नवंबर और दिसंबर में दिल्ली में ठंड के दौरान लगभग 300 लोग मरे, इससे बचने के लिए दिल्ली सरकार क्या कर सकती है?...


user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भीगी रतन जी आप सोच कर देखिए कोई व्यक्ति अगर ठंड से मर जाए तो उससे भी बुरा किया ही होगा कोई व्यक्ति कितना लाचार हो गया कि वह खुद को ठंड से बचा नहीं पाया और एक नहीं दो नहीं करीबन 300 से ज्यादा लोगों की दिल्ली में मौत हो गई ठंड के कारण लिखे दिल्ली बहुत बड़ा शहर है वहां बहुत सारी चीजें होंगी तो रात के समय यात्रा ठंड के समय लोग नहीं उस करते होंगे सरकार को सुनिश्चित करना चाहिए कि ऐसे गरीब बेघर लोग ठंड में ठिठुर ने और मरने की को मजबूर है उन को गर्म कपड़े रजाई कंबल यह सब प्रोवाइड करवाया जाए और ठंड के टाइम में जो भी सरकारी ऑफिस चीज है या कोई स्कूल है या कोई कॉलेज है वह इन लोगों के लिए खुले रह कर जाएं ताकि यह लोग वहां जाकर सो सकते हैं या तो छोड़िए दूर की बात है ताकि खुद को ठंड से बचा सके और उनकी मौत ना हो जाए हमारे देश में बुलेट ट्रेन आने की बात कर रहे हैं बड़े बड़े पुल बनाए जा रहे हैं और ना जाने क्या-क्या टेक्नोलॉजिकल एडवांसमेंट हमारे कंट्री में आई है लेकिन अगर ग्राउंड लेवल पर लोग ठंड से या भूख से मर रहे हैं तो हमारा देश यकीन मानिए कोई तरक्की नहीं कर रहा है तो सरकार सुनिश्चित करें कि ऐसे लोगों के लिए जो कमेंट इंस्टिट्यूट है वो रात के समय का कुछ पोषण खुला छोड़ दे कोई क्लासरूम कोई हॉल और वहां उनके लिए कोई कपड़े को कह रही अब बिस्तर वगैरा लगा दी है ताकि ऐसे लोग इंडीज मारे रोना भूख से और ठंड से

bheegi ratan ji aap soch kar dekhiye koi vyakti agar thand se mar jaaye toh usse bhi bura kiya hi hoga koi vyakti kitna lachar ho gaya ki vaah khud ko thand se bacha nahi paya aur ek nahi do nahi kariban 300 se zyada logo ki delhi mein maut ho gayi thand ke karan likhe delhi bahut bada shehar hai wahan bahut saree cheezen hongi toh raat ke samay yatra thand ke samay log nahi us karte honge sarkar ko sunishchit karna chahiye ki aise garib beghar log thand mein thithur ne aur marne ki ko majboor hai un ko garam kapde rajaai kambal yah sab provide karvaya jaaye aur thand ke time mein jo bhi sarkari office cheez hai ya koi school hai ya koi college hai vaah in logo ke liye khule reh kar jaye taki yah log wahan jaakar so sakte hain ya toh chodiye dur ki baat hai taki khud ko thand se bacha sake aur unki maut na ho jaaye hamare desh mein bullet train aane ki baat kar rahe hain bade bade pool banaye ja rahe hain aur na jaane kya kya technological edavansament hamare country mein I hai lekin agar ground level par log thand se ya bhukh se mar rahe hain toh hamara desh yakin maniye koi tarakki nahi kar raha hai toh sarkar sunishchit kare ki aise logo ke liye jo comment institute hai vo raat ke samay ka kuch poshan khula chod de koi classroom koi hall aur wahan unke liye koi kapde ko keh rahi ab bistar vagera laga di hai taki aise log indies maare rona bhukh se aur thand se

भीगी रतन जी आप सोच कर देखिए कोई व्यक्ति अगर ठंड से मर जाए तो उससे भी बुरा किया ही होगा कोई

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए नवंबर और दिसंबर में जो दिल्ली में ठंड के दौरान हुए लगभग 300 लोग मर चुके हैं और इससे बचने के लिए दिल्ली सरकार जो है वह बहुत सारा काम कर सकती है सोने जैसा कि दिल्ली सरकार चाहे तो उन लोगों को टेंपरेचर टच प्रोवाइड करा था कि कहीं पर नहीं तो ब्लॉक में कंपन मैं समझता बनवाने से कुछ नहीं होगा उन लोगों को टेंपरेचर कराने चाहिए जिसमें कुछ ईटिंग सिस्टम हो और उनकी सोने की पौड़ी बाद लगाता हूं जिससे जो है उन लोगों की जान बच सके और जोर से बोलो ना हो और उनका जो है वह खाने पीने की व्यवस्था

dekhiye november aur december mein jo delhi mein thand ke dauran hue lagbhag 300 log mar chuke hain aur isse bachne ke liye delhi sarkar jo hai vaah bahut saara kaam kar sakti hai sone jaisa ki delhi sarkar chahen toh un logo ko temperature touch provide kara tha ki kahin par nahi toh block mein kampan main samajhata banwane se kuch nahi hoga un logo ko temperature karane chahiye jisme kuch eating system ho aur unki sone ki poudi baad lagaata hoon jisse jo hai un logo ki jaan bach sake aur jor se bolo na ho aur unka jo hai vaah khane peene ki vyavastha

देखिए नवंबर और दिसंबर में जो दिल्ली में ठंड के दौरान हुए लगभग 300 लोग मर चुके हैं और इससे

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  124
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर MP3 गाने 2017 के नवंबर दिसंबर की ठंड की बात करें तो पूरे विश्व भर में था जो है बहुत बढ़ चुकी है उसे दिल्ली ही नहीं अगर वह मेरे को देखे तो मेरे को अभी ठंडी बहुत बढ़ चुकी है और दिल्ली में ठंड कितनी पड़ चुकी है कि नवंबर दिसंबर की ठंड में यह रिपोर्ट पाई गई है कि लगभग 300 लोग मर चुके हैं मेरे हिसाब से अगर दिल्ली सरकार को से बचना होगा तो सबसे पहले दिल्ली सरकार को जो भी गरीब घर है या फिर जो भी लोग सड़क पर रह रहे रवि चोपड़ा पर रह रहे हो ने कंबल देना अच्छे होने कोई भी कपड़े लेने से गर्म गर्म चीजें देनी चाहिए ताकि वह ठंड से बच पाया था उनका सामना कर पाए और अगर हम देखें तो जितने भी स्कूल है या फिर हम कह सकते कॉलेज से ऑफिस सरकारी दफ्तर याद उन्हे डिलीट थोड़ा चालू रखना चाहिए क्योंकि अगर वह सुबह के जल्दी के टाइम लगाओ चालू होंगे तो फिर मुझे ठंड ज्यादा लगे के लिए सुबह के समय में ठंड सबसे ज्यादा होती है तो मेरे हिसाब से दिल्ली सरकार यह सब निर्णायक कर सकती है और सिर्फ यही नहीं अगर अगर आओ स्कूलों में गरमी छुट्टी देने की कि बच्चे इसमें ठंड से जल्दी इकट्ठे हो जाते अगर स्कूलों में छुट्टी है कॉलेज इसमें भी छुट्टी दे जितना हो सके उतना उतना टाइम जो है वह काम करें और जितना हो सके उतना लोगों को बोले कि अगर बहुत ठंड हो तो प्लीज बाहर मत जाइएगा अगर आप चाहो तो सेट या फिर गर्म कपड़े पहन कर जाओ और अपना ख्याल रखिएगा और दिल्ली सरकार जो है अगर वह तो कम कर दे तो मेरे हिसाब से ठंड से बच पाएगी और जो भी जाने जा रही है वह नहीं जाएगी

agar MP3 gaane 2017 ke november december ki thand ki baat kare toh poore vishwa bhar mein tha jo hai bahut badh chuki hai use delhi hi nahi agar vaah mere ko dekhe toh mere ko abhi thandi bahut badh chuki hai aur delhi mein thand kitni pad chuki hai ki november december ki thand mein yah report payi gayi hai ki lagbhag 300 log mar chuke hain mere hisab se agar delhi sarkar ko se bachna hoga toh sabse pehle delhi sarkar ko jo bhi garib ghar hai ya phir jo bhi log sadak par reh rahe ravi chopra par reh rahe ho ne kambal dena acche hone koi bhi kapde lene se garam garam cheezen deni chahiye taki vaah thand se bach paya tha unka samana kar paye aur agar hum dekhen toh jitne bhi school hai ya phir hum keh sakte college se office sarkari daftaar yaad unhe delete thoda chaalu rakhna chahiye kyonki agar vaah subah ke jaldi ke time lagao chaalu honge toh phir mujhe thand zyada lage ke liye subah ke samay mein thand sabse zyada hoti hai toh mere hisab se delhi sarkar yah sab niranayak kar sakti hai aur sirf yahi nahi agar agar aao schoolon mein garami chhutti dene ki ki bacche isme thand se jaldi ikatthe ho jaate agar schoolon mein chhutti hai college isme bhi chhutti de jitna ho sake utana utana time jo hai vaah kaam kare aur jitna ho sake utana logo ko bole ki agar bahut thand ho toh please bahar mat jaiega agar aap chaho toh set ya phir garam kapde pahan kar jao aur apna khayal rakhiega aur delhi sarkar jo hai agar vaah toh kam kar de toh mere hisab se thand se bach payegi aur jo bhi jaane ja rahi hai vaah nahi jayegi

अगर MP3 गाने 2017 के नवंबर दिसंबर की ठंड की बात करें तो पूरे विश्व भर में था जो है बहुत बढ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा में पता चला है कि 300 मौतें हुई है इतनी ज्यादा ठंड के कारण दो उसको रोकने के लिए तो दिल्ली सरकार है मेरे राय से मैं यह कर सकती है कि जितने भी लोग कम गरीबो को ऐसे कंबल बांटे गए उनको कहना था Intex में कुछ काम रिडक्शन मिलेगा और ने कुछ फायदा होगा टैक्स के अंदर यह हो सकता है कारण और दूसरा वह यह भी कर सकती कि वह कल बना दे दिल्ली के अंदर जहां पर है जितने भी लोग हैं वहां पर आसपास के तो गर्मी में वहां पर भी सह सके क्योंकि लोगों के पास रहने की जगह नहीं है कंबल नहीं है सड़क पर बिना कंबल के बिना कपड़ों के सोएंगे तो फिर तो है तबियत उनकी खराब हो गई होगी तो इतनी ही हो सकता है कि जो सरकार है वह उन्हें उनकी जरूरतें हैं जिनके जिनके बिना मैं जी तक नहीं पा रहे हैं वह ज़रूरत हमको पूरी करें उन्हें एक छात्र दे रहने के लिए एक बड़ा सा एक हॉल टाइप बना दें जहां पर जितने भी लोगों को ऐसी दिक्कत आ रही है वह कर भेज सके उनके थोड़े से कपड़े यह सब चीजें करें और उनकी मदद कर सकते हैं

jaisa mein pata chala hai ki 300 mautain hui hai itni zyada thand ke karan do usko rokne ke liye toh delhi sarkar hai mere rai se main yah kar sakti hai ki jitne bhi log kam garibo ko aise kambal bante gaye unko kehna tha Intex mein kuch kaam reduction milega aur ne kuch fayda hoga tax ke andar yah ho sakta hai karan aur doosra vaah yah bhi kar sakti ki vaah kal bana de delhi ke andar jaha par hai jitne bhi log hain wahan par aaspass ke toh garmi mein wahan par bhi sah sake kyonki logo ke paas rehne ki jagah nahi hai kambal nahi hai sadak par bina kambal ke bina kapdo ke soenge toh phir toh hai tabiyat unki kharab ho gayi hogi toh itni hi ho sakta hai ki jo sarkar hai vaah unhe unki jaruratein hain jinke jinke bina main ji tak nahi paa rahe hain vaah zaroorat hamko puri kare unhe ek chatra de rehne ke liye ek bada sa ek hall type bana de jaha par jitne bhi logo ko aisi dikkat aa rahi hai vaah kar bhej sake unke thode se kapde yah sab cheezen kare aur unki madad kar sakte hain

जैसा में पता चला है कि 300 मौतें हुई है इतनी ज्यादा ठंड के कारण दो उसको रोकने के लिए तो दि

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
play
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:09

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर वर्ष दिल्ली के बहुत सारे गरीब लोग जिनके पास रहने को घर नहीं है और वह अपना ठंड से बचाव नहीं कर पाते हैं उनकी ठंड के वजह से मौत हो जाती है और इस वर्ष भी नवंबर और दिसंबर के महीने में लगभग 300 लोगों की जान चली गई सिर्फ़ ठंड के वजह से और दिसंबर के बाद जनवरी में के फर्स्ट वीक में भी आ 44 लोगों की जान चली गई है तो दिल्ली सरकार कुछ भी नहीं कर रही है गरीब लोगों के लिए ताकि उनका ठंड से बचाव हो पाए तो मेरे मुताबिक तो दिल्ली सरकार को मानवता के आधार पर कम से कम कुछ करना चाहिए जल्द से जल्द ताकि आने वाले हैं और समय में किसी की जान ना जा पाएं ठंड की वजह से दिल्ली सरकार गरीब लोगों को कंबल बांटे सकती है जिनसे उनका ठंड में बचाओ उपाय और साथ ही साथ उन के लिए रहने को कम से कम आज झोपड़ी या फिर अस्थाई घर ही बना दें ताकि कुछ ना कुछ बचा होता है उन गरीब लोगों का जिन के पास बिलकुल भी पैसे नहीं है और वह फुटपाथ पर सोने को मजबूर हैं तो वह दिल्ली सरकार को इसके लिए जल्दी आंकड़े का उठानी चाहिए और जो भी उनकी पॉलिसीज है उसे अच्छे से इंप्लीमेंट करना चाहिए ताकि इन गरीब लोगों का कुछ न कुछ तो भला हो पाए

har varsh delhi ke bahut saare garib log jinke paas rehne ko ghar nahi hai aur vaah apna thand se bachav nahi kar paate hain unki thand ke wajah se maut ho jaati hai aur is varsh bhi november aur december ke mahine mein lagbhag 300 logo ki jaan chali gayi sirf thand ke wajah se aur december ke baad january mein ke first weak mein bhi aa 44 logo ki jaan chali gayi hai toh delhi sarkar kuch bhi nahi kar rahi hai garib logo ke liye taki unka thand se bachav ho paye toh mere mutabik toh delhi sarkar ko manavta ke aadhaar par kam se kam kuch karna chahiye jald se jald taki aane waale hain aur samay mein kisi ki jaan na ja paen thand ki wajah se delhi sarkar garib logo ko kambal bante sakti hai jinse unka thand mein bachao upay aur saath hi saath un ke liye rehne ko kam se kam aaj jhopdi ya phir asthai ghar hi bana de taki kuch na kuch bacha hota hai un garib logo ka jin ke paas bilkul bhi paise nahi hai aur vaah footpath par sone ko majboor hain toh vaah delhi sarkar ko iske liye jaldi aankade ka uthani chahiye aur jo bhi unki policies hai use acche se implement karna chahiye taki in garib logo ka kuch na kuch toh bhala ho paye

हर वर्ष दिल्ली के बहुत सारे गरीब लोग जिनके पास रहने को घर नहीं है और वह अपना ठंड से बचाव न

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  188
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!