उत्तर प्रदेश सरकार ने पूजा के धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकरों को हटाने का निर्देश दिया है। क्या यह सही हो रहा है?...


play
user

Awdhesh Singh

Former IRS, Top Quora Writer, IAS Educator

1:05

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर लाउडस्पीकर को धार्मिक स्थलों से हटाने का जो हाईकोर्ट का निर्देश है उसका इमानदारी से पालन किया जाए तो यह कार्य बहुत ही सराहनीय कार्य होना चाहिए कि सारे जो भी धार्मिक स्थल है वहां पर लाउडस्पीकर से जो बाकी लोगों को उस धर्म के नहीं है जिनको उसे ऐतराज है उससे उनको तकलीफ होती है उसे मुक्ति मिले तो अच्छी बात है लेकिन अगर इस आदेश का पालन एक धर्म विशेष के खिलाफ होता है तो मैं समझता हूं यह उचित काम नहीं है तो यह इसका मनसा क्या है और इसका जो इंप्लीमेंटेशन कैसे होता है उसका कार्यान्वयन कैसे होता है यह इस बात को डिसाइड करेगा कि यह उचित तरीके से हो रहा है क्या उचित तरीके से हो रहा है बताते मैच को सपोर्ट करता हूं कि किसी भी धार्मिक जगह है उसमें लाउडस्पीकर के द्वारा सारे लोगों की जमीन है उस को डिस्टर्ब ना की जाए इस कांसेप्ट को तो मैं सही मानता हूं लेकिन इसका फेयरनेस और ईमानदारी के साथ पालन होना चाहिए

agar loudspeaker ko dharmik sthalon se hatane ka jo highcourt ka nirdesh hai uska imaandari se palan kiya jaye to yeh karya bahut hi sarahniya karya hona chahiye ki sare jo bhi dharmik sthal hai wahan par loudspeaker se jo baki logo chahiye ko us dharm ke nahi hai jinako use aitraj hai usse unko takleef hoti hai use mukti mile to acchi baat hai lekin agar is aadesh ka palan ek dharm vishesh ke khilaf hota hai to main samajhata hoon yeh uchit kaam nahi hai to yeh iska manasa kya hai aur iska jo implementation kaise hota hai uska karyanvayan kaise hota hai yeh is baat ko decide karega ki yeh uchit tarike se ho raha hai kya uchit tarike se ho raha hai batatey match ko support karta hoon ki kisi bhi dharmik jagah hai usamen chahiye loudspeaker ke dwara sare logo chahiye ki jameen hai us ko disturb na ki jaye is concept ko to main sahi manata hoon lekin iska fairness aur imaandaari ke saath palan hona chahiye

अगर लाउडस्पीकर को धार्मिक स्थलों से हटाने का जो हाईकोर्ट का निर्देश है उसका इमानदारी से पा

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  566
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे यह निर्णय के बारे में या निर्देश के बारे में तो डेफिनेट जानकारी तो नहीं है| लेकिन अगर आप ऐसा बोल रहे हैं| ऐसा निर्णय दिया है| सरकार ने तो इसमें कोई बुराई नहीं है |क्योंकि अगर बहुत ज्यादा जो वह लाउडस्पीकर लगाकर नॉइस पोलूशन किया जाता है| उसकी कोई जरुरत नहीं है| किसी भी धर्म में आपको अगर भगवान को पूजना है आपको गॉड को अल्ला को पूजना है| तो आप जाइए मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे में और उसके अंदर जाकर पुजिये और भगवान ने और नेचर ने हम को जितना वॉइस दिया है उतने जोर से बोलने पर भगवान हमारी गुजारिश को सुन सकते हैं मुझे नहीं लगता कि भगवान को लाउडस्पीकर से हमें बुलाने की जरूरत है| चाहे वह हम भजन गा रहे हो| या चाहे हम नमाज पढ़ रहे हो तो भगवान ने जो हमें वॉइस दिया है नेचुरल वॉइस उसमें हम जितने जोर से भगवान को पुकार सकते हैं, हमें पुकारना चाहिए| और उसके अलावा कोई भी आर्टिफिशियल चीज़ उसमें अगर नॉइस पोलूशन क्रिएट कर रही है और उससे बाकी लोगों को दिक्कत होती है| तो उसको बंद करने का कदम एक अच्छा कदम है|

mujhe yeh nirnay ke baare mein ya nirdesh ke baare mein to definet jankari to nahi hai lekin agar aap aisa bol rahe hain aisa nirnay diya hai sarkar ne to isme koi burayi nahi hai kyonki agar bahut jyada jo wah loudspeaker lagakar nais pollution kiya jata hai uski koi zarurat nahi hai kisi bhi dharm mein aapko agar bhagwan ko poojna hai aapko god ko alla ko poojna hai to aap jaiye mandir masjid gurudware mein aur uske andar jaakar pujiye aur bhagwan ne aur nature ne hum ko jitna voice diya hai utne jor se bolne par bhagwan hamari gujarish ko sun sakte hain mujhe nahi lagta ki bhagwan ko loudspeaker se hume bulane ki zarurat hai chahe wah hum bhajan ga rahe ho ya chahe hum namaz padh rahe ho to bhagwan ne jo hume voice diya hai natural voice usamen chahiye hum jitne jor se bhagwan ko pukar sakte hain hume pukarna chahiye aur uske alava koi bhi artificial cheez usamen chahiye agar nais pollution create kar rahi hai aur usse baki logo chahiye ko dikkat hoti hai to usko band karne ka kadam ek accha kadam hai

मुझे यह निर्णय के बारे में या निर्देश के बारे में तो डेफिनेट जानकारी तो नहीं है| लेकिन अगर

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  633
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  1  Dislikes    views  17
WhatsApp_icon
user

Prince Gupta

Founder@DeoriaTimes.com

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अगर उत्तर प्रदेश सरकार यानी योगी सरकार ने अगर किसी भी धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर को हटाने का का निर्देश दिया है तो इससे बेहतर और कोई काम नहीं है क्योंकि इससे ध्वनि प्रदूषण भी होता है लेकिन किसी एक धर्म के साथ अगर ऐसा होता है तो उस धर्म के साथ अन्याय है यानी कि जितने भी अगर हिंदू देवी देवताओं का स्थलों पर लाउडस्पीकर है तो अगर कुछ स्थानों से हटाया जा रहा तो सब जीवों पर भी लाउडस्पीकर है वहां से भी हटाया जाना चाहिए जो भी हो आप अपने मंदिर और मस्जिद प्रांगण के अंदर कार्य पूजा-पाठ अर्चना जो भी होता है उसे कीजिए जिसमें 9 लोगों को प्रॉब्लम है ना किसी को तो प्रॉब्लम यहां पर भी है कि जब पिछली सरकार में अखिलेश यादव की सरकार थी मैं आपसे आग्रह करूंगा कि राजनीति के अब तक नहीं देखी तू जब अखिलेश यादव की सरकार थी तो उस वक्त एकदम मतलब प्रदेश में यह कार मर चुका था जब उन्होंने भी यही बात बोला था कि लाउडस्पीकर को बंद करवाने के लिए बोला था था और आज वही योगी सरकार के तरफ से बोला गया कि लाउडस्पीकर हटा दिया जाए यहां तक कि बहुत से स्थलों पर मंदिर तक छुड़वा दिया गया लेकिन सब ने और हिंदुत्व के ठेकेदारों ने अपना मुंह बंद रखें जो किया उचित नहीं होता है लाउडस्पीकर बंद करवाकर और मंदिर मस्जिद तो बात कर और हिंदुओं के आस्था से खिलवाड़ किया गया है जो कि अब माफ नहीं किया जाएगा और इस बार योगी सरकार को हटाया जाए

dekhie agar uttar pradesh sarkar yani yogi sarkar ne agar kisi bhi dharmik sthalon se loudspeaker ko hatane ka ka nirdesh diya hai toh isse behtar aur koi kaam nahi hai kyonki isse dhwani pradushan bhi hota hai lekin kisi ek dharm ke saath agar aisa hota hai toh us dharm ke saath anyay hai yani ki jitne bhi agar hindu devi devatao ka sthalon par loudspeaker hai toh agar kuch sthano se hataya ja raha toh sab jivoon par bhi loudspeaker hai wahan se bhi hataya jana chahiye jo bhi ho aap apne mandir aur masjid parangan ke andar karya puja path archna jo bhi hota hai use kijiye jisme 9 logo ko problem hai na kisi ko toh problem yahan par bhi hai ki jab pichali sarkar mein akhilesh yadav ki sarkar thi main aapse agrah karunga ki rajneeti ke ab tak nahi dekhi tu jab akhilesh yadav ki sarkar thi toh us waqt ekdam matlab pradesh mein yeh car mar chuka tha jab unhone bhi yahi baat bola tha ki loudspeaker ko band karwane ke liye bola tha tha aur aaj wahi yogi sarkar ke taraf se bola gaya ki loudspeaker hata diya jaye yahan tak ki bahut se sthalon par mandir tak chudva diya gaya lekin sab ne aur hindutva ke thekedaaron ne apna mooh band rakhen jo kiya uchit nahi hota hai loudspeaker band karvakar aur mandir masjid toh baat kar aur hinduon ke astha se khilwad kiya gaya hai jo ki ab maaf nahi kiya jayega aur is baar yogi sarkar ko hataya jaye

देखिए अगर उत्तर प्रदेश सरकार यानी योगी सरकार ने अगर किसी भी धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर क

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  430
WhatsApp_icon
user
2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल यह हाईकोर्ट का निर्देश है लेकिन मैं इस निर्दोष को नहीं मानता हूं क्योंकि अगर धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर से प्रॉब्लम हो सकती है तो नेताओं के गाड़ी का जो सारण का वास होता है उसे भी प्रॉब्लम होने चाहिए और ध्वनि प्रदूषण के कई कारण है यह कारण सिर्फ माइक ही नहीं है कि एक माइक से ध्वनि प्रदूषण होता है यह सिर्फ एक माइनॉरिटी को टारगेट किया जा रहा है और कुछ भी नहीं है मैं इस बात को मानता हूं कि मैं रोटी को सिर्फ टारगेट किया जा रहा है क्योंकि हम लोग मार्ग संबोधित हम लोग में एक अनजान होता है ठीक है तो आराम से एक 2 मिनट भी नहीं होता है बस हो गया पास टाइम आसान होता है वही टाइम ही होता है और क्या है फिर भी इस पर ही हाईकोर्ट को आपत्ति हो गई तो इससे हम क्या अंदाजा लगा कि मैं रोटी पर टारगेट किया जा रहा है मैं इस बात को करता ही नहीं मानता हूं कि धार्मिक स्थलों पर से क्योंकि यह आस्था से जुड़ा हुआ है या माइनॉरिटी की हो या मैच्योरिटी को धार्मिक स्थल लोक हृदय आस्था से जुड़ा हुआ है उस से छेड़छाड़ ना करें और कोई भी सरकार हो मुझे चैन से रहने दे और चैन से अपनी सरकार चलाएं इसे खा म खा परेशानी में इंसान को ना चले फिर क्या हुआ कुछ होने वाला है इसलिए मैं योगी सरकार से रिक्वेस्ट करता हूं योगी जी यह जो कानून है यह 15 वर्ग को जो लौट चलें हटाने का इसे आप प्लीज प्लीज वापस ले लीजिए मैं इस बात को और धार्मिक स्थल जिस तरह से आप कितने प्यार से धार्मिक स्थलों की पूजा करते जहां जाते हैं पूजा पाठ करते हैं उसी तरह से हमारे रिश्ते में अपने धार्मिक स्थलों की गली इश्क तेरा कानून को मैं नहीं मानता कि गलत है थैंक यू

bilkul yeh highcourt ka nirdesh hai lekin main is nirdosh ko nahi manata hoon kyonki agar dharmik sthalon par loudspeaker se problem ho sakti hai to netaon ke gaadi ka jo saran ka vase hota hai use bhi problem hone chahiye aur dhwani pradushan ke kai kaaran hai yeh kaaran sirf mike hi nahi hai ki ek mike se dhwani pradushan hota hai yeh sirf ek minority ko target chahiye kiya ja raha hai aur kuch bhi nahi hai is baat ko manata hoon ki main roti ko sirf target chahiye kiya ja raha hai chahiye kyonki hum log marg sambodhit hum log mein ek anjaan hota hai theek hai to aaram se ek 2 minute bhi nahi hota hai bus ho gaya paas time aasan hota hai wahi time hi hota hai aur kya hai phir bhi is par hi highcourt ko apatti ho gayi to isse hum kya andaja laga ki main roti par target chahiye kiya ja raha hai chahiye main is baat ko karta hi nahi manata hoon ki dharmik sthalon par se kyonki yeh aastha se juda hua hai ya minority ki ho ya maichyoriti ko dharmik sthal lok hridaya aastha se juda hua hai us se chedchad na kare chahiye diye aur koi bhi sarkar ho mujhe chain se rehne de aur chain se apni sarkar chalaye ise kha m kha pareshani mein insaan ko na chale phir kya hua kuch hone wala hai isliye main yogi sarkar se request karta hoon yogi ji yeh jo kanoon hai yeh 15 varg ko jo lot chalen hatane ka ise aap please please wapas le lijiye main is baat ko aur dharmik sthal jis tarah se aap kitne pyar se dharmik sthalon ki puja karte jaha jaate hain puja path karte hain ussi tarah se hamare rishte mein apne dharmik sthalon ki gali ishq tera kanoon ko main nahi manata ki galat hai chahiye thank you

बिल्कुल यह हाईकोर्ट का निर्देश है लेकिन मैं इस निर्दोष को नहीं मानता हूं क्योंकि अगर धार्म

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  112
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए पीआईएल फाइल की गई थी लखनऊ में मोदी लाल यादव के द्वारा वह चाहते थे कि जो पसंद है वहां पर लाउडस्पीकर सवेरा टेंपल में मौत कि उसमें यानी की मस्जिदों में गुरुद्वारों में मंदिरों में याद करता करो मैं यह सारे जो लाउडस्पीकर से कब हटाया जाए क्योंकि नाइस पुलिस का बहुत बड़ा कारण है और अब यूपी को मैंने जो उसका जो व्हाट इस टाइम उसको ध्यान में रखते हुए इन सब जाएंगे पर लाउडस्पीकर स्नान करती है जो मेरे पास एक बहुत अच्छी शुरुआत है देखिए इन लाउडस्पीकर से बहुत ही ज्यादा नॉलेज प्रश्न होता है और छोटे से लेकर बड़े पद की उम्र के लोगों तक को बहुत ही हानिकारक होता है आज के समय में योग और सुनने में लोगों को प्रॉब्लम है वह कई पर्सेंट पड़ चुके क्यों की सब्जी से आसपास क्लाउड हो देखिए शैली से जगह पर बंद किया क्या बात आप कह रहे तो मैं 1 आउंगी की सीख ली जिसने पर है तो वह लोग वहां से सीख पाएंगे क्या कर धार्मिक जगह पर ही चीज बंद हो गई है तो कोई रीज़न होगा उसके पीछे जो जो पोस्ट डाली उस के लिए शादी पार्टी उसके लिए सॉरी लाउडस्पीकर से ऊंची आवाज में गाने को बजाए जाते हैं मेरे सपनों धीरे धीरे को भी बंद हो जाएगा जो की बहुत ही अच्छा है हमारी खुद की सेहत के लिए

dekhie chahiye pil file ki gayi thi lucknow mein modi laal yadav ke dwara wah chahte the ki jo pasand hai wahan par loudspeaker savera temple mein maut ki usamen chahiye yani ki masjidon mein gurudwaron mein mandiro mein yaad karta karo main yeh sare jo loudspeaker se kab hataya jaye kyonki nice police ka bahut bada kaaran hai aur ab up ko maine jo uska jo what is time usko dhyan mein rakhate hue in sab jaenge par loudspeaker snan karti hai jo mere paas ek bahut acchi shuruvat hai dekhie chahiye in loudspeaker se bahut hi jyada knowledge prashna hota hai aur chote se lekar bade pad ki umar ke logo chahiye tak ko bahut hi haanikarak hota hai aaj ke samay mein yog aur sunne mein logo chahiye ko problem hai wah kai percent padh chuke kyu ki sabzi se aaspass cloud ho dekhie chahiye shaili se jagah par band kiya kya baat aap keh rahe to main 1 aungi ki seekh lee jisne par hai to wah log wahan se seekh paenge kya kar dharmik jagah par hi cheez band ho gayi hai to koi rizan hoga uske piche jo jo post dali us ke liye shadi party uske liye sorry loudspeaker se uchi aawaj chahiye mein gaane ko bajae jaate hain mere sapno dhire chahiye dhire chahiye ko bhi band ho jayega jo ki bahut hi accha hai hamari khud ki sehat ke liye

देखिए पीआईएल फाइल की गई थी लखनऊ में मोदी लाल यादव के द्वारा वह चाहते थे कि जो पसंद है वहां

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  133
WhatsApp_icon
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उत्तर प्रदेश की सरकार का यह फैसला मेरे हिसाब से तो बहुत अच्छा है क्योंकि ध्वनि प्रदूषण को रोकने के लिए यह बहुत ही जरूरी हो गया था कि धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर यूज़ किया जा रहा है उसे जल्द से जल्द रोका जाए क्योंकि जिन लोगों के घर इन धार्मिक स्थलों के आसपास होते हैं उन्हें सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है आ क्योंकि यह लाउडस्पीकर डेली बेसिस पर बजाए जाते हैं सुबह में भजन बज रहे हैं दोपहर में बज रहे हैं अजान होती है तो उसमें भी लाउडस्पीकर का इस्तेमाल किया जाता है नमाज के वक्त भी लाउडस्पीकर बजाया जाता है तो चाहे धार्मिक स्थल किसी भी धर्म से जुड़े हुए हैं वह सभी और लाउड स्पीकरों का इस्तेमाल धडल्ले से करते आ रहे हैं तो योगी सरकार का यह फैसला काफी अच्छा है खास करके उन लोगों के लिए जिनके घर इन धार्मिक स्थानों से करीब में है और उन्हें अब काफी सुकून महसूस होगा जब यह लाउड स्पीकर बनना बंद हो जाएंगे क्योंकि बहुत सारे ऐसे बच्चे होते हैं जिन्हें पढ़ाई करनी रहती है किसी का एग्जाम होने वाला है और कई ऐसे पेशेंट्स होते हैं जिन्हें इन लाउडस्पीकर की जोर जोर की आवाज से काफी परेशानी होती है और हियरिंग प्रॉब्लम भी हो सकती है अगर ज्यादा लाउडस्पीकर की आवाज में रहे तो तो इस वजह से यह फैसला काफी अच्छा है

uttar pradesh ki sarkar ka yeh faisla mere hisab se to bahut accha hai kyonki dhwani pradushan ko rokne ke liye yeh bahut hi zaroori ho gaya tha ki dharmik sthalon par loudspeaker use kiya ja raha hai use jald se jald roka jaye kyonki jin logo chahiye ke ghar in dharmik sthalon ke aaspass hote hain unhen chahiye sabse jyada pareshani ka samana karna padata hai aa kyonki yeh loudspeaker daily basis par bajae jaate hain subah mein bhajan baj rahe hain dopahar mein baj rahe hain ajan hoti hai to usamen chahiye bhi loudspeaker ka istemal kiya jata hai namaz ke waqt bhi loudspeaker bajaya jata hai to chahe dharmik sthal kisi bhi dharm se jude hue hain wah sabhi aur loud spikaron ka istemal dhadalle se karte aa rahe hain to yogi sarkar ka yeh faisla kaafi accha hai khaas karke un logo chahiye ke liye jinke ghar in dharmik sthano chahiye se karib mein hai aur unhen chahiye ab kaafi sukoon mehsus hoga jab yeh loud speaker banana band ho jaenge kyonki bahut sare aise bacche hote hain jinhen chahiye padhai karni rehti hai kisi ka exam hone wala hai aur kai aise peshents hote hain jinhen chahiye in loudspeaker ki jor jor ki aawaj chahiye se kaafi pareshani hoti hai aur hearing problem bhi ho sakti hai agar jyada loudspeaker ki aawaj chahiye mein rahe to to is wajah se yeh faisla kaafi accha hai

उत्तर प्रदेश की सरकार का यह फैसला मेरे हिसाब से तो बहुत अच्छा है क्योंकि ध्वनि प्रदूषण को

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  209
WhatsApp_icon
user

Sameer Tripathy

Political Critic

1:47
Play

Likes    Dislikes    views  7
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां यह निर्णय उत्तर प्रदेश सरकार का बहुत ही सही है कि पूजा के स्थलों पर लाउडस्पीकर को हटा देना चाहिए क्योंकि अगर कोई भी इंसान धार्मिक जगह पर जा रहा है पूजा करने के लिए अच्छा करने के लिए तो यह जरुरी नहीं है कि वह लाउडस्पीकर पर आरती सुने या कुछ भी सुने उसके बाद ही उसके मन में धार्मिक भावना जागृत होगी क्योंकि अगर कोई भी इंसान धार्मिक जगह पर जा रहा है तो यह तो स्वाभाविक है कि वह धार्मिक है इसलिए वह वहां जा रहा है तो लाउडस्पीकर से उसको उसके दिमाग पर काट दिया और इन सब का प्रभाव डाला को भी जरुरी बात नहीं है और इनका एक और सबसे बड़ा नुकसान हो यह था कि जब भी कोई धार्मिक स्थल पर लाउडस्पीकर वगैरह लगाए जाते हैं तो उसके आसपास की जितनी भी जगह होती थी वह भी प्रभावित होती थी चाहे वह अस्पताल हो स्कूल हो गया रहने की घर की जगह हो हर जगह पर लाउड स्पीकरों की आवाज पहुंची थी जिससे लोगों को बहुत ज्यादा दिक्कत होती थी और इसी वजह से लोग थोड़ा मंदिरों के आसपास घर लेना पसंद नहीं करते थे क्योंकि उनको लगता था कि वह लाउडस्पीकर बजेंगे और हमें हर वक्त परेशानी झेलनी पड़ेगी इसके अलावा कुछ लोगों को आवाज आवाजों से दिक्कत होती है जैसे कि हार्ट पेशेंट से उनको आवाज ज्यादा तेज नहीं सुननी सुननी चाहिए क्योंकि उनको दिक्कत हो सकती है तो ऐसी जगह पर वह भी धार्मिक स्थल पर घर जाएंगे और गुलाब स्पीकर आवाज सुनाई देगी तो उनको भी दिक्कत हो सकती है तो यह बहुत ही अच्छा निर्णय है और मैं संडे की सराहना करती हूं

ji haan yeh nirnay uttar pradesh sarkar ka bahut hi sahi hai ki puja ke sthalon par loudspeaker ko hata dena chahiye kyonki agar koi bhi insaan dharmik jagah par ja raha hai puja karne ke liye accha karne ke liye to yeh zaroori nahi hai ki wah loudspeaker par aarti sune ya kuch bhi sune uske baad hi uske man mein dharmik bhavna jaagarrit hogi kyonki agar koi bhi insaan dharmik jagah par ja raha hai to yeh to svabhavik hai ki wah dharmik hai isliye wah wahan ja raha hai to loudspeaker se usko uske dimag par kaat diya aur in sab ka prabhav dala ko bhi zaroori baat nahi hai aur inka ek aur sabse bada nuksan ho yeh tha ki jab bhi koi dharmik sthal par loudspeaker vagera lagaye jaate hai to uske aaspass ki jitni bhi jagah hoti thi wah bhi prabhavit hoti thi chahe wah aspatal ho school ho gaya rehne ki ghar ki jagah ho har jagah par loud spikaron ki aawaj chahiye pahuchi thi jisse logo chahiye ko bahut jyada dikkat hoti thi aur isi wajah se log thoda mandiro ke aaspass ghar lena pasand nahi karte the kyonki unko lagta tha ki wah loudspeaker bajenge aur hume har waqt pareshani jhelani padegi iske alava kuch logo chahiye ko aawaj chahiye avajon se dikkat hoti hai jaise ki heart patient se unko aawaj chahiye jyada tez nahi sunnani sunnani chahiye kyonki unko dikkat ho sakti hai to aisi jagah par wah bhi dharmik sthal par ghar jaenge aur gulab speaker aawaj chahiye sunayi degi to unko bhi dikkat ho sakti hai to yeh bahut hi accha nirnay hai aur main sunday ki sarahana karti hoon

जी हां यह निर्णय उत्तर प्रदेश सरकार का बहुत ही सही है कि पूजा के स्थलों पर लाउडस्पीकर को ह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उत्तर प्रदेश सरकार ने पूजा की धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर को हटाने का निर्देश दिया है यही आप का सवाल है मुझे लगता है कि यूपी सरकार का यह फैसला सही है भारत एक विशाल जनसंख्या वाला देश है यहां विभिन्न जाति धर्म और संप्रदाय के लोग सदियों से रह रहे हैं हमारे देश में संविधान में प्रत्येक नागरिक को अपनी तरह से रहने और जीवन यापन करने की स्वतंत्रता दी धार्मिक स्थलों की जोडी स्पीकर पर तेज आवाज में भजन कीर्तन और अजान की आवाज में जनजीवन को डिस्टर्ब करती है हर व्यक्ति अपना ध्यान अपने हिसाब से मंदिर मस्जिद गुरुद्वारा घर में जाकर शांति से भी पालन कर सकता है घर में भी आप अपने धर्म का निर्वाह कर सकते हैं सभी का अपना निजी होता है उसे सार्वजनिक रूप से लाउडस्पीकर पर चलाने से विद्यार्थियों गंभीर रोगियों को बहुत परेशानी होती है अतः मुझे लगता है कि यह एक सही कदम है

uttar pradesh sarkar ne puja ki dharmik sthalon se loudspeaker ko hatane ka nirdesh diya hai yahi aap ka sawal hai mujhe lagta hai ki up sarkar ka yeh faisla sahi hai bharat ek vishal jansankhya wala desh hai yahan vibhinn jati dharm aur sampraday ke log sadiyon se rah rahe hain hamare desh mein samvidhan mein pratyek nagarik ko apni tarah se rehne aur jeevan yaapan karne ki swatantrata di dharmik sthalon ki jodi speaker par tez aawaj chahiye mein bhajan kirtan aur ajan ki aawaj chahiye mein janjivan ko disturb karti hai har vyakti apna dhyan apne hisab se mandir masjid gurudwara ghar mein jaakar shanti se bhi palan kar sakta hai ghar mein bhi aap apne dharm ka nirvah kar sakte hain sabhi ka apna niji hota hai use sarvajanik roop se loudspeaker par chalane se vidyarthiyon gambhir rogiyon ko bahut pareshani hoti hai atah mujhe lagta hai ki yeh ek sahi kadam hai

उत्तर प्रदेश सरकार ने पूजा की धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर को हटाने का निर्देश दिया है यही

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विवेक लागू लोग बहुत ज्यादा पसंद कर रहे हैं क्योंकि होगा क्या था कि जब लाउडस्पीकर पर ऐसे हैरान होते थे तो लोगों तो आसपास के लोग होते तो उन्हें काफी डिस्ट्रक्शन होती थी और काफी सालों में दिक्कत होती थी जो बच्चा तेरा पढ़ नहीं पाते थे तो इन दिक्कतों से मुक्त हो गए हैं काफी लोग है कोशिश करते थे कि वह देखेंगे आसपास मंदिर ज्यादा पास भी ना उनके घर के ताकि उंहें लाउडस्पीकर पर आवाज है ना सुनाई पड़े और वह डिस्टर्ब ना हो इस सवाल मेरे नवाज उसे बार-बार मुझे बहुत अच्छा निवेदन है जिससे बाकी लोगों का भी भला ही होगा तो योगी जी को 38 दिन के लिए लोगों की प्रशंसा ही कर रहे हैं क्योंकि वह तो ऐसे ही लाउडस्पीकर पर ऐसा होता था कि मुझे देखा भी है क्या कि जितने भी हमारे पूजा करने वाले को धार्मिक स्थल है वहां पर लाउडस्पीकर होते ही हैं शारदा सिन्हा के प्रश्न उत्तर टाइम पर और यह भी देखा गया है कि हम धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकर का प्रयोग कहां पी जाता हूं होता है हर एनाउंसमेंट हो गया कोई भी भजन हो जरा भी हो सकता लाउडस्पीकर पर हो तो इससे काफी ज्यादा नुकसान दे रहा था नॉइस पोलूशन ध्वनि प्रदूषण से बहुत ज्यादा फैल रहा था लोगों को दिक्कत आ रही है तो मेरे सबसे बिल्कुल सही डिसीजन लिया क्या

vivek laagu log bahut jyada pasand kar rahe hain kyonki hoga kya tha ki jab loudspeaker par aise hairan hote the to logo chahiye to aaspass ke log hote to unhen chahiye kaafi destruction hoti thi aur kaafi salon mein dikkat hoti thi jo baccha tera padh nahi paate the to in dikkaton se mukt ho gaye hain kaafi log hai koshish karte the ki wah dekhenge aaspass mandir jyada paas bhi na unke ghar ke taki unhe loudspeaker par aawaj chahiye hai na sunayi pade chahiye aur wah disturb na ho is sawal mere nawaj use baar baar mujhe bahut accha nivedan hai jisse baki logo chahiye ka bhi bhala hi hoga to yogi ji ko 38 din ke liye logo chahiye ki prashansa hi kar rahe hain kyonki wah to aise hi loudspeaker par aisa hota tha ki mujhe dekha bhi hai kya ki jitne bhi hamare puja karne wale ko dharmik sthal hai wahan par loudspeaker hote hi hain sarada sinha ke prashna uttar time par aur yeh bhi dekha gaya hai ki hum dharmik sthalon par loudspeaker ka prayog Kahan chahiye p jata hoon hota hai har enaunsament ho gaya koi bhi bhajan ho jara bhi ho sakta loudspeaker par ho to isse kaafi jyada nuksan de raha tha nais pollution dhwani pradushan se bahut jyada fail raha tha logo chahiye ko dikkat aa rahi hai to mere sabse bilkul sahi decision liya kya

विवेक लागू लोग बहुत ज्यादा पसंद कर रहे हैं क्योंकि होगा क्या था कि जब लाउडस्पीकर पर ऐसे है

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  79
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!