अब पद्मवत वास्तव में एक नाम बदलने के साथ रिलीज़ हो रही है, इस लड़ाई में जीत किसकी हुई?...


user
Play

Likes  1  Dislikes    views  36
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Awdhesh Singh

Former IRS, Top Quora Writer, IAS Educator

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं समझता हूं कि इससे कानून की जीत हुई है एक सिस्टम की जीत हुई है और जिस तरीके से प्रसून जोशी ने जो सब लोगों को ब्लॉक कर के जिस तरीके से कंसल्टेशन किया और जिस तरीके से फाइनली इस पिक्चर को ओके किया इस दिन को बहुत ही सराहनीय है और मैं समझता हूं कि इसमें सारे के सारे जो भी उस से उसको टेक केयर किया गया होगा और जो फिल्म रिलीज होगी तो मैं समझता हूं कि इसमें लोगों को संतुष्ट हो गई और लोग इस पिक्चर को एंजॉय करेंगे वहां की कुछ लोग ऐसे जरूर है कि जो उसको एक मुद्दा बनाए हुए हैं और शायद वह नाक की लड़ाई बनकर रह गई है लेकिन मैं समझता हूं कि जब एक बार पिक्चर रिलीज हो जाएगी और जनता जो इस पिक्चर को देख लेंगे तब धीरे-धीरे करती है मामला भी शांत हो जाएगा

main samajhata hoon ki isse kanoon ki jeet hui hai ek system ki jeet hui hai aur jis tarike se prasoon joshi ne jo sab logo ko block kar ke jis tarike se kansalteshan kiya aur jis tarike se finally is picture ko ok kiya is din ko bahut hi sarahniya hai aur main samajhata hoon ki isme sare ke sare jo bhi us se usko tech care kiya gaya hoga aur jo film release hogi to main samajhata hoon ki isme logo ko santusht ho gayi aur log is picture ko enjoy karenge wahan ki kuch log aise jarur hai ki jo usko ek mudda banaye hue hain aur shayad wah nak ki ladai bankar rah gayi hai lekin main samajhata hoon ki jab ek baar picture release ho jayegi aur janta jo is picture ko dekh lenge tab dhire dhire karti hai maamla bhi shaant ho jayega

मैं समझता हूं कि इससे कानून की जीत हुई है एक सिस्टम की जीत हुई है और जिस तरीके से प्रसून ज

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  416
WhatsApp_icon
play
user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

1:15

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां पद्मावत जो पहले जिसका नाम पद्मावती था| वह मूवी अब पद्मावत नाम के साथ रिलीज होगी| क्योंकि वह मूवी पद्मावत नामक जो काव्य है| उस पर आधारित है| तो उसको सेंसर बोर्ड ने बोला कि आप पद्मावत नाम रखिए क्योंकि पद्मावती में लोगों को ऑब्जेक्शन है, महारानी की इमेज को लेकर| तो सेंसर बोर्ड ने एक बीच का रास्ता निकालने की कोशिश की है | और इसमें हार जीत जैसी कोई बात नहीं है| क्योंकि अगर आप फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन की बात करें, अभिव्यक्ति की आजादी की बात करें| तो अभिव्यक्ति की आजादी के हिसाब से लगता नहीं है, कि इसमें ऐसा कुछ गलत हुआ है और अब तो वह सेंसर बोर्ड ने भी बोल दिया है तो इसमें जो कुछ लोगों को ऑब्जेक्शन था और एकचुली जो कुछ लोग थे| उनको कल तक कोई जानता भी नहीं था उनको शायद ऑब्जेक्शन इसीलिए था कि उनको लोग जाने| तो उस हद तक वो कामयाब हो गए| क्योंकि उनको चार लोग जाने लग गए | उनका नाम अखबारों में छप गया| और मूवी की जन्हा तक बात है| उनको कुछ नुकसान हुआ है| उनकी मूवी पीछे हो गई| तो कई लोगों का उसमें पैसा लगा हुआ है उनको आप बोल सकते हैं थोड़ा इसकी वजह से सफर करना पड़ा लेकिन सेंसर बोर्ड ने एक बीच का माध्यम निकालने का पूरा प्रयास किया है| एंड आई होप की लोगो को ये मूवी पसंद आए|

haan padmavat jo pehle jiska naam padmavati tha wah movie ab padmavat naam ke saath release hogi kyonki wah movie padmavat namak jo kavya hai us par aadharit hai to usko censor board ne bola ki aap padmavat naam rakhiye kyonki padmavati mein logo chahiye ko objection hai maharani ki image ko lekar to censor board ne ek beech ka rasta nikalne ki koshish ki hai | aur isme haar jeet jaisi koi baat nahi hai kyonki agar aap freedom of expression ki baat kare chahiye abhivyakti ki azadi ki baat kare chahiye to abhivyakti ki azadi ke hisab se lagta nahi hai ki isme aisa kuch galat hua hai aur ab to wah censor board ne bhi bol diya hai to isme jo kuch logo chahiye ko objection tha aur ekachuli jo kuch log the unko kal tak koi jaanta bhi nahi tha unko shayad objection isliye tha ki unko log jaane to us had tak vo kamyab ho gaye kyonki unko char log jaane lag gaye | unka naam akhabaron mein chhap gaya aur movie ki janha tak baat hai unko kuch nuksan hua hai unki movie piche ho gayi to kai logo chahiye ka usamen chahiye paisa laga hua hai unko aap bol sakte hain thoda iski wajah se safar karna pada lekin censor board ne ek beech ka maadhyam nikalne ka pura prayas kiya hai end eye hope ki logo ko ye movie pasand aaye

हां पद्मावत जो पहले जिसका नाम पद्मावती था| वह मूवी अब पद्मावत नाम के साथ रिलीज होगी| क्यों

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  250
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के पद्मावत में जो हुआ है वह पद्मावती में से जो है आई लैटर हटाकर उसका नाम पद्मावत रख दिया गया है तो उसका खाली नाम ही नहीं बदला गया है उसमें से 2 फीट 26 इंच जो है वह सेंसर बोर्ड ने डिलीट कर दिए हैं क्योंकि सेंसर बोर्ड के साथ जो है वह स्टोरी आदमी थे जो राजपूत खानदान को ब्लॉक करते हैं या राजपूत समाज को ब्लॉक करते हैं तो उन सब ने जो है वह मिल कर थोड़ी 263 जो है वह मूवी में से काट दिया और घूमर सांग को भी डिलीट करने का जो प्रस्ताव रखा था लेकिन कुमार सांग्स डिलीट नहीं किया गया तो इस लड़ाई में मैं नहीं समझता कि कुछ किसी को भी फायदा हुआ है मतलब किसी भी मूवी को देखे बिना को अगर कोई रिजेक्ट कर रहे हैं क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि किसी मूवी को देखे बिना उसके जो है रे अटैक ना करें उस पर बवाल ना करें पहले मूवी देखने अगर पसंद नहीं है तो आप देख लेना दे तो उसके लिए इतना मुद्दा उठाना उठाना इतना हंगामा करना तोड़-फोड़ करना तो मैं नहीं करना चाहिए कोई फायदे की बात रही हां जानता करना बात है कि पद्मावती से पद्मावत नाम चेंज करने का तो मैं समझता हूं कि जो खत नहीं देना है और रात को समझते हैं वह भी खुश होंगे

aaj ke padmavat mein jo hua hai wah padmavati mein se jo hai eye latar hatakar uska naam padmavat rakh diya gaya hai to uska khaali naam hi nahi badla gaya hai usamen chahiye se 2 feet 26 inch jo hai wah censor board ne delete kar diye hain kyonki censor board ke saath jo hai wah story aadmi the jo rajput khandan ko block karte hain ya rajput samaj ko block karte hain to un sab ne jo hai wah mil kar thodi 263 jo hai wah movie mein se kaat diya aur ghumar sang chahiye ko bhi delete karne ka jo prastaav rakha tha lekin kumar sangs delete nahi kiya gaya to is ladai mein main nahi samajhata ki kuch kisi ko bhi fayda hua hai matlab kisi bhi movie ko dekhe bina ko agar koi reject kar rahe hain kyonki supreme court ne kaha tha ki kisi movie ko dekhe bina uske jo hai ray attack na kare chahiye us par bawaal na kare chahiye pehle movie dekhne agar pasand nahi hai to aap dekh lena de to uske liye itna mudda uthana uthaana itna hungama karna tod fod karna to main nahi karna chahiye koi fayde ki baat rahi haan jaanta karna baat hai ki padmavati se padmavat naam change karne ka to main samajhata hoon ki jo khat nahi dena hai aur raat ko samajhte hain wah bhi khush honge

आज के पद्मावत में जो हुआ है वह पद्मावती में से जो है आई लैटर हटाकर उसका नाम पद्मावत रख दिय

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अंत में पद्मावती फिल्म का निर्णय ले ही लिया गया संकल्प सर्टिफिकेशन या फिर हम जिसे सीबीएफसी कहते हैं उन्होंने पद्मावती को TV सर्टिफिकेट से पास कर ही दिया और लगभग 5 दिन को वापस से शूट करने के लिए उसमें थोड़ी से बदलाव लाने के लिए कहा गया है और सीबीएसई ने भी कहा है कि इस फिल्म का नाम पद्मावती नहीं होना चाहिए पद्मावत रखना चाहिए यह फिल्म सीबीएसई ने नहीं बल्कि जो भी जिन्हें हिस्ट्री का बड़ा अच्छा ज्ञान था जिन्हें पद्मावत व्या रानी पद्मावती जो है उनका बहुत बड़ा था उन्होंने BF पिक्चर देखी और उन्होंने कहा कि एक फिल्म में सब कुछ नहीं है जिसके कारण यह फिल्म बहन होनी चाहिए और इससे जो है इस लड़ाई में जो संजय लीला भंसाली की जीत हुई है कि जिस प्रकार के संजय लीला भंसाली और भाई कॉमेडी No शाहिद कपूर और रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण ने जिस प्रकार से मेहनत की है फिल्म को बनाने के लिए तो यह नाजायज होगा कि उनकी जीत हुई उनकी मेहनत की सफलता उंहें मिल गई मेहनत का फल मिल चुका है कि पद्मावत जो है इतने कॉन्ट्रोवर्सी के बाद भी फिल्म अभी रिलीज होने वाली है और मेरी सबसे फिल्म रिलीज होनी चाहिए थी क्योंकि पद्मावती फिल्म में ऐसा कुछ भी नहीं था जो की रानी पद्मावती को ठेस पहुंचा या फिर रानी पद्मावती के खिलाफ है पूरे राजपूताना अदाओं के खिलाफ गलत हो अगर आपका संजय लीला भंसाली कोई देखे जो इतने बेहतरीन फिल्मे करूंगा ना आज तक ऐसी फिल्म नहीं बनाई है जहां पर उनकी कोई भी गलती हो उन्होंने हमेशा कोई भी फ्रेंड हमेशा कार्ड अपडेशन जो है वह एकदम सटीक रहे तू मेरी सबसे फिल्म करनी चाहिए थी और वो मुझे नहीं लगता कि यह फिल्म देखने के बाद लोगों के मन में भी ऐसा कुछ विचार होगा कि यही है वह भी हमें बंद कर देनी चाहिए हां यह बात इधर की सीन अभी भी इस बात का विरोध कर रही है परंतु मुझे लगता है कि जब मैं इस लड़ाई में संजय लीला भंसाली और पद्मावत की जीत हो चुकी है

ant mein padmavati film ka nirnay le hi liya gaya sankalp certification ya phir hum jise sibiefasi kehte hain unhone padmavati ko TV certificate se paas kar hi diya aur lagbhag 5 din ko wapas se shut karne ke liye usamen chahiye thodi se badlav lane ke liye kaha gaya hai aur cbse ne bhi kaha hai ki is film ka naam padmavati nahi hona chahiye padmavat rakhna chahiye yeh film cbse ne nahi balki jo bhi jinhen chahiye history ka bada accha gyaan tha jinhen chahiye padmavat vya rani padmavati jo hai unka bahut bada tha unhone BF picture dekhi aur unhone kaha ki ek film mein sab kuch nahi hai jiske kaaran yeh film behen honi chahiye aur isse jo hai is ladai mein jo sanjay leela bhansali ki jeet hui hai ki jis prakar ke sanjay leela bhansali aur bhai comedy No shahid kapur aur ranveer singh aur deepika padukone ne jis prakar se mehnat ki hai film ko banane ke liye to yeh naajayaj hoga ki unki jeet hui unki mehnat ki safalta unhe mil gayi mehnat ka fal mil chuka hai ki padmavat jo hai itne controversy ke baad bhi film abhi release hone wali hai aur meri sabse film release honi chahiye thi kyonki padmavati film mein aisa kuch bhi nahi tha jo ki rani padmavati ko thes pohcha ya phir rani padmavati ke khilaf hai poore rajpootana chahiye adaon ke khilaf galat ho agar aapka sanjay leela bhansali koi dekhe jo itne behtareen filme karunga na aaj tak aisi film nahi banai hai jaha par unki koi bhi galti ho unhone hamesha koi bhi friend hamesha card updation jo hai wah ekdam sateek rahe tu meri sabse film karni chahiye thi aur vo mujhe nahi lagta ki yeh film dekhne ke baad logo chahiye ke man mein bhi aisa kuch vichar hoga ki yahi hai wah bhi hume band kar deni chahiye haan yeh baat idhar ki seen abhi bhi is baat ka virodh kar rahi hai parantu mujhe lagta hai ki jab main is ladai mein sanjay leela bhansali aur padmavat ki jeet ho chuki hai

अंत में पद्मावती फिल्म का निर्णय ले ही लिया गया संकल्प सर्टिफिकेशन या फिर हम जिसे सीबीएफसी

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
user

Sameer Tripathy

Political Critic

0:56
Play

Likes    Dislikes    views  25
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खानदेश की मूवीस का नाम बदला जा रहे पद्मावती रखा जा रहा है तो उनको बोला है कि नाम बदलना पड़ेगा इसकी पद्मावत अगर वह नाम रखते हैं तो यह सेंटीमेंट्स और एक प्रमुख के साथ के लोगों के साथ कॉमेडी उनके साथ उनके मौसम के साथ खेलेंगे तो उनको बोला क्या है कि हम को यह नाम रखना बदलना पड़ेगा इसमें किसी के हाथ में नहीं होता है वही होता है जो किसी भी जाति को बुरा ना लगे किसी किसी वह हर हर जो भी कम्युनिटी है वह सब को इकट्ठे लेकर चलना चाहते हैं तो हम सब यह सब ध्यान रखते हैं इसमें हाथी की तो बात ही नहीं है तो पद्मावती हमको नाम बदलना है और कुछ और भी कुछ छोटे मोटे उसके अंदर और चीन देश में कुछ 500005 के करीब चीज इसको ले गए हैं यह दोनों चीजें अगर वह कर लेते तो है मूवी रिलीज हो सकती है तो इसमें किसी के हार-जीत मेरे हिसाब से तो नहीं हुई है यह सब एक होता की किसी पर कोई नहीं है कोई भी लोग अपने लोगों के भाव तुझे जरुर सफल हो पाएगी ऐसा मुझे लगता है

khandesh ki Movies ka naam badla ja rahe padmavati rakha ja raha hai to unko bola hai ki naam badalna padega iski padmavat agar wah naam rakhate hain to yeh sentiments aur ek pramukh ke saath ke logo chahiye ke saath comedy unke saath unke mausam ke saath khelenge to unko bola kya hai ki hum ko yeh naam rakhna badalna padega isme kisi ke hath mein nahi hota hai wahi hota hai jo kisi bhi jati ko bura na lage kisi kisi wah har har jo bhi community hai wah sab ko ikatthe lekar chalna chahte hain to hum sab yeh sab dhyan rakhate hain isme hathi ki to baat hi nahi hai to padmavati hamko naam badalna hai aur kuch aur bhi kuch chote mote uske andar aur chin desh mein kuch 500005 ke karib cheez isko le gaye hain yeh dono cheezen agar wah kar lete to hai movie release ho sakti hai to isme kisi ke haar jeet mere hisab se to nahi hui hai yeh sab ek hota ki kisi par koi nahi hai koi bhi log apne logo chahiye ke bhav tujhe zaroor safal ho payegi aisa mujhe lagta hai

खानदेश की मूवीस का नाम बदला जा रहे पद्मावती रखा जा रहा है तो उनको बोला है कि नाम बदलना पड़

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  133
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तीखी पद्मावती संजय लीला भंसाली की जो मूवी है उसे पद्मावत नाम से रिलीज किया जाएगा और जितनी खबर आई है उसे यह पता चला है कि 25 जनवरी को रिलीज होगी ऑफ सेंसर बोर्ड ने पद्मावती कैसे पार्ट चेंज करने के बाद इस मूवी को यू ए सर्टिफिकेट देने की बात कही है तो अब ₹5000 कितने बजे जिसके बाद यह मूवी 25 जनवरी को रिलीज होगी प्यार की जीत किसकी हुई कि हमारे मौलिक अधिकारों की जीत थी क्योंकि देखिए अगर यह मूवी पर बाल लगवाना गई मूवी रिलीज़ नहीं होती तो सो लाइट ऑफ एक्सप्रेशन है या जो अभिव्यक्ति का आधार हरि के प्रवचन को है पूछूंगा होता आरती की बगीची फिल्में होती है जो मूवीस होती है यह समाज के हिस्सों को हमारे सामने रखती है फिर चाहे वो स्टोरी काल्पनिक हो या अकार्बनिक हो तो अगर कोई समाज का हिस्सा कैसे प्रोटेस्ट करके आराम किया देखकर उनके बारे में बात करने से किसी को रोक सकता है और अगर यह भी सच में रिलीज होना है इसका कान हो जाता तो हमारे राइट टू एक्सप्रेशन है या राइट टू अभिव्यक्ति की आजादी है वह हमसे छीन ली गई होती जो कि अच्छा नहीं होता तो यहां पर हमारे उन राइट्स किसी तू यह बता कि किसी एक समुदाय की और दूसरे में खाऊंगी अभी करने से नाम आने का है वह तो अभी भी यही कह रही थी अगर मूवी दिखाई गई तो वह ठीक है उस पर हमला करेंगे और जोधपुर में चाहिए जो कि गलत है

teekhi padmavati sanjay leela bhansali ki jo movie hai use padmavat naam se release kiya jayega aur jitni khabar eye hai use yeh pata chala hai ki 25 january ko release hogi of censor board ne padmavati kaise part change karne ke baad is movie ko you a certificate dene ki baat kahi hai to ab ₹5000 kitne baje jiske baad yeh movie 25 january ko release hogi pyar ki jeet kiski hui ki hamare maulik adhikaaro ki jeet thi kyonki dekhie chahiye agar yeh movie par baal lagvana gayi movie riliz nahi hoti to so light of expression hai ya jo abhivyakti ka aadhar hari ke pravachan ko hai puchunga hota aarti ki bagichi filme hoti hai jo Movies hoti hai yeh samaj ke hisso ko hamare samane rakhti hai phir chahe vo story kalpnik ho ya akarbanik ho to agar koi samaj ka hissa kaise protest karke aaram kiya dekhkar unke baare mein baat karne se kisi ko rok sakta hai aur agar yeh bhi sach mein release hona hai iska kaan ho jata to hamare right to expression hai ya right to abhivyakti ki azadi hai wah humse chin chahiye lee gayi hoti jo ki accha nahi hota to yahan par hamare un rights kisi tu yeh bata ki kisi ek samuday ki aur dusre chahiye mein khaungi abhi karne se naam aane ka hai wah to abhi bhi yahi keh rahi thi agar movie dikhai gayi to wah theek hai us par hamla karenge aur jodhpur mein chahiye jo ki galat hai

तीखी पद्मावती संजय लीला भंसाली की जो मूवी है उसे पद्मावत नाम से रिलीज किया जाएगा और जितनी

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  102
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!