गलत तरीके से राजनीति होती है इसके माध्यम से हमारा उत्तर प्रदेश और थोड़ा पिछड़ा रह गया लेकिन अब जनता जागरुक हो चुकी है बिहार में नीतीश कुमार जी के आने के बाद बिहार बहुत आगे बढ़ा बहुत तरक्की किया है बिहार बिहार की रोड सड़क की व्यवस्था अच्छी हुई है वहां की बिजली की व्यवस्था अच्छी हुई है भ्रष्टाचार पर भी रोक लगा है उत्तर प्रदेश में भी भ्रष्टाचार पर रोक लगा है गांव में 18 घंटे बिजली और शहर में 24 घंटे बिजली की व्यवस्था की गई है शिक्षा व्यवस्था को दुरुस्त किया गया है अब जनता चाहती है कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार बने क्योंकि भारतीय जनता पार्टी सबके लिए समान रूप से कार्य करती है समान भाव से कार्य करती है सभी धर्म सभी जाति के लिए समान भाव से कार्य करती है सबका साथ सबका विकास वाले मंत्र से कार्य करती है तो आइए चुनाव चल रहा है बिना भ्रमित हुए अपना वोट कमल के फूल पर दे हम लोग ताकि देश आगे बढ़ सके हमारा उत्तर प्रदेश आगे बढ़ सके बिहार आगे बढ़ सके और पूरा हिंदुस्तान आगे बढ़ सके धन्यवाद

uttar pradesh aur bihar ke pichadepan hone ka mukhya karan wahan ki sarkar hai congress party hai sapa hai BSP hai aur mananiya lalu ki lalu ji ki party hai yah sab partyian uttar pradesh aur bihar ko itna khokhla kar di hain ki jis ko phir se majboot banane mein thoda time lagega dekhiye yogi ji ke aane ke baad uttar pradesh mein jitne bhi badamash hua karte the saare badmashon ka encounter jaari hai ab log galat kaam nahi kar rahe hain bhrashtachar ko kam kiya gaya hai wahan par hamare kanoon ki vyavastha achi hui hai shiksha vyavastha ko accha kiya gaya hai sapa ki sarkar ne shiksha vyavastha ko hi ekdam dhwast kar diya sapa ki sarkar aati hai toh police mein bharti khuleaam hota hai 5 lakh 8 00 lakh 8 00 lakh 10 00 lakh mein bharti hoti hai aur sirf yaadon ki bharti hoti hai aur galat tarike se raajneeti hoti hai iske madhyam se hamara uttar pradesh aur thoda pichda reh gaya lekin ab janta jagruk ho chuki hai bihar mein nitish kumar ji ke aane ke baad bihar bahut aage badha bahut tarakki kiya hai bihar bihar ki road sadak ki vyavastha achi hui hai wahan ki bijli ki vyavastha achi hui hai bhrashtachar par bhi rok laga hai uttar pradesh mein bhi bhrashtachar par rok laga hai gaon mein 18 ghante bijli aur shehar mein 24 ghante bijli ki vyavastha ki gayi hai shiksha vyavastha ko durast kiya gaya hai ab janta chahti hai ki bharatiya janta party ki sarkar bane kyonki bharatiya janta party sabke liye saman roop se karya karti hai saman bhav se karya karti hai sabhi dharm sabhi jati ke liye saman bhav se karya karti hai sabka saath sabka vikas waale mantra se karya karti hai toh aaiye chunav chal raha hai bina bharmit hue apna vote kamal ke fool par de hum log taki desh aage badh sake hamara uttar pradesh aage badh sake bihar aage badh sake aur pura Hindustan aage badh sake dhanyavad

उत्तर प्रदेश और बिहार के पिछड़ेपन होने का मुख्य कारण वहां की सरकार है कांग्रेस पार्टी है स

Romanized Version
Likes  75  Dislikes    views  523
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user
0:36

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्षेत्रीय दल हैं उन्होंने जो अपना उन पर कब्जा किया हुआ है वहां के लोगों को इतनी सोच लेते हैं उनके कनस्तर में केवल 1 दिन का आकार है ताकि वह आगे की सोच ना पाए वह उनको इतना हटा देते हैं वह केवल आटे के विषय में ही सोच पाते उससे आगे बढ़ने की नहीं सोच पाते जब तक सरकार उनके कनेक्शन में एक पंजाबी के 1 महीने का आटा दाल चावल दही डालेंगे तो वह लोग आगे नहीं बढ़ पाएंगे

kshetriya dal hain unhone jo apna un par kabza kiya hua hai wahan ke logo ko itni soch lete hain unke kanastar mein keval 1 din ka aakaar hai taki wah aage ki soch na paye wah unko itna hata dete hain wah keval aate ke vishay mein hi soch paate usse aage badhne ki nahi soch paate jab tak sarkar unke connection mein ek punjabi ke 1 mahine ka atta dal chawal dahi daalenge toh wah log aage nahi badh payenge

क्षेत्रीय दल हैं उन्होंने जो अपना उन पर कब्जा किया हुआ है वहां के लोगों को इतनी सोच लेते ह

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  586
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी सबसे बड़ा दों वीडियो चैट है बिहार और यूपी के दोनों को पूरा कृषि प्रधान देश की आजादी के बाद से कभी भी किसी भी बजट में कृषि के लिए बहुत सावधान भी किया गया और प्रीति को ऑपरेटिव भी और प्रीति को बढ़ाने के लिए जो जरूरी चीजें होनी चाहिए थी उसमें का सही मूल्य नहीं मिलता है और दूसरा और एक जगह टिक लोकेशन इसलिए काफी देश का विकास हो गया है जो कि पहले का स्कोर कितना हुआ है कहना होगा लेकिन अगर आपको फाइव ईयर प्लान तो पहला और दूसरा फिफ्थ ईयर प्लान बैंक बिहार भारत का सबसे इंडस्ट्राइलाइज्ड था और उसका में जितने भी बड़े-बड़े कारखाने के धीरे-धीरे जो पॉलिटिकल पॉवर नहीं रहने की वजह से यहां यह होता और दूसरे की जमीन पर आबादी का जो घनत्व है वह काफी ज्यादा है और वह जो खेती वाली जमीन है वह भी वहां के लोगों पेट भरने में रोजगार के लिए काम करने के लिए तो पहले तुझे का 80 के दशक में वहां के लेबर क्लास का पलायन होता था क्योंकि पढ़े लिखे लोगों को फिर भी नौकरियां मिल जाती थी तो थी नहीं मिलता तो बोलोगे तो पढ़े लिखे लोग हैं नौकरी के लिए बाहर निकलना शुरू हुई थी कल विल पावर की बहुत कमी थी बिहार को खासतौर पर जब एंड व्हाइट बिहार झारखंड अलग हो गया बिहार इलेक्ट्रिक भी बहुत सक्षम बनाया जा सकता पॉलिटिकल पॉवर में ही था

vikee sabse bada do video chat hai bihar aur up ke dono ko pura krishi pradhan desh ki azadi ke baad se kabhi bhi kisi bhi budget mein krishi ke liye bahut savdhaan bhi kiya gaya aur preeti ko operative bhi aur preeti ko badhane ke liye jo zaroori cheezen honi chahiye thi usme ka sahi mulya nahi milta hai aur doosra aur ek jagah tick location isliye kaafi desh ka vikas ho gaya hai jo ki pehle ka score kitna hua hai kehna hoga lekin agar aapko five year plan toh pehla aur doosra fifth year plan bank bihar bharat ka sabse indastrailaijd tha aur uska mein jitne bhi bade bade karkhane ke dhire dhire jo political power nahi rehne ki wajah se yahan yeh hota aur dusre ki jameen par aabadi ka jo ghanatva hai wah kaafi zyada hai aur wah jo kheti wali jameen hai wah bhi wahan ke logo pet bharne mein rojgar ke liye kaam karne ke liye toh pehle tujhe ka 80 ke dashak mein wahan ke labour class ka palayan hota tha kyonki padhe likhe logo ko phir bhi naukriyan mil jati thi toh thi nahi milta toh bologe toh padhe likhe log hain naukri ke liye bahar nikalna shuru hui thi kal will power ki bahut kami thi bihar ko khaasataur par jab end white bihar jharkhand alag ho gaya bihar electric bhi bahut saksham banaya ja sakta political power mein hi tha

विकी सबसे बड़ा दों वीडियो चैट है बिहार और यूपी के दोनों को पूरा कृषि प्रधान देश की आजादी क

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  712
WhatsApp_icon
user

Aamir Saleem Khan

Chief Reporter/News editor

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिहार के पिछड़ेपन का कारण जो मुझे समझ में आता है सबसे पहले देश बहुत बड़े-बड़े थी बाद में धरा बिहार का तो बटवारा हुआ और उसके बाद कुछ सुधार भी हुआ लेकिन के जमाने में बात करने का भी देख लिया और जांच यूटीआई है मगर पिछड़ेपन की बात यह है कि यहां टाइप है वह समस्या भाई जोशी देना चाहिए था या जो पब्लिक सेक्टर में जो काम होना चाहिए ताकि आम लोगों को मिली किया गया और की आबादी ज्यादा है

bihar ke pichadepan ka kaaran jo mujhe samajh mein aata hai sabse pehle desh bahut bade bade thi baad mein dhara bihar ka toh batwara hua aur uske baad kuch sudhaar bhi hua lekin ke jamane mein baat karne ka bhi dekh liya aur jaanch uti hai magar pichadepan ki baat yeh hai ki yahan type hai wah samasya bhai joshi dena chahiye tha ya jo public sector mein jo kaam hona chahiye taki aam logo ko mili kiya gaya aur ki aabadi zyada hai

बिहार के पिछड़ेपन का कारण जो मुझे समझ में आता है सबसे पहले देश बहुत बड़े-बड़े थी बाद में ध

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  467
WhatsApp_icon
user

Rajesh Rishi

Indian Politician

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राजनीतिक लोग अपना बना के ऊपर देना ₹10 सेंटर दुनिया के 1 देश कौन सा है

raajnitik log apna bana ke upar dena Rs center duniya ke 1 desh kaun sa hai

राजनीतिक लोग अपना बना के ऊपर देना ₹10 सेंटर दुनिया के 1 देश कौन सा है

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  673
WhatsApp_icon
user

Rajiv Ranjan

Account student,social thinker

1:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उत्तर प्रदेश UP बिहार के पिछड़ेपन का सबसे बड़ा कारण वहां पर जनसंख्या का अत्यधिक दबाव का होना है बिहार और उत्तर प्रदेश भारत के वह जो राज्य है जहां सर्वाधिक जनसंख्या निवास करती है उत्तर प्रदेश जनसंख्या के अनुसार भारत का नंबर वन राज्य है और वही बिहार तीसरे नंबर पर आता है इन दोनों राज्यों में जनसंख्या कितनी ज्यादा है कि यहां के संसाधन यहां की आबादी के लिए अपर्याप्त है बिहार अगर बिहार की बात करें तो बिहार मैं बिहार का निवासी हूं हमें बिहार के बारे में अच्छा से बता सकता हूं बिहार के उत्तर दिशा में नदियों का कहर जारी रहता है वहां प्रत्येक वर्ष में भीषण बाढ़ आती है वही कोशी नदी है जो बिहार का शोक लिखा जाता है कि नदी में बाढ़ आने के कारण यहां बहुत ज्यादा परेशानी होती है और बहुत समस्याओं से सामना करना पड़ता है वही बिहार के घर दक्षिण क्षेत्र की बातें तो यहां प्रत्येक वर्ष का कहर जारी रहता है तो बिहार के उत्तर में उत्तर में नदियों और दक्षिण में सूखा के कारण बिहार में ज्यादा बहुत त्रासदी होती है वैसे खान बिहार डेवलप नहीं कर पाता है और इसका एक और कारण यहां की खराब नेता शाही है यहां नेताओं में वंशवाद है इसकी अगर लालू यादव देखे तेजस्वी यादव देखें तो इस तरह से यह बम्स वंशवाद राजनीतिक वंशवाद हो रहा है और उसी उत्तर प्रदेश मुलायम सिंह मायावती अखिलेश यादव यह सभी लोग इन दोनों राज्यों के पिछड़ेपन के मेन कारण से

uttar pradesh UP bihar ke pichadepan ka sabse bada karan wahan par jansankhya ka atyadhik dabaav ka hona hai bihar aur uttar pradesh bharat ke vaah jo rajya hai jaha sarvadhik jansankhya niwas karti hai uttar pradesh jansankhya ke anusaar bharat ka number van rajya hai aur wahi bihar teesre number par aata hai in dono rajyo mein jansankhya kitni zyada hai ki yahan ke sansadhan yahan ki aabadi ke liye aparyaapt hai bihar agar bihar ki baat kare toh bihar main bihar ka niwasi hoon hamein bihar ke bare mein accha se bata sakta hoon bihar ke uttar disha mein nadiyon ka kahar jaari rehta hai wahan pratyek varsh mein bhishan baadh aati hai wahi koshi nadi hai jo bihar ka shok likha jata hai ki nadi mein baadh aane ke karan yahan bahut zyada pareshani hoti hai aur bahut samasyaon se samana karna padta hai wahi bihar ke ghar dakshin kshetra ki batein toh yahan pratyek varsh ka kahar jaari rehta hai toh bihar ke uttar mein uttar mein nadiyon aur dakshin mein sukha ke karan bihar mein zyada bahut trasadi hoti hai waise khan bihar develop nahi kar pata hai aur iska ek aur karan yahan ki kharab neta shahi hai yahan netaon mein vanshavad hai iski agar lalu yadav dekhe tejaswi yadav dekhen toh is tarah se yah bums vanshavad raajnitik vanshavad ho raha hai aur usi uttar pradesh mulayam Singh mayawati akhilesh yadav yah sabhi log in dono rajyo ke pichadepan ke main karan se

उत्तर प्रदेश UP बिहार के पिछड़ेपन का सबसे बड़ा कारण वहां पर जनसंख्या का अत्यधिक दबाव का हो

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  205
WhatsApp_icon
user
2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों आज एक ऐसा सवाल मिल रहा है जिसका जवाब लगता है कि मेरे पास है और मेरे बहुत ही करीब है यह जवाब क्योंकि मैं स्वयं उत्तर प्रदेश और पिछले 35 सालों से मेरी फैमिली मध्यप्रदेश में रह रही है भोपाल में जब हम धीरे-धीरे बड़े हुए और पलायन के बारे में जानने लगे यह पलायन क्या होता है लोग क्यों पलायन करते हैं उत्तर प्रदेश और बिहार से आने वाले लोगों को प्रवासी क्यों कहा जाता है इतने लोग क्यों करते हैं उत्तर प्रदेश और बिहार से जब कि हम तो देखते सुनते थे कि उत्तर प्रदेश और बिहार से ज्यादा बनती उसके बावजूद भी इसका बहुत बड़ा कारण बने पाया वहां रोजगार की कमी होना आप बोलेंगे क्या अन्य राज्यों में रोजगार है देखिए उत्तर प्रदेश से ही पलायन करके लोगवा गुजरात चेन्नई महाराष्ट्र में जाकर बसते हैं और एक व्यक्ति फिर अन्य लोगों को बुलाता है यह सिस्टम है और इसी सिस्टम पर चल रहा है उत्तर प्रदेश बिहार की गांव चले जाइए गांव में अगर 10 लोगों का परिवार है तो 10 में से केवल दो ही लोग आपको गांव में मिलेंगे और वह 2 लोग भी किसी कारणवश शहर नहीं जा पाए कारण है उत्तर प्रदेश और बिहार के पिछड़ेपन का राजनीति नहीं जो तड़का लगाया है सिर्फ और सिर्फ इस पिछड़ेपन को बढ़ाने बढ़ाने और बढ़ाने के लिए ही है सब्सिडाइज होने के बावजूद भी यह दे राज्य दे मदद क्यों नहीं कर पा रहे इसका बहुत बड़ा कारण

namaskar doston aaj ek aisa sawaal mil raha hai jiska jawab lagta hai ki mere paas hai aur mere bahut hi kareeb hai yah jawab kyonki main swayam uttar pradesh aur pichle 35 salon se meri family madhya pradesh mein reh rahi hai bhopal mein jab hum dhire dhire bade hue aur palayan ke bare mein jaanne lage yah palayan kya hota hai log kyon palayan karte hain uttar pradesh aur bihar se aane waale logo ko pravasi kyon kaha jata hai itne log kyon karte hain uttar pradesh aur bihar se jab ki hum toh dekhte sunte the ki uttar pradesh aur bihar se zyada banti uske bawajud bhi iska bahut bada karan bane paya wahan rojgar ki kami hona aap bolenge kya anya rajyo mein rojgar hai dekhiye uttar pradesh se hi palayan karke logva gujarat Chennai maharashtra mein jaakar baste hain aur ek vyakti phir anya logo ko bulata hai yah system hai aur isi system par chal raha hai uttar pradesh bihar ki gaon chale jaiye gaon mein agar 10 logo ka parivar hai toh 10 mein se keval do hi log aapko gaon mein milenge aur vaah 2 log bhi kisi karanvash shehar nahi ja paye karan hai uttar pradesh aur bihar ke pichadepan ka raajneeti nahi jo tadaka lagaya hai sirf aur sirf is pichadepan ko badhane badhane aur badhane ke liye hi hai subsidies hone ke bawajud bhi yah de rajya de madad kyon nahi kar paa rahe iska bahut bada karan

नमस्कार दोस्तों आज एक ऐसा सवाल मिल रहा है जिसका जवाब लगता है कि मेरे पास है और मेरे बहुत

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  472
WhatsApp_icon
user

Sefali

Media-Ad Sales

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उत्तर प्रदेश और बिहार के पिछड़ेपन का कारण मुझे तो लगता है एक तो यह दोनों सेट कीजिए आप ऑपरेशन याने जनसंख्या क्या कर बात की जाए तो वह जनसंख्या नागरिकांची जाता है कंप्यूटर दूसरे जो स्टेट से भारत में तो यह एक मुझे कारण लगता है आज इसकी वजह से पिछले पन्ने है और जो दूसरा कार्य लगता है यह दोनों ही स्टेट की सरकार ने अभी तक ज्यादा कुछ मेरे हिसाब से डेवलपमेंट वगैरा के लिए ओवरऑल डेवलपमेंट वगैरा के लिए ज्यादा कुछ ठोस कदम या फिर कड़े कदम उठाए नहीं है तो वह भी एक है और और अगर देखा जाए तो जो लिटरेसी लेवल भी है वहां यह दोस्त डेट में काफी कम है जिस पर कि सरकार को भी मेरे सबसे फोकस करना चाहिए और काफी सारे आजो प्रमोशन वगैरह है करने से क्या जैसे एजुकेशन क्वालिफिकेशन क्लिटरिस लिटरेसी को यहां पर मान्यता और दादा-दादी जाएं

uttar pradesh aur bihar ke pichadepan ka karan mujhe toh lagta hai ek toh yah dono set kijiye aap operation yane jansankhya kya kar baat ki jaaye toh vaah jansankhya nagrikanchi jata hai computer dusre jo state se bharat mein toh yah ek mujhe karan lagta hai aaj iski wajah se pichle panne hai aur jo doosra karya lagta hai yah dono hi state ki sarkar ne abhi tak zyada kuch mere hisab se development vagera ke liye overall development vagera ke liye zyada kuch thos kadam ya phir kade kadam uthye nahi hai toh vaah bhi ek hai aur aur agar dekha jaaye toh jo literacy level bhi hai wahan yah dost date mein kaafi kam hai jis par ki sarkar ko bhi mere sabse focus karna chahiye aur kaafi saare ajo promotion vagera hai karne se kya jaise education qualification klitaris literacy ko yahan par manyata aur dada dadi jayen

उत्तर प्रदेश और बिहार के पिछड़ेपन का कारण मुझे तो लगता है एक तो यह दोनों सेट कीजिए आप ऑपरे

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  122
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उत्तर प्रदेश और बिहार में पिछड़ेपन के कई कारण है अशिक्षा नशा वहां व्यापक दूर से फैले हुए हैं बिहार का इतिहास भी उस के पिछड़ेपन का एक बड़ा कारण है विगत में बिहार कभी इस पड़ोसी प्रांत और कभी उस पड़ोसी प्रांत के साथ जोड़ दिया है जोर देने के कारण एक लंबे समय तक अपनी अलग पहचान नहीं बना पाया आर्थिक विकास भी नहीं हुआ बिहार में पड़ोसी राज्यों के मुकाबले उच्च शिक्षा का प्रसार बहुत बाद में हुआ अंग्रेजी शासनकाल में भी कई दशकों बाद बिहार विश्वविद्यालय की स्थापना हुई कहते हैं कि औद्योगिक विकास सामाजिक गतिशीलता व आधुनिकता रेल की पटरियों के साथ दोस्ती है दुर्भाग्य से ब्रिटिश काल में यह कार्य भी रानीगंज तक आकर रुक गया बिहार महानगरों से भी कटा हुआ है बिहार को अपनी पहचान दिलाने के लिए बिहार के युवाओं सरकार और मीडिया को जमीनी स्तर पर काम करना होगा यूपी में जातिगत समस्या भी पिछड़ेपन का कारण है नशे को पिछड़ेपन का कारण मानते हुए गौरव गांव के ग्रामीणों ने वहां शराबबंदी कर

uttar pradesh aur bihar mein pichadepan ke kai karan hai asiksha nasha wahan vyapak dur se failen hue hain bihar ka itihas bhi us ke pichadepan ka ek bada karan hai vigat mein bihar kabhi is padosi prant aur kabhi us padosi prant ke saath jod diya hai jor dene ke karan ek lambe samay tak apni alag pehchaan nahi bana paya aarthik vikas bhi nahi hua bihar mein padosi rajyo ke muqable ucch shiksha ka prasaar bahut baad mein hua angrezi shasankal mein bhi kai dashakon baad bihar vishwavidyalaya ki sthapna hui kehte hain ki audyogik vikas samajik gatisheelta va adhunikata rail ki patriyon ke saath dosti hai durbhagya se british kaal mein yah karya bhi raniganj tak aakar ruk gaya bihar mahanagaron se bhi kata hua hai bihar ko apni pehchaan dilaane ke liye bihar ke yuvaon sarkar aur media ko zameeni sthar par kaam karna hoga up mein jaatigat samasya bhi pichadepan ka karan hai nashe ko pichadepan ka karan maante hue gaurav gaon ke grameeno ne wahan sharabbandi kar

उत्तर प्रदेश और बिहार में पिछड़ेपन के कई कारण है अशिक्षा नशा वहां व्यापक दूर से फैले हुए ह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  123
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आदित्य ऐसा नहीं के उत्तर प्रदेश और बिहार जो है वह पूरा का पूरा पिछड़ा हुआ है और Nokia पर देखा चाहिए जो पहले राष्ट्रपति थे भारत के डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद रोड छपरा से थावे बिहार से और अभी जो करंट राष्ट्र रामनाथ कोविंद जी को कानपुर से बिलोंग करते हैं जो कि उत्तर प्रदेश है तो ऐसा नहीं है कि वह पिछड़ा और शहर है और आप पूरे देश में कहीं भी देख लीजिए जो वोट शॉप वाले बल पोस्ट होता है चाहे वह सरकारी नौकरी में हो चाहे प्राइवेट में हो आपको वहां पर यूपी या बिहार के आदमी मिल नहीं जाएंगे और पूरे इंडिया में कहीं पर भी देख लीजिए चाहे वह लोकेश लेवल हो कोई लेबर करने पर जो टॉप लेवल हो किसी कंपनी के मैनेजर का डायरेक्टर का तो आपको कहीं ना कहीं पर जो है वह यूपी और बिहार के लोग मरे हुए में हड़कंप ऐसा नहीं है कि जो पूरा का पूरा स्टेट है वह पिछड़ा हां मैं कुछ समझता हूं कि कुछ एरिया जो है उस राज्य का नक्शा बताओ पिछड़ा हुआ है क्योंकि अभी भी लोग यहां पर जातिवाद और ज्यादा फोकस करते हैं लेकिन अब जो है धीरे-धीरे स्टेटस से यूपी और बिहार दोनों का चेंज हो रहा है और बीजेपी की सरकार जो है वह दोनों जगह पर है तो मैं समझता हूं कि दोनों राज्य का जो है वह डेवलपमेंट होगा और जो यह क्वेश्चन आपने पूछा वह फिर से नहीं पूछ पूछने का मौका आपको मिलेगा

aditya aisa nahi ke uttar pradesh aur bihar jo hai vaah pura ka pura pichda hua hai aur Nokia par dekha chahiye jo pehle rashtrapati the bharat ke doctor rajendra prasad road chapra se thawe bihar se aur abhi jo current rashtra ramnath kovind ji ko kanpur se belong karte hain jo ki uttar pradesh hai toh aisa nahi hai ki vaah pichda aur shehar hai aur aap poore desh mein kahin bhi dekh lijiye jo vote shop waale bal post hota hai chahen vaah sarkari naukri mein ho chahen private mein ho aapko wahan par up ya bihar ke aadmi mil nahi jaenge aur poore india mein kahin par bhi dekh lijiye chahen vaah lokesh level ho koi labour karne par jo top level ho kisi company ke manager ka director ka toh aapko kahin na kahin par jo hai vaah up aur bihar ke log mare hue mein hadkamp aisa nahi hai ki jo pura ka pura state hai vaah pichda haan main kuch samajhata hoon ki kuch area jo hai us rajya ka naksha batao pichda hua hai kyonki abhi bhi log yahan par jaatiwad aur zyada focus karte hain lekin ab jo hai dhire dhire status se up aur bihar dono ka change ho raha hai aur bjp ki sarkar jo hai vaah dono jagah par hai toh main samajhata hoon ki dono rajya ka jo hai vaah development hoga aur jo yah question aapne poocha vaah phir se nahi puch poochne ka mauka aapko milega

आदित्य ऐसा नहीं के उत्तर प्रदेश और बिहार जो है वह पूरा का पूरा पिछड़ा हुआ है और Nokia पर द

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  136
WhatsApp_icon
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मुझे लगता है उत्तर पर तो बिहार जैसे बड़े स्टेट अगर आज हमारे देश में डेवलपमेंट में पीछे तो उसका सबसे बड़ा भीषण मुझे तो लगता है यह तो वहां की जो सरकार या नहीं उन्होंने उन लोगों के प्रति कुछ सोचा नहीं दूसरी चीज है वहां अशिक्षा और गरीबी का स्तर बहुत ज्यादा है अगर में BPL फैमिली इसकी बात करता हूं तो एक बहुत बड़ा डाटा है जो उत्तर प्रदेश के अंदर आता है और बिहार के अंदर आता है दूसरी चीज में यही कहना चाहूंगा उत्तर प्रदेश की सरकार जो भी रही से पहले भी तो भारतीय जनता पार्टी की सरकार है उससे पहले समाजवादी पार्टी से पहले मायावती घमंडी तो उन तीनों को हमने वहां के लोगों के लिए कुछ नहीं किया वह लोग जो BPL फैमिली में आते हैं और जिनका सामाजिक स्तर अच्छा नहीं है तो उन लोगों को मजबूर एमु होना पड़ा माइग्रेट होना पड़ा को दिल्ली में जॉब कर रहा है कोई आपका महाराष्ट्र मुंबई में जॉब कर रहा है तो मुझे लगता है कि वहां की गवर्नमेंट ने उनका साथ नहीं दिया गवर्मेंट होने के बाद भी इतना कारखाने नहीं लगाए गए जिस वजह से लोगों के एंप्लायमेंट केरिया में मिल जाए तो मुझे लगता है यह बहुत बड़ा रीजन है उत्तर प्रदेश के पिछड़ेपन और बिहार के पिछड़ेपन को उनकी वहां की सरकारों की फंक्शन एकदम फेल शुरू हुई

dekhiye mujhe lagta hai uttar par toh bihar jaise bade state agar aaj hamare desh mein development mein peeche toh uska sabse bada bhishan mujhe toh lagta hai yah toh wahan ki jo sarkar ya nahi unhone un logo ke prati kuch socha nahi dusri cheez hai wahan asiksha aur garibi ka sthar bahut zyada hai agar mein BPL family iski baat karta hoon toh ek bahut bada data hai jo uttar pradesh ke andar aata hai aur bihar ke andar aata hai dusri cheez mein yahi kehna chahunga uttar pradesh ki sarkar jo bhi rahi se pehle bhi toh bharatiya janta party ki sarkar hai usse pehle samajwadi party se pehle mayawati ghamandi toh un tatvo ko humne wahan ke logo ke liye kuch nahi kiya vaah log jo BPL family mein aate hain aur jinka samajik sthar accha nahi hai toh un logo ko majboor emu hona pada migrate hona pada ko delhi mein job kar raha hai koi aapka maharashtra mumbai mein job kar raha hai toh mujhe lagta hai ki wahan ki government ne unka saath nahi diya government hone ke baad bhi itna karkhane nahi lagaye gaye jis wajah se logo ke emplayament keriya mein mil jaaye toh mujhe lagta hai yah bahut bada reason hai uttar pradesh ke pichadepan aur bihar ke pichadepan ko unki wahan ki sarkaro ki function ekdam fail shuru hui

देखिए मुझे लगता है उत्तर पर तो बिहार जैसे बड़े स्टेट अगर आज हमारे देश में डेवलपमेंट में पी

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  183
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
बिहार के पिछड़ेपन का कारण ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!