क्या पद्मवती से पद्मवत नाम बदलना बस एक छलावा है? क्यों?...


user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी मुझे लगता है कि कल सेंसर बोर्ड ने पद्मावती को पास कर दिया है इसका नाम बदलकर पद्मावत हो जाता है तो मुझे नहीं लगता किसी भी तरह की कोई स्क्रिप्ट उसमें चेंज हुई होगी मुझे लगता है कि हमारे देश के अंदर जो भी मूवी बननी चाहिए दूसरे लोगों के सेंटीमेंट्स को ध्यान में रखकर बननी चाहिए जिस तरह से करणी सेना राजपूताना लोगों का कहना था कि उनके सेंटीमेंट को हर्ट किया गया इस मूवी को बनाते समय तो मुझे लगता उनसे बात करनी चाहिए थी मामले को समझाना चाहिए था फिर आगे डिसाइड करना चाहिए था मूवी को रिलीज करना है ना करना क्योंकि कुछ स्टेट के चीफ मिनिस्टर ने पहले ही मना कर दिया कि उस मूवी को अपनाया रिलीज नहीं होने देंगे लॉयन अटैक का खतरा है और दूसरे किसी पार्टी को रिलीज उनके और कास्ट के सेंटीमेंट को हर्ट किया गया तो मुझे लगता है कि इस तरह की बातों को पहले समझा लेना चाहिए तभी मूवी का रिलीज होने ज्यादा बैटरी नहीं तो होता क्या है कि मूवी रिलीज हो जाती है जिस सिनेमा हॉल में वह चल रही होती है वहां कुछ लोग अटैक कर देते हैं और बहुत ज्यादा तोड़फोड़ हो जाता बहुत ज्यादा परेशान हो जाता है तो फाइनली सफल उस व्यक्ति को आना पड़ता है जो उसका हुनर है तो मुझे लगता है किस तरह की चीजें नहीं होनी चाहिए मूवी का विवाद सो जाना चाहिए उसी के बाद रिलीज़ हो पद्मावत नाम रखने से मुझे नहीं लगता कि कोई फर्क पड़ेगा

vicky mujhe lagta hai ki kal censor board ne padmavati ko paas kar diya hai iska naam badalkar padmavat ho jata hai toh mujhe nahi lagta kisi bhi tarah ki koi script usme change hui hogi mujhe lagta hai ki hamare desh ke andar jo bhi movie banani chahiye dusre logo ke sentiments ko dhyan mein rakhakar banani chahiye jis tarah se karni sena rajpootana logo ka kehna tha ki unke sentiment ko heart kiya gaya is movie ko banate samay toh mujhe lagta unse baat karni chahiye thi mamle ko samajhana chahiye tha phir aage decide karna chahiye tha movie ko release karna hai na karna kyonki kuch state ke chief minister ne pehle hi mana kar diya ki us movie ko apnaya release nahi hone denge layan attack ka khatra hai aur dusre kisi party ko release unke aur caste ke sentiment ko heart kiya gaya toh mujhe lagta hai ki is tarah ki baaton ko pehle samjha lena chahiye tabhi movie ka release hone zyada battery nahi toh hota kya hai ki movie release ho jaati hai jis cinema hall mein vaah chal rahi hoti hai wahan kuch log attack kar dete hain aur bahut zyada thorphor ho jata bahut zyada pareshan ho jata hai toh finally safal us vyakti ko aana padta hai jo uska hunar hai toh mujhe lagta hai kis tarah ki cheezen nahi honi chahiye movie ka vivaad so jana chahiye usi ke baad release ho padmavat naam rakhne se mujhe nahi lagta ki koi fark padega

विकी मुझे लगता है कि कल सेंसर बोर्ड ने पद्मावती को पास कर दिया है इसका नाम बदलकर पद्मावत ह

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  146
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!