कुछ लोग कहते हैं भारत के एजुकेशन सिस्टम और खराब है क्या यह सही है?...


play
user

Nikhil Ranjan

Programme Coordinator - National Institute of Electronics and Information Technology (NIELIT)

2:17

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे जैसे ने पूछा कि कुछ लोग कहते हैं कि भारत में लोकेशन सिस्टम खराब है और क्या यह सही है नहीं तो मैं कहना चाहूंगा कि 100% परफेक्ट सिस्टम तो कहीं पर भी अवेलेबल नहीं है आप अगर चाहे किसी दूसरी कंट्री का एकदम पर ले ले तो कमियां वहां पर भी हैं कमियां हर जगह होती हैं और उसमें इंप्रूवमेंट करने की गुंजाइश रहती है कहीं पर थोड़ी ज्यादा होती है कहीं पर थोड़ी सी कम होती हैं हां भारत के अधिवेशन सिस्टम में कोई बहुत ज्यादा बड़ी कमी नहीं है बस यह है कि जो प्रोफेशनल एजुकेशन है वहां पर जो उस सब्जेक्ट का रीजन होना चाहिए वह बहुत जल्दी नहीं होता है उसमें पूरी कमेटी बैठती है सालों साल हो चलता रहता है कुछ इस तरह से मैं आपको एग्जांपल कथन बताना चाहूंगा कि मान लीजिए आज के डेट में एंड्रॉयड एंड्रॉयड फोन और आयोजन किया पलके फॉर्म्स मार्केट में आते हैं लेकिन इस कोर्स को कराने के लिए कि बच्चे को आईएस एप रानी आजा android.app बनानी है ऐसे बहुत कम यूनिवर्सिटी का कॉलेज है जो यह कोर्स अपने कोर्स कंटेंट के अंदर जेल में डाला हुआ है एडिशनल बाहर से नॉलेज देनी पड़ रही है बाहर से वोट करने पड़ रहे हैं लेकिन जो एजुकेशन उसको कॉलिंग लेवल पर खुद से ही मिलनी चाहिए पूछी नहीं है तो इस तरह के थोड़ी सी आएगी तो आगे 5 साल बाद ही आ जाएगी लेकिन तब तक कोई नई टेक्नालॉजी आ जाएगी तो यह थोड़ी सी प्रॉब्लम है कि जो अपडेशन है क्योंकि आजकल के युग में टेक्नोलॉजी बहुत जल्दी-जल्दी चेंज हो रही है कुछ साल पहले 1g फोन 2G फोन चला करते थे फिर 3G फोन से आए उसके बाद से जब जियो आगरा गया उसके बाद 4G फोन आ गया और अब कह रहा है कि 1 साल बाद आपका 5G पर टेक्नोलॉजी में मुकर जायेंगे पुरानी टंकी पूरी पूरी खत्म होती है आ रही है तो यही थोड़ी सी दिक्कत है कि जो अपडेशन का काम है वह कोर्स के अंदर नहीं आ रहा है जिससे कि जो हमारी युवा है वह पढ़ाई तो कर रहे हैं एजुकेटेड तो हो रहे हैं लेकिन कुशल नहीं बन पा रहे हैं इसके नहीं हो पा रहे हैं क्योंकि उनकी रिक्वायरमेंट इंडस्ट्री में उतनी लेवल पर नहीं आ पा रही है तो यह थोड़ा सा बस यहां पर कमी मुझे लगती है जिसको थोड़ा सा इंप्रूवमेंट करने की जरूरत है और एक ही सैद आईटी के साथ निहारे क्षेत्र में धन्यवाद

likhe jaise ne puchha ki kuch log kehte hain ki bharat mein location system kharab hai aur kya yeh sahi hai nahi toh main kehna chahunga ki 100% perfect system toh kahin par bhi available nahi hai aap agar chahe kisi dusri country ka ekdam par le le toh kamiyan wahan par bhi hain kamiyan har jagah hoti hain aur usme improvement karne ki gunjaiesh rehti hai kahin par thodi zyada hoti hai kahin par thodi si kam hoti hain haan bharat ke adhiveshan system mein koi bahut zyada badi kami nahi hai bus yeh hai ki jo professional education hai wahan par jo us subject ka reason hona chahiye wah bahut jaldi nahi hota hai usme puri committee baithati hai salon saal ho chalta rehta hai kuch is tarah se main aapko example kathan batana chahunga ki maan lijiye aaj ke date mein android android phone aur aayojan kiya palake Forms market mein aate hain lekin is course ko karane ke liye ki bacche ko ias app rani aajad android.app banani hai aise bahut kam university ka college hai jo yeh course apne course content ke andar jail mein dala hua hai additional bahar se knowledge deni pad rahi hai bahar se vote karne pad rahe hain lekin jo education usko Calling level par khud se hi milani chahiye puchi nahi hai toh is tarah ke thodi si aayegi toh aage 5 saal baad hi aa jayegi lekin tab tak koi nayi technology aa jayegi toh yeh thodi si problem hai ki jo updation hai kyonki aajkal ke yug mein technology bahut jaldi jaldi change ho rahi hai kuch saal pehle 1g phone 2G phone chala karte the phir 3G phone se aaye uske baad se jab jio agra gaya uske baad 4G phone aa gaya aur ab keh raha hai ki 1 saal baad aapka 5G par technology mein mukar jayenge purani tanki puri puri khatam hoti hai aa rahi hai toh yahi thodi si dikkat hai ki jo updation ka kaam hai wah course ke andar nahi aa raha hai jisse ki jo hamari yuva hai wah padhai toh kar rahe hain educated toh ho rahe hain lekin kushal nahi ban pa rahe hain iske nahi ho pa rahe hain kyonki unki requirement industry mein utani level par nahi aa pa rahi hai toh yeh thoda sa bus yahan par kami mujhe lagti hai jisko thoda sa improvement karne ki zarurat hai aur ek hi said it ke saath nihare kshetra mein dhanyavad

लिखे जैसे ने पूछा कि कुछ लोग कहते हैं कि भारत में लोकेशन सिस्टम खराब है और क्या यह सही है

Romanized Version
Likes  94  Dislikes    views  5709
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!